क्या मैं कभी अपना घर खरीद पाउंगा?

संपत्ति योग

क्या मेरा खुद का घर होगा: क्या मैं कभी खुद का घर बनवा पाउंगा : यह कुछ महत्वपूर्ण प्रश्न हैं जो अक्सर लोगों के मन में संपत्ति खरीदते समय आते हैं। जिस क्षण हम संपत्ति के बारे में सोचते हैं, उसी क्षण सबसे बड़ा सवाल लोगों के मन में यह उठता है कि उनकी कुंडली/Horoscope में संपत्ति के योग है कि नहीं या फिर उसकी कुंडली/birth chart के आधार पर संपत्ति मिलने की क्या संभावना है। आपको बता दें कि हर व्यक्ति कि कुंडली/Horoscope में संपत्ति के योग होता है, लेकिन योग की तीव्रता और इससे फल की प्राप्ति का समय अलग अलग होता है। इन सबसे ज्यादा हर व्यक्ति के लिए एक प्रश्न का जवाब ढूंढना बहुत जरूरी होता है – क्या मेरे जन्म कुंडली के आधार पर मुझे संपत्ति मिल सकती है? Will I have my own house per my horoscope? मैं ऐसे कितने ही लोगों को जानता हूं जिनके मन में एक अच्छी संपत्ति खरीदने की इच्छा थी और उन्होंने उसके लिए सभी प्रयास किए लेकिन कुछ कारणों की वजह से उनका यह सपना सपना ही रह गया।

इस स्थान पर ज्योतिष/Astrology आपकी सहायता कर सकता है। ज्योतिष की सहायता से आप यह जान सकते हैं कि क्या आप अपना घर खरीद पाएंगे या नहीं। मैं अपने ज्योतिषीय ज्ञान की मदद से आपको संपत्ति खरीदने का उत्तम समय बता सकता हूं। इसकी शुरुआत आपकी कुंडली/Horoscope में मजबूत संपत्ति के योग का पता लगा कर होता है। इसके साथ कुछ अन्य कारक भी होते हैं जिनकी सहायता से आप अपने लिए संपत्ति के योग का पता लगा सकते हैं। इस लेख को पढ़ने के साथ साथ इस पेज पर मौजूद कैलकुलेटर का प्रयोग करके भी अपने लिए बहुत सारी जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।

अपनी कुंडली/Horoscope में संपत्ति योग की ताकत की जाँच करें

अपनी कुंडली में संपत्ति योग की गणना करें

अभी गणना करें

क्या आप खुद का घर बना पाएंगे? Will you be able to have own house?

खुद का घर लेना और व्यापार के लिए संपत्ति खरीदना दोनों अलग अलग प्रक्रिया है। जब आप खुद के लिए घर लेते हैं तो वह आपकी जरूरत होती है। वहीं दूसरी तरफ व्यापार के लिए संपत्ति खरीदने का अर्थ यह है कि आप उसमें निवेश कर रहे हैं और उससे मुनाफा कमाने की इच्छा रखते हैं। इन दोनों ही स्थितियों में अलग अलग ग्रहों के संयोजन बनते हैं। आपकी कुंडली/Horoscope में कुछ ही ग्रहों के संयोजन होते हैं जो अच्छे संपत्ति के योग के बारे में बताते हैं, लेकिन वह संयोजन भी ऊपर बताए गए दोनों स्थितियों में अलग अलग बनता है। इसका आकलन आपकी जन्मतिथि के आधार पर किया जा सकता है। हर व्यक्ति की कुंडली/Horoscope के चौथे भाव से संपत्ति के योग के बारे में पता लगाया जा सकता है। आपकी जन्म कुंडली/Horoscope से और भी बातों का पता लगाया जा सकता है जैसे – क्या आप अपनी संपत्ति को लंबे समय तक अपने पास रख पाएंगे और क्या आपके संपत्ति पर कोई विवाद हो सकता। यदि कोई विवाद है, तो उससे कैसे बचा जा सकता है। चलिए इन सभी बिंदुऔं का पता आपकी कुंडली/Horoscope के आधार पर लगाते हैं/having own house as per date of birth

