मुख्य पृष्ठ विभिन्न भावों और राशियों में ग्रह विभिन्न भावों और राशियों में बृहस्पति

विभिन्न भावों और राशियों में बृहस्पति/ JUPITER IN DIFFERENT HOUSES & SIGNS

बृहस्पति/ Jupiter हमारे सौर मंडल का शक्तिशाली और विशाल आकृति का ग्रह है। इसका द्रव्यमान इस सौरमंडल के अन्य सभी ग्रहों के कुल द्रव्यमान का 2.5 गुना है। अपनी अनोखी प्रकृति के कारण, यह संपर्क में आने वाली हर चीज का विस्तार करता है, इसलिए इसे "विस्तारवादी ग्रह" भी कहा जाता है, जो संपदा और ज्ञान जैसे प्राथमिक पहलुओं के आसपास कार्य करता है। न्याय, नैतिकता और आध्यात्मिकता के अलावा, बृहस्पति धन और सर्वश्रेष्ठ विद्वता से भी संबंधित होता है। इसलिए अक्सर इसे अत्यधिक उदारवादी ग्रह के रूप में उल्लेखित किया जाता है।

विभिन्न भावों और राशियों में बृहस्पति का प्रभाव/ Effects of Jupiter in different Houses and Signs

बृहस्पति/Jupiter को सूर्य का एक पूरा चक्कर लगाने के लिए लगभग 12 वर्ष का समय लगता है। जन्म के समय गुरु जिस भी राशि में स्थित होता है, वही राशि बृहस्पति राशि बन जाती है। एक राशि में यह लगभग एक वर्ष तक रहता है, और इसकी स्थिति उदारवादी गतिविधियों के तरीकों का संकेत दे सकती है। कुंभ राशि में बृहस्पति वाले लोग, उदारता व्यक्त करने के लिए मानवीय तरीकों की ओर प्रवृत्त हो सकते हैं। इसी तरह, सिंह राशि में बृहस्पति वाले व्यक्ति, इस भावना को व्यक्त करने के माध्यम के रूप में दान पुण्य का चयन कर सकते हैं।

राशियों में बृहस्पति, आध्यात्मिक शिक्षा के प्रति आचरण का भी संकेत दे सकता है, तथा धनु राशि में  आध्यात्मिक प्रश्नों के जवाबों की जानकारी के लिए दुनिया भर में यात्राएं कर सकते हैं। जबकि मीन राशि में बृहस्पति, पारलौकिक विषयक अवधारणाओं और आध्यात्मिक मुक्ति में अत्यधिक रुचि दिखाता है तथा वृश्चिक राशि में, काले जादू और सम्मोहन जैसे जादू-टोना के पहलुओं का संकेत दे सकता है। इसी कारण, दार्शनिकों और गुरुओं की कुंडली में बृहस्पति की प्रबलता होती है।

अन्य बातों के अलावा, बृहस्पति यह भी नियंत्रित करता है कि किस प्रकार जीवन में सत्यता और ज्ञान प्राप्ति के विभिन्न तरीकों को प्राप्त किया जाए। कुंभ राशि में बृहस्पति, सामाजिक स्वतंत्रता और अन्यायपूर्ण प्रतिबंधों से रहित समाज के लिए संघर्षों को प्रकट करता है, जबकि मेष राशि में बृहस्पति अपनी प्रजा को एक बुद्धिमान नेता बनाना पसंद करता है। वृश्चिक राशि में बृहस्पति, गहरे दबे ज्ञान की तलाश के प्रति अद्वितीय अभिलाषाओं को दर्शाता है। स्वाभाविक रूप से, वह कड़ी मेहनत से अर्जित इस ज्ञान के पक्ष पर अधिक ध्यान आकर्षित किए बिना अपने कामों में लग जाते हैं। इसके विपरीत मिथुन राशि में बृहस्पति, ज्ञान को सहयोग करने के लिए गहराई तक पहुंचने की परवाह नहीं करते। इसके बजाए अपने लक्ष्यों पर पर टिके रहकर विभिन्न क्षेत्रों की जानकारी एकत्र करने पर अधिक ध्यान केंद्रित करता है।

इन सभी बातों में रोमांचक पहलू यह है कि बृहस्पति को भाग्य के संचालन को शासित करने के लिए भी जाना जाता है। वास्तव में, राशियों में बृहस्पति/Jupiter ही यह निर्धारित करता है कि भाग्य को भी कैसे नियंत्रित किया जाए। वृश्चिक राशि में बृहस्पति, जुए जैसे जोखिम वाले क्रियाकलापों को बुरा नहीं मानता जबकि वृष राशि में बृहस्पति, उनके सौभाग्य के लिए निवेश करने के अधिक आशाजनक तरीकों के लिए प्रयत्नशील रहता है। इन सबसे बढ़कर, बृहस्पति भी लक्ष्यों की प्राप्ति में एक सतत मार्गदर्शक के रूप में सहयोग करता है। ज्योतिष में यह राह चलने वालों का मार्गदर्शन करने वाला, भाग्य और संतोष का प्रतीक है। उदाहरण के लिए, वृषभ राशि में बृहस्पति का होना मन और तन को तृप्त वाले शानदार भोजन और शरीर की मालिश, स्पा थेरेपी जैसी कायाकल्प सेवाओं का अवसर देता है। इसके विपरीत, सिंह राशि वालों में विलासिता की ओर प्रवृत्त  होने की संभावना होती है।
आप ज्योतिष में ग्रहों के गोचर और इसके प्रभावों, 12 भावों , 27 नक्षत्रों और इनकी विशेषताओं के बारे में हमारी वेबसाइट से पढ़ सकते हैं।

ज्योतिष रहस्य