सीढ़ियों के लिए वास्तु

सीढ़ी हेतु वास्तु/ vastu for staircase या सीढ़ी वास्तु एक घर हेतु किसी और चीज की बनावट के समान ही महत्वपूर्ण है। ऐसा इसलिए है क्योंकि सीढ़ियों से निकलने वाली ऊर्जा इतनी शक्तिशाली होती हैं कि यह एक घर को आबाद या बर्बाद कर सकती हैं।

यह सार्थक क्यों है?/ Why is it Meaningful

सीढ़ियां आवश्यक हैं क्योंकि वह एक मंजिल को दूसरी से जोड़ती हैं। इसका मतलब है कि वह विभिन्न मंजिलों की ऊर्जा के  मध्य एक जुड़ाव का कार्य करती हैं। वास्तु शास्त्र के अनुसार, क्योंकि इनके प्रभाव स्पष्ट और आसानी से दृष्टिगोचर होते हैं, इसलिए सीढ़ियों का होना बहुत आवश्यक होता है। इसका तात्पर्य है कि यदि सीढ़ियों को वास्तु के अनुसार बनाया जाए तो उस घर के निवासियों को तरक्की समृद्धि, स्वास्थ्य और अकल्पनीय विकास का आनंद देता है।

यह सार्थक क्यों है?/ Why is it Meaningful

सीढ़ियां आवश्यक हैं क्योंकि वह एक मंजिल को दूसरी से जोड़ती हैं। इसका मतलब है कि वह विभिन्न मंजिलों की ऊर्जा के  मध्य एक जुड़ाव का कार्य करती हैं। वास्तु शास्त्र के अनुसार, क्योंकि इनके प्रभाव स्पष्ट और आसानी से दृष्टिगोचर होते हैं, इसलिए सीढ़ियों का होना बहुत आवश्यक होता है। इसका तात्पर्य है कि यदि सीढ़ियों को वास्तु के अनुसार बनाया जाए तो उस घर के निवासियों को तरक्की समृद्धि, स्वास्थ्य और अकल्पनीय विकास का आनंद देता है।

दूसरी ओर , गलत वास्तु से निर्मित सीढियां अनेक स्वास्थ्य समस्याओं, धन हानि, और मानसिक तनाव का कारण बन सकती हैं।

वास्तु के अनुसार सीढ़ी निर्माण किस प्रकार निर्धारित किया जा सकता है? /How can the staircase placement be determined according to Vastu?

वास्तु के अनुसार, सीढ़ियों के निर्माण के समय अनेक नियमों का पालन किया जाना चाहिए, जिनमें से दो पर आपको विशेष ध्यान केंद्रित करने की आवश्यकता है:

वास्तु के अनुसार सीढ़ी निर्माण किस प्रकार निर्धारित किया जा सकता है? /How can the staircase placement be determined according to Vastu?

वास्तु के अनुसार, सीढ़ियों के निर्माण के समय अनेक नियमों का पालन किया जाना चाहिए, जिनमें से दो पर आपको विशेष ध्यान केंद्रित करने की आवश्यकता है:

क्योंकि सीढ़ियां एक विशेष मंजिल का प्रवेश द्वार होती है,  तो यह वास्तु शास्त्र/vastu shastra के अनुसार सर्वश्रेष्ठ प्रवेश द्वारों पर निर्मित किया जाना चाहिए। उदाहरण हेतु , मान लीजिए कि सीढ़ी इमारत की पश्चिमी दिशा में है। उस स्थिति में, इसे ऊपर की मंजिल पर मंजिल पर सुग्रीव या पुष्पदंत ऊर्जा क्षेत्रों तक होना चाहिए, वास्तु पुरुष मंडल के अनुसार यह दो सर्वाधिक लाभकारी ऊर्जा क्षेत्र माने जाते हैं।

 एक और ध्यान देने योग्य बात यह है कि सीढियां पूर्व से पश्चिम दिशा या उत्तर से दक्षिण दिशा तक जानी चाहिए।

सीढियां दक्षिणावर्त या उत्तरावर्त है?/ Is staircase Clockwise or Anticlockwise?

