दूसरे भाव में शनि | Saturn in 2nd house

शनि की भूमिका का अध्ययन करते समय, यह ध्यान में रखना चाहिए कि यह सातवें भाव का आठवां स्थान होता है जो विवाह, प्रेम संबंधों, वैवाहिक जीवन और पति-पत्नी के संबंधों को नियंत्रित करता है। किसी भी भाव के अतिरिक्त आठवां स्थान, व्यक्ति के भाव के प्रतिकूल माना जाता है। आमतौर पर, हर 28 साल में होने वाला शनि का गोचर, दूसरे भाव से होने या महादशा या वर्तमान में शनि की अंतर्दशा चलने के कारण, शनि भी  सातवें भाव पर प्रतिकूल प्रभाव डालता है। वार्षिक चार्ट में शनि का यह स्थान, भविष्यवाणियों के सुनियोजित सोच-विचार करने में सहायक होता है।

 

वार्षिक तालिका में, शनि के प्रतिकूल होने और महादशा या अंतर्दशा वाले अन्य सितारों के साथ शनि के प्रतिकूल संबंधों के दौरान, इन लोगों को स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं की रोकथाम तथा अपने रिश्ते में मधुरता बनाए रखने के लिए के लिए विशेष सावधानी और निवारक उपायों की आवश्यकता पड़ सकती है। इसके अतिरित्क, दूसरे भाव का शनि जीवनसाथी की कुंडली में दूसरे, सातवें या आठवें भाव में समान नक्षत्र होने के बावजूद, बिना किसी हिंसा के अक्सर पति और पत्नी के संबंधों में समस्या और आक्रामकता प्रदान करता है। दूसरे भाव में शनि का गोचर या किसी विरोधी की महादशा में इसकी अंतर्दशा, जीवनसाथी के लिए मोच, फ्रैक्चर या पैरों की कोई गंभीर क्षति, टांगों/ पैरों/ कमर या रीढ़ की निचली हड्डी में दर्द जैसी स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं लेकर आएगी जो जीवनसाथी के लिए निर्बाध और त्वरित गति से कठिनाइयों का कारण बन सकता है।

 

हालांकि, पहले भाव में मकर राशि के होने तथा कुंभ की स्वराशि में, दूसरे भाव का शनि की भूमिका जीवनसाथी के लिए कम संकटपूर्ण होगी। वहीं दूसरी ओर, सिंह राशि के दूसरे भाव में तथा मकर राशि के सातवें भाव में होने पर, पत्नी पर इसका गंभीर प्रतिकूल प्रभाव पड़ेगा। इसी तरह, दूसरे भाव में शनि के साथ वृश्चिक या मेष राशि होने पर साथी को आग, त्वचा विकार, सिरदर्द, दृष्टि, ऊर्जा, रसायन, ज्वलनशील पदार्थ जैसे अन्य कष्ट .या रक्तस्राव का कारण हो सकते हैं। अतः, यह आकलन करना अधिक महत्वपूर्ण होता है कि शनि कब मंगल की महादशा में अपनी अंतर्दशा में या मंगल की अंतर्दशा, मंगल की महादशा के अंतर्गत है। आमतौर पर, दूसरे भाव का शनि धीमी और स्थिर बचत वृद्धि, पूंजी निर्माण और अन्य संपत्तियां तथा कुछ विनिर्माण या औद्योगिक उद्यमों की शुरूआत करने और संचालित करने की संभावनाओं को भी दर्शाता है। इसके अलावा, शनि के ग्यारहवें या बारहवें भाव का स्वामी होने पर, अपने भाव में शनि व्यक्ति के लिए बचत, संसाधनों और संपत्ति के लिए अधिक लाभकारी हो जाता है।

 

अक्सर, अपने नक्षत्रों के अधीन भाई, बहन और चचेरे भाई-बहन नैतिक और आर्थिक मदद या सहयोग की अपेक्षा करते हैं और प्राप्त भी करते हैं क्योंकि ये व्यक्ति, तब तक कभी इससे इन्कार नहीं करते जब तक कि उनकी स्थिति और कार्य ऐसा करने की वजह नहीं बनते। असाधारण मामलों में, स्वयं या जीवनसाथी के रक्त संबंधों द्वारा अप्रत्यक्ष या वास्तविक ईर्ष्या और द्वेष से व्यक्ति को कष्ट हो सकता है। दूसरे भाव में शनि वाले  लोगों को, सामान्य गर्भावस्था में गर्भपात से बचने के लिए सुरक्षात्मक सावधानी बरतनी चाहिए और पत्नी की भलाई के लिए, सर्जरी द्वारा प्रसव रोकने का प्रयास करना चाहिए। इसके अतिरिक्त, दूसरे भाव का शनि किसी सामाजिक, धर्मार्थ या शैक्षिक कार्यालय में  व्यक्ति के विरुद्ध ईर्ष्या, जबरन वसूली, उपहास या अन्य हानिकारक गतिविधियों से सुरक्षा प्रदान करता है। इन लोगों को अपने विरुद्ध किसी शारीरिक या नैतिक हमला होने पर भी, बदला लेने के लिए जानलेवा प्रतिद्वंद्वी नहीं बनना चाहिए। हालांकि, साथी के संबंध में यह सिद्धांत लागू नहीं होता चाहे जीवनसाथी इसके लायक हो या न हो। 

 

आमतौर पर, इन व्यक्तियों का जीवन लंबा होता है भले ही वे सक्रिय रोजगार के लिए मानसिक रूप से स्वस्थ हों या उम्र के कारण स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं के चलते अशक्त ही क्यों न हों। वहीं, शनि का पत्नी की लंबी उम्र से कोई लेना-देना नहीं होता क्योंकि यह सिर्फ उसके सितारों पर निर्भर करता है। सक्रिय राजनीति के दौरान, ये लोग व्यक्तिगत, सामाजिक, सांप्रदायिक या राष्ट्रीय मुद्दों पर बहुत ही सीधा रवैया अपनाते हैं तथा कारणों का मूल्यांकन करने की जगह,अपने दृष्टिकोण या पद संबंधी सहायकों को खोजने की प्रवृत्ति रखते हैं।

 

आमतौर पर, यह व्यक्ति धन बचाने के लिए, अपने बच्चों को पैसे देने या जरूरतमंद छात्रों को दान या आर्थिक सहायता देने में अत्यधिक धूर्त होते हैं तथा मांगे गए आवश्यक धन के लिए, पूर्ण स्पष्टीकरण चाहते हैं।

दूसरे भाव में शनि/Saturn in second house वाले व्यक्ति क्रोध, झगड़े, डांटने या  धमकाने वाले होते हैं, जिन्हें दृढ़तापूर्वक वश में किया जाता है। सुनियोजित रूप से, यह विरोधी पक्ष के मन में भय की भावना उत्पन्न करता है।

आप हमारी वेबसाइट से सभी भावों में शनि के प्रभावग्रहों के गोचर और उसके प्रभावों के बारे में भी पढ़ सकते हैं।

ज्योतिष रहस्य