वृषभ राशि में शनि | Saturn in Taurus

वृषभ राशि में शनि वाले लोग, धन होने पर भी आर्थिक रूप से मजबूत नहीं होते, जिससे ये व्यक्ति बचत नहीं कर पाने के कारण, उसका आनंद नहीं ले पाते और न ही उच्च स्थिति पर पहुंच पाते हैं। इसके साथ ही, ये शिष्ट व्यवहार वाले नहीं होते और इनमें सच बोलने का साहस नहीं होता। इसके अलावा, इन लोगों के कई महिलाओं के साथ संबंध भी होते हैं। अशुभ शक्तियों से प्रभावित शुक्र का मंगल के साथ संबंध होने या मंगल की राशि में जुड़े होने की स्थिति में, कुंडली पर विपरीत और नकारात्मक प्रभाव पड़ता है, जो इन व्यक्तियों को, महिलाओं के प्रति निराशापूर्ण व्यवहार और यौन सुख प्राप्त करने के लिए प्रवृत्त करता है। स्थिर विचारधारा वाले ये व्यक्ति, जीवन में अपने अनुभवों और दृष्टिकोण के प्रति दृढ़ रहने के साथ ही, सौम्य लेकिन क्रोधी स्वभाव के होते हैं।

 

इस राशि पर शनि का विपरीत प्रभाव पड़ने पर, व्यक्ति को शेयर बाजार में भारी आर्थिक हानि होने की संभावनाएं रहती हैं। साथ ही, ये लोग यात्राएं करना पसंद नहीं करते। इसके अलावा, मेष लग्न होने पर व्यक्ति धनवान और आर्थिक दृष्टि से दृढ़ होता है। लेकिन, वृषभ लग्न होने पर व्यक्ति न सिर्फ आर्थिक रूप से मजबूत होगा बल्कि, उच्च पद भी प्राप्त करेगा।

 

वहीं, मिथुन लग्न होने पर व्यक्ति शनि की इस अवधि के दौरान, विदेश और लंबी दूरी की यात्राएं कर सकते हैं तथा मकर लग्न वाले व्यक्तियों के लिए, शनि उत्तम परिणाम लाता है। इसके साथ ही, मीन लग्न वाले व्यक्तियों के शीघ्र ही विदेश जाने की संभावनाएं होती हैं। 

 

इसके अतिरिक्त, मंगल का प्रभाव व्यक्ति का ध्यान सेना की ओर आकर्षित करता है वहीं बुध का प्रभाव, व्यक्ति को शक्तिहीन बना देता है तथा बृहस्पति का प्रभाव व्यक्ति को अत्यधिक उपकारी, दयालु और प्रसिद्ध बनाता है। शनि पर वृश्चिक राशि से शुक्र का प्रभाव, दो ग्रहों के बीच एक मजबूत ''संबंध'' स्थापित करेगा, जिससे शुक्र का मंगल की स्थिति पर कठोर प्रभाव पड़ेगा लेकिन, कुंडली पर मंगल का सकारात्मक प्रभाव पड़ने पर यह संबंध दृढ़, प्रभावशाली और मजबूत होगा जो व्यक्ति की आर्थिक और सामाजिक स्थिति को समृद्धशाली करता है। इसके अलावा, इस राशि में शनि के 10 से 13 डिग्री 20 मिनट के बीच स्थित होने पर, अत्यंत बुरे और अशुभ परिणाम सुनिश्चित होते हैं।

आप हमारी वेबसाइट से सभी भावों में शनि के प्रभावग्रहों के गोचर और उसके प्रभावों के बारे में भी पढ़ सकते हैं।

ज्योतिष रहस्य