नए या मौजूदा कारखाने हेतु सही वास्तु

वास्तु सिर्फ घर और दुकानों तक ही सीमित नहीं है, इसकी आवश्यकता कारखानों में भी पड़ती है। हर कारखाने को सफलता मिल सकती है बस उसकी बनावट वास्तु के सिद्धांतों के आधार पर होनी चाहिए। कारखाने का वास्तु/ Factory Vastu मशीनरी की स्थापना, खराब पदार्थ की निकासी, कच्चा माल रखने की जगह, तैयार माल रखने का स्थान, श्रमिकों के लिए कमरा, सामान लाने और ले जाने के लिए वाहन पर आधारित होता है। कारखाने के वास्तु/ Factory Vastu में वित्त और लेखा कक्ष को भी शामिल किया जाता है।

यदि आप मुश्किल समय में कारखाने को खोलने का मन बना चुके हैं तो आपके लिए सबसे जरूरी कदम यह होगा कि आप अपने कारखाने को वास्तु के अनुसार ही बनवाएं ताकि आपको 100 प्रतिशत सफलता मिले और भविष्य में आप सिर्फ सफलता की सीढ़ी चढ़ें।

कारखाने के वास्तु की महत्वता/ Importance of Factory Vastu

पिछले कुछ समय से कारखाने के वास्तु ने लोगों के बीच अपार लोकप्रियता बटोरी है। वैश्वीकरण और प्रगतिशील अर्थव्यवस्था के साथ, कारखानों की आवश्यकता पहले की तुलना में अधिक बढ़ गई है, जिसके कारण कारखाने के वास्तु की महत्वता भी पहले से बहुत बढ़ गई है।

कारखाने के वास्तु की महत्वता/ Importance of Factory Vastu

पिछले कुछ समय से कारखाने के वास्तु ने लोगों के बीच अपार लोकप्रियता बटोरी है। वैश्वीकरण और प्रगतिशील अर्थव्यवस्था के साथ, कारखानों की आवश्यकता पहले की तुलना में अधिक बढ़ गई है, जिसके कारण कारखाने के वास्तु की महत्वता भी पहले से बहुत बढ़ गई है।

पिछले कुछ वर्ष के दौरान, औद्योगीकरण की गति तेज हुई है, जिसके परिणामस्वरूप बड़े पर और छोटे पैमाने के उद्योगों की स्थापना हुई। इस दौरान जो भी कारखाने खोले गए, वह सारे सफल नहीं हुए हैं। कुछ कारखानों को उत्पादन से संबंधित चुनौतियों का सामना करना पड़ा, जबकि अन्य को श्रम संबंधी समस्याओं का सामना करना पड़ रहा था।

कुछ कारखाने अच्छे उच्च गुणवत्ता के उत्पाद बनाने में सफल नहीं हो पाते थे, और वहीं कुछ कारखाने अपने कच्चे माल और आपूर्ति श्रृंखला का प्रबंधन नहीं करने में सक्षम नहीं थे।

यही वह बिंदु है जहां पर कारखाने का वास्तु अहम किरदार निभाता है। आपको यह जानकर आश्चर्य होगा कि वास्तु के उपयोग से उत्पादन अधिक होता है और कारखानों को गुणवत्ता के लिए अंतरराष्ट्रीय स्तप पर कार्य करने में सहायता मिलती है।

निर्माण के समय कारखाने में वास्तु के सिद्धांतों के आधार पर आकार बहुत उपयोगी साबित होता है। यह कारखाने के मालिकों को विभिन्न समस्याओं-श्रम, वित्त, प्रशासन, उत्पादन आदि से छुटकारा दिलाने में सहायता करेगा।

कारखाने शेड के लिए वास्तु क्यों महत्वपूर्ण है?/ Why is Vastu for factory shed important?

कारखाने शेड के लिए वास्तु/ Vastu for factory shed आपको कम से कम प्रयास में ज्यादा लाभ दिला सकता है। यदि हर चीज वास्तु के अनुसार होगी तो आप हर लक्ष्य को आसानी से प्राप्त कर पाएंगे।

कारखाने शेड के लिए वास्तु क्यों महत्वपूर्ण है?/ Why is Vastu for factory shed important?

