रसोई घर के लिए सबसे उत्तम वास्तु

भोजन हमारे जीवन का एक अभिन्न अंग है, और ऐसे ही रसोई का वास्तु भी है। यह हमारे घर का वह स्थान है जहाँ हम प्रतिदिन अपने भोजन का प्रबंध करते हैं। इसी कारण यह ज़रूरी है कि यह ठीक प्रकार कार्य करें और सकारात्मक ऊर्जा से परिपूर्ण रहे। आपकी रसोई की बनावट आपके भोजन पर असर डालती है और 'आप वही हैं जो आप खाते हैं'। इस प्रकार, जब आप रसोई वास्तु से सम्बंधित नियमों का पालन करते हैं, तो यह सुनिश्चित करता है कि आपका भोजन न केवल स्वादिष्ट और स्वस्थ है, बल्कि घर के वित्त को सुरक्षित रखने में भी सहायता करता है। वास्तु के अनुसार/according to vastu निर्मित रसोई यह सुनिश्चित करती है की आपके घर में लगातार वित्त का प्रवाह बना रहे और आप इसके चलते इस सन्दर्भ में कभी किसी से पीछे नहीं रहेंगे।

मुझे इस बात विश्लेषण करने दें की, क्या आपकी रसोई वास्तु के अनुरूप है या नहीं?

अपनी रसोई  के वास्तु की अनुकूलता की जाँच करें!/ Check the Vastu compatibility of your kitchen!

रसोइ घर के वास्तु की जांच करें

अभी गणना करें

रसोई वास्तु/ kitchen Vastu

जब आप घर का निर्माण कराते या उसे खरीदते हैं तब, रसोई का वास्तु/ kitchen vastu आपकी प्रमुख प्राथमिकताओं में से एक होनी चाहिए। शयन कक्ष और मुख्य द्वार का वास्तु, अन्य समान रूप से महत्वपूर्ण बिंदु हैं। रसोई सही मायने में आपके घर का ह्रदय है, और इसे चुस्त- दुरुस्त रखना परम आवश्यक है। इसमें रसोई का वास्तु एक अहम भूमिका निभाता है। यह वही स्थान है जहाँ पर आप अपना सारा भोजन पकाते हैं, और इनमें से अधिकतर को अग्नि की आवश्यकता होती है। उसकी गर्मी एवं ऊर्जा कच्ची सामग्री को खाने लायक बनाने में सहायक होती हैं। इसी कारण वास्तु शास्त्र रसोई को ब्रह्मांडीय अग्नि की अभिव्यक्ति मानता है। इसलिए, इसका उचित स्थान यह सुनिश्चित करने हेतु आवश्यक है कि न केवल हम स्वस्थ भोजन करें, बल्कि कहीं इसकी अनुचित स्थिति आपके जीवन के विभिन्न पहलुओं पर प्रतिकूल प्रभाव ना डालें।

रसोई वास्तु/ kitchen Vastu

जब आप घर का निर्माण कराते या उसे खरीदते हैं तब, रसोई का वास्तु/ kitchen vastu आपकी प्रमुख प्राथमिकताओं में से एक होनी चाहिए। शयन कक्ष और मुख्य द्वार का वास्तु, अन्य समान रूप से महत्वपूर्ण बिंदु हैं। रसोई सही मायने में आपके घर का ह्रदय है, और इसे चुस्त- दुरुस्त रखना परम आवश्यक है। इसमें रसोई का वास्तु एक अहम भूमिका निभाता है। यह वही स्थान है जहाँ पर आप अपना सारा भोजन पकाते हैं, और इनमें से अधिकतर को अग्नि की आवश्यकता होती है। उसकी गर्मी एवं ऊर्जा कच्ची सामग्री को खाने लायक बनाने में सहायक होती हैं। इसी कारण वास्तु शास्त्र रसोई को ब्रह्मांडीय अग्नि की अभिव्यक्ति मानता है। इसलिए, इसका उचित स्थान यह सुनिश्चित करने हेतु आवश्यक है कि न केवल हम स्वस्थ भोजन करें, बल्कि कहीं इसकी अनुचित स्थिति आपके जीवन के विभिन्न पहलुओं पर प्रतिकूल प्रभाव ना डालें।

इसके अतिरिक्त , भोजन, देवी अन्नपूर्णा से जुड़ा हुआ है, जो देवी पार्वती का दूसरा नाम है, जो जगत माता या इस सकल ब्रह्मांड की माता हैं। इसलिए, उनका आशीर्वाद हमारे और हमारे जीवन और घर के कल्याण हेतु महत्वपूर्ण है। रसोई वास्तु निर्देशों को मानना हमारे जीवन में यह सब लेकर आयेगा।

इसके अतिरिक्त हमें यह विस्मरण नहीं होना चाहिए की अभी- अभी हमने रसोई को ब्रह्मांडीय अग्नि का चित्रण माना है। इसलिए, यह अग्नि देव से भी प्रभावित है। वह न केवल ज्वलनशील पदार्थों में, बल्कि हमारे भीतर की ऊर्जा के भी स्रोत हैं। एक प्राणी तब तक ही जीवित रहता है जब तक उसके भीतर की अग्नि प्रज्वल्लित रहती है। जब भी वह बुझ जाती है तब  हमारे जीवन का अंत हो जाता है। इसी तरह, अगर हमारे भीतर की अग्नी को बेकाबू भड़कने के लिए छोड़ दिया जाए, तो यह सबकुछ जलाकर राख कर सकती है। इसलिए, आवश्यक है की यह अग्नि निरंतर जलती रहे परन्तु बेकाबू ना हो। यह तब होता है जब हम अपनी रसोई वास्तु के अनुसार ही निर्मित कराते हैं। यह हमारे भीतर आशाओं, इच्छाओं एवं जुनून की इस अग्नि को बिना भड़काए सुलगने देता है। इसके चलते हमारे पास स्वप्न होंगे, और हम उन्हें साकार करने हेतु कार्य करेंगे। हालांकि, यह यह भी सुनिश्चित करेगा कि हमारी महत्वाकांक्षाएं अनियंत्रित न हों, और हम लालची न हो जाएँ। वह ज्योति जो हमारे अंतर में है, एक नवजीवन के सृजन का कारण है। इसलिए, यह ज्योति किस प्रकार की प्रतिक्रिया देती है, यह पूर्णतय आपके वास्तु सलाहकार की सलाह पर निर्भर करेगा। वास्तु के अनुसार आप अपनी रसोई को जिस प्रकार निर्मित करते हैं, वह तय करेगा कि आपके घर में जो अग्नि है, वह विनाश लेकर आयेगी या सृजन।

एक बेहतर रसोई वास्तु क्या है ?/ What is a good Kitchen Vastu?

