क्या सफल होगा मेरा प्रेम विवाह? Love Marriage Astrology

प्रेम विवाह

नमस्कार! मैं एक प्रेम विवाह विशेषज्ञ/love marriage specialist हूं। आप मुझे प्रेम विवाह ज्योतिषी/ love marriage astrologer भी बुला सकते हैं। मैं वैदिक ज्योतिष की सहायता से आपकी कुंडली का आकलन कर आपको बता सकता हूं कि आपकी लव मैरिज होगा या अरेंज्ड मैरिज/ Love marriage or arrange marriage। प्रेम विवाह ज्योतिष वैदिक ज्योतिष का अभिन्न अंग है और मुझे इसमें महारत हासिल है। सबसे पहले तो आप खुद ही लव मौरिज या अरेंज्ड मैरिज होने की संभावनो को जांच सकते हैं। नीचे एक निःशुल्क कैलकुलेटर दिया है, जिसकी सहायता से आप खुद के लिए प्रेम की भविष्यवाणी जान पाएंगे। इसे आप लव या अरेंज मैरिज कैलकुलेटर/calculator भी कह सकते हैं।:

लव मैरिज या अरेंज मैरिज? खुद पता करें

अभी गणना करें

लव कैलकुलेटर | Love relationship calculator

ऊपर आपने लव या अरेंज्ड मैरिज कैलकुलेटर का प्रयोग किया होगा। इससे पहले कि आप ज्योतिष में प्रेम विवाह/love marriage in astrology के बारे में जानें, जन्म तिथि के अनुसार प्रेम अनुकूलता/ love compatibility by date of birth का आकलन करना बेहद अनिवार्य होता है।  

नीचे एक लव कैलकुलेटर/love relationship calculator भी दिया गया है। आप उस कैलकुलेटर का प्रयोग करके भी अपने और अपने होने वाले साथी के बीच अनुकूलता या तालमेल के बारे में जान सकते हैं। इस कैलकुलेटर के उपयोग से आपको बहुत सारी बातों के बारे में आभास हो जाएगा, जो आपको अपनी वैवाहिक जीवन जीने में सहायता कर सकता है। इस उपकरण का प्रयोग करने के साथ साथ इस विषय पर आप मुझसे भी बात कर सकते हैं। मेरे पास इस विषय में भविष्यवाणी करने का दशकों का अनुभव है और अभी तक कई कुंड़लियों का विश्लेषण भी कर चुका हूं।

लव कैलकुलेटर | Love relationship calculator

ऊपर आपने लव या अरेंज्ड मैरिज कैलकुलेटर का प्रयोग किया होगा। इससे पहले कि आप ज्योतिष में प्रेम विवाह/love marriage in astrology के बारे में जानें, जन्म तिथि के अनुसार प्रेम अनुकूलता/ love compatibility by date of birth का आकलन करना बेहद अनिवार्य होता है।  

नीचे एक लव कैलकुलेटर/love relationship calculator भी दिया गया है। आप उस कैलकुलेटर का प्रयोग करके भी अपने और अपने होने वाले साथी के बीच अनुकूलता या तालमेल के बारे में जान सकते हैं। इस कैलकुलेटर के उपयोग से आपको बहुत सारी बातों के बारे में आभास हो जाएगा, जो आपको अपनी वैवाहिक जीवन जीने में सहायता कर सकता है। इस उपकरण का प्रयोग करने के साथ साथ इस विषय पर आप मुझसे भी बात कर सकते हैं। मेरे पास इस विषय में भविष्यवाणी करने का दशकों का अनुभव है और अभी तक कई कुंड़लियों का विश्लेषण भी कर चुका हूं।

प्यार का कैलकुलेटर

अभी गणना करें

लव मैरिज या अरेंज मैरिज ज्योतिष | Love marriage or arrange marriage astrology

लव मैरिज या अरेंज मैरिज ज्योतिष | Love marriage or arrange marriage astrologyयदि आपने ऊपर मौजूद कैलकुलेटर का प्रयोग कर लिया है तो आपने अपनी जन्मतिथि के आधार पर प्रेम विवाह की भविष्यवाणी जान ली होगी। यदि आपने एक दम सटीक जानकारी का प्रयोग किया है, तो आपको अपने प्रेम विवाह के संदर्भ में बहुत सारी जानकारी मिल गई होगी।

