पानी की टंकी हेतु सही वास्तु

ऊपरी पानी की टंकी एक घर या इमारत का अनिवार्य हिस्सा होती है। विभिन्न घरेलू कार्यों के लिए बोरवेल या कुएं के पानी को पंप द्वारा ऊपरी टंकियों में जमा किया जाता है। इमारत में पानी का पंप लगाते समय लोगों को प्राचीन भिक्षुओं और संतों द्वारा बने वास्तु शास्त्र के सिद्धांतों का पालन करने की आवश्यकता होती है, जो कि वर्तमान में एक विज्ञान या वास्तुशिल्प इंजीनियरिंग का विस्तार बन चुका है। यदि पानी की टंकी सही स्थान पर रखी हो तो घर या इमारत में ज्ञान, धन और समृद्धि ला सकती है। ऊपरी पानी की टंकी के स्थान के लिए वास्तु के पालन करने योग्य उपयोगी नियम इस प्रकार हैं:

ऊपरी टंकी के वास्तु नियम/ Vastu tips for Overhead Tank

ऊपरी टंकी का स्थान एक प्रमुख कारक होता है जिसके बारे में हर किसी को ध्यान रखना चाहिए। इससे संबंधित वास्तु के प्रभावों का उपयोग करने के लिए ऊपरी पानी की टंकी को पश्चिम या दक्षिण-पश्चिम दिशा में रखा जाना चाहिए।

दक्षिण-पश्चिम दिशा में ऊपरी टंकी रखते समय अत्यधिक सावधानी रखना उपयोगी हो सकती है। सर्वोच्च स्तर से कम से कम दो फीट की दूरी बनाए रखनी चाहिए। पानी के भंडारण के कारण इस क्षेत्र पर ज्यादा भार पड़ने से यह चमत्कारी हो सकता है। फिर भी, आपको सुनिश्चित करना चाहिए कि इसमें कोई सीलन न हो। टंकी को ऐसे खंड में रखना उचित हो सकता है जो मकान या इमारत के स्तर से कुछ दूरी पर स्थित हो। 

माना जाता है, कि उत्तर-पूर्वी भाग का मुख्य तत्व है- पानीइसलिए इस क्षेत्र में भारी और बड़े आकार की ऊपरी टंकी नहीं रखने की सलाह दी जाती है क्योंकि यह क्षेत्र किसी भी स्थिति में भारी वजन उठा तो सकता है लेकिन फिर भी हल्के वजन की टंकी का ही प्रयोग करना चाहिए।

दक्षिण-पूर्व दिशा में रखी ऊपरी टंकियां अपशगुनों का संकेत देती हैं तथा इनके परिणामस्वरूप धन की हानि और घातक दुर्घटनाएं हो सकती हैं। दक्षिण दिशा में रखी ऊपरी टंकी का प्रभाव मध्यम होता है। टंकी को छत के स्तर से दो फीट ऊपर रखना चाहिए और उसमें  कोई रिसाव नहीं होना चाहिए। 

बारिश के भगवान वरुण की दिशा माने जाने के कारण, पश्चिम दिशा में टंकी रखना बहुत लाभदायक हो सकता है। ऐसी स्थिति में आपको बिना देर किए जल्दी ही एक खंड बनाने की आवश्यकता होती है। 

ऊपरी टंकी को उत्तर-पश्चिम दिशा में नहीं रखना चाहिए। फिर भी यदि टंकी का आकार कम ऊंचाई के साथ होता है, तो उत्तर-पूर्व कोने से कम से कम दो फीट की दूरी पर रखने की अनुमति दी जा सकती है। यदि टंकी में जमा पानी का सही से उपयोग नहीं किया जाता हैतो संभावित समय सीमा से पहले ही पानी कम हो सकता है।

पानी की टंकियों को हमेशा मध्य में रखने से बचना चाहिए। अपने दिमाग में यह बात अच्छी तरह समझ लेनी चाहिए कि यह विशेष स्थान "ब्रह्म स्थानके नाम से जाना जाता है। 'ब्रह्म स्थानपर भारी दबाव पड़ने से घर में रहने वाले लोगों के जीवन में अशांति बनी रह सकती है। हर किसी को ऐसे घर में लंबे समय तक नहीं रुकना चाहिए। 

प्लास्टिक की बनी ऊपरी टंकियों का उपयोग नहीं करना चाहिए। इन्हें काले या नीले रंग में ही खरीदना चाहिए क्योंकि वैज्ञानिक दृष्टि से गहरे रंग सूर्य की किरणों को हल्के रंगों की तुलना में ज्यादा सोखते हैं।

विभिन्न घरेलू कार्यों के लिए अलग-अलग टंकियों का उपयोग करना चाहिए और स्नानघर और शौचालय के लिए दूसरी टंकी का प्रयोग करना चाहिए।

इसके अतिरिक्त आप जान सकते हैं कि ज्योतिष वास्तु द्वारा घर, शयनकक्षअध्ययन कक्षपूजा घरशौचालय बैठकरसोई घर आदि के लिए कैसे मदद करता है। 

निःशुल्क कैलकुलेटर