रसोई के अच्छे वास्तु हेतु सर्वप्रथम इसके स्थान और दिशा पर ध्यान केंद्रित करने की आवश्यकता होगी। यह उन फ्लैटों के संशोधन में बाधक बन सकता है  जहां आपको स्वाभाविक तौर पर रसोई के लिए पूर्व-निर्धारित क्षेत्र मिलता है। यह सत्य है किन्तु वास्तु के और भी कई कारक हैं जो निर्देशों के अनुसार आपकी रसोई को बेहतर बना सकते हैं। इन कारकों में रंग, अलमारियाँ, स्लैब और सिंक हेतु रसोई का उचित वास्तु, कच्चे खाद्य पदार्थों को रखने का स्थान, खराब और उपयोग किए गए बर्तन,  जल की निकासी का स्थान और ऐसे कई कारक शामिल हैं। रसोई के बेहतर वास्तु के इन सभी महत्वपूर्ण निर्देशों को मैं नीचे अलग से समझाऊंगा।

वास्तु के अनुसार रसोई की दिशा/ Good Kitchen Direction as per Vastu

हम इस बात का पता लगाते हैं की बास्तु के अनुसार रसोई की दिशा कौन सी होनी चाहिए।

वास्तु के अनुसार रसोई की दिशा/ Good Kitchen Direction as per Vastu

हम इस बात का पता लगाते हैं की बास्तु के अनुसार रसोई की दिशा कौन सी होनी चाहिए।

आमतौर पर ऐसा माना जाता है कि रसोई केवल घर के अग्नि कोण, या दक्षिण पूर्वी दिशा में स्थित होनी चाहिए क्योंकि यह अग्नि तत्व से सम्बंधित है। हालांकि, यह सदा संभव नहीं होता, विशेष रूप से यह देखते हुए कि आज हम में से अधिकांश लोग फ्लैटों में रहते हैं, ना कि व्यक्तिगत घरों या बंगलों मे। रसोई के वास्तु हेतु अन्य दिशाओं को सिरे से खारिज नहीं किया जाना चाहिए। बहुत बार रसोई वायव्य कोण या उत्तर-पश्चिम दिशा में भी बनाई जाती है। दक्षिण और पश्चिम दिशा भी इस कार्य हेतु उपयुक्त हैं। निश्चित तौर पर कुछ ऐसी दिशाएं और कोण भी हैं जो वास्तु के अनुसार रसोई की दिशा निर्धारित करते समय हर कीमत पर छोड़े जाने चाहियें।

अग्नेय कोण का दक्षिण या रसोई घर के लिए दक्षिण पूर्व दिशा/ South of Agneya Kon or Southeast Direction for kitchen

रसोई वास्तु के अनुसार, एक कमरे के निर्माण हेतु सबसे बेहतर दिशाओं में से एक आग्नेय कोण या दक्षिण पूर्व दिशा हो सकती है। इस क्षेत्र में रहने वाला प्राथमिक ऊर्जा क्षेत्र पूषा या पूषन है। यह अग्नि तत्व के तीव्र प्रज्जवलन में सहायता हेतु सर्वाधिक लाभकारी होगा। वास्तु के अनुसार ऐसी रसोई घर में रहने वालों को मानसिक तथा शारीरिक बल प्रदान करती है। पुष्प, वास्तु पुरुष मंडल के अनुसार, पोषण और बल की शक्ति है। यह वह ऊर्जा है जिससे व्यक्ति, इंद्र के साथ शत्रुओं की प्रगति को अवरुद्ध करने के लिए प्रार्थना करता है।

इसके अतिरिक्त, पूष देवता यात्रा हेतु सड़कों की रक्षा करते हैं। इस स्थान पर तैयार भोजन न केवल स्वादिष्ट और पौष्टिक होगा, बल्कि यहां की ऊर्जाओं का प्रभाव इस स्थान के निवासियों को विश्वास से परिपूर्ण कर देगा। इसके अतिरिक्त, पोषण के लिए घी रखकर यहां सकारात्मक ऊर्जा में वृद्धि की जा सकती है।

रसोई हेतु अग्नि कोण या दक्षिण पूर्व दिशा/ Agneya Kon or Southeast Direction for kitchen

यह रसोई वास्तु हेतु/according to kitchen vastu एक और अनुकूल दिशा है। क्योंकि अग्नि कोण अग्नि तत्व से संबंधित है; इसलिए, कई सलाहकार यह मानते हैं कि वास्तु के अनुसार रसोई बनाने के लिए यह सर्वाधिक उपयुक्त क्षेत्र है। वास्तु पुरुष मंडल के अनुसार, इस क्षेत्र के प्राथमिक ऊर्जा तत्व आकाश और वायु हैं। आकाश या अंतरिक्ष का शाब्दिक अर्थ है 'आकाशीय स्थान या आकाश'। इस तरह यह ऊर्जा अग्नि तत्व के प्राकट्य हेतु स्थान देती है।