आपको इन कैलकुलेटर से जो भी परिणाम मिलेंगे, वह प्रारंभिक संकेत होंगे। इसलिए हमेशा इस संबंध में कोई भी निर्णय लेने से पहले किसी अच्छे विवाह ज्योतिषी/Marriage astrologer से सलाह लेना ही बेहतर होता है या फिर आप मुझसे भी संपर्क कर सकते हैं। मैं दोनों साथियों के सभी कारकों का विश्लेषण करूंगा जिससे दोनों का ही जीवन सुखद बना रहेगा। इसके बारे में विस्तृत जानकारी के लिए आपको लव या अरेंज्ड मैरिज ज्योतिष/ Love marriage or arranged marriage astrology की सहायता लेनी पड़ेगी।

लव मैरिज या अरेंज मैरिज ज्योतिष | Love marriage or arrange marriage astrology

लव मैरिज या अरेंज मैरिज ज्योतिष | Love marriage or arrange marriage astrologyयदि आपने ऊपर मौजूद कैलकुलेटर का प्रयोग कर लिया है तो आपने अपनी जन्मतिथि के आधार पर प्रेम विवाह की भविष्यवाणी जान ली होगी। यदि आपने एक दम सटीक जानकारी का प्रयोग किया है, तो आपको अपने प्रेम विवाह के संदर्भ में बहुत सारी जानकारी मिल गई होगी।

आपको इन कैलकुलेटर से जो भी परिणाम मिलेंगे, वह प्रारंभिक संकेत होंगे। इसलिए हमेशा इस संबंध में कोई भी निर्णय लेने से पहले किसी अच्छे विवाह ज्योतिषी/Marriage astrologer से सलाह लेना ही बेहतर होता है या फिर आप मुझसे भी संपर्क कर सकते हैं। मैं दोनों साथियों के सभी कारकों का विश्लेषण करूंगा जिससे दोनों का ही जीवन सुखद बना रहेगा। इसके बारे में विस्तृत जानकारी के लिए आपको लव या अरेंज्ड मैरिज ज्योतिष/ Love marriage or arranged marriage astrology की सहायता लेनी पड़ेगी।

अब एक प्रेम विवाह ज्योतिषी के रूप में मैं आपको एक बड़े रहस्य के बारे में बताना चाहता हूं। हर प्रकार के बाधाओं के बावजूद भी इस बात की संभावना बनी रहती है कि अधिकांश इच्छुक प्रेमी एक दूसरे से विवाह कर सकते हैं। आपके लिए एक अच्छी खबर है कि ज्योतिष में आपके प्रेम विवाह में आ रही समस्या का समाधान मौजूद है। वैदिक ज्योतिष/vedic astrology में हर तरह की समस्या का समाधान है। मैं वैदिक ज्योतिष का अभ्यास सन 2000 से कर रहा हूं और मैने इस दौरान बहुत सारे प्रेमी जोड़ों की सहायता की है।

ज्योतिष से प्रेम विवाह में आने वाले मुख्य कारणों को जानें।/ Main reasons stopping love marriages and love marriage by astrology.

ज्योतिष से प्रेम विवाह में आने वाले मुख्य कारणों को जानें।विवाह ज्योतिष/ marriage astrology के माध्यम से आपकी जन्म कुंडली स्पष्ट रूप से मानवीय कारणों और संबंधित ग्रहों को इंगित करती है, जिससे आपके प्रेम विवाह में अड़चन पैदा हो सकती हैं। नीचे कुछ कारण दिए गए हैं:

  • माता-पिता विवाह के विरुद्ध हो।

ज्योतिष से प्रेम विवाह में आने वाले मुख्य कारणों को जानें।/ Main reasons stopping love marriages and love marriage by astrology.