कारखाने शेड के लिए वास्तु/ Vastu for factory shed आपको कम से कम प्रयास में ज्यादा लाभ दिला सकता है। यदि हर चीज वास्तु के अनुसार होगी तो आप हर लक्ष्य को आसानी से प्राप्त कर पाएंगे।

हर कारखाना अपने प्रक्रिया और उत्पादों के मामलों में भिन्न होते हैं। इसलिए सभी कारखानों के लिए वास्तु भिन्न होते हैं।

उत्पादन चक्र में शामिल प्रत्येक प्रक्रिया समान रूप से महत्वपूर्ण है। लेकिन कुछ कारखानों के लिए, कुछ प्रक्रिया दूसरों की तुलना में अधिक महत्वपूर्ण होती हैं। कुछ कारखानों के लिए उत्पादन चक्र  महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। वहीं दूसरे कारखानों के लिए दूसरे प्रक्रिया महत्वपूर्ण होते हैं।

उदाहरण के लिए – खाद्य प्रसंस्करण कारखानों के लिए पैकेजिंग की तुलना में उत्पादों की गुणवत्ता और स्वाद अधिक महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं।

वहीं दूसरी तरफ, सहायक उपकरण कारखानों के लिए स्टाइलिंग और डिजाइन प्रक्रिया बहुत ज्यादा अहम होती है। कुल मिला कर वास्तु कारखानों के शेड के वास्तु में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं।

उदाहरण के लिए- कारखाने का वास्तु डिजाइन करते समय, कारखाने के दक्षिण-पूर्व भाग को स्टील और लोहे से निर्माण करना चाहिए और कारखाने के शेड को सावधानीपूर्वक डिज़ाइन किया जाना चाहिए।

जब हम लोहे के कारखाने के लिए वास्तु की बात करते हैं तो हम लोहे को पिघलाने और गर्म करने के स्थान को सबसे महत्वपूर्ण मानते हैं।

वहीं इसके विपरीत, यदि कोई कारखाना दवाओं का उत्पाद कर रहा है तो उनके लिए दक्षिण और पश्चिम दिशा अनुकूल स्थान साबित हो सकती है। 

वहीं इसी प्रकार यदि आप छोटे कारखाने खोलने की योजना बना रहे हैं, तो आपको वास्तु के सिद्धांतों का अच्छा खासा ख्याल रखने की आवश्यकता होती है।

इसलिए, आपको शेड बनाने के लिए वास्तु का सहारा लेना चाहिए। यह आपको माल ढुलाई की योजना बनाने, जल निकायों की नियुक्ति, सीढ़ियों की नियुक्ति, और अंत में उन्हें अपने ग्राहकों को भेजने में सहायता कर सकता है।

इसलिए जब भी आप अपने कारखाने या कारखाने के मुख्य द्वार का वास्तु/ Vastu for the factory office or Vastu for the factory's main gate के अनुसार बनाने की योजना कर रहे हैं, तो आपको कारखाने की बनावट पर भी अच्छा खासा ध्यान रखना चाहिए।

कारखाने के लिए कुछ महत्वपूर्ण वास्तु टिप्स/ Important Factory Vastu Tips

कारखाने के अंदर और उसके आस पास की जमीन

कारखाने के लिए कुछ महत्वपूर्ण वास्तु टिप्स/ Important Factory Vastu Tips

कारखाने के अंदर और उसके आस पास की जमीन

कारखाने के लिए वास्तु के सिद्धांत किसी भी निर्माण में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। वास्तु के अनुसार, फैक्ट्री शेड की स्थापना करते समय आपको निर्दिष्ट दिशानिर्देशों और नियमों का पालन करने की आवश्यकता होती है।

किसी भी कारखाने को बनाने से पहले आपको उस जमीन के वास्तु पर ध्यान देना चाहिए। यदि वह जमीन आपके लिए प्रतिकूल होगी, तो आपको बहुत सारी समस्या का सामना करना पड़ सकता है।

प्लॉट वास्तु नियमों के अनुसार/ According to plot Vastu rules जिस कारखाने की जमीन की ढलान उत्तर पूर्व या उत्तर दिशा में नीचे की ओर होता है, उसे सबसे शुभ माना जाता है।

ऐसा इसलिए होता है क्योंकि पृथ्वी का चुंबकीय क्षेत्र उत्तर-पूर्व से दक्षिण-पश्चिम की ओर प्रवाहित होती है। इसलिए उत्तर-पूर्व की तरफ जाने से आपको बहुत लाभ हो सकता है।

वहीं इसके विपरीत, दक्षिण पश्चिम या दक्षिण की तरफ कारखाने की ढलान को लाभदायक नहीं माना जाता।

