दक्षिण-मुखी घर के लिए वास्तु

अपने जीवन को सुरक्षित और समृद्ध जीवन बनाने के लिए, कई लोग विभिन्न उपायों का प्रयोग करते हैं। वास्तु शास्त्र/ Vaastu Shastra उन में सबसे अधिक सर्वश्रेष्ठ उपाय है| वास्तु आज आपके घर में खुशियां लाने का एक आदर्श तरीका बनकर उभरा है। वास्तु शास्त्र/ Vaastu Shastra, जिसे "निर्माण के विज्ञान" के रूप में भी जाना जाता है, दिशात्मक संरेखण पर आधारित एक पारंपरिक हिंदू बनावट प्रणाली है। यह घरों के लिए वास्तु चित्रों, मूर्तियों और विशेष रूप से मुख्य द्वार के आकर्षण के साथ घर की सजावट पर केंद्रित है। 

वर्तमान समय में घर की दिशा को लेकर लोग काफी सावधान हो गए हैं| कहा जाता है कि अगर रास्ता सही हो तो सफलता हमेशा आपके कदम चूमती है| लेकिन, जैसा कि दक्षिण मुखी भूखंड/ SOUTH FACING HOUSE अशुभ माना जाता है, लोग दक्षिण मुखी भूखंड का चयन करने से डरते हैं। किसी भी दिशा में बना हुआ घर पूरी तरह से लाभदायक नहीं माना जाता है परन्तु यदि कोई व्यक्ति सही वास्तु का उपयोग करता है, तब किसी भी दिशा को लाभकारी दिशा में बदला जा सकता है।

इसी तरह, यदि आपके पास दक्षिण मुखी भूखंड है, तो डरने की कोई जरूरत नहीं है; वास्तु शास्त्र में निर्दिष्ट कई नियम हैं, जो इसे एक सुखी जीवन जीने के लिए एक सुरक्षित स्थान बनाते हैं।

दक्षिण मुखी घर या संपत्ति क्यों चुनें?/ Why select Homes or Flats for South Facing?

वास्तु शास्त्र के अनुसार, दक्षिण मुखी घरों को, पूर्व की ओर मुख वाले घरों से बेहतर माना जाता है। दक्षिणमुखी संपत्ति, मालिक की समृद्धि को बढ़ावा देती है और वित्तीय मामलों में उनकी स्थिति को आरामदायक और मजबूत बनाती है। दक्षिण मुखी घर या संपत्ति स्वस्थ और अधिक स्थिर जीवन के लिए उपयुक्त माने जाते हैं।

दक्षिण मुखी घर या संपत्ति क्यों चुनें?/ Why select Homes or Flats for South Facing?

वास्तु शास्त्र के अनुसार, दक्षिण मुखी घरों को, पूर्व की ओर मुख वाले घरों से बेहतर माना जाता है। दक्षिणमुखी संपत्ति, मालिक की समृद्धि को बढ़ावा देती है और वित्तीय मामलों में उनकी स्थिति को आरामदायक और मजबूत बनाती है। दक्षिण मुखी घर या संपत्ति स्वस्थ और अधिक स्थिर जीवन के लिए उपयुक्त माने जाते हैं।

यहाँ वास्तु शास्त्र के अनुसारदक्षिण मुखी भूखंड के लिए कुछ जरूरी बातें बताई गई हैं, उनका पालन करें और असुरक्षा और चिंताओं से छुटकारा पाएं:

1. घर का मुख्य द्वार- यदि भूखंड दक्षिण दिशा में हो तो वास्तु के अनुसार दक्षिण दिशा में मुख्य द्वार बनाने की सलाह दी जाती है, क्योंकि यह एक अच्छा शगुन माना जाता है।

2. रसोई के लिए स्थान: दक्षिण की ओर स्थित भूखंड के दक्षिण-पश्चिम पर होना त्रुटिपूर्ण माना जाता है, परन्तु वास्तु के अनुसार इसमें हमेशा सुधार का विकल्प होता है। उत्तर-पश्चिम या दक्षिण-पूर्व कोने में रसोई बनाना परिवार के लिए शुभ माना जाता है। यह परिवार को संतुष्टि प्रदान करता है।

3. मुख्य शयन कक्ष और पानी की टंकी का स्थान : मुख्य शयन कक्ष के लिए, दक्षिण-पश्चिम दिशा सबसे अधिक उपयुक्त स्थान है। दक्षिण-पश्चिमी कोने को भवन में पानी के संरक्षण के लिए सबसे मजबूत स्थान माना जाता है। दक्षिण की ओर मुख वाले भूखंडों के लिए बताई गयी दिशाएं उपयुक्त मानी जाती हैं, और इनका सख्ती से पालन करने की सलाह दी जाती है।

