noscript

HOW TO PERFORM GURU VIDHI

Bajrangi Dhaam Guru Vidhi

Vighna Harni Thursday Worship Procedure

This procedure is to be started on Thursday and is to be carried out for 27 Thursdays.
Ensure that there is no gap in the chain. If it happens due to any natural reasons, it is necessary to complete it in the last.


First Thursday
Day to start the procedure - Thursday of Shuklapaksha
First Thursday installation of Yantra - ShriBrahaspati Yantra
First Thursday installation of Ratna -  Twopushpraj
First week prasad - yellow fruits
First week paath - Brahspatidev Aarti , morning and  evenings


Second Thursday
Day to start the procedure - second Thursday
Second Thursday installation of Yantra - Shripandrhiya Yantra
Second Thursday installation of Ratna  -  Twopushpraj
Second week prasad - yellow rice
Second week mantra -Om Gum Gurve  Namah
Jap mala - Brahspati mala
Jap number - Two mala , 216 times


Third Thursday
Day to start the procedure -third Thursday
Third Thursday installation of Yantra - ShriGhantargal Yantra
Third Thursday installation of Ratna - Twopushpraj
Third week prasad - Chane
Third week mantra - Om emshrimBrahaspatye namah
Jap mala - Brahaspati mala
Jap number -  Two mala , 216 times


Fourth Thursday
Day to start the procedure - fourth Thursday
Fourth Thursday installation of Yantra - ShriAshtalaxmiDarshnasattShri Yantra
Fourth Thursday installation of  Ratna - Twopushpraj
Fourth week prasad - yellow Barfi
Fourth week paath- Om  gram grim grom sah gurve namah


Fifth Thursday
Day to start the procedure - fifth Thursday
Fifth Thursday installation of Yantra - ShriDhanvantariupasana Yantra
Fifth Thursday installation of Ratna - Twopushpraj
Fifth week prasad - Besanladdu
Fifth week mantra - Om gram grim grom sah gurve namah
Jap mala - Brahaspati mala
Jap number -  Two mala , 216 times


Sixth Thursday
Day to start the procedure  - sixth Thursday
Sixth Thursday installation of Yantra - Shrimaha Yantra
Sixth Thursday installation of Ratna  Twopushpraj
Sixth week prasad -Bundiladdu
Sixth week mantra -om gram grim grom sah gurve namah
Jap mala -Brahaspati mala
Jap number - Two mala ,216 times


Seventh Thursday
Day to start the procedure  - seventh Thursday
Seventh Thursday installation of Yantra - Shrisarvakarya siddhi Yantra
Seventh Thursday installation of Ratna - Twopushpraj
Seventh week prasad yellow Barfi
Seventh week mantra - Om Bram Brahaspatye namah
Jap mala - Brahaspati mala
Jap number - three mala ,324 times


Eighth Thursday
Day to start the procedure -Thursday of shuklapaksha
Eighth Thursday installation of Yantra - Shritralokyavishvakarmalaxmi Yantra
EighthThursday installation of Ratna -  Twopushpraj
Eighth  week prasad - yellow fruits
Eighth week paath  - Aarti of  Brahaspatidev, morning and evenings


Nineth Thursday
Day to start the procedure - nineth Thursday
Nineth Thursday installation of Yantra - ShriDurganavarn Yantra
Nineth Thursday installation of Ratna -  Twopushpraj
Nineth week prasad - yellow rice
Nineth week mantra - Om gum gurve namah
Jap mala - Brahaspati mala
Jap number - Two mala, 216 times


Tenth Thursday
Day to start the procedure - tenth Thursday
Tenth Thursday installation of Yantra - Shri siddhi suryammahayantra
Tenth Thursday installation of Ratna - Twopushpraj
Tenth week prasad - Chane
Tenth week mantra - Om emshrimBrahaspatye namah
Jap mala -Brahaspati mala
Jap number -  Two mala,216 times


Eleventh Thursday
Day to start the procedure - Eleventh Thursday
Eleventh Thursday installation of Yantra - ShriGuruyantram
Eleventh Thursday installation of Ratna -  Twopushpraj
Eleventh week prasad - Yellow Barfi
Eleventh week paath- Om gram grim grom sah gurve namah