वहीं इसी प्रकार कारखाने के शेड के निर्माण के समय आपको कारखाने की छत की ढलान पर भी ध्यान देना चाहिए। आपको कारखाने की छत की ढलान को पूर्व या उत्तर की तरफ उसका ढलान को रखना चाहिए ताकि बारिश में पानी के बहाव में सहायता मिल सकती है।

ताप प्रक्रिया और विद्युत नियंत्रण/ Heating Processes and Electrical Controls

हर कारखाने के लिए जनरेटर, ट्रांसफार्मर और विद्युत नियंत्रण पैनल सबसे महत्वपूर्ण संपत्ति होती है। इसलिए इनकी नियुक्ति उत्पादन प्रक्रिया में बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं।

इसलिए, कारखाने के लिए वास्तु डिजाइन करते समय, आपको प्लेसमेंट पर बहुत सावधानी से विचार करना चाहिए अन्यथा आपको बहुत सारी समस्या का सामना करना पड़ सकता है।

वास्तु शास्त्र के अनुसार/ According to Vastu Shastra, बिजली के उपकरण जैसे नियंत्रण पैनल और ट्रांसफार्मर की सही स्थान पर नियुक्ति आपके लिए लाभदायक साबित हो सकती है। यह सभी विद्युत उपकरण अग्नि तत्व का प्रतिनिधित्व करते हैं।

उदाहरण के तौर पर, रासायनिक कारखाने के लिए वास्तु डिजाइन करते समय, आपको बॉयलर के प्लेसमेंट पर बहुत सावधानी से विचार करने की आवश्यकता होती है।

बॉयलर भी अग्नी तत्व से संबंध रखता है। इसलिए वास्तु के अनुसार इस बात की सलाह दी जाती है कि आपको ऐसे तत्व को दक्षिण-पूर्व और दक्षिण दिशा में लगाना चाहिए।

यदि उन्हें गलत दिशा जैसे – उत्तर पूर्व या उत्तर दिशा में रखा जाएगा, तो यह आपके उपदान क्षमता में समस्या खड़ी कर सकता है।

यदि हम कारखाने के लिए वास्तु डिजाइन उत्तर दिशा में करवाते हैं तो यह एक आम समस्या के रूप में हमें परेशान कर सकती है। बहुत सारे मामलों में ट्रान्सफ़ॉर्मर को कारखाने के सामने की ओर लगाते हैं, जो बहुत सारी समस्या का कारण बन सकता है।

जनरेटर भी विद्युत उपकरण है। इसका कार्य बिजली के अनुपस्थिति में विद्युत बैकअप प्रदान करना है। इसलिए वास्तु के अनुसार फैक्ट्री/ according to Vastu की उत्तर-पश्चिम दिशा में जनरेटर रखना चाहिए।

कारखाने की मशीनों के लिए वास्तु: सही दिशा और स्थान/ Vastu for Factory Machines: Correct directions and placements

कारखाने के मशीनों के लिए वास्तु के संबंध में एक लोकप्रिय मिथक है।

मिथक के अनुसार, आपको मशीनरी को कारखाने के दक्षिण पश्चिम कोने में रखना चाहिए। इसके पीछे यह तथ्य दिया जाता है कि दक्षिण पश्चिम दिशा एक भारी स्थान के रूप में देखा जाता है। इसलिए ऐसा माना जाता है कि यदि इस दिशा में मशीन को रखा जाए तो यह आपके लिए लाभकारी साबित हो सकता है।

इस बात में बिल्कुल भी सत्य नहीं है। यह सत्य नहीं है क्योंकि हर कारखाना अलग होता है और वहां पर प्रयोग होने वाले मशीन भी अलग होते हैं।

फैक्ट्री वास्तु दिशानिर्देशों के अनुसार/ According to factory Vastu guidelines, मशीन के वजन को कभी भी ध्यान में नहीं रखना चाहिए। जबकि उस उपकरण का कार्य उसके स्थान को निर्धारित करता है।

उदाहरण के तौर पर, स्टोन क्रशर के कारखाने में स्टोन क्रशर उपकरण को उत्तर-पश्चिम कोने में रखना सबसे अच्छा माना जाता है। ऐसा इसलिए है क्योंकि वास्तु के अनुसार रुद्र के ऊर्जा क्षेत्र क्रशिंग के कार्यों को नियंत्रित करते हैं। ऐसा इसलिए है क्योंकि वास्तु के अनुसार रुद्र के ऊर्जा क्षेत्र क्रशिंग के कार्यों को नियंत्रित करते है।

