noscript

EFFECT ON EACH SIGN WHEN VENUS ENTERS SAGITTARIUS SIGN

SAGITTARIUS SIGN

मेष राशि 

मेष राशि के लिए शुक्र नवम भाव में स्थित होगा | शुक्र चंद्र राशि से जब नवम भाव में स्थित होता है तो उत्तम वस्त्र तथा आभूषणों की प्राप्ति होती है | जातक का शरीर स्वस्थ रहता है | आशा से अधिक लाभ की प्राप्ति होगी | घर में मांगलिक तथा धार्मिक उत्सव होते हैं | लम्बी यात्रा की सम्भावना है | गृहस्थ सुख में वृद्धि होती है | उपाय हेतु शुक्रवार को व्रत - कथा एवं आरती आदि करें | घर में शांति रहेगी |

वृषभ राशि  

वृषभ राशि के जातकों के लिए शुक्र अष्टम स्थान में प्रवेश करेगा | गोचर में आठवें भाव में शुक्र हो तो धन की प्राप्ति होगी | जातक के भौतिक सुखों में वृद्धि होती है | विद्या के क्षेत्र में उन्नति होती है | कुंटुम्बियों से धन तथा सुख की प्राप्ति होती है | सुख की प्राप्ति हेतु गाय की सेवा करें |

मिथुन राशि 

मिथुन राशि के शुक्र सप्तम भाव में प्रवेश करेगा |यहां शुक्र साधारणतया हानिकारक होता है  मिथुन राशि के जातकों के लिए राशिगत शुक्र स्त्री के सम्बन्ध को लेकर अनिष्ट करता है | शुक्र गोचरवश सातवें भाव में आने पर जातक को अपमानित होने का भय रहता है | रोगों आदि से भी कष्ट होता है | बड़े परिश्रम से आजीविका निर्वाह होता है   | मानसिक तनाव बना रहता है | यात्रायें अधिक करनी पड़ती हैं | उपाय हेतु नियमित रूप से तुलसी के पौधे को जल अर्पित करें |

कर्क राशि -

कर्क राशि के लिए शुक्र छठवें स्थान में प्रवेश करेगा | जन्म राशि से छठवें  स्थान से जब शुक्र का गोचर होता है तो जातक को धन हानि की सम्भावना होती है | जातक के शत्रुओं की वृद्धि होती है | जातक को स्वास्थ्य से सम्बंधित भी कोई परेशानी हो सकती है | इस समय जातक को यात्रायें आदि टालनी चाहिए |अन्यथा हानि की सम्भावना है | उपाय हेतु जातक शुक्र कवच का पाठ करें |

सिंह राशि 

सिंह राशि के लिए शुक्र पंचम भाव में स्थित होगा | जन्मराशि से जब पंचम भाव में जब शुक्र का गोचर होता है तो जातक को विभागीय परीक्षाओं में सफलता प्राप्त होती है | शत्रुओं पर विजय प्राप्त होती हैं | जातक की संतान आदि के प्रति जो भी कामना होती है वह पूर्ण होती है | परिवार में शांत और सुखमय वातावरण रहता है | पराक्रम में वृद्धि होती है | उपाय हेतु जातक गाय की सेवा करें |

कन्या राशि -

कन्या राशि के लिए शुक्र चौथे भाव में प्रवेश करेगा | जब गोचरवश शुक्र जन्म राशि से चतुर्थ भाव में आता है तो जातक की मनोकामनाएं पूर्ण होती हैं | इस समय जातक कोई वाहन आदि खरीद सकता है | जातक का मनोबल बढ़ता है | जातक को धन की प्राप्ति होती है | जातक का शरीर स्वस्थ रहता है | शुभता हेतु जातक शुक्रनामावली का पाठ करें |

तुला राशि 

तुला राशि के जातकों के लिए शुक्र तृतीय भाव से गुजरेगा | जब गोचर का शुक्र जन्म राशि से तृतीय स्थान से गुजरता है तो जातक के शत्रुओं का नाश होता है | तथा जातक के साहस में भी वृद्धि होती है | मित्रों की संख्या बढ़ती है | जातक का भाग्योदय होता है | इस समय जातक को भाई - बहनों का पूर्णतय:  सहयोग प्राप्त होता है | जातक की रूचि धार्मिक कार्यों में बढ़ती है | जातक को सरकार की ओर से भी लाभ प्राप्त होने की सम्भावना होती है |उपाय हेतु जातक गलत खाने - पीने का शौक बंद रखे |

वृश्चिक राशि -

वृश्चिक राशि के जातकों के लिए शुक्र द्वितीय भाव में प्रवेश कर रहा है | जब गोचर का शुक्र द्वितीय स्थान पर हो तो जातक को धन लाभ होता है | इस जातक का समाज में मान बढ़ता है | यदि जातक विद्या अध्ययन कर रहें हैं तो उसमें सफलता प्राप्त होती है | जातक के सभी शत्रुओं का नाश होता है | यदि जातक किसी रोग से परेशान है तो उससे भी निजात मिलती है | एवं जातक के सौंदर्य में निखार आता है | गृहस्थ सुख उत्तम रहता है | इस समय जातक को दही का दान करना चाहिए |

धनु राशि -

धनु राशि के जातको के लिए शुक्र प्रथम अर्थात लग्न भाव में उपस्थित होगा | जब शुक्र ग्रह जन्म राशि में गोचरवश आये तो सुख और धन की प्राप्ति होती है तथा शत्रु का नाश होता है | जातक के जीवन में विवाह और संतान जन्म का अवसर आता है | जातक को विद्या अध्ययन में सफलता प्राप्त होती है | सभी प्रकार के भौतिक सुखों की प्राप्ति होती है | व्यापार में लाभ होता है तथा व्यापार विस्तृत भी होता है | उपाय हेतु जातक प्रत्येक शुक्रवार को व्रत - कथा आरती आदि करें | 

मकर राशि -

मकर राशि के जातकों के लिए शुक्र द्वादश भाव में स्थित होगा | द्वादश राशिगत शुक्र धन का लाभ कराने वाला होता है |  लेकिन जातक को सामान आदि की हानि हो सकती है | शुक्र के इस गोचर काल में जातक निरोगी रहता है | घर में शांति रहती है | उपाय हेतु  शुक्र कवच का नियमित पाठ करें |

कुम्भ राशि -

कुम्भ राशि के जातकों के लिए शुक्र एकादश भाव में स्थित होगा | शुक्र चंद्र राशि से एकादश भाव में जब गोचरवश आता है तब धन की वृद्धि होती है | यदि लम्बे समय से कोई कार्य अधूरा है तो इस समय कार्य के पूर्ण होने की सम्भावना है | जातक को मित्रों का पूर्ण सहयोग प्राप्त होगा |  उपाय हेतु शुक्रवार के दिन तुलसी को जल अर्पित करें |

मीन  राशि -

मीन राशि के जातकों के लिए शुक्र दशम भाव में स्थित होगा | मीन राशि में गोचरवश जब शुक्र दशम भाव में आता है तो जातक के शरीर में पीड़ा रहती है | मानसिक चिंताएं बढ़ती हैं | इस समय जातक को नौकरी या व्यवसाय में हानि की सम्भावना होती है | इस समय कोई भी नया कार्य प्रारम्भ न करें | अन्यथा असफलता प्राप्त होने की सम्भावना होती है | उपाय हेतु जातक को शनिवार को तेल का दान करना चाहिए |

Read More- Yearly Forecast For 2019