Twelveth Thursday
Day to start the procedure - Twelveth Thursday
Twelveth Thursday installation of Yantra - ShriDhanvantariupasana Yantra (you have already installed earlier)
Twelveth Thursday - Installation of Ratna - Twopushpraj
Twelveth week prasad -Besanladdu
Twelve week mantra - Om gram grim grom sah gurve namah
Jap mala - Brahaspati mala
Jap number -Two mala, 216 times


Thirteenth Thursday
Day to start the procedure -thirteenth Thursday
Thirteenth Thursday installation of Yantra - Shrimaha Yantra (you have installed earlier)
Thirteenth Thursday installation of ratna- Twopushpraj
Thirteenth week prasad Bundiladdu
Thirteenth week mantra - Om gram grim grom sah gurve namah
Jap mala - Brahaspati mala
Jap number - Two mala , 216 times


Fourteenth Thursday
Day to start the procedure - fourteenth Thursday
Fourteenth Thursday installation of Yantra - Shrisarvakarya siddhi Yantra (you have installed earlier)
Fourteenth  Thursday installation of ratna- Twopushpraj
Fourteenth week prasad  - Yellow Barfi
Fourteenth week mantra - Om Bram Brahaspatye namah
Jap mala - Brahaspati mala
Jap number. -three mala , 324 times


Fifteenth Thursday
Day to start the procedure. - Thursdays of shuklapaksha
Fifteenth Thursday installation of Yantra - ShriBrahaspati Yantra
Fifteenth Thursday installation of ratna- Twopushpraj
Fifteenth week prasad - yellow fruits
Fifteenth week paath- Aarti of Brahaspatidev, morning and evening


Sixteenth Thursday
Day to start the procedure - Sixteenth Thursday
Sixteenth Thursday installation of Yantra - Shripandrhiya Yantra  (you have installed earlier)
Sixteenth Thursday installation of ratna- Twopushpraj
Sixteenth week prasad - Yellow rice
Sixteenth week mantra- Om Gum Gurve namah
Jap mala   - Brahaspati mala
Jap number - Two mala ,216 times


Seventeenth Thursday
Day to start the procedure - Seventeenth Thursday
Seventeenth Thursday installation of Yantra - ShriGhantargal Yantra (you have installed earlier)
Seventeenth Thursday installation of ratna- Twopushpraj
Seventeenth week prasad - Chane
Seventeenth week mantra - Om emshrimBrahaspatye namah
Jap mala - Brahaspati mala
Jap number - Two mala,216 times


Eighteenth Thursday
Day to start the procedure - Eighteenth Thursday
Eighteenth Thursday installation of Yantra - ShriAshtlaxmiDarshnasattshriyantra (you have installed earlier)
Eighteenth Thursday installation of ratna- Twopushpraj
Eighteenth week prasad -Yellow Barfi
Eighteenth week paath  - Om gram grim grom sah gurve namah


Nineteenth Thursday
Day to start the procedure - Nineteenth Thursday
Nineteenth Thursday installation of yantra - ShriDhanvantariUpasana Yantra (you have installed earlier)
Nineteenth Thursday installation of ratna- Twopushpraj
Nineteenth week prasad - Besanladdu
Nineteenth week mantra - Om gram grim grom sah gurve namah
Jap mala - Brahaspati mala
Jap number - Two mala, 216 times


Twentieth Thursday
Day to start the procedure - Twentieth Thursday
Twentieth Thursday puja of yantra - ShriMaha Yantra (You have installed earlier)
Twentieth Thursday installation of ratna- Twopushpraj
Twentieth week prasad - Bundiladdu
Twentieth week mantra - Om gram grim grom sah gurve namah
Jap mala - Brahaspati mala
Jap number - Two mala ,216 times


Twenty first Thursday
Day to start the procedure - Twenty first Thursday
Twenty first Thursday puja of yantra - Shrisarvkarya siddhi Yantra (you have installed earlier)
Twenty first Thursday installation of ratna- Twopushpraj
Twenty first week prasad - Yellow Barfi
Twenty first week mantra - Om Bram Brahaspatye namah
Jap mala - Brahaspati mala
Jap number - Three mala, 324 times


