मघा नक्षत्र | Magha Nakshatra - The Rebirth Star

वैदिक ज्योतिष/ Vedic astrology में 27 नक्षत्रों में से मघा नक्षत्र दसवें स्थान पर आता है। मघा का अर्थ है- शक्तिशाली, महान, उत्तम, नि:स्वार्थ, समृद्ध, धनी। महत्वपूर्ण बात, यह है कि मघा नक्षत्र/ Magha Nakshatra में जन्मे व्यक्ति पिछले जन्मों में किए गए कर्मों की फसल को काटने के लिए इस जन्म में जन्म लेते हैं।

मघा नक्षत्र उग्र (क्रूर) नक्षत्र है जो पितृ या पूर्वजों से संबंधित है। यह नक्षत्र भरणी नक्षत्र/Bharani Nakshatra से भी बहुत अच्छी तरह संबंधित है, जिस पर पूर्वजों के स्वामी यम का शासन है। इसके परिणामस्वरूप, यह अक्सर भरणी लोगों को छोड़कर किसी के भी निर्देश नहीं लेते हैं। यह सिंह के समान राजा प्रकार के लोग होते हैं जो किसी के अधीन काम करना पसंद नहीं करते।

मघा नक्षत्र के जातक किस प्रकार के होते हैं?/How are Magha Nakshatra natives?

मघा प्रधान लोग अहंकारी होते हैं। चन्द्रमा के सिंह राशि के पहले पाद में पड़ने पर, वह सिंह राशि और मेष नवमांश पाद (उच्च) में होते हैं। यह वर्णित संयोजन, अत्यधिक अहंकार को दर्शाता है।

मघा नक्षत्र का पाद/Pada of Magha Nakshatra

पाद, किसी को या नक्षत्र को आगे ले जाने वाले चार पैर होते हैं।  

१. पहला पाद अहंकारी होता है।

२. दूसरा पाद स्वयं को स्थिर रखता है।

३. तीसरा पाद संवाद स्थापित करता है। 

४. चौथा पाद पालन-पोषण और देखभाल करने वाला होता है। 

मघा नक्षत्र के पादों से संबंधित कुछ अन्य तथ्य/Some more facts about Pada of Magha Nakshatra

1. पहला पाद शरीर है (रोग)

2. दूसरा मन है (निर्णय लेने की क्षमता)

3. तीसरा पद प्राण या सांसें है (जीवन लेना या देना)

4. चौथा पाद आत्मा है।

अतः किसी प्रमुख ग्रह के इस नक्षत्र/ Nakshatras में आने पर, कहना आसान होता है कि परिवार के किसी व्यक्ति ने परिवार में पुनर्जन्म लिया है। कहा जाता है कि मघा नक्षत्र के नौवें भाव में पड़ने पर, पुनर्जन्म पिता की ओर से और चतुर्थ भाव में पड़ने पर मातृ पक्ष से हो सकता है।

मघा नक्षत्र की विशेषताएं क्या हैं?/What are Traits of Magha Nakshatra?

• मघा नक्षत्र में जन्मे लोगों से संबंधित मुख्य विशेषताएं इस प्रकार हैं:

• आत्म-वंशज।

• इतिहास से संबंधित अधिक जानकारी प्राप्त करना। 

• प्राचीन काल से संबंधित अधिक जानकारी प्राप्त करना। 

• ये लोग पुरातत्वविद् बनते हैं।

• मघा नक्षत्र/Magha Nakshatra शक्ति और अधिकार का तारा होने के साथ ही, आनुवंशिक विकार भी दे सकता है।

अतः, किसी प्रमुख ग्रह के इस नक्षत्र में आने पर आसानी से कहा जा सकता है कि परिवार के किसी व्यक्ति ने परिवार में पुनर्जन्म लिया है तथा मघा नक्षत्र के नौवें भाव में पड़ने पर पुनर्जन्म पिता की ओर से हो और चतुर्थ भाव में पड़ने पर मातृ पक्ष से हो सकता है।

मघा नक्षत्र की अन्तर्दृष्टि/More Insight Into Magha Nakshatra

मघा नक्षत्र की प्रतीकविद्या द्वारा, किसी महत्वपूर्ण व्यक्ति के जन्म लेने का पता चलता है। 

इस नक्षत्र/Nakshatras के लोग, विरासत में मिली पूर्वजों की अपार या राजसी संपत्ति पर जीवन यापन करते  हैं। 

मघा नक्षत्र, निकट-मृत्यु या 'शरीर से बाहर' के अनुभवों के आधार पर 'त्याग शेपनी शक्ति' या शरीर छोड़ने की क्षमता को संचालित करता है। 