सीढ़ियों का निर्माण किस दिशा में  होना चाहिए यह प्रश्न बहुत ही भ्रामक है। सीढ़ियां केवल दक्षिणावर्त होनी चाहिए क्योंकि अधिकतर लोग कहते हैं कि उत्तरावर्ती, सीढ़ी कुपित भाग्य और बीमार स्वास्थ्य लाती है। 

सीढियां दक्षिणावर्त या उत्तरावर्त है?/ Is staircase Clockwise or Anticlockwise?

सीढ़ियों का निर्माण किस दिशा में  होना चाहिए यह प्रश्न बहुत ही भ्रामक है। सीढ़ियां केवल दक्षिणावर्त होनी चाहिए क्योंकि अधिकतर लोग कहते हैं कि उत्तरावर्ती, सीढ़ी कुपित भाग्य और बीमार स्वास्थ्य लाती है। 

निश्चित रूप से, यह सत्य नहीं है।

दिलचस्प बात यह है कि मूल वास्तु शास्त्र/vastu shaastr ग्रंथों में से कोई भी दक्षिणावर्त या उत्तरावर्त सीढ़ियों के विषय में बात नहीं करता है, और इस समय में सीढ़ियों के विषय में कोई स्पष्ट दिशानिर्देश नहीं हैं।

हमारे अवलोकनों के अनुसार, दक्षिणावर्त सीढ़ियां किस क्षेत्र में स्थित होती है, वहां नीचे की दिशा में ऊर्जा का भंवर पैदा करती है।

दूसरी ओर , उत्तरावर्ती सीढ़ियां किस क्षेत्र में स्थित होती है, वहां ऊपर की ओर ऊर्जा का एक भंवर उत्पन्न करती है।

इन नीचे और ऊपर की ओर के ऊर्जा भंवरों द्वारा क्षेत्र का अपेक्षित प्रभाव परिवर्तित हो जाता है।

इन सिद्धांतों की एक-दूसरे के साथ तुलना करना संभव है: जब आप पेंच को कसते हैं तो आप पेचकस को घुमाते हैं, और वह नीचे की ओर चला जाता है। यदि आप पेचकस को घड़ी की विपरीत दिशा में घुमाते  है तो पेंच ऊपर की ओर आता है।

इस प्रकार,  घड़ी की विपरीत दिशा जैसे पश्चिम दिशा एक निश्चित क्षेत्र की सकारात्मक ऊर्जा को  कम करेगी और आपके विकास और समृद्धि में बाधाक बनेगी।

इसके विपरीत, सबसे बेहतर परिणाम, एक सकारात्मक क्षेत्र में उत्तरावर्ती सीढ़ियों द्वारा लाए जा सकते हैं।

इसलिए, क्षेत्र के आधार पर, आपको ध्यान रखना चाहिए कि सीढ़ियां दक्षिणावर्त दिशा के साथ-साथ इसके विपरीत भी हो सकती है।

यदि सीढियां एक क्षेत्र में स्थित है जिसकी विशेषताओं में हम सुधार करना चाहते हैं, तो उन्हें दक्षिणावर्त दिशा में या इसके विपरीत बनाया जाना चाहिए।

सर्वाधिक अनुकूल एवं प्रतिकूल दिशाएँ/Best and Bad directions

घरों में सीढ़ी के निर्माण हेतु अनुकूल दिशाएं दक्षिण पूर्व, दक्षिण, दक्षिण पश्चिम और पश्चिम हैं।

सर्वाधिक अनुकूल एवं प्रतिकूल दिशाएँ/Best and Bad directions

घरों में सीढ़ी के निर्माण हेतु अनुकूल दिशाएं दक्षिण पूर्व, दक्षिण, दक्षिण पश्चिम और पश्चिम हैं।

कुछ विशेष स्थितियों में, उत्तर पश्चिम दिशा सीढ़ी निर्माण हेतु आदर्श होती है।

अधिकांश व्यक्ति दक्षिण पश्चिम दिशा को सीढ़ियों के निर्माण हेतु एक बेहतर विकल्प मानते हैं क्योंकि यह साझेदारी और वित्तीय स्थिरता प्रदान करती है।

इसके विपरीत, उत्तर या उत्तर-पूर्वी दिशा में सीढ़ी निर्माण से पूर्ण रूप से बचने का प्रयास करना चाहिए।

इस दिशा में सीढ़ी का निर्माण आपके तंत्रिका तंत्र एवं मस्तिष्क पर प्रतिकूल  प्रभाव डाल सकता है।

सीढ़ियों की विषम संख्या, या सम संख्या?