ज्योतिष में संपत्ति योग के लिए ग्रहों का संयोजन/Planetary combinations for Property Yoga in Astrology

ज्योतिष में हर समस्या का समाधान है। ज्योतिष की सहायता से आप इस प्रश्न का उत्तर ढूंढ सकते हैं कि क्या आप संपत्ति को संरक्षित कर पाएंगे?” Will you be able to preserve the Property? यदि आपकी कुंडली Natal chart में इसका योग है, तो किस प्रकार की संपत्ति मिलने की संभावना है और किस उम्र में आपको वह संपत्ति मिलेगी। इसके साथ साथ आपके मन में कुछ प्रश्न उत्पन्न हो सकते हैं जैसे क्या आप अपने खुद के साधनों का प्रयोग करके संपत्ति खरीदें, या फिर किसी से उधार लेकर आप उस संपत्ति में निवेश करेंगे। क्या खरीदी हुई संपत्ति से आपको खुशी मिलेगी, या फिर उस संपत्ति के कारण तनाव में रहेंगे। यही कुछ प्रश्न हैं जिनका जवाब ज्योतिष से मिल सकता है।

ज्योतिष में संपत्ति योग के लिए ग्रहों का संयोजन/Planetary combinations for Property Yoga in Astrology

ज्योतिष में हर समस्या का समाधान है। ज्योतिष की सहायता से आप इस प्रश्न का उत्तर ढूंढ सकते हैं कि क्या आप संपत्ति को संरक्षित कर पाएंगे?” Will you be able to preserve the Property? यदि आपकी कुंडली Natal chart में इसका योग है, तो किस प्रकार की संपत्ति मिलने की संभावना है और किस उम्र में आपको वह संपत्ति मिलेगी। इसके साथ साथ आपके मन में कुछ प्रश्न उत्पन्न हो सकते हैं जैसे क्या आप अपने खुद के साधनों का प्रयोग करके संपत्ति खरीदें, या फिर किसी से उधार लेकर आप उस संपत्ति में निवेश करेंगे। क्या खरीदी हुई संपत्ति से आपको खुशी मिलेगी, या फिर उस संपत्ति के कारण तनाव में रहेंगे। यही कुछ प्रश्न हैं जिनका जवाब ज्योतिष से मिल सकता है।

आपकी कुंडली/Kundali में कुछ भाव और ग्रह हैं जो संपत्ति के योग के बारे में बताते हैं और यह इस विषय में निर्णायक भी साबित हो सकते हैं। आपकी कुंडली Horoscope के लग्न और उनके स्वामी, और चौथे भाव के स्वामी/Fourth House Lord संपत्ति के लेन-देन में अहम भूमिका निभाते हैं। चंद्रमा, शुक्र, और बृहस्पति जैसे गृह संपत्ति के मामले में निर्णायक साबित होता है।

कुंडली/Horoscope में चौथा भाव/Fourth House जातक के स्थाई घर को दर्शाता है। बृहत् पाराशर होरा शास्त्र अचल संपत्तियों के संबंध में घर के महत्व को दर्शाता है।

सभी गृहों में से मंगल जमीन का कारक है, और इसके बाद शनि का आकलन किया जाता है। शुक्र सुंदर घर की तरफ संकेत देता है। जातक की कुंडली/Horoscope में पहला भाव पहचान और विशेषताएँ को दर्शाता है। ज्योतिष की सहायता से आप एक ऐसे घर कि तलाश कर सकते हैं जो आपके पहचानविशेषताएँ और आपकी कुंडली/Kundli के अनुसार उपयुक्त हो।

ज्योतिष में मंगल ग्रह संपत्ति और जमीन के मामले में प्राथमिक कारक होता है। ज्योतिष के अनुसार, संपत्ति के मामले में चौथे भाव/Fourth House में मंगल की मौजूदगी संपत्ति का अग्नि की तरफ झुकाव को दिखाता है।