दूसरी ऊर्जा अनिल है, जो वायु के देवता हैं, जिन्हें वायु या पवन देव के नाम से भी जाना जाता है। यह ऊर्जा अग्नि को आकाश या अंतरिक्ष में ऊपर उठती है और इसे निरंतर और अनंत काल तक ज्वलनशील रहने में सहायता करती है। वास्तु के अनुसार रसोई दिशा के रूप में अग्नि कोण को प्राथमिकता देते समय एक बात का ध्यान रखें कि इससे आपके घर में धन का प्रवाह निरंतर बना रहेगा। जैसा कि हम जानते हैं कि हवा का स्वाभाविक गुण बहना है, और अनिल की उपस्थिति ऐसे घर में धन प्रवाह बनाए रखने  में सहायक होगी। यही कारण है कि वास्तु के अनुसार दक्षिण पूर्व दिशा में रसोई का होना, घर परिवार के लिए विशेष रूप से फायदेमंद माना जाता है।

रसोई हेतु दक्षिण दिशा/ South Direction for Kitchen

दक्षिण दिशा, आग्नेय कोण के सामान ही, अग्नि तत्व से भी संबंधित है। इसलिए, यह दिशा भी रसोई वास्तु के लिए अनुकूल मानी जाती है। यह उस स्थान पर शांति लाती है, साथ ही उस घर में रहने वालो को प्रसिद्धि और प्रतिष्ठा प्रदान करती है। इसके अतिरिक्त, यह भी हो सकता है कि उनके व्यवसाय का नाम बन जाए।

रसोई हेतु वायव्य कोण या उत्तर पश्चिम दिशा/ Vayavya Kon or Northwest Direction for kitchen

वायव्य कोण या उत्तर पश्चिम दिशा रसोई वास्तु के लिए एक और बेहतर दिशा है। वास्तु पुरुष मंडल के अनुसार, इस क्षेत्र के प्राथमिक ऊर्जा तत्व अनिल है, जैसा कि पहले बताया गया है, भगवान वायु या पवन, वायु के देवता हैं। अग्नि कोण की तरह ही, वायव्य कोण में वायु भी रसोई में अग्नि को सदा सर्वदा प्रज्वलित रखने में सहायता करती है। इसके अतिरिक्त, जब इसे उचित रूप से प्रबंधित किया जाता है, तो यह अग्नि की सहायता करता है, जो निरंतर ज्वलनशील रहती है। जैसा कि हम जानते हैं कि वास्तु के अनुसार अग्नि कोण रसोई वास्तु के अनुसार सर्वाधिक उत्तम दिशा है। हालांकि, वायव्य कोण या उत्तर पश्चिम दिशा भी एक दूसरे के काफी करीब है। 

 

हालांकि, वास्तु के अनुसार/ as per vastu इस तरह की रसोई का निर्माण करने के कुछ महत्वपूर्ण नियम होते हैं जिनका हमें ध्यान में रखना चाहिए। दिशाओं में, यह स्पष्ट है कि उत्तर पश्चिम दिशा अग्नि कोण के ठीक विपरीत है। हालांकि, जब इस पर ध्यान केंद्रित किया जाता है, तो वास्तु पुरुष मंडल के अनुसार, दक्षिण पूर्व दिशा की तरह, वायव्य कोण में भी, पैंतालीस ऊर्जा क्षेत्रों में से एक ही आवश्यक ऊर्जा है, वह है अनिल या वायु। इसलिए कुल मिलाकर हम यही कहना चाहते हैं कि वास्तु के अनुसार रसोई हेतु यह भी एक लाभकारी दिशा है।

रसोई हेतु पश्चिम दिशा/ West Direction for kitchen

आम धारणा के विपरीत, वास्तु के अनुसार पश्चिम दिशा भी रसोई निर्माण हेतु बेहतर है। पश्चिम दिशा में कई व्यावसायिक रसोई बनाई गई हैं जो बेहतर कर रही हैं क्योंकि वे समुद्री भोजन परोसती हैं। कई लोगों का यह मानना है कि यह दिशा रसोई वास्तु के लिए उपयुक्त नहीं है क्योंकि वह जल तत्व से जुड़ी हुई है।क्योंकि यह जल से सम्बंधित है, यानी अग्नि तत्व के पूर्णतः  विपरीत है, इसलिए, वह सोचते हैं कि इसके सफल होने की संभावना काफी कम है। हालांकि, वास्तविकता यह है कि पश्चिम दिशा पर समुद्र और उसके देवता भगवान वरुण का आधिपत्य है। इसलिए, रसोई जो स्वाभाविक तौर पर समुद्री भोजन पकाती है, वह इस दिशा में पनपेगी।  इसके साथ ही, क्योंकि समुद्र का पानी  खारा होता है, अत: यहाँ स्वाद भोजन पकाना भी हितकारी होगा। इसके अतिरिक्त ऐसा तब होगा जब एक व्यक्ति की कुंडली में कुछ ग्रहों के विशिष्ट संयोजन होंगे। ऐसे लोगों के लिए, वास्तु के अनुसार इस दिशा को रसोई के निर्माण हेतु चुनना महत्वपूर्ण वित्तीय लाभ का कारण बन सकता है।

वास्तु के अनुसार रसोई हेतु गलत दिशा/ Wrong Kitchen Direction As Per Vastu 

रसोई हेतु ईशान कोण या उत्तर पूर्व दिशा/ Ishan Kon or Northeast Direction for kitchen

वास्तु के अनुसार रसोई हेतु गलत दिशा/ Wrong Kitchen Direction As Per Vastu 

रसोई हेतु ईशान कोण या उत्तर पूर्व दिशा/ Ishan Kon or Northeast Direction for kitchen

रसोई के वास्तु शास्त्र में कहा गया है कि एक कक्ष का ईशान कोण या उत्तर पूर्व दिशा में होना वर्जित है।घर का यह भाग जल और वायु के तत्वों से जुड़ा है। जल अग्नि के ठीक विपरीत है, जो कि रसोई से संबंधित तत्व है। व्यक्तिगत रूप से, वास्तु के अनुसार, यह दोनों तत्व रसोई के लिए हानिकारक नहीं हैं। हालांकि,  वह आपदा का कारण हो सकते हैं, खासतौर पर यदि आप इस स्थान पर रसोई बनाते हैं।