इसलिए कारखाने के निर्माण में मशीन के उपयोग और उसके स्थान को ध्यान में रखकर ही कोई काम करना चाहिए।

आप हमारी वेबसाइट पर मौजूद निःशुल्क कैलकुलेटर का प्रयोग करके भी काफी सारी जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।

कारखाने के मुख्य द्वार और परिसर की दीवारों / सीमा के लिए वास्तु/ Vastu for factory main gate and compound walls/boundary

कारखाने के प्रवेश द्वार या मुख्य द्वार के लिए वास्तु किसी भी संगठन या कारखाने के लिए निर्णायक साबित हो सकता है। वास्तु का किसी भी कारखाने को सफल और विफल बनाने में बहुत बड़ा योगदान होता है।

नियम के अनुसार, आपको कारखाने के मुख्य द्वार को 30-40 प्रतिशत महत्वता देनी चाहिए। मुख्य द्वार चारों में से किसी भी स्थान पर बनाया जा सकता है। बस आपको ध्यान देना होगा कि मुख्य द्वार के साथ साथ बाकी सभी चीजें वास्तु के नियम के अनुसार ही हो। वास्तु के अनुसार ज्यादातर लोग अपने कारखाने का मुख्य द्वार पूर्व या उत्तर दिशा में लगाना पसंद करते हैं। सभी लोगों का मानते हैं कि वास्तु के अनुसार यह दिशा सबसे उत्तम होती है।

कारखाने के वास्तु के अनुसार, कारखाने की शुभता उसके मुख की दिशा और उसके मुख्य द्वार के प्रवेश द्वार के स्थान और भूखंड के भीतर स्थित अन्य सभी संरचनाओं पर निर्भर करती है।

दक्षिण मुखी कारखाने वास्तु के कई विषयों पर काम करने के बाद, हम इस निष्कर्ष पर पहुंचे हैं कि दक्षिण मुखी कारखाने सफल हो सकते हैं, बशर्ते आपको कारखाने के वास्तु के नियमों/ rules of Factory Vastu का पालन करें।

एक कारखाने का मुख्य द्वार पर्याप्त वृद्धि और प्रगति ला सकता है या भारी नुकसान का भी कारण बन सकता है।

उदाहरण के तौर पर – मेरे एक जजमान ने हमसे संपर्क किया कि वह दक्षिण पश्चिम मुखी कारखाने का वास्तु के अनुसार ठीक कर सकें। उनका कारखाना बहुत बड़े कर्ज में था और वह बंद होने के कगार पर भी खड़ी थी।

किसी कारखाने के लिए वास्तु डिजाइन करते समय, हम मानते हैं कि कारखाने का मुख्य द्वार या प्रवेश द्वार ठीक दक्षिण-पश्चिम दिशा में होना चाहिए।

कारखाने के वास्तु के अनुसार/ according to Vastu for the factory, प्रवेश द्वार या मुख्य द्वार का स्थान बहुत महत्वपूर्ण होता है।

वास्तु के अनुसार, कारखाने की सीमा या परिसर की दीवार भी बेहद महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। ऐसा इसलिए होता है क्योंकि सीमा के अंदर ही ऊर्जा का जन्म होता है।

कारखाने का वास्तु/ factory Vastu मिश्रित दीवारों के निर्माण पर ध्यान केंद्रित करता है।

इसलिए, आपको यह ध्यान रखना चाहिए कि कारखाने की शेड के पश्चिम और दक्षिण में चारदीवारी पूर्व और उत्तर की तुलना में अधिक मोटी और ऊंचाई पर होने चाहिए।

ऐसा इसलिए है क्योंकि सूर्य दक्षिण और दक्षिण पश्चिम के माध्यम से पूर्व से पश्चिम की ओर जाता है।

सूर्य ऊष्मा की अधिकतम मात्रा उत्पन्न करता है जब वह दोपहर में एकदम ऊपर और अपने तरम पर होता है। जब सूर्य दक्षिण पश्चिम या दक्षिण में होता है, तो वातावरण के पराबैंगनी विकिरण में काफी वृद्धि होती है। इसी कारणवश, ऊर्जा के इस पैटर्न के कारण नुकसान होने की संभावना अधिक हो जाती है।

वहीं दूसरी तरफ, पूर्व और उत्तर में निचली और पतली दीवारें सुबह और दोपहर के दौरान अवरक्त किरणों से बचाव में मददगार साबित हो सकती हैं।