जब चौथे भाव/Fourth House में मंगल जातक के घर खरीदने की संभावना को बढ़ा देता है, तब सूर्य और केतु एक कमजोर योग बना सकता है, जबकि चौथे भाव में बृहस्पति की उपस्थिति अत्यधिक दृढ़ संपत्ति योग को सुनिश्चित करती है।

सूर्य की चौथे घर में मौजूदगी बताती है कि जातक के पास पुआल की झोपड़ी हो सकती है। यदि शनि ग्रह चौथे भाव में विराजमान रहता हैतो जातक को एक पुराना घर मिल सकता है।

शुक्र और बुध जातक को एक खूबसूरत घर दिलवाने के लिए बाध्य होते हैं। यदि चौथे भाव में उत्तम अवस्था वाला ग्रह है या फिर चंद्रमा और शुक्र में चौथे घर में मौजूद हो, तो यह संयोजन जातक को बहुमंजिला घर का मालिक बना सकती है।

नीचे दिए गए हमारे समाचार अनुभाग में हिंदुस्तान टाइम्स द्वारा प्रकाशित मेरे नवीनतम साक्षात्कार को भी पढ़ सकते हैं। वह लेख इस विषय पर आधारित है – सभी भाग्य के तालों के ज्योतिष मास्टर चाभी/The astro master-key to all fate locks

जन्म कुंडली का आधार पर संपत्ति खरीदने का सटीक समय/Best time/age to Buy Property as per Horoscope

संपत्ति खरीदना कोई रोजमर्रा की घटना नहीं है। इस स्थिति में कोई साधारण निर्णय नहीं लिया जा सकता। संपत्ति के विषय में आपको निवेश बहुत सोच समझ कर करना चाहिए। जैसे हम सभी इस बात पर जोर डालते हैं कि संपत्ति के विषय में कोई भी निर्णय आपकी जन्म कुंडली/Horoscope के आधार पर लिया जाना चाहिए/the best time and the age of buying Property as indicated in the birth chart or Horoscope

जन्म कुंडली का आधार पर संपत्ति खरीदने का सटीक समय/Best time/age to Buy Property as per Horoscope

संपत्ति खरीदना कोई रोजमर्रा की घटना नहीं है। इस स्थिति में कोई साधारण निर्णय नहीं लिया जा सकता। संपत्ति के विषय में आपको निवेश बहुत सोच समझ कर करना चाहिए। जैसे हम सभी इस बात पर जोर डालते हैं कि संपत्ति के विषय में कोई भी निर्णय आपकी जन्म कुंडली/Horoscope के आधार पर लिया जाना चाहिए/the best time and the age of buying Property as indicated in the birth chart or Horoscope

ज्योतिष के अनुसार, जब चौथे घर के स्वामी/Fourth House Lord चौथे भाव/Fourth House में मौजूद हो लग्नेश लाभकारी ग्रह के संपर्क में आ जाए, तो जातक के लिए यह समय सबसे उत्तम साबित हो सकता है।

दसवें भाव के स्वामी/Tenth House Lord और त्रिमूर्ति या चौथे भाव के स्वामी/Fourth House Lord आपको उस घर का मालिक बना सकते हैं जिसकी चारदीवारी है। जब चौथे भाव के स्वामी का नौवें भाव के स्वामी से सकारात्मक संपर्क हो तो जातक को पैतृक संपत्ति मिल सकती है।

यदि चौथे भाव के स्वामी, दूसरा भाव (चौथे से ग्यारहवें घर) में मौजूद हो, तो जातक की कुंडली/Kundli में संपत्ति का योग होता है जिसके कारण उसे मातृ परिवार से विरासत संपत्ति मिल सकती है।

जब चौथे भाव के स्वामी मजबूत स्थिति में हो और सातवां भाव/Seventh House लाभकारी भाव हो, तब जातक के लिए विवाह के बाद संपत्ति खरीदना फायदेमंद साबित हो सकता है।

चौथे भाव के स्वामी/Fourth House Lord की महादशा और भुक्ति जातक को संपत्ति खरीदने के लिए एक अनुकूल समय प्रदान करता है।

