शुक्र का वृष राशि में होने का प्रभाव | Venus in Taurus

वृषभ राशि शुक्र के लिए अनुकूल स्थान माना जाता है, क्योंकि शुक्र वृषभ के स्वामित्व की राशि है। शुक्र के वृषभ राशि में होने पर जातक आकर्षण और काफी प्रभावशील होता है। उसके व्यक्तित्व का आकर्षण दूसरों को उसकी ओर खिंचने का काम भी करता है। वृषभ राशि में शुक्र का होना धैर्य और स्थिति को शांत रूप से सहजता के साथ आगे बढ़ने का संकेत देता है। यहां शुक्र व्यक्ति के भीतर भौतिक सुखों का लगाव रखता है। व्यक्ति अच्छी वस्तुओं का शौक भी रख सकता है। सलीका तथा शालीनता का गुण भी इसमें उभर कर आता है। चीजों को व्यवस्थित रूप से करने की योग्यता भी यहां देखने को मिलती है। उचित व्यवहार प्राप्त होता है। 

 

खुद को अच्छे से रखना और जीवन में सुख समृद्धि की इच्छा व्यक्ति में होती है। अपनी इच्छाओं को पूरा करने का जोश भी इनमें होता है। बेहतर योजनाओं को बनाने और साथ ही विचारशील होकर आगे बढ़ने का गुण भी इन्हे प्राप्त होता है। आध्यात्मिक गुण भी इनके भीतर होता है और साथ ही जीवन की भौतिकवादी प्रवृत्तियों के प्रति झुकाव भी देखने को मिलता है। इस ग्रह योग वाला व्यक्ति एक आकर्षक व्यक्तित्व पाता है। कलात्मक रुप से संपन्न होते हैं। रचनात्मक गतिविधियों, सौंदर्य और ललित कलाओं के प्रति प्रबल झुकाव रहता है। 

 

वृष राशि में शुक्र का अर्थ होता है सुखी, साहसी, न्यायप्रिय, भव्य, विलासिता, आध्यात्मिक, आकर्षक और सुरुचिपूर्ण काम करना। वृषभ राशि का गुण स्थिरता उपयुक्त माना गया है और पृथ्वी तत्व युक्त होती है। ऐसे में शुक्र के यहां होने पर व्यक्ति को इसका प्रभाव स्थिरता, धैर्य एवं सहनशीलता, मेहनती, यथार्थवादी, विश्वसनीय, प्रेम युक्त बनाता है। 

 

आकर्षक व्यक्तित्व के कारण पाते हैं सभी के मध्य विशेष स्थान

शुक्र का वृष राशि में होना व्यक्ति को समझदार एवं उत्कृष्ट गुण भी प्रदान करता है। अपने दोस्तों के समूह के बीच इनका व्यक्तित्व एवं व्यवहार बनना पसंद करते हैं। उदार, रोमांचक और आत्मविश्वासी हैं।  ईमानदार और सीधे होते हैं तथा अपने काम के साथ दूसरों के प्रति भी जिम्मेदार होते हैं। अपने फायदे के लिए हेरफेर करने का प्रयास कदाचित नहीं करना चाहेंगे। इनमें दया  परोपकारिता एवं उदारता का गुण भी निहित होता है। दूसरों की सुरक्षा की भावना को समझते हैं। लोगों से निपटने में धैर्य रखते हैं। 

 

स्वतंत्रता, आत्मविश्वास और ऊर्जा इनके अंदर दिखाई देती है। अपने ही साथी या दोस्तों के साथ प्रतिस्पर्धा करना पसंद नहीं करना चाहेंगे। दूसरे को चोट पहुंचाना इनका मकसद नहीं होता है। अपने साथ साथ दूसरों को भी आनंद देना पसंद करते हैं। किसी के प्यार के लिए प्रतिस्पर्धा करते समय उदार भावना अपनाते हैं। वृष राशि में शुक्र व्यक्ति को भौतिक संसार के सुखों की ओर झुकाव दे सकता है। 

 

अपनी वाणी द्वारा व्यक्ति कई लोगों के दिलों को जीत लेने में सफल हो सकते हैं। इसके साथ ही वह एक अच्छा भाषण वक्ता भी बन सकते हैं। आराम और सुख की चाह इनमें अधिक देखी जा सकती है। शानदार वस्तुओं और स्टाइलिश कपड़ों का भी शौक रख सकते हैं। व्यक्ति परिवार से प्रेम करने वाले तथा अपनों का सतह पसंद करने वाला होगा। जीवन में धन प्राप्ति होती है और जीवन को अच्छे समृद्धशाली रूप से जीने में भी कामयाब हो सकते हैं। 