तो, कारखाने के वास्तु के अनुसार/ according to factory Vastu और परिसर की दीवार के नियमों के अनुसार, परिसर की दीवारों की मोटाई और ऊंचाई भी एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है।

कारखाने के कार्यालय के लिए वास्तु: स्टाफ केबिन और लेबर या श्रमिकों के रहने के स्थान/ Vastu for Factory Office: Location of the Staff Cabins and Labour Quarters

कारखाने के कार्यालय का वास्तु के अनुसार बनावट कारखाने की सफलता में बेहद महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं।

आम तौर पर, छोटे कारखाने में 5-6 लोग ही काम करते हैं, वहीं बड़े कारखानों में श्रमिकों की संख्या 100 या उससे अधिक हो सकती है। इसलिए कारखाने की सफलता वहां काम करने वाले श्रमिकों पर निर्भर करती है, इसलिए आपको अपने कारखाने में हर चीज को बनाते समय अधिक ध्यान देने की जरूरत होती है।

श्रमिकों के रहने का स्थान, गार्ड रूम, प्रशासनिक क्षेत्र, इत्यादि कारखाने के कुछ सबसे महत्वपूर्ण क्षेत्र है। इसलिए आपको वास्तु के नियमों का ध्यान हमेशा रखना चाहिए।

लोगों को नियुक्त करने के लिए कोई निश्चित नियम नहीं बने हैं। यदि कोई आपको इस विषय में बताता है तो हो सकता है कि उसे वास्तु का पूरा ज्ञान ना हो।

बड़े या छोटे पैमाने के कारखानों के लिए वास्तु डिजाइन करते समय आपको उन कार्यों को याद रखना चाहिए जो आपके कारखाने में काम करने वाले लोगों को जिन काम के लिए नियुक्त किया है। उनके कार्य के अनुसार ही उनके कक्ष का स्थान निर्धारित होता है।

कारखाने के मालिकों के कार्यालय के लिए आदर्श दिशा पश्चिम या दक्षिण दिशा में हो सकती है।

पश्चिम दिशा हर तरह के मुनाफे के लिए सबसे उत्तम दिशा मानी जाती है। वहीं, दक्षिण दिशा आपका नाम और पैसा दे सकती है जिससे आपको और आपके कारखाने को फायदा हो सकता है।

इसलिए इस बात की सलाह दी जाती है कि आपको श्रमिकों के रहने के स्थान को कारखाने परिसर के दक्षिण-पूर्वी हिस्से में बनाना चाहिए। ऐसा इसलिए है क्योंकि इस दिशा में उत्सर्जित होने वाली तेज ऊर्जा मजदूरों को कार्य के प्रति उत्साहित रखेंगे और अच्छा प्रदर्शन करने के लिए प्रेरित करती हैं।

तकनीकी मशीन ऑपरेटर के केबिन को दक्षिण-पश्चिम दिशा में रखना चाहिए। इस तरह की नियुक्ति इस क्षेत्र में कार्य करने वाले लोगों के कौशल में वृद्धि का संकेत देता है।

वहीं इसके विपरीत, पूर्व दिशा को प्रशासनिक कार्य के लिए सबसे उत्तम माना जाता है। यह दिशा सूर्य की दिशा कहलाती है और यह लोगों के कौशल को उत्तम बनाते है ताकि प्रशासनिक कार्यों में कोई बाधा ना आए।

गार्ड कक्ष के नियुक्ति के लिए दक्षिण पूर्व का दक्षिण क्षेत्र सबसे उत्तम माना जाता है।

तैयार माल और कच्चे माल का स्थान/ Placement of the finished goods and raw materials

किसी भी कारखाने में तैयार माल और कच्चा माल सबसे उत्तम माना जाता है। यही वह सामग्री है जो उन्हें बाजार में जीवित रखती है। इसलिए इन्हें रखने के लिए सबसे उत्तम स्थान ढूंढना पड़ेगा।

आपको इस बात का ख्याल रखना होगा कि आपको सभी कच्चा माल कारखाने के पश्चिम दिशा में रखा जाए।

यदि कारखाने के कच्चे माल में तरल पदार्थ है, तो आपको उसे उत्तर पूर्व या उत्तर दिशा में रखना चाहिए।

कारखाने के लिए वास्तु के अनुसार/ According to Vastu for the factory, तैयार माल रखने के लिए उत्तर पश्चिम सबसे अच्छी दिशा है।