ज्योतिष से प्रेम विवाह में आने वाले मुख्य कारणों को जानें।विवाह ज्योतिष/ marriage astrology के माध्यम से आपकी जन्म कुंडली स्पष्ट रूप से मानवीय कारणों और संबंधित ग्रहों को इंगित करती है, जिससे आपके प्रेम विवाह में अड़चन पैदा हो सकती हैं। नीचे कुछ कारण दिए गए हैं:

  • माता-पिता विवाह के विरुद्ध हो।

  • हैसियत

  • जाती समस्या

  • फाइनेंस से संबंधित समस्या

  • समाज का डर

  • व्यभिचार

  • पहले से विवाहित होने के पश्चात दूसरा विवाह करना।

  • प्रेमी के साथ लगातार हो रही गलतफहमी

  • बोरियत

  • तर्क वितर्क

यदि ज्योतिष के अनुसार प्रेम विवाह/Love marriage by astrology होता है तो ऊपर दिए गए सभी समस्या का समाधान निकाला जा सकता है और उसके पश्चात ही विवाह की बात होती है। जन्म कुंडली/Birth chart ऐसे कारणों को इंगित करती है, जो आपके प्रेम विवाह को रोक सकता है। यदि आपकी कुंडली में माता-पिता की असहमती, आपके जीवन साथी की वित्तीय स्थिति और किसी व्यक्ति में बेवफाई जैसे संकेत दिखते हैं, तो आपको अपनी कुंडली में रिश्तों में अनुकूलता की जांच अवश्य करवा लेनी चाहिए।

जन्म तिथि से प्रेम विवाह की भविष्यवाणी | लव या अरेंज मैरिज / Love marriage prediction from date of birth | calculate love or arrange marriage

एक प्रेम विवाह विशेषज्ञ/ Love marriage specialist आपको आपकी कुंडली के पूर्ण आकलन से बता सकते हैं कि आपकी लव मैरिज होगी या अरेंज्ड मैरिज। इस प्रक्रिया को जन्मतिथि के आधार पर प्रेम विवाह की भविष्यवाणी कहते हैं/ love marriage prediction by date of birth। इस प्रक्रिया में कुंडली का एक दम सटीकता से आकलन होता है। कुंडली ग्रह और उनकी स्थिति एक बहुत अहम किरदार निभाती है। नीचे कुछ अहम ग्रय योग दिए गए हैं, जो प्रेम विवाह का संकेत देता है।

  • लग्न और लग्नेश प्रकृति और चरित्र को दर्शाता है। लग्नेश/Ascendant का पांचवें/Fifth House और सातवें भाव/Seventh House के साथ संबंध कुंडली में प्रेम विवाह के योग को दर्शाता है।

जन्म तिथि से प्रेम विवाह की भविष्यवाणी | लव या अरेंज मैरिज / Love marriage prediction from date of birth | calculate love or arrange marriage

एक प्रेम विवाह विशेषज्ञ/ Love marriage specialist आपको आपकी कुंडली के पूर्ण आकलन से बता सकते हैं कि आपकी लव मैरिज होगी या अरेंज्ड मैरिज। इस प्रक्रिया को जन्मतिथि के आधार पर प्रेम विवाह की भविष्यवाणी कहते हैं/ love marriage prediction by date of birth। इस प्रक्रिया में कुंडली का एक दम सटीकता से आकलन होता है। कुंडली ग्रह और उनकी स्थिति एक बहुत अहम किरदार निभाती है। नीचे कुछ अहम ग्रय योग दिए गए हैं, जो प्रेम विवाह का संकेत देता है।

  • लग्न और लग्नेश प्रकृति और चरित्र को दर्शाता है। लग्नेश/Ascendant का पांचवें/Fifth House और सातवें भाव/Seventh House के साथ संबंध कुंडली में प्रेम विवाह के योग को दर्शाता है।

  • पांचवें भाव/Fifth House को विवाह के लिए शुभ माना जाता है। यह भाव उस साथी के बारे में बता सकता है, जिससे आपका विवाह होने वाला है। यह दो लोगों द्वारा साझा की जाने वाले विचारों, भावनाओं, दोस्ती, प्रेम संबंधों और संतान का संकेतक है। शुक्र पंचम भाव/Fifth House में स्थित न हो तो यह प्रेम के शुद्ध और गुणी स्वभाव को दर्शाता है। प्रेम विवाह में पांचवें/Fifth House और सातवें भाव/Seventh House के बीच के संबंध को देखा जाता है।