इसके अतिरिक्त, ईशान कोण को व्यक्ति के मस्तिष्क और तंत्रिका तंत्र से सम्बंधित बताया जाता है। जब आप इस दिशा में रसोई का निर्माण करते हैं, तो यह इस दिशा में मस्तिष्क में अग्नि के ज्वलन का प्रतीक है । यह माना जाना चाहिए की इस घर में रहने वाले अत्यंत क्रोधित रहेंगे। इसके अतिरिक्त , शरीर के इन अंगों, यानी मस्तिष्क और तंत्रिका तंत्र से सम्बंधित गंभीर स्वास्थ्य समस्याएं होने की संभावनाएं हैं। अतः वास्तु के अनुसार रसोई किस दिशा में हो, इस बात पर विचार करते समय; आपको ईशान कोण से बचने का हर संभव प्रयास करना चाहिए।

रसोई हेतु नैऋत्य कोण या दक्षिण-पश्चिम दिशा/Nairitya Kon or Southwest Direction for kitchen  

नैऋत्य कोण या दक्षिण-पश्चिम दिशा, ईशान कोण के ठीक विपरीत है। वास्तु शास्त्र के अनुसार, यह क्षेत्र मनुष्य के पूर्वजों, पितरों से सम्बंधित है। हिंदू धर्म के अनुसार, पितरों के आशीर्वाद के बिना जीवन में कुछ विशेष हासिल नहीं किया जा सकता। इसके बिना, उनका जीवन निरंतर कठिनाइयों से भरा होगा। इसके अतिरिक्त यह दिशा व्यक्ति की विशेषज्ञता और संबंधों से भी संबंधित होती है। इस तरह इस दिशा में वास्तु के अनुसार रसोई का निर्माण हमारे संबंधों और प्रतिभाओं का प्रतिनिधित्व करने वाली अग्नि के समान होगा। इसके परिणामस्वरूप , हमारे इन गुणों की हानि होगी। इसलिए, यह आवश्यक है कि रसोई वास्तु की दिशा चुनते समय, आप नैऋत्य कोण या दक्षिण पूर्व दिशा का चुनाव करने से बचें।

डॉ विनय बजरंगी के अनुसार, " मैं कई वर्षों से अभ्यास कर रहा हूं, मैंने ऐसे कई मामले देखे हैं जहां दक्षिण-पश्चिम में बनी रसोई कई समस्याओं को जन्म देती है। इनमें, देर से हुआ विवाह, तलाक, रिश्ते में समस्याएं, गर्भपात और अन्य प्रसव  से संबंधित कठिनाइयां शामिल हैं।

इसलिए घर के इस भाग में हर कीमत पर रसोई निर्माण से बचें। लेकिन अगर ऐसा संभव ना हो , तो आपको वास्तु परामर्श के लिए डॉ विनय बजरंगी से संपर्क करना चाहिए।

पूरब दिशा और अग्नि कोण या दक्षिण पूर्व दिशा के मध्य/ Between the East Direction and Agneya Kon or Southeast Direction

वास्तु शास्त्र के अनुसार पूर्व और आग्नेय कोण या दक्षिण पूर्व दिशा का मध्य  क्षेत्र परम आवश्यक है। ऐसा माना जाता है कि यह विश्लेषण, तर्क नैतिकता, अखंडता, और तर्कसंगत निर्णय लेने से सम्बंधित है। इस प्रकार, यहाँ रसोई का निर्माण करना इन पहलुओं के अंतर्गत अग्नि प्रज्वलन का स्मरण करता है। दूसरे शब्दों में, यहां रहने वालों के नैतिक मूल्य , निर्णय लेने और तर्क करने की क्षमता ध्वस्त हो जाएगी। निवासियों के मध्य निरंतर विवाद होंगे, और वे संघर्ष करेंगे। इसके अतिरिक्त , वह हर बार निराधार तर्क देंगे। उनके गुणों और सम्मान में उनके निवास स्थान के कारण कमी आयेगी।

डॉ विनय बजरंगी के कथानुसार “मैंने यह अनुभव किया है कि वास्तु के अनुसार रसोई की दिशा का गलत होना संपत्ति विवाद, बेवफाई, तलाक आदि जैसी पारिवारिक समस्याओं का कारण बन सकता है। जिसके कारण लोग अपनी तर्कसंगतता खो देते हैं और ऐसे कदम या निर्णय लेते हैं, जो समझदारी से सोचने पर, गलत प्रतीत होते हैं। अपने अतार्किक सोच के कारण वे इन समस्याओं का समाधान नहीं कर पाते।"

इस प्रकार, यदि आप पूर्व दिशा और आग्नेय कोण या दक्षिण पूर्व दिशा के मध्य वास्तु के अनुसार अपनी रसोई का निर्माण करते हैं, तो यह घातक साबित होने के साथ अंतहीन चिंता का कारण बन सकता है। यहाँ रहने वाले लोग निरंतर झूठे वादे करेंगे, और मिथ्यावादी होने की इस आदत के कारण, वे अपनी विश्वसनीयता गंवा देंगे।