जब पांचवा भाव/Fifth House ग्यारहवें और दूसरे भाव/Eleventh and second house के साथ युति में हो या प्रभावित हो, तब जातक अपनी संपत्ति के अच्छे दाम मिलने पर उसे बेच सकता है।

यदि चौथे भाव/Fourth House में कुछ ग्रह उत्तम अवस्था में मौजूद हो, तो जातक को बहुत सारे घर मिलने की संभावना है और साथ में उसे अचल संपत्ति भी मिल सकती है।

महादशा एक निर्णायक कारक के रूप में काम करती है। यह दशा बताती है कि जातक को उसकी जन्म कि जानकारी के आधार पर संपत्ति मिलेगी कि नहीं।

चौथे/Fourth House Lord, दूसरे/Second House Lord, ग्यारहवें/Eleventh House Lord या नौवें भाव के स्वामी/Ninth House Lord की दशा जातक को कुछ कारकों के आधार पर संपत्ति के योग के बारे में बता सकता है।

सूर्य जातक को मध्यम आयु में उसे संपत्ति दिलवाता है, वहीं चंद्रमा जातक की कुंडली/Kundali में संपत्ति का योग थोड़ा जल्दी बनाता है।

सूर्य और मंगल ग्रह उस कुछ वशिष्ट कारकों में से है जो जातक को मध्यम आयु में संपत्ति दिलवा सकता है।

चंद्रमा वह कारक है जो ज्योतिष में संपत्ति के योग का पता मध्यम आयु से बहुत पहले ही लगा लेता है।

बुध जातक को 32 से 36 वर्ष कि आयु में घर दिलवाता है।

कम उम्र में घर खरीदने में बृहस्पति, शुक्र और राहु आपकी मदद कर सकते हैं।

शनि 44 वर्ष की आयु में और केतु 52 वर्ष के बाद संपत्ति योग का संकेत देता है।

यदि आप इस विषय में और भी ज्यादा जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं, तो इस लिंक पर क्लिक करें।

संपत्ति में चौथे भाव की भूमिका/Role of 4th House in Property

मंगल जमीन और घर के मालिकाना अधिकार की स्थिति में एक प्रधान सूचक है। ज्योतिष के अनुसार, मंगल का चौथे भाव में उपस्थिति दर्शाता है कि जातक के घर का झुकाव अग्नि की तरफ रहेगा।

संपत्ति में चौथे भाव की भूमिका/Role of 4th House in Property

मंगल जमीन और घर के मालिकाना अधिकार की स्थिति में एक प्रधान सूचक है। ज्योतिष के अनुसार, मंगल का चौथे भाव में उपस्थिति दर्शाता है कि जातक के घर का झुकाव अग्नि की तरफ रहेगा।

चौथे भाव/Fourth House में चंद्रमा घर खरीदने की संभावना को बढ़ा सकता है।

सूर्य और केतु एक कमजोर योग को दर्शाते हैं, लेकिन बृहस्पति का चौथे भाव/Fourth House में मौजूदगी बताती है कि जातक को एक अच्छा घर मिलने की उम्मीद है।

सूर्य की चौथे भाव में मौजूदगी बताती है कि जातक को स्ट्रॉ हट जैसा घर मिलने की संभावना है। शनि और केतु का चौथे भाव/Fourth House में मौजूदगी बताती है कि जातक को पुराना घर मिलेगा।

शुक्र और बुध जातक को एक सुंदर और आलीशान घर दिलवाने में सहायता करते हैं।

चौथे भाव/Fourth House में उत्तम अवस्था वाले ग्रहों की उपस्थिति हो, या जब चंद्रमा और शुक्र चौथे घर में एक साथ उपस्थित हों, तो जातक एक बहु-मंजिला घर का मालिक बन सकते हैं।

जन्म कुंडली/Horoscope के आधार पर संपत्ति में विवाद/Issues in Property matters as per Horoscope