  • सातवां भाव विवाह, जीवन साथी, और उनके प्रति यौन वासना के बारे में संकेत दे सकता है। पाप ग्रहों के प्रभाव में विवाह सुरुचिपूर्ण और सामाजिक मान्यताओं के अनुरूप नहीं होता है। लेकिन कुछ अच्छे और लाभकारी ग्रह होते हैं जो प्रेम विवाह को लंबे समय तक टिकाने में सहायक साबित हो सकते हैं। यदि ग्रह पीड़ित हो या उनके प्रतिकूल हो तो प्रेम विवाह में अड़चन आना तय माना जाता है।

  • शुक्र ग्रह यौन आकर्षण, यौन सुख, शयनकक्ष, सौंदर्य, जीने की इच्छा, प्रेम अनुभव, संस्कृति सभ्यताओं का आनंद लेने की इच्छा को दर्शाता है। शनि और राहु के प्रभाव में शुक्र विपरीत लिंगों के साथ संबंध बना देता है। इसके बावजूद भी अंत सुखद नहीं हो पाता है या फिर उनके संबंध में बहुत सारी कठिनाइयां आ सकती है। आप यह भी कह सकते हैं कि उन्हें प्रेम विवाह करने में समस्या आ सकती है।

  • नौंवा भाव/Ninth House व्यक्ति के धार्मिक पक्ष के अलावा पिता के साथ संबंध को भी दर्शाता है। इसलिए यदि नौंवा भाव/Ninth House, बृहस्पति या नवमेश पीडित हो तो व्यक्ति अपने पिता/समाज के प्रति अपने धार्मिक विश्वासों और कर्तव्य की उपेक्षा कर सकता है और अक्सर प्रेम संबंध स्थापित करने के लिए घर से भाग जाता है।

  • यदि लग्न या लग्नेश पांचवें या सातवें भाव या फिर उनके स्वामी के साथ संबंध में हो, तो कुंडली में प्रेम विवाह की संभावना बनी रहती है। इस मामले में, यदि चंद्रमा का लग्न या फिर सातवें भाव/Seventh House के साथ संबंध या पहलू हो, तो इस बात की संभावना और भी ज्यादा बढ़ जाएगी कि व्यक्ति प्रेम विवाह या लव मैरिज कर सकता है।

  • यदि राहु या केतु लग्न में हो और शुक्र और चंद्रमा के साथ संबंध में हो तो प्रेम विवाह की संभावना अधिक होती है। यदि राहु और केतु लग्न से, या सप्तम से या शुक्र से 1: 7, 2: 8 के अनुपात में हैं, तो विवाह अक्सर सामाजिक मान्यताओं से दूर होता है यानी प्रेम विवाह होता है।

  • यदि सप्तमेश और पंचमेश आपस में बदल जाए या फिर साथ आ जाएं या किसी भी प्रकार का संबंध रखें तो यह कुंडली में प्रेम विवाह/Love marriage in horoscope का संकेत देता है।

  • यदि सप्तम भाव में शनि, मंडी या मंगल की मजबूत स्थिति हो तो आप जिस व्यक्ति से विवाह करेंगे वह विदेशी भूमि से हो सकता है। इसका यह भी अर्थ हो सकता है कि आपका होने वाला जीवन साथी किसी विदेशी कंपनी में कार्य कर रहा होगा या रही होगी। यह योग प्रेम विवाह या प्रेम संबंध के बारे में संकेत दे सकता है।

  • यदि शुक्र दो पीड़ित ग्रहों के बीच में हो तो विवाह सामाजिक नियमों से दूर होगा। इस संयोजन को प्रेम विवाह का संयोजन भी कहा जाता है।

  • यदि अष्टमेश/Eighth House Lord सातवें भाव में कमजोर चंद्रमा के साथ हो, तो व्यक्ति या तो बिना किसी को बताए विवाह करेगा या फिर वह सभी लोगों के मर्जी के खिलाफ जा कर विवाह करेगा। यह कुंडली में प्रेम विवाह की संभावनाओं को मजबूत करता है।

  • यदि सूर्य राहु के साथ सप्तम भाव में हो तो विवाह सामाजिक मान्यताओं से परे होगा ।