Twenty second Thursday
Day to start the procedure - Thursday of shuklapaksha
Twenty second Thursday installation of yantra - Shritralokyavishvakarmalaxmi Yantra (you have installed earlier)
Twenty second Thursday installation of ratna- Twopushpraj
Twenty second week prasad - Yellow fruits
Twenty second week paath- Aarti of BrahaspatiDev morning and evening


Twenty third Thursday
Day to start the procedure - Twenty third Thursday
Twenty third Thursday puja of yantra - ShriDurgaNarvan Yantra (you have installed earlier)
Twenty third Thursday installation of ratna- Twopushpraj
Twenty third week prasad - Yellow rice
Twenty third week mantra - Om Gum Gurve namah
Jap mala - Brahaspati mala
Jap number - Two mala ,216 times


Twenty fourth Thursday
Day to start the procedure -Twenty fourth Thursday
Twenty fourth Thursday puja of yantra - Shri siddhi suryamMahayantram (you have installed earlier)
Twenty fourth Thursday installation of Ratna -Twopushpraj
Twenty fourth week prasad - Chane
Twenty fourth week mantra - OmemshrimBrahaspatye namah
Jap mala - Brahaspati mala
Jap number - Two mala ,216 times


Twenty fifth Thursday
Day to start the procedure- twenty fifth Thursday
Twenty fifth Thursday puja of yantra- ShriGuruyantram (you have installed earlier)
Twenty fifth Thursday installation of ratna- Twopushpraj
Twenty fifth week prasad  - yellow Barfi
Twenty fifth week paath- Om gram grim grom sah gurve namah
Jap mala - Brahaspati mala
Jap number- Two mala ,216 times


Twenty sixth Thursday
Day to start the procedure- Twenty sixth Thursday
Twenty sixth Thursday puja of yantra - ShriDhanvantariUpasana Yantra (you have installed earlier)
Twenty sixth Thursday installation of ratna- Twopushpraj
Twenty sixth week prasad - Besanladdu
Twenty sixth week mantra - Om gram grim grom sah gurve namah
Jap mala - Brahaspati mala
Jap number - Two mala,216 times


Twenty seventh Thursday
Day to to start the procedure -twenty seventh Thursday
Twenty seventh Thursday puja of yantra - Shrimaha Yantra (you have installed earlier)
Twenty seventh Thursday installation of ratna- Twopushpraj
Twenty seventh week prasad-Bundiladdu
Twenty seventh week mantra - Om gram grim grom sah gurve namah
Jap mala- Brahaspati mala
Jap number- Two mala ,216 times

 

After twenty seven weeks,all the Yantra is to remain in your temple and Pushpraj to be floated in running water.
 

The things Required in this vidhi. 

1.  Yanrta  11  (1 Every week)

2. Pushpraj 54 (2 every week)

3. Guru mala

4. Prasad as told

5. Guru mala

6. Raw Rice

7. Roli-Moli

8. Dhoop-Agarbatti

9. Ganga water

Explained in Hindi

विघ्न हरणी बृहस्पतिवार पूजन विधि |

यह विधि बताये गए बृहस्पतिवार के दिन प्रारम्भ की जाती है और इसे लगातार 27 गुरुवार किया जाता है | ध्यान देवें की बीच में श्रृंखला में कोई अवरोध न आये और यदि किन्ही प्राकर्तिक कारणों से आता भी है तो उसे अंत में पूर्ण करना अत्यंत आवश्यक है ||

आइये विधि को जाने व मस्तिष्क से लगाएं :-

यह विधि सत्ताई सप्तहा चलेगी , इसे निम्न विधि से पूर्ण विश्वास के साथ करें/  

पहला गुरूवार   :
विधि आरंभ करने का दिवस : शुक्ल पक्ष का गुरूवार
पहले गुरूवार  को यन्त्र की स्थापना :- श्री बृहस्पति यन्त्र
पहले  गुरूवार  को रत्न स्थापना  :- दो पुष्पराज
पहले  सप्तहा प्रसाद : पीले फल
पहले सप्तहा पाठ : बृहस्पति देव की  आरती, सुबह और शाम /