हम सभी को समझने की आवश्यकता है कि कैसे जन्मकुंडली/Birth Chart संपत्ति के निवेश या संपत्ति के विषय में निर्णय लेने में सहायता करता है। हमें उन कारकों का भी पता होना चाहिए जो संपत्ति के योग में अहम भूमिका निभाते हैं। ऐसा कई बार देखा गया है कि लोगों को संपत्ति से जुड़े हुए मामलों में फैसला लेने में परेशानी का सामना करना पड़ता है। कुछ ऐसे विवाद हैं जो अक्सर संपत्ति को खरीदने के बाद या पहले उत्पन्न होती है। यदि आप किसी ज्ञानी ज्योतिषी से अपनी कुंडली/Horoscope का आकलन करवाएं तो इस स्थिति में आपको सहायता मिल सकती है। चलिए उनमें से कुछ विवादों के बारे में जानते हैं और ज्योतिष में इसके समाधान को ढूंढते हैं। इस प्रक्रिया से आपको एक प्रश्न का जवाब भी मिल सकता है – ज्योतिष आपको संपत्ति योग में कैसे मदद कर सकता है? how astrology can help you in property yoga?

जन्म कुंडली/Horoscope के आधार पर संपत्ति में विवाद/Issues in Property matters as per Horoscope

हम सभी को समझने की आवश्यकता है कि कैसे जन्मकुंडली/Birth Chart संपत्ति के निवेश या संपत्ति के विषय में निर्णय लेने में सहायता करता है। हमें उन कारकों का भी पता होना चाहिए जो संपत्ति के योग में अहम भूमिका निभाते हैं। ऐसा कई बार देखा गया है कि लोगों को संपत्ति से जुड़े हुए मामलों में फैसला लेने में परेशानी का सामना करना पड़ता है। कुछ ऐसे विवाद हैं जो अक्सर संपत्ति को खरीदने के बाद या पहले उत्पन्न होती है। यदि आप किसी ज्ञानी ज्योतिषी से अपनी कुंडली/Horoscope का आकलन करवाएं तो इस स्थिति में आपको सहायता मिल सकती है। चलिए उनमें से कुछ विवादों के बारे में जानते हैं और ज्योतिष में इसके समाधान को ढूंढते हैं। इस प्रक्रिया से आपको एक प्रश्न का जवाब भी मिल सकता है – ज्योतिष आपको संपत्ति योग में कैसे मदद कर सकता है? how astrology can help you in property yoga?

ज्योतिषीय रूप से घर खरीदने में अदालती कार्यवाही/Litigation in Buying Home astrologically

यदि आपकी कुंडली/Natal Chart में इस बात को संकेत पहले से दिया होगा, तो हर व्यक्ति को अपने जीवन में संपत्ति से जुड़े विवाद को सुलझाने के लिए अदालत की तरफ रुख करना पड़ सकता है। जब चौथे भाव/Fourth House, चौथे भाव का स्वामी/Fourth House Lord, और मंगल ग्रह इनमे से किसी संयोजन से जुड़ा हो –

  • कमजोर सूर्य – सरकारी अधिकारियों से परेशानी

  • कमजोर केतु – प्रलेखन/कागजी समस्याओं से धोखा मिलने का खतरा हो सकता है।

संपत्ति खरीदने में ऋण / वित्त के विषय में विवाद/Loan/Finance issues in Buying Property

संपत्ति खरीदना एक महंगा सौदा साबित हो सकता है, इसलिए यह जानना अनिवार्य है कि जातक की कुंडली/Kundali में धन योग या धन के लिए कोई संयोजन है कि नहीं। यदि ऐसा नहीं है तो आपके लिए यह बहुत महत्वपूर्ण हो जाएगा कि चौथे भाव या चौथे भाव के स्वामी का नीचे दिए गए कारकों से संबंध को देखें।

  • मजबूत छठे भाव और छठे भाव के स्वामी (ऋण के निर्बाध प्रतिबंधों को दर्शाता है)

  • कमजोर छठे भाव और छठे भाव के स्वामी (ऋण प्राप्त करने में कठिनाई को दर्शाता है)

संपत्ति में निवेश आपके लिए अच्छा है या बुरा/Property investment will be Good or Bad for you