रसोई हेतु उत्तर दिशा/ North Direction for Kitchen

उत्तर दिशा को रसोई वास्तु दिशा चुनने से ऐसे घरवालों के पेशेवर जीवन से संबंधित समस्याएं उत्पन्न हो सकती हैं । चाहे वे व्यवसाय से जुड़ी हों या  कामकाज से , उन्हें ऐसी किसी समस्या का सामना करना पड़ सकता है। माना जाता है कि उत्तर दिशा जल तत्व से संबंधित है, जो कि अग्नि तत्व के ठीक विपरीत है, जो रसोई को दर्शाता है। पानी आग को बुझा देता है, जबकि आग भी पानी को भांप कर देती है। दूसरे शब्दों में, जब इन दोनों तत्वों को साथ लाया जाता है, तो ये दोनों पंच महाभूत एक दूसरे को नष्ट कर देते हैं, या या उस घर के निवासियों को चोट पहुंचाने हेतु नुकसान करते हैं। आमतौर पर, यह माना जाता है कि उत्तर दिशा व्यक्ति के लिए धन, समृद्धि और अवसर लाती है । हालांकि, यदि आप यहाँ रसोई का निर्माण करते हैं, तो आप इन सभी को निश्चित ही नष्ट कर देते हैं। जब आप वास्तु के अनुसार उत्तर दिशा को रसोई के लिए इस दिशा का चुनाव करते हैं, तो यह उन महत्वपूर्ण ऊर्जाओं के प्रवाह को अवरुद्ध कर देता है जो विकास के लिए जिम्मेदार होते हैं। यदि किसी कारणवश से यह संभव नहीं है, तो आपको वास्तु परामर्श हेतु डॉ विनय बजरंगी से संपर्क करना चाहिए।

रसोई के रंग हेतु वास्तु/ Vastu For Kitchen Colour

रसोई के रंग के लिए उचित वास्तु शास्त्र उतना ही आवश्यक है जितना कि वास्तु के अनुसार रसोई निर्माण की दिशा और अन्य पहलू। न केवल, वह इसे बेहतर और देखने लायक बनाते हैं, बल्कि सही प्रकार से चुने जाने पर वह, अग्नि या अग्नि तत्व को बढ़ावा दे सकते हैं जिससे आपकी रसोई जुड़ी हुई है। हालांकि, सही रंग चुनने हेतु कुछ विशिष्ट मानक एवं नियम हैं जो आपको विभिन्न लाभ प्रदान करेंगे। आइए इन पर एक नज़र डालें:

रसोई के रंग हेतु वास्तु/ Vastu For Kitchen Colour

रसोई के रंग के लिए उचित वास्तु शास्त्र उतना ही आवश्यक है जितना कि वास्तु के अनुसार रसोई निर्माण की दिशा और अन्य पहलू। न केवल, वह इसे बेहतर और देखने लायक बनाते हैं, बल्कि सही प्रकार से चुने जाने पर वह, अग्नि या अग्नि तत्व को बढ़ावा दे सकते हैं जिससे आपकी रसोई जुड़ी हुई है। हालांकि, सही रंग चुनने हेतु कुछ विशिष्ट मानक एवं नियम हैं जो आपको विभिन्न लाभ प्रदान करेंगे। आइए इन पर एक नज़र डालें:

वास्तु रसोई रंग दिशाओं के अनुसार उदाहरण 

दिशाओं के अनुसार कुछ बेहतरीन वास्तु रसोई रंगों की सूची यहां दी गई है:

वास्तु के अनुसार दक्षिण पूर्व और दक्षिण दिशा के रसोई रंग/ Southeast And South Kitchen Colours As Per Vastu

ऐसा माना जाता है कि वास्तु के अनुसार आग्नेय कोण या दक्षिण पूर्व दिशा और दक्षिण दिशा रसोई के लिए सबसे अनुकूल होती है। वास्तव में, इसके लिए इससे उत्तम स्थान कोई नहीं हो सकता। हालांकि, कोई भी सही रंगों के चयन से अपनी शक्तियों में बहुत आसानी से वृद्धि कर सकता है। वास्तु पुरुष मंडल के अनुसार, इस क्षेत्र के अंतर्गत आने वाले ऊर्जा क्षेत्र सबसे शक्तिशाली हैं। वह निवासियों के जीवन में समृद्धि, तरक्की एवं विकास लाते हैं। इसलिए, इस क्षेत्र में ऊर्जा वृद्धि हेतु , लाल रंग सबसे बेहतर है। वास्तु के अनुसार कुछ अन्य उत्तम रसोई रंग हैं: 

  • हरा
  • गुलाबी
  • बेज
  • नारंगी 
  • भूरा 

दूसरी तरफ, यहाँ वास्तु के अनुसार रसोई के रंगों की एक सूची दी गई है जिनसे आपको दक्षिण पूर्व और दक्षिण रसोई हेतु बचना चाहिए, यह हैं: 

  • सफेद
  • नीला
  • चांदी
  • धूसर 
  • काला  

वास्तु के अनुसार पूर्वी दिशा की रसोई के रंग/ East Kitchen Colours As Per Vastu

वास्तु के अनुसार पूर्व दिशा भी रसोई हेतु लाभकारी है। यहाँ भी एक व्यक्ति दिशाओं से मिलने वाली ऊर्जा में सही रंगों के चयन के द्वारा वृद्धि कर सकता है। वास्तु पुरुष मंडल के अनुसार इस क्षेत्र की ऊर्जा का दायरा भी काफी शक्तिशाली हैं, और यह दिशा वायु तत्व से संबंधित है। यह अग्नि तत्व के निरंतर एवं तीव्र प्रज्जवलन में सहायक है। यह सूर्य के उदय होने की दिशा, जातक के जीवन में प्रकाश और वृद्धि लाती है।

कई मामलों में यह दिशा लकड़ी से सम्बंधित भी मानी जाती है। हम अग्नि को जितना अधिक प्रज्वलित करते हैं, वह उतनी ही ऊंची और तीव्र होती जाती है। इसलिए, इस क्षेत्र में ऊर्जा की वृद्धि हेतु, लकड़ी और पौधों का रंग हरा और भूरा कुछ सबसे उत्तम रंग है। रसोई वास्तु के अनुसार बेज एक और उत्तम रंग है।

पूर्व मुखी रसोई के लिए वास्तु के अनुसार, यह उन रंगों की श्रेणी है जिनसे आपको बचने का प्रयास करना चाहिए, यह है: 