4. कार्यालयों या दुकानों के लिए स्थान: आपका कार्यालय दक्षिण-पश्चिम कोने पर होने से यह आपकी वित्तीय स्थिति को बढ़ाता है और इस प्रकार यह स्थान, दक्षिण-मुखी संपत्तियों के लिए बेहतर माना जाता है। वास्तु यह भी कहता है कि इन दुकानों को किराए पर नहीं देना चाहिए; अन्यथा मालिक के लिए दुर्भाग्य ला सकता है।

5. द्वार स्थान: दरवाजे घर में एक अहम भूमिका निभाते हैं। 

दरवाजे, दक्षिण-मुखी संपत्ति में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाते है, चाहे संपत्ति कार्यालय, घर या अपार्टमेंट हो| वास्तु शास्त्र के अनुसार दरवाजे कम से कम छह इंच की दूरी पर जरूर लगाएं। आप दूर से ईंट की दीवार बना सकते हैं और फिर दरवाजे की मरम्मत कर सकते हैं।

6.मलकुंड स्थान: मलकुंड वित्तीय नुकसान, चिकित्सा मुद्दों और मानसिक दबावों से संबंधित होता है। इसलिए वास्तु शास्त्र (Vastu Shastra) के नियमों के अनुसार इन्हें सही तरीके से लगाना जरूरी है। दक्षिणमुखी भवनों में वास्तु के अनुसार मलकुंड को उत्तर-पश्चिम की ओर या उत्तर की ओर लगाने की सलाह दी जाती है। कुंड से कम से कम 15 फीट की दूरी पर एक कुआं और पानी का पंप रखा जाना चाहिए। इस नियम का पालन करने से घर से नकारात्मकता समाप्त हो जाती है और सभी बुरी नजर उस क्षेत्र से दूर हो जाती है।

दक्षिण मुखी घरों या संपत्ति को बेहतर बनाने के लिए वास्तु के अनुसार उपाय:

दक्षिण-पश्चिम दिशा में कार का स्थान, पेड़ पौधे, मलकुंड और पानी का पंप कभी नहीं बनाया जाता है। दक्षिण दिशा वाले मकानों के लिए दक्षिण-पश्चिम दिशा असंतोषजनक मानी जाती है।

यदि आप भवन में एक खुला क्षेत्र रखना चाहते हैं, तब पूर्व और उत्तर दिशा में बनाएं, क्योंकि इस तरफ से सूर्य की किरणें आती हैं। दक्षिण, पश्चिम और दक्षिण दिशा की ओर मुख करने वाले घरों के लिए यह त्रुटिपूर्ण माना जाता है।

घर में फूलदान रखना और पेड़ लगाना शुभ माना जाता है। जब दक्षिण की ओर मुख करने वाले घरों की बात आती है तो उत्तर पूर्वी क्षेत्रों में पौधे और भारी पेड़ सबसे सुरक्षित होते हैं।

अपशिष्ट जल, वर्षा जल और जल निकासी के लिए उत्तर-पूर्व दिशा बेहतर है। किशोरों के लिए उत्तर-पूर्व दिशा उपयुक्त मानी जाती है; यह पढ़ाई और कार्य व्यवसाय में प्रगति देते हैं।

सीढ़ी बनाने के लिए दक्षिण, दक्षिण-पूर्व, पश्चिम या उत्तर-पश्चिम कोने की दिशा को उपयुक्त माना जाता है। उत्तर-पूर्व दिशा में सीढ़ी को नहीं बनाना चाहिए इसके कारण व्यावसायिक नुकसान हो सकता है और यह नौकरी करने वाले लोगों को भी कष्ट दे सकता है| 

दक्षिण की ओर मुख वाले घरों में दक्षिण की दीवार को उत्तर की दीवार से ऊंचा बनाने से सकारात्मक परिणाम प्राप्त होते हैं।

दक्षिणमुखी तालाबों या किसी पानी के स्थान को बंद कर देना चाहिए क्योंकि यह परिवार के हताहत होने और चोट लगने का कारण हो सकता है।

संक्षेप में, यदि आपके पास दक्षिण मुखी घर है तो आपको अनिश्चित और संदेहास्पद महसूस करने की कोई आवश्यकता नहीं है; आपको बस वास्तु शास्त्र/ Vastu  Shastra के सुझावों का पालन करना है और संपत्ति को रहने के लिए एक सपनों की जगह में बदलना है।

वास्तु पर किसी विशेष मार्गदर्शन के लिए, आप ले सकते हैं:

अतिथि कक्ष वास्तु पर ऑनलाइन रिपोर्ट या

ज्योतिषीय सत्र (Astrology Session) के लिए मुझसे परामर्श करें।

आप यह भी पढ़ सकते हैं कि ज्योतिष,, घर के लिए वास्तु, पूजा कक्ष के लिए वास्तु, शयनकक्ष के लिए वास्तु, अध्ययन कक्ष के लिए वास्तु, शौचालय के लिए वास्तु, बैठक के लिए वास्तु, रसोई के लिए वास्तु, अतिथि कक्ष वास्तु, सीढ़ी वास्तु और पूर्व मुखी घर के लिए कैसे मदद करता है?