कुंभ राशि में बृहस्पति | Jupiter in Aquarius

बृहस्पति के कुंभ राशि में होना सामान्य परिणाम लेकर आता है। कुंभ राशि भी मकर राशि की भांति ही शनि के स्वामित्व की राशि है, लेकिन बृहस्पति कुंभ में काफी अलग असर दिखाता है। कई मायनों में थोड़ा साथ अधिक बेहतर यहां होता है। बृहस्पति के साथ एक मिलाजुला सा रिश्ता दिखाई देता है। बृहस्पति जब कुम्भ राशि में होता है, तो शनि के प्रभाव के कारण उसकी ऊर्जा में कुछ कमी हो सकती है, लेकिन उत्साह उसमें खूब होता है, क्योंकि कुंभ राशि में स्वच्छंदता का गुण भी मौजूद होता है। 

 

कुंभ स्वतंत्रता को पसंद करता है, तो बृहस्पति भी इसी का भाव रखता है। इन दोनों का एक साथ होना काफी मामलों में अच्छे नतीजे भी देने में सहायक बनता है। कुंभ राशि में बृहस्पति व्यक्ति को जिज्ञासु बनाता है, तो कुछ लापरवाह का भाव भी साथ में देता है। कुंभ राशि एक मिलनसार राशि भी मानी जाती है और आवश्यकता अनुसार स्वयं को परिस्थिति के अनुरूप ढाल लेने का गुण भी मौजूद होता है। बृहस्पति के योग पर यह व्यक्ति को काफी आगे बढ़ने में तथा प्रसिद्धि दिलाने में भी सहायक बनती है। वैसे कुंभ राशि शनि की मूल त्रिकोण राशि भी होती है, ऐसे में बृहस्पति का यहां होना सकारात्मक फलों को देने वाला होता है। 

 

उन्मुक्त एवं स्वच्छंद स्वभाव दूसरों को करता है प्रभावित 

कुंभ राशि में बृहस्पति वाले व्यक्ति दूसरों के साथ चलने और आगे बढ़कर उत्साह पूर्वक काम करने वाला होता है। उसमें आत्मसम्मान की भावना उच्च होती है किंतु अपनों के लिए वह काफी नम्र भी होते हैं। व्यक्ति धनी और बुद्धिजीवी होते हैं। उच्च प्रतिष्ठित लोगों का साथ भी पाता है। विद्वान होते हैं तथा निर्णयों में आगे रहते हुए काम करने वाले होते हैं। 

 

जीवन में  निष्पक्ष रह कर काम करने की उसकी महत्वाकांक्षा अधिक तीव्र होती है। व्यक्ति विनम्र और मानवीय होता है। सहिष्णु और दयालु भाव रखने वाला होते हैं। समस्याओं का समाधान करने हेतु वह प्रयासशील भी होते हैं। व्यक्ति के विचार मौलिक होते हैं और बनावटीपन से बचने का प्रयास भी करते हैं। कल्पनाशील होना अच्छा होता है, जिसके कारण कई तरह की अनुभूतियों का अनुभव कर पाने में ये लोग सफल रहते हैं। 

 

कई बार स्वप्निल स्वभाव के कारण अधिक भावनात्मक हो सकते हैं। दूसरों के जीवन में दखल देने की इच्छा नहीं रखते। अलग और अपने विचारों में अधिक खोए दिखाई दे सकते हैं। यही चीजें कई बर उन्हें दार्शनिक और विचारक बनाने वाली होती है। मस्ती और स्वच्छंदता के कारण कई बार अनुशासनहीन भी हो सकते हैं, किंतु इनकी ये  प्रवृत्ति दूसरों को परेशानी देने के लिए नहीं होती है अपितु यह स्वयं को इस मामले में कमजोर होने के कारण ऎसे हो सकते हैं। 

 