दूसरा गुरूवार  :
विधि आरंभ करने का दिवस : दूसरा  गुरूवार
दूसरे  गुरूवार  को यन्त्र की स्थापना :- श्री पन्द्रहिया यन्त्र
दूसरे गुरूवार  को रत्न स्थापना  :- दो पुष्पराज
दूसरे सप्तहा प्रसाद : पीले चावल
दूसरे  सप्तहा का मंत्र  : ॐ गुं गुरवे नम:। 
जपने की माला : बृहस्पति  माला 
जप की संख्या : दो मालायें , २१६ बार 

तीसरा  गुरूवार  :
विधि आरंभ करने का दिवस : तीसरा  गुरूवार
तीसरे गुरूवार  को यन्त्र की स्थापना :- श्री घंटार्गाल यन्त्र
तीसरे गुरूवार  को रत्न स्थापना  :- दो पुष्पराज
तीसरे सप्तहा प्रसाद : चने
तीसरे सप्तहा का मंत्र  : ॐ ऐं श्रीं बृहस्पतये नम:। 
जपने की माला : बृहस्पति  माला 
जप की संख्या : दो मालायें , २१६ बार 

चौथा गुरूवार  :
विधि आरंभ करने का दिवस : चौथा  गुरूवार
चौथे  गुरूवार  को यन्त्र की स्थापना :- श्री अष्टलक्ष्मि दर्शनासटट श्रीयन्त्र
चौथे गुरूवार  को रत्न स्थापना  :- दो पुष्पराज
चौथे  सप्तहा प्रसाद : पीली बर्फी   
चौथे सप्तहा पाठ : ॐ ग्रां ग्रीं ग्रौं स: गुरवे नम:

पांचवां  गुरूवार  :
विधि आरंभ करने का दिवस : पांचवां गुरूवार
पांचवे  गुरूवार  को यन्त्र की स्थापना :- श्री धन्वंतरि उपासना यन्त्र
पांचवे  गुरूवार  को रत्न स्थापना  :- दो पुष्पराज
पांचवे सप्तहा प्रसाद : बेसन के लड्डू 
पांचवे  सप्तहा का मंत्र  : ॐ  ग्रां ग्रीं ग्रौं स: गुरवे नम:
जपने की माला : बृहस्पति माला 
जप की संख्या : दो मालायें , २१६ बार 

छठा  गुरूवार  :
विधि आरंभ करने का दिवस : छठा गुरूवार
छठा गुरूवार  को यन्त्र की स्थापना :- श्री महा यन्त्रं

छठा गुरूवार  को रत्न स्थापना  :- दो पुष्पराज
छठा सप्तहा प्रसाद : बूंदी  के लड्डू 
छठा सप्तहा का मंत्र  : ॐ  ग्रां ग्रीं ग्रौं स: गुरवे नम:
जपने की माला : बृहस्पति माला 
जप की संख्या : दो मालायें , २१६ बार 

सातवां  गुरूवार  :
विधि आरंभ करने का दिवस : सातवां गुरूवार
सातवां गुरूवार  को यन्त्र की स्थापना :- श्री सर्व कार्य सीधी यन्त्र
सातवां गुरूवार  को रत्न स्थापना  :- दो पुष्पराज
सातवांसप्तहा प्रसाद : पीली बर्फी 
सातवां  सप्तहा का मंत्र  : ॐ बृं बृहस्पतये नम:। 
जपने की माला : बृहस्पति माला 
जप की संख्या : तीन  मालायें , 324 बार 

आठवां गुरूवार   :
विधि आरंभ करने का दिवस : शुक्ल पक्ष का गुरूवार
आठवां गुरूवार  को यन्त्र की स्थापना :- श्री त्रलोक्या विश्वकर्मा लक्ष्मि यन्त्र
आठवां गुरूवार  को रत्न स्थापना  :- दो पुष्पराज
आठवां सप्तहा प्रसाद : पीले फल
आठवां सप्तहा पाठ : बृहस्पति देव की  आरती, सुबह और शाम /

नौवां गुरूवार  :
विधि आरंभ करने का दिवस : नौवां गुरूवार
नौवां गुरूवार  को यन्त्र की स्थापना :- श्री दुर्गा नवार्ण यन्त्र
नौवां गुरूवार  को रत्न स्थापना  :- दो पुष्पराज
नौवां सप्तहा प्रसाद : पीले चावल
नौवां सप्तहा का मंत्र  : ॐ गुं गुरवे नम:। 
जपने की माला : बृहस्पति  माला 
जप की संख्या : दो मालायें , २१६ बार 