 

करियर और व्यवसाय में पाते हैं विशेष सफलता 

करियर में एक अच्छा स्थान पाने में व्यक्ति सफल हो सकता है। व्यक्ति के द्वारा लिए गए निर्णय काफी बेहतर होते हैं। सोच विचार करके आगे बढ़ने की प्रवृत्ति इन्हें अच्छी बिजनेस करने वाला भी बना सकती है। कुछ मामलों में यह काफी धीमे होते हैं, इसलिए अपनी स्थिति से भी संतोष रखते हैं, जिसके कारण कई बार पद वृद्धि का ख्याल बहुत अधिक न होने के कारण एक स्थान पर लम्बा समय भी व्यतीत कर सकते हैं। 

 

अपने कार्यस्थल पर प्रतिष्ठा एवं मान सम्मान पाते हैं। इनका मेहनती रुप सभी को प्रभावित करने वाला होता है। अपने सहकर्मियों एवं दोस्तों सभी के साथ सहयोग की भावना को लेकर काम करना इन्हें पसंद होता है। जातक ऐसे स्थानों पर काफी सफलता प्राप्त कर सकता है जो कला, सौंदर्य, अभिव्यक्ति के लिए विशेष होते हैं। व्यक्ति के भीतर जन्मजात रचनात्मक योग्यता भी होती है। इनमें किसी कलात्मक गुण का वास भी होता है। फैशन से जुड़े काम हों या फिर मीडिया क्षेत्र अथवा चकाचौंध से भरी दुनिया इन सभी स्थानों पर चमक प्राप्त कर सकते हैं। चीजों को बहुत साफ सुथरा और खूबसूरती से करना पसंद करते हैं। अपनी अच्छी परख एवं विचारशैली के कारण एक अच्छे डिजाइन भी बन सकते हैं। जीवन के सभी क्षेत्रों में सभी बेहतरीन चीजों को प्राप्त करने के लिए इनके मूल्य काफी उच्च होते हैं और उसी अनुरूप यह प्रशंसा एवं सफलता पाते हैं। 

 

प्रेम और विवाह संबंध के प्रति होते हैं निष्ठावान

प्रेम और रोमांस का ग्रह शुक्र अपनी ही राशि में होने के कारण प्रेम पाने की इच्छा को बढ़ाता है। व्यक्ति अपने साथी के साथ खूबसूरत पलों को बिताना पसंद करता है। इस ग्रह योग वाले व्यक्ति कामुक एवं उत्तेजना से भरपूर होते हैं। अपने साथी के साथ खूबसूरत स्थानों पर जाने तथा आनंद के पलों को बिताना पसंद करते हैं। इनके भीतर स्पर्श का आकर्षण भी बहुत होता है। शुक्र, विवाह के कारक के रूप में, वृष राशि में होने पर विवाह का सुख देने में सहायक बनता है। यौन संबंध हो या भावनात्मक दोनों ही स्थानों पर गहरा आनंद प्रदान कर सकता है। 

 

प्रेम और विवाह की समस्या पर इनका अपना एक अलग नजरिया होता है। अपने जीवनसाथी में रुचि सदैव बनी रहती है। प्रेमी के प्रति भी काफी लगाव और समर्पण का भाव रखते हैं। रिश्ते में एक स्थिरता की तलाश भी इनके भीतर देखने को मिल सकती है।  शारीरिक आकर्षण भी इनके लिए काफी महत्वपूर्ण होता है। सुंदर चीजों के प्रति जल्द ही आकर्षित होते दिखाई दे सकते हैं।  

 

शुक्र का वृषभ में होना रिश्ते में रोमांस लाने की क्षमता रखता है। जब अपने साथी के सामने प्यार का इजहार करने की बात आती है, तो वे सोच समझते हुए अपना रिश्ता आगे बढ़ाना पसंद करते हैं। रिश्ते में सक्रिय और ऊर्जावान होते हैं। यौन आकर्षण इनमें बहुत होता है, किंतु इसी के साथ रिश्ते में गहरा अनुभव पाने की चाह भी रखते हैं। किसी भी तरह से खराब संबंधों की सराहना नहीं करते। रिश्ते के प्रति एक सकारात्मक भाव भी देखने को मिलता है। 

आप हमारी वेबसाइट से सभी भावों में शुक्र के प्रभावग्रहों के गोचर के बारे में भी पढ़ सकते हैं।

ज्योतिष रहस्य