अधिकांश वास्तु विशेषज्ञों का मत है कि सीढ़ियों की संख्या हमेशा विषम होनी चाहिए। वह यह भी कहते हैं कि एक इमारत में सदा दरवाजों और खिड़कियों की गिनती संख्या विषम होनी चाहिए।

सीढ़ियों की विषम संख्या, या सम संख्या?

अधिकांश वास्तु विशेषज्ञों का मत है कि सीढ़ियों की संख्या हमेशा विषम होनी चाहिए। वह यह भी कहते हैं कि एक इमारत में सदा दरवाजों और खिड़कियों की गिनती संख्या विषम होनी चाहिए।

प्रकृति के अनुरूप होने हेतु , यह भी कहा जाता है कि सीढ़ियों की संख्या विषम होनी चाहिए(अनिवार्य नहीं)

क्या सीढ़ियों के नीचे एक शौचालय या रसोईघर स्थापित करना संभव है?/ Is it possible to install a toilet or a kitchen under a staircase?

सीढ़ियों के नीचे एक रसोई निर्माण नहीं किया जाना चाहिए।

क्या सीढ़ियों के नीचे एक शौचालय या रसोईघर स्थापित करना संभव है?/ Is it possible to install a toilet or a kitchen under a staircase?

सीढ़ियों के नीचे एक रसोई निर्माण नहीं किया जाना चाहिए।

ऐसा इसलिए है क्योंकि सीढ़ी और रसोई दोनों एक इमारत के भीतर की वह  संरचनाएं हैं जो उच्च ऊर्जा उत्पन्न करती हैं। वास्तव में, उन दोनों का एक ही स्थान पर निर्माण एक विशेष क्षेत्र में ऊर्जा क्षेत्रों का असंतुलन उत्पन्न कर सकता है। वास्तु के अनुसार/ as per vastu, सीढ़ी के नीचे जहां शौचालय निर्मित किया जा रहा है वहां बाथरूम निर्माण के विषय में विचार करना अधिक महत्वपूर्ण है।

यदि शौचालय दाएं क्षेत्र में स्थित है, जैसे उत्तर पश्चिम के पश्चिम में

या दक्षिण पश्चिम के दक्षिण में,  तब इसके नीचे सीढ़ियों का निर्माण करने में  कोई समस्या नहीं है।

सीढ़ी के नीचे एक बाथरूम बनाना व्यक्ति को उस स्थान का सबसे बेहतर उपयोग करने देता है।

इसलिए, यहां शौचालय निर्माण हेतु सबसे महत्वपूर्ण है वास्तु के अनुसार सही स्थान, भले ही यह सीढ़ी के नीचे हो ।

क्या सीढ़ी के नीचे पूजन का स्थान जगह स्थापित किया जा सकता है?/ Can a space for Pooja be installed under the staircase? 

सीढ़ियों के नीचे पूजा कक्ष या घर मंदिर की स्थापना नहीं होनी चाहिए।

क्या सीढ़ी के नीचे पूजन का स्थान जगह स्थापित किया जा सकता है?/ Can a space for Pooja be installed under the staircase? 

सीढ़ियों के नीचे पूजा कक्ष या घर मंदिर की स्थापना नहीं होनी चाहिए।

स्वयं या आपके  परिवार के सदस्यों की तरह ही भगवान के पास भी अपना एक कक्ष होना चाहिए, और उस सर्वशक्तिमान हेतु सर्वाधिक उपयुक्त स्थान सीढ़ियों के नीचे नहीं होता।

यह भी कहा जाता है कि पूजा कक्ष हेतु एक अलग स्थान बनाया जाना चाहिए। इसके अतिरिक्त , इस बात का ध्यान रखें कि सीढ़ियों के नीचे किसी भी भगवान की मूर्तियों या छवियों को नहीं लगानी चाहिए। आपको अपने पितृ (पूर्वजों) की छवियों को भी सीढ़ियों के नीचे लगाने से परहेज़ करना चाहिए।

यह देवता और पितृ ही हैं जो , घर को स्वास्थ्य, धन, शांति, और समृद्धि का आशीर्वाद देते हैं।