  • सुनहरा 
  • चांदी 
  • पीला 
  • धूसर 
  • सफ़ेद 

वास्तु के अनुसार पश्चिम मुखी रसोई के रंग/West Kitchen Colours As Per Vastu

 पश्चिम दिशा, पूर्व के ठीक विपरीत है, जहां सूर्यास्त होता है। कई लोगों का यह मानना है कि वास्तु के अनुसार रसोई के लिए यह  सर्वाधिक अनुकूल दिशा नहीं है। हालांकि, विशेष परिस्थितियों में, यह दिशा काफी समृद्ध और सफल साबित हो सकती है। जब आप इस स्थान पर कमरा बनाते हैं, तो किसी वास्तु विशेषज्ञ के सुझाव के पश्चात, यह प्रतिकूल के बजाय निवासियों हेतु अनुकूल हो जाता है। जैसा कि हमने पहले बताया है, भगवान वरुण, महासागरों और समुद्रों के देवता, इस दिशा पर शासन करते हैं। इसलिए अगर यहां समुद्री भोजन और नमकीन, नमकीन खाना अधिक बनाया जाए तो यह यहां रहने वालों के लिए सकारात्मक परिणाम देगा। इस क्षेत्र की ऊर्जा वृद्धि हेतु सबसे  उत्तम रंग भी उनसे ही जुड़े हुए हैं:

  • सुनहरा 
  • चांदी
  • धूसर
  • सफेद

दूसरी ओर, यहां वास्तु के  अनुसार रसोई के रंगों की एक सूची दी गई है, जिससे आपको पश्चिमी मुख रसोई में करने से बचना चाहिए, यह हैं :

  • लाल
  • भूरा
  • हरा 
  • नारंगी 

वास्तु के अनुसार उत्तरमुखी रसोई के रंग/ North facing Kitchen Colours As Per Vastu  

रसोई वास्तु के अनुसार उत्तर और उत्तर-पूर्व वह दिशाएं हैं जिनसे हर प्रकार बचा जाना चाहिए। इसके बावजूद, क्योंकि उत्तर स्वाभाविक रूप से एक शुभ दिशा है; इसलिए, कुछ परिस्थितियों में, यहाँ रसोई उतने नकारात्मक परिणाम नहीं देती है। हालांकि, यह तभी होता है जब निवासियों की जन्म कुंडली में कुछ ग्रह समायोजन और योग होते हैं। आपके घर, कार्यालय आदि के निर्माण हेतु वास्तु जितना महत्व रखता है, गत समय में उसका उतनी सख्ती से पालन करना हमेशा संभव नहीं होता। 

कई लोग घर किराए पर लेते हैं, जबकि कई लोग फ्लैट और अपार्टमेंट खरीदते हैं। ऐसे में उत्तर दिशा में बनी रसोई से बचना हमेशा संभव नहीं होता। यदि ऐसा है, तो वास्तु दोष दूर करने हेतु यहाँ एक धन ग्रह रखने जैसे विशेष उपाय भी किए जा सकते हैं। रसोई के रंग का चुनाव करने में एक अन्य उपाय वास्तु शास्त्र का पालन करना है। यहाँ की सकारात्मक ऊर्जाओं की वृद्धि के लिए के लिए, हल्के रंगों का उपयोग रसोई के लिए उत्तम है। वास्तु के अनुसार उत्तर मुखी रसोई हेतु आदर्श रंगों में शामिल हैं: 

  • हल्का नीला
  • धूसर
  • हरा
  • हल्का सफेद 

दूसरी ओर, यहाँ उत्तर दिशा हेतु वास्तु के अनुसार रसोई के रंगों की एक सूची दी गई है, जिनसे आपको हर प्रकार बचना चाहिए, यह हैं:

  • सुनहरा 
  • लाल
  • नारंगी 
  • पीला 
  • गुलाबी 

जन्मतिथि के अनुसार हमारे निःशुल्क गणना यंत्र का उपयोग करके अपनी जन्म कुंडली के विषय में विस्तृत जानकारी प्राप्त करें।

रसोई की अलमारियों हेतु वास्तु/ Vastu For Kitchen Cabinets

वास्तु के अनुसार सही रसोई की बनावट के चयन के अतिरिक्त,  इसके रंग हेतु एक और महत्वपूर्ण पहलू हैं रसोई की अलमारी। बहुत से लोग अक्सर अचरज करते हैं कि वास्तु के अनुसार, उन्होंने अपने घर के प्रत्येक कक्ष का निर्माण करने के पश्चात भी समस्याओं का सामना क्यों किया। अक्सर, बड़े परिदृश्य को ध्यान में रखते हुए, हम बारीक विवरणों से चूक  सकते हैं। वही रसोई के वास्तु के लिए भी मान्य है। वास्तु के अनुसार रसोई हेतु उपयुक्त स्थान और रंगों के अतिरिक्त, व्यक्ति को भी अलमारियों की दिशा और रंग चुनने की आवश्यकता होती है।

रसोई की अलमारियों हेतु वास्तु/ Vastu For Kitchen Cabinets

वास्तु के अनुसार सही रसोई की बनावट के चयन के अतिरिक्त,  इसके रंग हेतु एक और महत्वपूर्ण पहलू हैं रसोई की अलमारी। बहुत से लोग अक्सर अचरज करते हैं कि वास्तु के अनुसार, उन्होंने अपने घर के प्रत्येक कक्ष का निर्माण करने के पश्चात भी समस्याओं का सामना क्यों किया। अक्सर, बड़े परिदृश्य को ध्यान में रखते हुए, हम बारीक विवरणों से चूक  सकते हैं। वही रसोई के वास्तु के लिए भी मान्य है। वास्तु के अनुसार रसोई हेतु उपयुक्त स्थान और रंगों के अतिरिक्त, व्यक्ति को भी अलमारियों की दिशा और रंग चुनने की आवश्यकता होती है।

आइए रसोई की अलमारियों हेतु कुछ वास्तु टिप्स पर गौर करते हैं:

अगर आपकी रसोई की अलमारियां पूर्व दिशा में हैं तो, आपको भूरे और हरे रंग का चुनाव करना चाहिए।

अगर आपकी रसोई की अलमारियां आग्नेय कोण या दक्षिण-पूर्व दिशा में है तो आप वास्तु शास्त्र के अनुसार रसोई के लिए, गुलाबी के प्रकार,लाल, भूरा और नारंगी रंग का चुनाव कर सकते हैं।

अगर आपकी रसोई की अलमारियां पश्चिम दिशा में हैं तो आप कुछ हलके रंग जैसे सफ़ेद और धूसर, या फिर सुनहरे रंग के प्रकारों को चुन सकते हैं।

अगर आपकी रसोई की अलमारियां उत्तर दिशा में हैं तो, रसोई वास्तु के अनुसार आप नीले, हरे और चांदी रंग के प्रकारों का चुनाव कर सकते हैं।

रसोई के रंग हेतु वास्तु शास्त्र का पालन करना सही रंग चुनने हेतु परम आवश्यक है ताकि आप अपने घर से सबसे बेहतर परिणाम प्राप्त कर सकें। अपनी रसोई की अलमारियों के लिए रंगों का चयन करते समय, आपको हमेशा उनके स्थान और स्थिति को ध्यान में रखना चाहिए। इसके अतिरिक्त , पंच महाभूतों या पांच तत्वों और वे किस दिशा में शासन करते हैं, इस बात को ध्यान में रखें ।

सही रंगों का चयन करने के अतिरिक्त, आपको वास्तु के अनुसार रसोई की न केवल अलमारियों, बल्कि रसोई की दीवारों और टाइलों को चमक देने की बजाय केवल प्राकृतिक रंग का उपयोग कर सही रंग भी चुनना होगा। ऐसा इसलिए होता है, क्योंकि बाद वाले के विपरीत, पहले में उच्च कंपन की आवृत्ति होती है। दूसरी तरफ, सिंथेटिक पेंट्स में शून्य कंपन होता है। इसलिए सिंथेटिक पेंट्स को चुनना आपके घर में वास्तु दोष का कारण बन सकता है।

रसोई स्लैब हेतु वास्तु/ Vastu for Kitchen Slabs

आपके घर का प्रत्येक कोना आवश्यक है, और रसोई के रंग हेतु वास्तु के नियमों पालन करना, जाहिर तौर पर आपके रसोई के स्लैब के लिए भी आवश्यक हैं। इसका मायने यह है कि खूबसूरती सब कुछ मिलाने के अतिरिक्त , आपको वास्तु के अनुसार चयन तालिका में से रसोई के रंग का चयन करना चाहिए, और इस प्रकार आपकी दीवारों और अलमारियाँ के रंगों की तरह, स्लैब हेतु आपके द्वारा चुने गए रंग भी मायने रखते हैं। पंचतत्वों और प्रत्येक नियम और निर्देशों को ध्यान में रखते हुए, यहां रंगों की एक सूची है जिसे आप रसोई की स्लैब हेतु चुन सकते हैं, इस पर निर्भर करता है कि कक्ष कहाँ स्थित है:

रसोई सिंक के लिए वास्तु/ Vastu For Kitchen Sink

अपना घर बनाते समय रसोई सिंक के लिए वास्तु शास्त्र के विशिष्ट नियमों का सदा पालन करना चाहिए। यह रसोई से जल की निकासी हेतु जिम्मेदार है, यह उसे बहने देता है।रसोई वास्तु के अनुसार, आदर्श रूप में  जल का प्रवाह या तो ईशान कोण में होना चाहिए, जो कि उत्तर-पूर्व दिशा में हो या फिर उत्तर अथवा पूर्व दिशा में। ये सभी क्षेत्र जल तत्व से संबंधित हैं, और इन क्षेत्रों की ऊर्जाएं भी इससे जुड़ी हैं। इसलिए यदि इन दिशाओं में जल का बहाव हो तो यह जातकों को सकारात्मक परिणाम देता है।

रसोई सिंक के लिए वास्तु/ Vastu For Kitchen Sink

अपना घर बनाते समय रसोई सिंक के लिए वास्तु शास्त्र के विशिष्ट नियमों का सदा पालन करना चाहिए। यह रसोई से जल की निकासी हेतु जिम्मेदार है, यह उसे बहने देता है।रसोई वास्तु के अनुसार, आदर्श रूप में  जल का प्रवाह या तो ईशान कोण में होना चाहिए, जो कि उत्तर-पूर्व दिशा में हो या फिर उत्तर अथवा पूर्व दिशा में। ये सभी क्षेत्र जल तत्व से संबंधित हैं, और इन क्षेत्रों की ऊर्जाएं भी इससे जुड़ी हैं। इसलिए यदि इन दिशाओं में जल का बहाव हो तो यह जातकों को सकारात्मक परिणाम देता है।

दूसरी ओर नैऋत्य कोण,जो कि दक्षिण-पश्चिम दिशा एवं दक्षिण दिशा। इन दोनों स्थानों की ऊर्जा क्रमशः पितरों या हमारे पूर्वजों और अग्नि तत्व की है। इसलिए यहां गंदे पानी का बहाव निवासियों हेतु हानिकारक हो सकता है। ऐसा करने से इनके लिए नकारात्मक ऊर्जा के साथ-साथ स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं भी हो सकती हैं। इसलिए रसोई सिंक वास्तु के अनुसार इन दिशाओं से बचना चाहिए। इसके अतिरिक्त वास्तु शास्त्र के अनुसार, रसोई सिंक के लिए आमतौर पर उत्तर-पूर्व कोण सर्वाधिक उपयुक्त स्थान होता है।

वास्तु के अनुसार रसोई निर्माण हेतु क्या करें और क्या न करें/ Do’s and Don’ts For Kitchen as per Vastu