करियर और व्यवसाय 

करियर के क्षेत्र में बदलाव और लगातार किए जाने वाले प्रयासों में शामिल रह सकते हैं। व्यक्ति अपने जीवन में लक्ष्यों को बहुत दूर बना सकता है। कई चीजों को करने की इच्छा इनमें गजब की हो सकती है। जीवन में हर क्षेत्र में संभावनाओं के होने की सोच इनके भीतर बनी रहती है। इनके लिए रिसर्च से जुड़े काम भी काफी अच्छे रह सकते हैं। इनकी सोच की विचारशीलता ही इन्हें कई चीजों के साथ जोड़ सकती है। हर बार अलग अनुभव को पाने में भी काफी सक्षम होते हैं। असफलताओं से घबराते नहीं है। किसी के काम में बहुत अधिक समय तक रुक पाना इनके लिए कुछ मुश्किल सा हो सकता है, क्योंकि बदलाव को लेकर भी काफी उत्सुक दिखाई देते हैं। काम में परिवर्तन इनके स्वभाव का अंग भी होता है। इसके साथ ही कुछ न कुछ करते रहने की इच्छा भी इनमें होती है। इनके लिए शिक्षण का कार्य, जोश-उत्साह से भरे काम करने की प्रवृत्ति होती है। जोखिम भी ले सकते हैं, ऎसे में कठिन काम को करने से भी हिचकिचाना नहीं चाहते। 

 

कुंभ राशि में बृहस्पति का होना व्यक्ति को भविष्य के लिए आशावादी दृष्टिकोण भी देने वाला होता है। इस प्रभाव के कारण वह सफलताओं को भी पाते हैं। अपने कार्य क्षेत्र को लेकर भी इनका व्यवहार काफी उत्कृष्ठ होता है। कोई फर्क नहीं पड़ता कि चीजें कैसी दिखती हैं, क्योंकि गलतियों द्वारा ही हम सही चीजों का महत्व जान पाते हैं। अपने विचारों और बेहतर निर्णयों द्वारा बेहतर कल का निर्माण करने की अच्छी योग्यता इनमें होती है। सीमाओं से परे देखने के कारण अपने बिजनेस को आगे तक ले जाने में और समय के अनुसार काम करते हुए अच्छे लाभ अर्जित करने में भी सफल होते हैं। 

 

प्रेम और विवाह संबंध 

प्रेम और रोमांस इनमें भरपूर होता है। अपने रिश्ते के प्रति गंभीर तथा आनंद को पाने हेतु हमेशा आगे रहते हैं। अपने संबंधों में साथी को प्रेम भरपूर करते हैं। चीजों के प्रति न्यायप्रिय भी होते हैं और इसी कारण अपने प्रेम एवं विवाह संबंधों में सफलता को भी पाते हैं। किसी का दिल दुखाना व्यक्ति की भावना में नहीं आता है और साथी के साथ सहयोग की भावना रखते हैं। विचार खुले हो सकते हैं, किंतु नैतिकता के प्रति भी उसकी समझ काफी परिपक्क दिखाई दे सकती है, इसलिए प्रेम संबंधों में गलत कार्यों को करने की बजाए आत्मिक संबंधों पर काम करना अधिक पसंद करते हैं। यौन आकर्षण होता है, किंतु एक अच्छे रिश्ते की चाह द्वारा ही इसे पूरा करना चाहेंगे। 

 

संकीर्ण विचारधारों से ग्रसित नहीं होते हैं और अपनी भांति ही साथी की स्वतंत्रता और सोच को महत्व भी देते हैं।  खुले दिल से विविधताओं को स्वीकार करने वाला भी होता है। दूसरों के प्रति उसका नजरिया कभी कम ज्यादा नहीं रहता है। लोगों को वह वैसे ही स्वीकार कर लेता है से वे होते हैं। व्यर्थ की बातों के प्रति अपनी सोच को ले जाना उसके विचारधारा में नहीं आता है। उनकी जाति, संप्रदाय, रंग, नस्ल जैसी चीजों को बहुत अधिक स्थान नहीं देना चाहेगा। अपनों के प्रति लगान एवं प्रेम इनके भीतर सदैव निहित रहता है। 

आप हमारी वेबसाइट से सभी भावों में बृहस्पति के प्रभावग्रहों के गोचर और उसके प्रभावों के बारे में भी पढ़ सकते हैं।

ज्योतिष रहस्य