इस दिशा को सबसे शुभ माना गया है जहां से तैयार माल का निरंतर प्रवाह और संचालन होता रहता है।

उत्तर पश्चिम दिशा को 'वायव्य कोण' भी कहा जाता है वायु तत्व के उर्जा से भरा होता है। इस तत्व की उपस्थिति के कारण आपके कारखाने में लगातार तैयार माल बनता रहेगा।  

पानी का बोरिंग, शौचालय और सेप्टिक टैंक के लिए उपयुक्त स्थान/ Placement of Water Boring, Toilet and Septic Tank

वास्तु के अनुसार पानी का बोरिंग, शौचालय और सेप्टिक टैंक के लिए उपयुक्त स्थान किसी भी स्थान में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

कारखाने में पानी के बोरिंग लगाने के लिए पूर्व, उत्तर पूर्व, उत्तर और पश्चिम दिशा सबसे उत्तम मानी जाती है। यह कारखाने में पानी की कमी नहीं होने देगा और इसके कारण आपको लगातार अवसर मिलते रहेंगे जिससे आपको सफलता भी मिल सकती है।

वहीं दूसरी तरफ, छत की टंकी पृथ्वी तत्व को दर्शाता है। इसलिए इसकी नियुक्ती पश्चिम या दक्षिण पश्चिम दिशा में होनी चाहिए। लेकिन आपको इस बात का अच्छा खासा ख्याल रखना चाहिए कि कारखाने के उत्तर पूर्व दिशा में कोई भी टंकी नहीं लगनी चाहिए।

एक कारखाने में सेप्टिक या शौचालय के लिए टंकी का उपयोग अपशिष्ट पदार्थों को ठोस और तरल पदार्थ के रूप में निकालने के लिए किया जाता है।

इसलिए वास्तु के अनुसार/ according to vastu, उत्तर पश्चिम के पश्चिम या दक्षिण पश्चिम के दक्षिण दिशा शौचालय और सेप्टिक टंकी के लिए आदर्श स्थान हो सकता है।

कारखाने के वास्तु के अनुसार वाहनों के लिए पार्किंग क्षेत्र/ Parking area for vehicles as per Factory Vastu

कारखाने के वास्तु के अनुसार, भारी और हल्के वाहन के लिए अलग अलग पार्किंग का स्थान होना चाहिए।

भारी वाहनों के लिए पार्किंग की सुविधा कारखाने के बाहर होनी चाहिए।

हालांकि, यह दक्षिण पश्चिम और दक्षिण क्षेत्रों में किया जाना चाहिए। यदि उन वाहनों का प्रयोग है तो आप उन्हें कारखाने के अंदर खड़ा करवा सकते हैं।

उत्तर-पश्चिम दिशा हल्के वाहनों, जैसे साइकिल या स्कूटर की पार्किंग के लिए सबसे उपयुक्त होती है। यह फैक्ट्री के पूर्व और उत्तम क्षेत्र में भी हो सकता है। किसी भी तरह की पार्किंग सुविधा को उत्तम पूर्व में नहीं होना चाहिए।

रसोई घर का स्थान/ Kitchen and Pantry Placement

रसोई घर को अग्नि तत्व का हिस्सा भी माना जाता है, इसलिए इसका स्थान बहुत महत्वपूर्ण होता है। वास्तु के अनुसार/ According to Vastu, दक्षिण पूर्व से दक्षिण दिशा रसोई घर को बनाने के लिए सबसे उत्तम मानी जाती है।

आपको एक बात से हमेशा दूर रहना चाहिए। आपको कभी भी रसोई घर के दीवारों पर नीला रंग नहीं कराना चाहिए या फिर नीले टाइल, या ग्रेनाइट के स्लैब नहीं लगाना चाहिए। नीला रंग पानी का संकेत देता है और यह तत्व अग्नि तत्व के विपरीत कार्य करता है।

किसी भी विशिष्ट मार्गदर्शन के लिए आप नीचे दिए तरीकों से हमसे संपर्क कर सकते हैं।

कारखाने के वास्तु के लिए ऑनलाइन रिपोर्ट लें।

या फिर ज्योतिषीय सत्र के लिए मुझसे संपर्क करें।

आप दुकान के लिए वास्तु, कार्यालय के लिए वास्तु, और प्लॉट के लिए वास्तु के संबंध में आप हमारी वेबसाइट पर लेख पढ़ सकते हैं।

निःशुल्क कैलकुलेटर