कुंडली के आठवें भाव में शुक्र/Venus in 8th House

वैदिक ज्योतिषशास्त्र के अनुसार कुंडली के आठवें भाव में शुक्र/Venus in 8th House की इस स्थिति का बहुत ही सावधानीपूर्वक मूल्यांकन करने की जरूरत हो सकती है। क्योंकि ज्योतिषियों के अनुसार यह स्थिति कुछ बेहद करीबी प्रेमी और प्रेमिकाओं के बीच के तालमेल को बिगाड़ने का काम कर सकता है। कुंडली के आठवें भाव में शुक्र की यह स्थिति होने के कारण व्यक्ति का शादी के बावजूद भी किसी और के साथ एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर या शारीरिक संबंध को बढ़ावा देने की स्थिति उत्पन्न कर सकता है। 

 

कुंडली के आठवें भाव में शुक्र का प्रभाव/Impact Of Venus In The Eighth House On Your Life

यह मुद्दा यहाँ इसलिए उठाया गया है क्योंकि इस ज्योतिषीय घटना की वजह से वैवाहिक  जीवन में मुश्किलें उत्पन्न हो सकती है, और जीवनसाथी के साथ अनबन की स्थिति भी बनी रह सकती है। प्रेमी-प्रेमिका या पति-पत्नी के बीच शारीरिक संबंध को लेकर भी तनाव की स्थिति उत्पन्न हो सकती है। उन्हें एक दूसरे से निराशा हो सकती है और आपसी मतभेद की संभावना भी हद से अधिक बढ़ सकती है। यदि कुंडली के आठवें भाव में शुक्र के साथ ही बुध और बृहस्पति की उपस्थिति भी तो ऐसे में सौम्य ग्रह शुक्र व्यक्ति को झूठे रिश्ते और उम्मीद हीन शादी में बंधने से नहीं बचा सकता है। 

 

ऐसी स्थिति में शादी शुदा जोड़े और प्रेमी-प्रेमिकाओं को आपसी मतभेदों सुलझाने और एक दूसरे को समझने का भी भरसक प्रयास करते रहना चाहिए। वैसे भी यदि आठवें भाव में शुक्र/Venus in 8th House के साथ मंगल और शनि की उपस्थिति हो तो ऐसे में व्यक्ति को पहले ही संभल जाना चाहिए कि, उन्हें अपने रिश्ते में आने वाले उतार-चढ़ाव का डटकर सामना करना होगा। उन्हें अपने रिश्ते में एक मजबूत स्टैंड लेने के लिए हमेशा तत्पर रहना चाहिए। इसके साथ ही शुक्र के प्रभाव से हालांकि व्यक्ति किसी भी तरह के यौन रोग आदि से पीड़ित नहीं होता है। लेकिन यदि शुक्र के साथ ही आठवें भाव में मंगल या शनि का संयोजन हो तो ऐसे में व्यक्ति को यौन रोग जैसे कि, एचआईवी और एड्स होने का खतरा काफी बढ़ जाता है। 

 

इसके साथ ही यदि आठवें भाव में शुक्र के साथ राहु हो तो व्यक्ति को किसी लंबी बीमारी से मुक्ति मिल सकती है। आठवें भाव में शुक्र की स्थिति होने पर एक सामान्य बात पर विशेष ध्यान देना चाहिए और वह यह है कि, आठवें भाव में शुक्र के होने से व्यक्ति में अपने साथी की इच्छाओं को पूरा करने की क्षमता काफी बढ़ जाती है। हालांकि यदि प्यार मोहब्बत की बात की जाए इस मामले वे कहीं न कहीं चूक जाते हैं। यदि व्यक्ति के अष्टम भाव में शनि और शुक्र का संयोजन हो तो व्यक्ति कोशिश करता है कि जीवनसाथी के साथ वैवाहिक जीवन में किसी तरह का मतभेद न उत्पन्न हो। हालांकि, बार-बार, किसी भी घटना में, जब दोनों गुप्त रूप से एक्स्ट्रा मैरिटल संबंधों से जुड़े होते हैं, तो दोनों (एक जोड़े) का एक दूसरे को नीचा दिखाने की प्रवृति में काफी वृद्धि हो जाती है। वे एक दूसरे के पुराने घावों पर चोट करते हैं और इससे उनके रिश्ते में और भी ज्यादा खटास उत्पन्न हो सकती है। ऐसे में गुस्से में आकर दोनों एक दूसरे को गंभीर चोट भी पहुंचा सकते है। वे एक पल भी एक दूसरे को बर्दाश्त नहीं कर सकते हैं और ऐसे में अलगाव की स्थिति उत्पन्न होना सामान्य है। कुंडली के आठवें भाव में शुक्र की स्थिति/Venus in 8th House  होने से व्यक्ति का ख़ास झुकाव व्यापार की तरफ हो सकता है। ऐसे व्यक्ति कपड़े, घी, चीनी, कपास, कॉटन सीड, आदि कि खरीद बिक्री से जुड़ा काम कर सकते हैं। ऐसे व्यक्ति को सामान के इम्पोर्ट एक्सपोर्ट करने में ओवर-इन्वॉयसिंग और अंडर-इन्वॉयसिंग से जुड़े कामों में कोई परेशानी नहीं होती है। यदि कुंडली में शुक्र बारह डिग्री पर स्थित हो तो ऐसे में व्यक्ति कुछ चीजों का इम्पोर्ट एक्सपोर्ट गुप्त रूप से भी कर सकता है जैसे मसाले और दवाइयां।

 

यदि व्यक्ति के आठवें भाव में शुक्र के साथ ही चंद्रमा की स्थिति हो तो ऐसे में व्यक्ति का झुकाव अल्कोहल या शराब की तरफ हो सकता है और शराब पीने की वजह से उन्हें लंग्स से जुड़ी बीमारी भी हो सकती है। ऐसे व्यक्तियों को बाढ़ और समुद्र तटीय इलाकों में रहने से खतरा हो सकता है, इसके साथ ही ऐसे व्यक्ति को कुत्ते के काटने से रेबीज होने का भी खतरा हो सकता है। कुंडली के आठवें भाव में शुक्र के साथ ही चंद्रमा की स्थिति होने से व्यक्ति मानसिक रोग, मानसिक अशांति और किसी अन्य गंभीर बीमारी का शिकार भी हो सकता है। इसके साथ ही साथ आठवें भाव में शुक्र के साथ ही यदि बृहस्पति की उपस्थिति हो तो ऐसे में व्यक्ति सिस्टिक फॉयब्रोसिस या इससे जुड़े किसी अन्य रोग का शिकार भी हो सकते हैं। हालांकि शुक्र अकेला ही इस भाव में स्थित हो तो ऐसे में व्यक्ति किसी लंबी बीमारी, नकारात्मक व्यवहार, सामाजिक अपराध और आपराधिक गतिविधि में लिप्त हो सकते हैं।

आप हमारी वेबसाइट से सभी भावों में शुक्र के प्रभावग्रहों के गोचर के बारे में भी पढ़ सकते हैं। साथ ही न्मकुंडली, लव या अरेंज मैरिज में चुनाव, व्यवसायिक नामों के सुझावस्वास्थ्य ज्योतिषनौकरी या व्यवसाय के चुनाव के बारे में भी पढ़ सकते हैं। 

ज्योतिष रहस्य