noscript

EFFECT ON EACH SIGN WHEN SUN ENTERS MAKAR RASHI

MAKAR RASHI

सूर्य का मकर राशि में प्रवेश - किन राशियों को देगा खुशियों के सन्देश |


सूर्य का धनु राशि से मकर राशि में गोचर संक्रांति के दिन जनवरी को  हो रहा है अत: इस संक्रांति को मकर संक्रांति भी कहा जाता है | आइये जानते हैं कि मकर संक्रांति का क्या होगा विभिन्न राशियों पर प्रभाव –


मेष राशि  

मेष राशि वाले हो जायें सावधान क्योंकि मेष राशि वाले जातकों के लिए हैं सचेत रहने की आवश्यकता   मेष राशि के लिए सूर्य दशम स्थान में प्रवेश करेगा | यहां सूर्य पंचमेश होने के कारण शुभ फल दायी होगा | अभीष्ट कार्य सिद्ध होंगे | संतान से लाभ प्राप्त होगा लेकिन धन कमाने हेतु कठिन परिश्रम की आवश्यकता है | कठिन परिश्रम करें , सभी कार्यों में सफलता मिलेगी | आपके कुशल व्यवहार और कौशल से उच्च अधिकारियों का सहयोग प्राप्त होगा | सूर्य का यह गोचर परिभ्रमण जातक के भाग्योदय में विशेष सहायक होगा | उपाय हेतु जातक काले  रंग के कपड़ों का उपयोग न करें एवं परोपकार के महान कार्य करें लाभ होगा | संक्रांति के दिन तुला दान करना अत्यधिक लाभप्रद रहेगा |


वृषभ राशि 

वृषभ राशि के लिए सूर्य नवम स्थान में प्रवेश करेगा और जब गोचर का सूर्य राशि से नौवें स्थान से गुजरेगा तो अशुभ फलों की प्राप्ति होगी |  यहां सूर्य राशीश शुक्र से शत्रु भाव रखता है | मिथ्या, दोषारोपण एवं झूठे आरोप संभव हैं | कोई बहुत ही घनिष्ठ आप पर कोई आरोप - प्रत्यारोप लगा सकता है | जिससे उत्पन्न मन में हताशा और निराशा से दुर्घटना संभव है |  नवम भाव जो कि पिता का भाव है और सूर्य पिता का प्रतिनिधि है | अत: जातक अपने पिता के स्वास्थ्य हेतु सचेत रहें | उपाय हेतु सूर्य मंगल स्त्रोत का पाठ करें एवं सूर्य को प्रसन्न करने के लिए सूर्योदय के समय जब आधा ही सूर्य निकले तो लाल पुष्प डालकर सूर्य को नियमित अर्घ्य दें |


मिथुन राशि  

मिथुन राशि के जातकों के लिए सूर्य अष्टम भाव में प्रवेश करेगा और जब गोचर का सूर्य राशि से अष्टम स्थान से गुजरता है तो शत्रुओं से वाद- विवाद की परिस्थिति उत्पन्न होती है | | यहां सूर्य राशीश बुध का मित्र ग्रह है  लेकिन अष्टम भाव गत में सूर्य मकर राशि अपनी शत्रु राशि में होगा अत: यह यहां पराक्रम भंग योग बनाता है | धन की हानि संभव है | जातक जुए, सट्टे, लॉटरी आदि में धन व्यय न करें | सरकार से आर्थिक दंड लग सकता है | मित्रों से भी झगड़ा संभव है | जीवन साथी से तनाव रहेगा | पराक्रम वृद्धि हेतु यश प्राप्ति के निमित्त 'सूर्ययाग'  का पाठ करें |