क्या करें और क्या नहीं/DO's and DON'Ts

मुख्य रूप से क्या करें/Major DO's  

क्या करें और क्या नहीं/DO's and DON'Ts

मुख्य रूप से क्या करें/Major DO's  

  1. यह सुनिश्चित करें की  सीढ़ियों में, प्रकाश की उचित व्यवस्था हो। यह अंधकारमय या मंद नहीं होना चाहिए, क्योंकि ऐसा होने पर यह हानिकारक ऊर्जा देता है ।
  2. ऐसी सीढ़ी का निर्माण कराएं जो अक्सर पूर्व से पश्चिम या उत्तर से दक्षिण तक जाती हों। इस बात का विशेष ध्यान रखें कि इसका कोइ भी भाग टूटा हुआ न हो ।
  3. यदि ऐसा है, तो उसे तुरंत ठीक करें क्योंकि यह पारिवारिक समस्याओं या भूमि से संबंधित विवादों को जन्म दे सकता है।
  4. यदि सीढ़ी दक्षिण पश्चिम दिशा में है तो वहां संगमरमर या पत्थर की रेलिंग लगवाएं, यदि यह पश्चिम में हो  तो धातु की रेलिंग, और यदि पूर्व या दक्षिण दिशा में हो तो लकड़ी की रेलिंग का उपयोग करें। जिस दिशा में वह स्थित हैं, उसके आधार पर, सीढ़ियों के क्षेत्र में सटीक रंगों का  प्रयोग करें। पश्चिम में धूसर , दक्षिण में लाल,  और पूर्व में हरे रंग का उपयोग किया जा सकता है।
  5. अनुकूल वास्तु क्षेत्रों में सीढ़ियों का निर्माण घड़ी की विपरीत दिशा में  किया जाना चाहिए, और प्रतिकूल क्षेत्रों में इसे घड़ी की दिशा में बनाया जाना चाहिए।
  6. सीढ़ियों के नीचे का क्षेत्र साफ रखें।
  7. आप सीढ़ियों के नीचे एक स्टोर का भी निर्माण करा सकते हैं,परन्तु उसे  इसे व्यवस्थित रखें।

मुख्य रूप से क्या न करें/Major DONT's  

  1. पूजा कक्ष कभी कभी भी सीढ़ियों के नीचे न बनाएं।
  2. जहां तक संभव हो सीढ़ियों के नीचे रसोईघर के निर्माण से बचें ।
  3. कभी भी घर के केंद्र या या ब्रह्मस्थान में सीढ़ियों का निर्माण न करें।
  4. घर के उत्तर और उत्तर पूर्वी कोने में सीढ़ियां  नहीं होनी चाहिए ।
  5. सीढ़ियों के नीचे देवताओं की मूर्तियों या चित्रों को को न लटकाएं। इसके अतिरिक्त , सीढ़ी के नीचे पितृ छवियाँ ना लगाएं।
  6. जहां तक संभव हो, सीढ़ियों के नीचे कूड़ेदान रखने से बचें।
  7. सीढ़ी के नीचे तिजोरी या अलमारी में पैसा और कीमती सामान रखने की सलाह नहीं दी जाती।
  8. जहां तक संभव हो सीढ़ियों के नीचे दर्पण लगाने से बचना चाहिए।

निष्कर्ष/Conclusion

आपकी इमारत में सबसे अधिक अनदेखी वाले क्षेत्रों में से एक सीढ़ी हो सकती है।

ध्यान रखें , सीढ़ियों से निकलने वाली ऊर्जा शक्तिशाली है। इसलिए, अपने घर का निर्माण करते समय  इन पर ध्यान देना और उपरोक्त वास्तु दिशानिर्देशों का पालन करना चाहिए । यदि यह ठीक प्रकार से तरह से किया गया, तो सीढ़ी वास्तु आपको विकास,घन और अद्वितीय उपलब्धि दिला सकती है।

वास्तु पर किसी भी विशिष्ट मार्गदर्शन हेतु :

आप अतिथि कक्ष वास्तु या ऑनलाइन रिपोर्ट

एक ज्योतिषीय सत्र के लिए मुझसे सलाह लें।

आप यह भी पढ़ सकते हैं कि ज्योतिष/Astrology आपको घर, पूजा कक्ष शयन कक्ष , अध्ययन कक्ष, शौचालय, मेहमान कक्ष, रसोई घर हेतु वास्तु को जानने में आपकी सहायता करता है ।