दसवां  गुरूवार  :
विधि आरंभ करने का दिवस : दसवां  गुरूवार
दसवां गुरूवार  को यन्त्र की स्थापना :- श्री सिद्धि सूर्यम महायन्त्रं
दसवां गुरूवार  को रत्न स्थापना  :- दो पुष्पराज
दसवां सप्तहा प्रसाद : चने
दसवां सप्तहा का मंत्र  : ॐ ऐं श्रीं बृहस्पतये नम:। 
जपने की माला : बृहस्पति  माला 
जप की संख्या : दो मालायें , २१६ बार 

ग्यारवां गुरूवार  :
विधि आरंभ करने का दिवस : ग्यारवां गुरूवार
ग्यारवां   गुरूवार  को यन्त्र की स्थापना :- श्री गुरुयंत्रम
ग्यारवां   गुरूवार  को रत्न स्थापना  :- दो पुष्पराज
ग्यारवां   सप्तहा प्रसाद : पीली बर्फी   
ग्यारवां   सप्तहा पाठ : ॐ ग्रां ग्रीं ग्रौं स: गुरवे नम:

बारवां  गुरूवार  :
विधि आरंभ करने का दिवस : बारवां  गुरूवार
बारवां  गुरूवार  को किस यन्त्र की पूजा:- श्री धन्वंतरि उपासना यन्त्र (आपने पहले ही स्थापित किया है)
बारवां  गुरूवार  को रत्न स्थापना  :- दो पुष्पराज
बारवां सप्तहा प्रसाद : बेसन के लड्डू 
बारवां  सप्तहा का मंत्र  : ॐ  ग्रां ग्रीं ग्रौं स: गुरवे नम:
जपने की माला : बृहस्पति माला 
जप की संख्या : दो मालायें , २१६ बार 

तेहरवां  गुरूवार  :
विधि आरंभ करने का दिवस : तेहरवां गुरूवार
तेहरवां गुरूवार  को किस यन्त्र की पूजा:- श्री महा यन्त्रं (आपने पहले ही स्थापित किया है)
तेहरवां  गुरूवार  को रत्न स्थापना  :- दो पुष्पराज
तेहरवां  सप्तहा प्रसाद : बूंदी  के लड्डू 
तेहरवां  सप्तहा का मंत्र  : ॐ  ग्रां ग्रीं ग्रौं स: गुरवे नम:
जपने की माला : बृहस्पति माला 
जप की संख्या : दो मालायें , २१६ बार 

चौदहवाँ गुरूवार  :
विधि आरंभ करने का दिवस : चौदहवाँ गुरूवार
चौदहवाँ गुरूवार  को किस यन्त्र की पूजा:- श्री सर्व कार्य सीधी यन्त्र (आपने पहले ही स्थापित किया है)
चौदहवाँ गुरूवार  को रत्न स्थापना  :- दो पुष्पराज
चौदहवाँसप्तहा प्रसाद : पीली बर्फी 
चौदहवाँ  सप्तहा का मंत्र  : ॐ बृं बृहस्पतये नम:। 
जपने की माला : बृहस्पति माला 
जप की संख्या : तीन  मालायें , 324 बार 

पंद्रहवां गुरूवार   :
विधि आरंभ करने का दिवस : शुक्ल पक्ष का गुरूवार
पंद्रहवां  गुरूवार  को किस यन्त्र की पूजा:- श्री बृहस्पति यन्त्र (आपने पंद्रहवां  ही स्थापित किया है)
पंद्रहवां   गुरूवार  को रत्न स्थापना  :- दो पुष्पराज
पंद्रहवां   सप्तहा प्रसाद : पीले फल
पंद्रहवां  सप्तहा पाठ : बृहस्पति देव की  आरती, सुबह और शाम /

सोलवां गुरूवार  :
विधि आरंभ करने का दिवस : सोलवां गुरूवार
सोलवां गुरूवार  को किस यन्त्र की पूजा:- श्री पन्द्रहिया यन्त्र (आपने पहले ही स्थापित किया है)
सोलवां  गुरूवार  को रत्न स्थापना  :- दो पुष्पराज
सोलवां  सप्तहा प्रसाद : पीले चावल
सोलवां   सप्तहा का मंत्र  : ॐ गुं गुरवे नम:। 
जपने की माला : बृहस्पति  माला 
जप की संख्या : दो मालायें , २१६ बार 