कर्क राशि 

कर्क राशि वाले जातक सूर्य के इस गोचर काल में निरंतर रखें अपने स्वास्थ्य का ध्यान,  क्योंकि सूर्य का यह गोचर काल जब सातवें स्थान से गुजरेगा तो आप पर हो सकता है रोगों का प्रकोप | सप्तम भाव में सूर्य शत्रुक्षेत्री है तथा लग्न को देख रहा है | इस गोचर काल में जातक पर रोगों का प्रकोप तो रहेगा ही अपितु साथ ही आ सकती है आपके वैवाहिक जीवन में कटुता इसलिए अपने जीवन साथी से समन्वय बना के रखें , छोटी - छोटी बातों को तूल न पकड़ने दें सम्मान  की हानि हो सकती है | उपाय हेतु जातक रविवार के दिन तांबे टुकड़े जमीन में दबाएं लाभ होगा | सूर्य बाधक स्थान में सूर्य होने से शिव की कृपा से रोग दूर होते हैं अत: उनकी पूजा - अर्चना से उन्हें प्रसन्न करें |


सिंह राशि 

जब गोचर का सूर्य राशि से छठे स्थान से गुजरेगा तो रोगों का भय होगा | लेकिन साथ ही साथ यह समय है आपको आपके शत्रुओं पर विजय प्राप्त करने का | इस समय आप जो भी कार्य हाथ में लेंगे उन कार्यों में आपको सफलता मिलेगी तो यदि आप कोई भी कार्य प्रारम्भ करना चाहते हैं तो यह समय बेहद शुभ है |   जातक को इस समय अपने स्वास्थ्य का ध्यान रखने की आवश्यकता है | पंचम भावस्थ गोचर के अशुभ - फलोंका यंहा नाश होकर, उसके विपरीत शुभ फलों की प्राप्ति होगी | अर्थात संयम रखें कुछ अनिष्ट नहीं होगा | सिंह राशि के जातकों के लिए सूर्य का यह गोचर शुभ फलदायी होगा | उपाय हेतु रविवार का नियमित उपवास कथा आदि करें तथा प्रतिदिन लाल चन्दन एवं केसर मिश्रित जल से सूर्य को अर्घ्य देना व् गायत्री जप भी श्रेयस्कर है |


कन्या राशि 

इस गोचर काल में सूर्य पंचम स्थान से गुजरेगा | कन्या राशि के जातकों के लिए सूर्य का यह गोचर काल मानसिक बेचैनी की अनुभूति कराएगा | जातक के आमंदनी  में कमी एवं संचित धन में खर्च की बढ़ोतरी होगी |  सूर्य के इस भ्रमण के दौरान बच्चे अवज्ञाकारी रहेंगे एवं बीमार हो सकते हैं | जातक संतान की ओर से सचेत रहें |  प्रेम - प्रसंग में जातक को निराशा प्राप्त हो सकती है | जातक असहाय होने की व्याकुलता महसूस करेंगे  |  उपाय हेतु सूर्य कवच का पाठ करें सब शुभ होगा और रविवार के दिन दही का सेवन अवश्य करें |


तुला राशि  

तुला राशि के जातकों के लिए सूर्य चतुर्थ स्थान में प्रवेश करेगा और जब गोचर का सूर्य चतुर्थ स्थान से गुजरता है तो जातक को घरेलु परेशानी होती है  | इस समय जातक के परिवार में संतान की तरफ से मानसिक कलह रहेगा | जिससे जातक व्यसनी होगा और सही निर्णय लेने में असफल रहेगा |  परिजनों से टकराव की स्थिति उत्पन्न होगी | किसी घनिष्ठ मित्र से भी झगड़ा हो सकता है |  घर की स्त्री अचानक बीमार हो सकती हैं सुख - वैभव की वृद्धि हेतु ' सूर्ययाग ' का पाठ करें एवं रविवार के दिन नमक का त्याग करें | मन को शांति मिलेगी तथा कष्टों का हरण होगा |


वृश्चिक राशि 

वृश्चिक राशि के जातकों के लिए सूर्य का यह गोचरकाल खुशियों की सैगात लेकर आएगा | इस गोचर काल के दौरान सूर्य तृतीय स्थान से गुजरेगा | और जब सूर्य तृतीय स्थान से गुजरता है तो धन का लाभ होता है |  यह समय जातक को कर्ज से मुक्ति दिलाएगा | नौकरी कर रहे जातकों का स्थानांतरण अनुकूल जगह  होगा | जातक के रोगों का नाश होगा | शत्रुओं पर विजय प्राप्त होगी | परोपकार हेतु जातक संघर्ष करेगा और विजय की प्राप्ती होगी |  शुभता हेतु सूर्य अर्घ्य का विधान करें | सूर्यास्त से पूर्व चीटियों को आटा डालें |