हम पहले ही रसोई हेतु कई वास्तु टिप्स के बारे में बात कर चुके हैं, लेकिन यहां कुछ ऐसी चीजों की सूची दी गई है, जिन्हें घर का निर्माण करते समय आपको स्मरण रखना चाहिए:

वास्तु शास्त्र के अनुसार/ according to vastu, रसोई कभी भी बाथरूम या शौचालय के ठीक सामने नहीं होनी चाहिए।

आपको वास्तु के अनुसार कभी भी देवी-देवताओं की मूर्तियाँ रसोई में नहीं रखनी चाहिए, और ना ही मंदिर बनाना चाहिए।

जो लोग वास्तु के अनुसार/ according to vastu अपनी रसोई में देवी अन्नपूर्णा की तस्वीर लगाना चाहते हैं, वह पश्चिमी दीवार पर ही लगाई जानी चाहिए। 

रसोई की सिंक और गैस चूल्हे के सम्बन्ध में लिए वास्तु शास्त्र में कहा गया है कि यह दो उपकरण कभी भी एक साथ नहीं होने चाहिए। यह एक दूसरे के बगल में अग्नि पर पानी डालने जैसा होगा।

रसोई वास्तु के अनुसार/according to kitchen vastu आपकी रसोई के मुख्य द्वार के ठीक सामने नहीं होना चाहिए।

जैसा कि पहले बताया गया है, यदि आपकी रसोई दक्षिण या अग्नेय कोण, यानी दक्षिण पूर्व दिशा में है, तो रसोई की स्लैब का रंग काला नहीं होना चाहिए।

रसोई हेतु वास्तु शास्त्र/according to kitchen vastu के नियमों को ध्यान में रखकर कूड़ेदान का रंग भी सावधानी से चुना जाना चाहिए।

यदि आपकी रसोई पूर्व दिशा या आग्नेय कोण यानी दक्षिण पूर्व दिशा में है तो यदि संभव हो तो खिड़कियां पूर्वी दीवार पर होनी चाहिए।

रसोई वास्तु के अनुसार/ according to kitchen vastu आपके माइक्रोवेव के लिए दक्षिण स्थान आदर्श माना जाता है। 

रसोई हेतु वास्तु के नियमों का पालन करते हुए आपका फ्रिज वायव्य कोण या उत्तर-पश्चिम कोण में होना चाहिए।

यदि यह संभव न हो, और आपका फ्रिज आग्नेय कोण या दक्षिण पूर्व दिशा में है, तो यह धूसर , चांदी , नीला या काला नहीं होना चाहिए। फ्रिज वास्तु के अनुसार, सबसे बेहतर रंग सफेद, लाल या मैरून हैं।

रसोई वास्तु के अनुसार/as per kitchen vastu, यह कभी भी सीढ़ियों के नीचे नहीं बनाया जाना चाहिए।

रसोई वास्तु के अनुसार/as per kitchen vastu आपकी रसोई की अलमारी हेतु आदर्श स्थान या तो दक्षिण या पश्चिम दिशा हैं।

रसोई हेतु वास्तु शास्त्र के नियमों का पालन करते हुए, आपका चिमनी निकास अग्नि कोण या दक्षिण पूर्व दिशा में होना चाहिए।

रसोई की अलमारियां यदि फाइबर या धातुओं के बजाय लकड़ी से निर्मित हों तो यह सबसे बेहतर है।

रसोई वास्तु के अनुसार/as per kitchen vastu वाटर फिल्टर या आरओ के लिए पूर्वी दीवार एक आदर्श स्थान है।

रसोई हेतु वास्तु शास्त्र नियमों का पालन करते हुए, अपने मिक्सर ग्राइंडर को आग्नेय कोण या दक्षिण पूर्व और पूर्व दिशा के मध्य रखना सबसे बेहतर है।

इसके अतिरिक्त रसोई वास्तु के अनुसार/as per kitchen vastu रसोई कभी भी अध्ययन कक्ष के ठीक बगल में नहीं होना चाहिए। तैयार किए जा रहे भोजन की मोहक सुगंध अध्ययन करते बच्चे की एकाग्रता को भंग कर सकती है। 

निष्कर्ष/conclusion

कुल मिलाकर, यह स्पष्ट है कि वास्तु शास्त्र के अनुसार/ as per vastu रसोई के बनावट का चयन पूरे घर में पर्याप्त कामकाज के लिए महत्वपूर्ण है। रसोई आपकी समृद्धि और स्वास्थ्य का स्रोत हो सकती है, या आपको निराशा और प्रतिकूलता की ओर ले जा सकती है। इन अन्य बातों के अतिरिक्त, वास्तु के अनुसार रसोई की दिशा पर आधारित है। गलत वास्तु के अनुसार निर्मित रसोई शरीर के भीतर एक रोग ग्रस्त अंग की तरह है। अगर शरीर का एक अंग भी ठीक से काम नहीं कर रहा है तो वह हमें बीमारी और चिंता दे सकता है।

इसी प्रकार, अगर वास्तु के अनुसार रसोई की बनावट में कुछ गड़बड़ है, तो यह  आपके लिए समस्या पैदा कर  सकती है। अभाव और खराब स्वास्थ्य की समस्या हो सकती हैं। इसलिए, वास्तु शास्त्र के अनुसार सही रसोई की बनावट चुनना आपकी भलाई हेतु आवश्यक है। यहां अग्नि तत्व आपके दिल में जुनून हेतु प्रचुर मात्रा में और निरंतर रहना चाहिए।

वास्तु पर किसी विशेष मार्गदर्शन हेतु:

रसोई के वास्तु पर ऑनलाइन रिपोर्ट 

ज्योतिषीय सत्र के लिए मुझसे परामर्श कर सकते हैं।

आप यह पढ़ सकते हैं कि कैसे ज्योतिष गृह वास्तु, पूजन कक्ष वास्तु,शयन कक्ष  वास्तु, अध्ययन कक्ष वास्तु, शौचालय के लिए वास्तु और लिविंग रूम हेतु वास्तु में आपकी सहायता करता है।