चौथा भाव/Fourth House, चौथे भाव का स्वामी/Fourth House Lord और मंगल का संबंध यदि पहले या ग्यारहवें भाव के स्वामी (लाभ) First or eleventh House lord, नौवें और नौवें भाव के स्वामी (भाग्य) Ninth house or ninth House lord, और दूसरा भाव या दूसरे भाव के स्वामी (संपत्ति) Second House or second house lord से हो, तो यह संयोजन जातक को लाभकारी संपत्ति दिलवाने में सहायता करता है।

संपत्ति में निवेश आपके लिए अच्छा है या बुरा/Property investment will be Good or Bad for you

चौथा भाव/Fourth House, चौथे भाव का स्वामी/Fourth House Lord और मंगल का संबंध यदि पहले या ग्यारहवें भाव के स्वामी (लाभ) First or eleventh House lord, नौवें और नौवें भाव के स्वामी (भाग्य) Ninth house or ninth House lord, और दूसरा भाव या दूसरे भाव के स्वामी (संपत्ति) Second House or second house lord से हो, तो यह संयोजन जातक को लाभकारी संपत्ति दिलवाने में सहायता करता है।

यदि चौथे भाव/Fourth House और उसके स्वामी/Fourth House Lord आठवें भाव या उसके स्वामी (विवाद) Eighth House or its lord, बारहवें भाव या उसके स्वामी (नुकसान) Twelfth House or its lord या केतु (बाधा, अरुचि) से संबंध रखे, तो तो जातक को बाधाओं या विफलता का सामना करना पड़ सकता है।

क्या आप संपत्ति को संरक्षित कर पाएंगे? Will you be able to preserve the Property?

जब भी हम कुंडली/Horoscope में संपत्ति के योग की बात करते हैं, तो हमें घाटे के योग का भी ज़िक्र हम करना चाहिए। चलिए उनमें से कुछ के बारे में जानते हैं।

क्या आप संपत्ति को संरक्षित कर पाएंगे? Will you be able to preserve the Property?

जब भी हम कुंडली/Horoscope में संपत्ति के योग की बात करते हैं, तो हमें घाटे के योग का भी ज़िक्र हम करना चाहिए। चलिए उनमें से कुछ के बारे में जानते हैं।

  • जब चौथे भाव के स्वामी/Fourth House Lord तीसरे भाव/Third House में हो, तो संपत्ति में घाटे का योग बनता है।

  • यदि चौथा भाव दुर्बल/Fourth House is exalted हो, तो कुछ प्रकार से जीवन के कुछ समय में जातक को संपत्ति में घाटा सहना पड़ सकता है।

  • जब चौथा भाव/Fourth House छठे/Sixth House, आठवें/Eighth House, बारहवें भाव/Twelfth House के बुरे भाव में हो, तो संपत्ति में घाटा होने की संभावना बहुत ज्यादा होती है।

  • यदि चौथे भाव के स्वामी/Fourth House Lord दुर्बल हो और उसी कुंडली/Horoscope में हो, शनि, और मंगल लग्न और नवमांश चार्ट में कमजोर स्थिति में हो, तो जातक को नुकसान होने की संभावना बहुत ज्यादा होती है।

  • यदि बुरे भाव चौथे भाव और चौथे भाव के स्वामी पर प्रभाव डाले, तो जातक को नुकसान उठाना पड़ सकता है।

संपत्ति पर किसी विशेष मार्गदर्शन के लिए, आप निम्नलिखित तरीकों से हमसे सहायता ले सकते हैं:

  1. संपत्ति योग या के लिए ऑनलाइन रिपोर्ट

  2. ज्योतिषीय सत्र के लिए मुझसे परामर्श करें।

ज्योतिष आपको जन्म चार्ट के अनुसार संपत्ति विवाद, पैतृक और पैतृक संपत्ति के लिए ज्योतिषीय समाधान पर कैसे मदद करता है और जन्म चार्ट के अनुसार संपत्ति खरीदना और बेचना जैसी समस्या का समाधान पाने के लिए आप इस पेज पर मौजूद लेखों को पढ़ सकते हैं।

नवीनतम ज्योतिष समाचार: डॉ विनय बजरंगी

निःशुल्क कैलकुलेटर