मघा नक्षत्र के विषय/The Themes of Magha Nakshatra

१. प्रसिद्धि, राजसी गौरव, प्रभाव, पद और सम्मान।

२. निकट-मृत्यु और शरीर के बाहर के अनुभव।

३. पितृ दोष और प्रेत समस्याएं: दूसरी दुनिया और पूर्वजों के साथ संबंध।

४. आनुवंशिक रोग।

मघा के 'अधोमुखी नक्षत्र' होने के कारण, उसकी प्रवृत्ति इस प्रकार है:

1. ये व्यक्ति अतीत में घूमने के प्रयास करते हैं। 

2. इस नक्षत्र के लोगों की रुचि पुरातत्व और प्राचीन सभ्यता में होती है।

3. आमतौर पर, भूवैज्ञानिक, उत्खनन और रत्न विज्ञान में रुचि रखते हैं।

4. अपने लिए प्रासंगिक, बकाये की वसूली करने के लिए किसी भी हद तक जा सकते हैं‌। 

मघा नक्षत्र के लोगों से संबंधित संपूर्ण विषय/ Overall themes what are associated with Magha Nakshatra natives

• ये तेज दृष्टि वाले होते हैं। 

• इन नक्षत्र के लोगों में चीजों को समझने की अनोखी कला होती है

• कभी-कभी पूर्वजों के अपमान करने के आरोपी होते हैं।

मघा नक्षत्र के गुणों और विषयों का सारांश/ Summing up the qualities and the themes of Magha Nakshatra:

• पितरों या पूर्वजों के कर्मों के परिणामस्वरूप, यह व्यक्ति के पूर्व जन्म के लाभों की फसल काटते हैं।

• अपनी बकाया राशि वसूलने में अत्यधिक निर्मम होते हैं।

• इस नक्षत्र/Nakshatras के व्यक्ति अतीत में रहते हैं।

• इनके पास शरीर त्यागनेे और शरीर से बाहर कुछ अनुभव करने की अनूठी क्षमता होती है।

नाम से ही पता चलता है कि मघा नक्षत्र/Magha Nakshatra के व्यक्ति प्रसिद्ध, राजसी गौरव, प्रभाव, पद और सम्मान से गहराई से जुड़े होने के परिणामस्वरूप, ये लोग अत्यधिक अहंकारी हो सकते हैं।

मघा नक्षत्र में जन्मे कुछ प्रसिद्ध हस्तियां/Some famous personalities born in Magha Nakshatra

उपरोक्त लक्षणों ने कुछ लोगों को अपने व्यावसायिक क्षेत्रों में विश्व प्रसिद्ध बना दिया है। उनमें से कुछ इस प्रकार हैं - 

मार्गरेट थैचर, जूलिया रॉबर्ट्स, कादर खान (भारतीय बॉलीवुड हास्य अभिनेता और फिल्म व्यक्तित्व), डॉ राम मनोहर लोहिया, महर्षि महेश योगी आदि।

नाड़ियों के अनुसार मघा नक्षत्र की सक्रियता/ Activation of Magha Nakshatras as per Nadis

नाड़ियों के अनुसार, मघा नक्षत्र लोगों के जीवन में उन कुछ बिंदुओं पर सक्रिय होता है जिस भाव में जीवन के वर्षों में भाव के स्वामी स्थित होते हैं।

१. मघा नक्षत्र अठारहवें वर्ष में सक्रिय होकर, कुंडली के नवें और आठवें भाव को उत्प्रेरित करता है।

२. 31 वें वर्ष में यह अपने आप सक्रिय होकर, दसवें भाव को उत्प्रेरित करता है।

३. उसके बाद, मघा नक्षत्र 52 वें वर्ष में सक्रिय होता है।

कृपया, उपरोक्त नियमों को बहुत विवेकपूर्ण तरीके से  जन्म कुंडली पर प्रयोग करना चाहिए। वैदिक ज्योतिष/ Vedic Astrology के समग्र दिशानिर्देशों के अनुसार ये इस नक्षत्र के सामान्य दिशा निर्देश हैं। परिणामस्वरूप कई अन्य कारकों के आधार पर वास्तविक परिणाम एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में भिन्न हो सकते हैं। इसलिए एक अच्छे ज्योतिषी से विशिष्ट विश्लेषण लेना हमेशा बेहतर होता है। और हाँ, इसके अलावा, किसी भी स्पष्टीकरण के लिए, आप अपने प्रश्न कमेंट बॉक्स में पोस्ट कर सकते हैं।

वैदिक ज्योतिष/ Vedic astrology के अनुसार, किसी बिजनेस के नामकरण और बच्चे के नामकरण में नक्षत्र एक विशेष भूमिका निभाता है।

ज्योतिष/ astrology में 27 नक्षत्र होते हैं। अन्य 26 नक्षत्रों की समान अंतर्दृष्टि के बारे में पढ़ने के लिए ज्योतिष में सभी नक्षत्रों पर क्लिक करें।

ज्योतिष रहस्य