सत्रहवाँ  गुरूवार  :
विधि आरंभ करने का दिवस : सत्रहवाँ गुरूवार
सत्रहवाँ  गुरूवार  को किस यन्त्र की पूजा:- श्री घंटार्गाल यन्त्र (आपने पहले ही स्थापित किया है)
सत्रहवाँ  गुरूवार  को रत्न स्थापना  :- दो पुष्पराज
सत्रहवाँ  सप्तहा प्रसाद : चने
सत्रहवाँ  सप्तहा का मंत्र  : ॐ ऐं श्रीं बृहस्पतये नम:। 
जपने की माला : बृहस्पति  माला 
जप की संख्या : दो मालायें , २१६ बार 

अटठारवां गुरूवार  :
विधि आरंभ करने का दिवस : अटठारवां  गुरूवार
अटठारवां   गुरूवार  को किस यन्त्र की पूजा:- श्री अष्टलक्ष्मि दर्शनासटट श्रीयन्त्र (आपने पहले ही स्थापित किया है)
अटठारवां  गुरूवार  को रत्न स्थापना  :- दो पुष्पराज
अटठारवां   सप्तहा प्रसाद : पीली बर्फी   
अटठारवां  सप्तहा पाठ : ॐ ग्रां ग्रीं ग्रौं स: गुरवे नम:

उन्नीसवां  गुरूवार  :
विधि आरंभ करने का दिवस : उन्नीसवां गुरूवार
उन्नीसवां गुरूवार  को किस यन्त्र की पूजा:- श्री धन्वंतरि उपासना यन्त्र (आपने पहले ही स्थापित किया है)
उन्नीसवां   गुरूवार  को रत्न स्थापना  :- दो पुष्पराज
उन्नीसवां  सप्तहा प्रसाद : बेसन के लड्डू 
उन्नीसवां   सप्तहा का मंत्र  : ॐ  ग्रां ग्रीं ग्रौं स: गुरवे नम:
जपने की माला : बृहस्पति माला 
जप की संख्या : दो मालायें , २१६ बार 

बीसवां गुरूवार  :
विधि आरंभ करने का दिवस : बीसवां  गुरूवार
बीसवां  गुरूवार  को किस यन्त्र की पूजा:- श्री महा यन्त्रं (आपने पहले ही स्थापित किया है)
बीसवां  गुरूवार  को रत्न स्थापना  :- दो पुष्पराज
बीसवां  सप्तहा प्रसाद : बूंदी  के लड्डू 
बीसवां  सप्तहा का मंत्र  : ॐ  ग्रां ग्रीं ग्रौं स: गुरवे नम:
जपने की माला : बृहस्पति माला 
जप की संख्या : दो मालायें , २१६ बार 

इकइसवाँ  गुरूवार  :
विधि आरंभ करने का दिवस : इकइसवाँ गुरूवार
इकइसवाँ गुरूवार  को किस यन्त्र की पूजा:- श्री सर्व कार्य सीधी यन्त्र (आपने पहले ही स्थापित किया है)
इकइसवाँ गुरूवार  को रत्न स्थापना  :- दो पुष्पराज
इकइसवाँसप्तहा प्रसाद : पीली बर्फी 
इकइसवाँ  सप्तहा का मंत्र  : ॐ बृं बृहस्पतये नम:। 
जपने की माला : बृहस्पति माला 
जप की संख्या : तीन  मालायें , 324 बार 

बाईसवाँ गुरूवार   :
विधि आरंभ करने का दिवस : शुक्ल पक्ष का गुरूवार
बाईसवाँ गुरूवार  को किस यन्त्र की पूजा:- श्री त्रलोक्या विश्वकर्मा लक्ष्मि यन्त्र  (आपने पहले ही स्थापित किया है)
बाईसवाँ  गुरूवार  को रत्न स्थापना  :- दो पुष्पराज
बाईसवाँ  सप्तहा प्रसाद : पीले फल
बाईसवाँ  सप्तहा पाठ : बृहस्पति देव की  आरती, सुबह और शाम /