  • यदि सूर्य शुक्र के साथ हो तो विवाह के समय अक्सर सामाजिक मान्यताओं का पालन नहीं होता है।

'एक सुखी वैवाहिक जीवन कैसे पाएं' पर मेरे लेख आउटलुक इंडिया में प्रकाशित है जिन्हें आप नीचे हमारे समाचार अनुभाग से पढ़ सकते हैं। आउटलुक ने मुझे प्रेम विवाह ज्योतिषी/Love marriage astrologer के रूप में बताया है।

प्रेम विवाह के नुकसान/ Disadvantages of love marriage

यदि विवाह समाज के मान्यताओं के खिलाफ होता है तो प्रेम विवाह के कुछ नुकसान भी देखने को मिल जाएंगे। आईए समझते हैं कि प्रेम विवाह के क्या नुकसान हैं या हो सकते हैं। लेकिन इसे पढ़ने से पहले यह समझ लें कि प्रेम विवाह की किसी भी समस्या को ज्योतिष से हल किया जा सकता है।

1. परिवार की अस्वीकृति

प्रेम विवाह के नुकसान/ Disadvantages of love marriage

यदि विवाह समाज के मान्यताओं के खिलाफ होता है तो प्रेम विवाह के कुछ नुकसान भी देखने को मिल जाएंगे। आईए समझते हैं कि प्रेम विवाह के क्या नुकसान हैं या हो सकते हैं। लेकिन इसे पढ़ने से पहले यह समझ लें कि प्रेम विवाह की किसी भी समस्या को ज्योतिष से हल किया जा सकता है।

1. परिवार की अस्वीकृति

इस स्थिति का उन लोगों का सामना बहुत ज्यादा होता है जो प्रेम विवाह करते हैं या फिर अंतर्जातीय विवाह करते हैं। जो भी लोग इस प्रकार विवाह करते हैं और समाज के नियमों का पालन नहीं करते हैं तो उन्हें पापी समझा जाता है और उनके परिवार द्वारा उन्हें अस्वीकार नहीं किया जाता। यदि आप सही समय पर किसी से परामर्श ले लें, तो आप इस समस्या से बच सकते हैं।

2. ऐसे जोड़े को समाज के द्वारा अनदेखा किया जाता है

परिवार के साथ साथ समाज के सभी लोग भी ऐसे प्रेम विवाह वाले कपल से अपना नाता तोड़ लेते हैं। ऐसी स्थिति को बताने वाले भी योग आपकी कुंडली में होते हैं और इनका समाधान निकालना बेहद अनिवार्य होता है। इस स्थिति में ज्योतिष में प्रेम विवाह आपके लिए लाभदायक साबित हो सकता है।

3. जीवन साथी के जीवन शैली में अंतर जिसका समाधान संभव नहीं

जीवन साथियों के बीच अलग जीवनशैली और संस्कृति को लेकर मनमुटाव बना रह सकता है। कभी कभी दोनों साथी अलग अलग जाति से संबंध रखते हैं। एक साथी अपरिवर्तनवादी और दूसरा साथी खुले विचार का भी हो सकता है। दोनों की खाना पान की आदतें भी अलग हो सकती है जैसे – एक शाकाहारी हो और दूसरे को मांस का सेवन पसंद हो। ऐसा भी कई बार देखा गया है कि दोनों साथी अलग अलग त्यौहार मनाते हैं। यह सभी दोनों के बीच मनमुटाव का कारण हो सकता है या फिर इन कारणों की वजह से दोनों के जीवन में प्रेम में कमी आ सकती है। इन सभी समस्याओं को ज्योतिष के जरिए खत्म किया जा सकता है।

4. परिवार के लोगों का वैवाहिक जीवन में लगातार हस्तक्षेप

बहुत सारे मामले हैं जहां पर दोनों के ही परिवार ने अंतरजातीय विवाह के लिए तैयार हो जाते हैं। लेकिन उन्ही में से कुछ मामलों में ऐसे भी देखे गए हैं जहां परिवार के लोगों का उन्हीं के वैवाहिक जीवन में लगातार हस्तक्षेप होता रहता है। वह कई बार विवाहित जोड़ों पर परिवार और जाति के मानदंडों को थोपने का प्रयास कर सकते और ऐसे कई मामले सामने आए भी हैं। इस स्थिति में कपल को अपने रिश्ते को बनाए रखने में बहुत सारी समस्या का सामना करना पड़ सकता है। यदि आप भी इस समस्या से पीड़ित हैं तो आप ज्योतिष का सहारा ले सकते हैं।