धनु राशि  

गोचर का सूर्य जब धनु राशि से दूसरे स्थान से गुजरेगा तो जातक पापकर्म में निरत्त रहता है | जातक खराब लोगों से मिलना प्रारम्भ कर देता है तथा जातक स्वयं कमजोर मन स्थिति वाला हो जाता है | जातक के दुश्मनों की संख्या चारों और बढ़ जाती है | सिरदर्द एवं नेत्र पीड़ा की अनुभूति होती है | व्यापार में हानि हो सकती है | कोई प्रिय एवं कीमती वस्तु भी चोरी होने की सम्भावना है | इस गोचर काल में जातक परेशान रहेगा और मन विचलित रहेगा | कोई भी कार्य यदि प्रारंम्भ करंगे तो परिणाम ज्यादा बेहतर नहीं होंगे |  उपाय हेतु सूर्य कवच का नित्य पाठ करें | तथा गायत्री मंत्र का उच्चारण करते हुए सूर्य को अर्घ्य दें |


मकर राशि  

मकर राशि के जातकों के लिए सूर्य प्रथम स्थान में प्रवेश करेगा | जब सूर्य गोचर काल में मकर राशि से गुजरता है तो जातक को बुरे स्वप्न आते हैं सर दर्द की तकलीफ होती है |  यदि जीवन साथी से किसी भी तरह का कोई तनाव हो तो उसे तूल न दें अन्यथा अलगाव की स्थिति उत्पन्न हो सकती है | जातक की प्रतिष्ठा में कमी आ सकती है | इस समय यह जातक कोई भी नया कार्य प्रारम्भ न करें , अधूरा छूटने की सम्भावना रहेगी | मित्रों या प्रियजनों से झगड़ा हो सकता है | शांति हेतु सूर्य कवच का पाठ करें एवं उगते सूर्य को अर्घ्य दें | 


कुम्भ राशि  

कुम्भ राशि के जातकों के लिए सूर्य द्वादश स्थान में प्रवेश करेगा | शरीर में बीमारी का प्रवेश हो सकता है | प्रिय मित्रों से अनबन हो सकती है | जातक के कार्यों में रूकावट आएगी | एवं अधिक खर्च से घर में कलह की स्थिति उत्पन्न होगी |  यदि  कुम्भ राशि के जातकों पर कोई कोर्ट केस चल रहा है तो ध्यान रहे फैसला द्वादश सूर्य के गोचर कालमें नहीं आना चाहिए | शुभ परिणाम हेतु सूर्यमण्डल स्त्रोत का पाठ करें | जातक के पेट में तकलीफ एवं नेत्रों में पीड़ा हो सकती है | नेत्र व्याधियों में सूर्य नमस्कार सहित नेत्रोपनिषद का नित्य पाठ करें एवं क्रोध से बचें |


मीन राशि 

मीन राशि के जातकों के लिए सूर्य का यह गोचर अत्यंत शुभ होगा | इस गोचर काल में सूर्य मीन राशि से    एकादश स्थान में प्रवेश करेगा | सूर्य के इस गोचरकाल के दौरान जातकों को शुभ फलों की प्राप्ति होगी | आमंदनी के जरिये बढ़ जायेंगे | तथा जातक को व्यापार में अधिक लाभ होगा | लम्बे समय में मन में उत्पन्न चिंताएं दूर होंगी | जातक मित्रों का पूर्ण सहयोग मिलेगा | रोगों  का नाश होगा एवं घर में सुख शांति उत्पन्न होगी | इस कालावधि में  जातक कोई वाहन आदि खरीद सकता है | रविवार के दिन नमक का त्याग करें घर में शुभता आएगी तथा कष्टों का हरण होगा |