तेइसवां गुरूवार  :
विधि आरंभ करने का दिवस : तेइसवां गुरूवार
तेइसवां गुरूवार  को किस यन्त्र की पूजा:- श्री दुर्गा नवार्ण यन्त्र  (आपने पहले ही स्थापित किया है)
तेइसवां  गुरूवार  को रत्न स्थापना  :- दो पुष्पराज
तेइसवां  सप्तहा प्रसाद : पीले चावल
तेइसवां  सप्तहा का मंत्र  : ॐ गुं गुरवे नम:। 
जपने की माला : बृहस्पति  माला 
जप की संख्या : दो मालायें , २१६ बार 

चौबीसवाँ गुरूवार  :
विधि आरंभ करने का दिवस : चौबीसवाँ  गुरूवार
चौबीसवाँ गुरूवार  को किस यन्त्र की पूजा:- श्री सिद्धि सूर्यम महायन्त्रं (आपने पहले ही स्थापित किया है)
चौबीसवाँ  गुरूवार  को रत्न स्थापना  :- दो पुष्पराज
चौबीसवाँ  सप्तहा प्रसाद : चने
चौबीसवाँ  सप्तहा का मंत्र  : ॐ ऐं श्रीं बृहस्पतये नम:। 
जपने की माला : बृहस्पति  माला 
जप की संख्या : दो मालायें , २१६ बार 

पचीसवाँ गुरूवार  :
विधि आरंभ करने का दिवस : पचीसवाँ गुरूवार
पचीसवाँ  गुरूवार  को किस यन्त्र की पूजा:- श्री गुरुयंत्रम (आपने पहले ही स्थापित किया है)
पचीसवाँ  गुरूवार  को रत्न स्थापना  :- दो पुष्पराज
पचीसवाँ  सप्तहा प्रसाद : पीली बर्फी   
पचीसवाँ  सप्तहा पाठ : ॐ ग्रां ग्रीं ग्रौं स: गुरवे नम:

जपने की माला : बृहस्पति  माला 
जप की संख्या : दो मालायें , २१६ बार 

छब्बीसवाँ गुरूवार  :
विधि आरंभ करने का दिवस : छब्बीसवाँ गुरूवार
छब्बीसवाँ  गुरूवार  को किस यन्त्र की पूजा:- श्री धन्वंतरि उपासना यन्त्र (आपने पहले ही स्थापित किया है)
छब्बीसवाँ गुरूवार  को रत्न स्थापना  :- दो पुष्पराज
छब्बीसवाँ सप्तहा प्रसाद : बेसन के लड्डू 
छब्बीसवाँ  सप्तहा का मंत्र  : ॐ  ग्रां ग्रीं ग्रौं स: गुरवे नम:
जपने की माला : बृहस्पति माला 
जप की संख्या : दो मालायें , २१६ बार 

सत्ताईसवाँ गुरूवार  :
विधि आरंभ करने का दिवस : सत्ताईसवाँ गुरूवार
सत्ताईसवाँ गुरूवार  को किस यन्त्र की पूजा:- श्री महा यन्त्रं (आपने पहले ही स्थापित किया है)
सत्ताईसवाँ गुरूवार  को रत्न स्थापना  :- दो पुष्पराज
सत्ताईसवाँ सप्तहा प्रसाद : बूंदी  के लड्डू 
सत्ताईसवाँ सप्तहा का मंत्र  : ॐ  ग्रां ग्रीं ग्रौं स: गुरवे नम:
जपने की माला : बृहस्पति माला 
जप की संख्या : दो मालायें , २१६ बार 

सत्ताई सप्तहा के बाद, सभी यंत्रों को अपने मंदिर में ही रहने दें व , जितने भी पुष्पराज   हैं उन्हें बहते हुए पानी में प्रवाहित करें /  
विधि सम्पूर्णं 

इस उपाय में उपयोग होने वाली सामग्री |

1. यन्त्र -11  - (1 प्रत्येक सप्ताह)

2. पुष्पराज - 54  - (2 प्रत्येक सप्ताह)

3. प्रसाद जो बताया गया हो 

4. गुरु माला 

5. फूल

6. कच्चे चावल 

7. रोली-मोली 

8. धुप-अगरबत्ती 

9. गंगा जल