5. श्रेष्ठता की भावना का होना संबंध को खराब कर सकती है।

अंतर्जातीय विवाह में प्रेम जीवन सफल हो सकता है, लेकिन प्रेम समस्याएं गलत मोड़ ले सकती हैं। कई बार ऐसा देखा गया है कि दोनों साथियों के परिवार वाले उन्हें समझाते हैं कि उसकी जाति दूसरों से श्रेष्ठ है। यह दोनों साथियों के रिश्ते में दरार ड़ाल सकता है। यह उन कुछ समस्याओं में से एक हैं, जिनका समाधान ज्योतिष से ही हो सकता है।

6. युगल द्वारा वित्तीय समस्या का सामना करना पड़े

जब भी प्रेम विवाह होता है तो कपल को अपने फाइनेंस की जिम्मेदारी खुद ही संभालनी पड़ती है। ऐसा कई बार देखा गया है कि उन्हें अपने परिवार द्वारा कोई वित्तिय सहायता नहीं मिलती है और कभी कभी उनके मित्र भी साथ नहीं देते हैं। वह आम तौर पर एक नियमित विवाह के दौरान प्राप्त होने वाले महत्वपूर्ण हिस्से को भी याद करते हैं।

7. लगातार तानों को सुनना

ऐसा कई बार देखा गया है कि प्रेम विवाह के बाद दोनों साथी बहुत ताने सुनते हैं। कई बार देखा गया है कि विवाह के स्वीकार करने के बावजूद, रिश्तेदार और दोस्त कपल्स का लगातार अपमानित कर सकते हैं। प्रेम विवाह में समस्या तब उत्पन्न होती है जब पत्नी को हमेशा ससुराल वाले उसे या फिर कपड़े पहनने के ढंग को लेकर आलोचना करते हैं या उसे ताने सुनाते हैं।

8. संतान के मामलों में अंतर

बच्चों की परवरिश को लेकर कपल्स के बीच मतभेद रह सकता है। लव लाइफ में समस्याएं तब उत्पन्न होती हैं जब बच्चे के निर्णय में दंपति एक-दूसरे से असहमत होने लगते हैं। उदाहरण के लिए, बच्चों को किस धर्म या जाति का पालन करना सिखाएं। इस संबंध में मतभेद होना बहुत स्वाभाविक है।

प्रेम विवाह के नुकसान से हालांकि प्रभावी ढंग से निपटा जा सकता है। उपरोक्त सभी बिंदुओं को विवाह के बाद परामर्श/Post-marriage counseling के एक सत्र से निपटा जा सकता है। यह सत्र आपके वैवाहिक जीवन को सपनों सा सुंदर बनाने में अत्यंत लाभकारी साबित हो सकता है।

प्रेम विवाह के फायदे/ Benefits of love marriage

प्रेम विवाह का एक सबसे उत्तम लाभ यह होता है कि आपको समझने वाला साथी मिल जाता है और आपको भी उनका स्वभाव, व्यवहार, और जीवन के बारे उनके समग्र दृष्टिकोण का पता चल सकता है। जब आप किसी अनजान से विवाह करते हैं तो आपको अपने साथी के बारे में जानने में समय लग सकता है।

आइये देखते है विनय बजरंगी जी क्या कहते है आपके लव मैरिज के विषय में ।  

प्रेम विवाह के फायदे/ Benefits of love marriage

प्रेम विवाह का एक सबसे उत्तम लाभ यह होता है कि आपको समझने वाला साथी मिल जाता है और आपको भी उनका स्वभाव, व्यवहार, और जीवन के बारे उनके समग्र दृष्टिकोण का पता चल सकता है। जब आप किसी अनजान से विवाह करते हैं तो आपको अपने साथी के बारे में जानने में समय लग सकता है।

आइये देखते है विनय बजरंगी जी क्या कहते है आपके लव मैरिज के विषय में ।  

देखें कि आपके साथी के साथ आपका प्रेम जीवन कैसा रहेगा - राशियों की अनुकूलता, विवाह अनुकूलता कारक।

आप यह भी पढ़ सकते हैं कि ज्योतिष में विवाह के पश्चात परामर्श / Post marriage counseling in astrology किस तरह आपकी मदद करता है?

विशिष्ट मार्गदर्शन के लिए, आप नीचे दिए गए तरीकों से हमसे संपर्क कर सकते हैं:

पूछे जाने वाले प्रश्न

प्रेम विवाह के लिए देखे जाने वाले भाव सातवें, पाँचवें,आठवें  और ग्यारहवें भाव हैं। प्रेम विवाह के लिए देखा जाने वाला सर्वाधिक महत्वपूर्ण भाव सातवाँ भाव है। पंचम भाव और उसके स्वामी को व्यक्ति के जीवन में रोमांस के लिए देखा जाता है। आठवां भाव शारीरिक अंतरंगता और यौन इच्छा के लिए देखा जाता है। अंत में, ग्यारहवां भाव इच्छाओं, लाभ और सफलता के लिए देखा जाता है। तो प्रेम विवाह के लिए केवल कोइ एक भाव नहीं देखा जाता । यदि आप भावों के विषय में अधिक जानना चाहते हैं, तो आप वेबसाइट पर मौजूद ज्योतिष में बारह भाव पृष्ठ पर जा सकते हैं।

"क्या मेरा प्रेम विवाह सफल होगा" इस अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न का उत्तर है, इसके लिए आपका सप्तम भाव, लग्न और पंचम भाव एक साथ बेहतर स्थिति में होना चाहिए। इसके साथ ही नवांश कुण्डली की शुभता एक सफल प्रेम विवाह की संभावनाओं को भी प्रबलता प्रदान करती है। इस तरह आपका वैवाहिक जीवन सुखी होगा। आइए विस्तार से जानते हैं कि आपकी कुंडली में आपके सप्तम भाव की क्या स्थिति है।इस सम्बन्ध में बहुत से लोग आश्चर्य करते हैं।

प्रेम में सफलता के लिए आपकी कुंडली में कुछ बहुत ही शुभ योग छिपे होते हैं। आपकी कुंडली में यदि पंचम भाव और उसका स्वामी शुभ स्थिति में हों और उन पर  कोई अशुभ प्रभाव न हो, तभी आपको प्रेम में सफलता मिलेगी। तो आइए जानें, आपकी कुंडली के आधार पर आप प्रेम में सफलता कैसे प्राप्त कर सकते हैं। "क्या मेरा प्यार सफल होगा" यह नए प्रेमी जोड़ों द्वारा अक्सर पूछा जाने वाला प्रश्न है।

 विवाह दो व्यक्तियों का ही नहीं, बल्कि दो परिवारों का भी मिलन होता है। विवाह मूल रूप से अनुकूलता पर आधारित हैऔर यदि दो व्यक्तियों के मध्य अनुकूलता बेहतर है, तो इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि वह लव मैरिज कर रहे हैं अथवा अरेंज्ड। वह एक अच्छा और सामंजस्यपूर्ण संयोग  होगा। इसलिए, महत्वपूर्ण यह है कि दोनों व्यक्तियों के मध्य अच्छी समझ-बूझ और विवाह के सम्बन्ध  का सम्मान होना चाहिए। 

लोग अक्सर पूछते हैं, "क्या मेरी लव मैरिज होगी या अरेंज?" कुंडली का सप्तम भाव और पंचम भाव यह समझने के लिए महत्वपूर्ण होते हैं कि आपका प्रेम विवाह होगा या सुसंगत विवाह। अगर आपकी कुंडली में पंचम और सप्तम की राशि शुभ है तो आप प्रेम विवाह कर सकते हैं ? और यदि पंचम, सप्तम, लग्न की युति नहीं हो रही है तो ऐसे में अरेंज मैरिज का योग आपके लिए अधिक शुभ होता है।