विवाह ज्योतिष है सभी वैवाहिक समस्या का समाधान | Marriage Astrology



पूछे जाने वाले प्रश्न

ज्योतिष में कोइ भी अकेला भाव नहीं है जो विवाह के लिए देखा जाता हो बल्कि कई भवाव होते हैं, जिनके माध्यम से ऐसा किया जाता है । कुंडली का सातवां भाव विवाह के लिए सबसे महत्वपूर्ण भाव होता है। लेकिन प्रथम भाव जो सप्तम भाव के विपरीत है, देखा जाता है। फिर, हम चतुर्थ भाव और उसके स्वामी की जांच करते हैं। इसके अतिरिक्त ससुराल पक्ष के संबंध जानने के लिए विवाह हेतु अष्टम भाव देखा जाता है। अंत में नवम भाव को विवाह की गुणवत्ता की जानकारी देता है। इसलिए, ज्योतिषय भावों का एक सम्पूर्ण संयोजन विवाह हेतु  देखा जाता है न कि केवल एक भाव।

इस विषय पर कि भारत में विवाह भविष्यवाणियों के लिए सबसे अच्छा ज्योतिषी कौन है टिप्पणी करना ठीक नहीं होगा। यह जानना बेहतर है कि विवाह की भविष्यवाणियों के लिए सबसे अच्छा ज्योतिषी कौन हो सकता है। यह जानने के लिए, किसी ज्योतिषी  की शिक्षा, व्यावहारिक अनुभव और उस ज्योतिषी के विषय में लोगों के मतों की जांच करनी चाहिए। विवाह भविष्यवाणी के लिए सबसे बेहतर ज्योतिषी वह है जो सबसे बेहतर विवाह योग की भविष्यवाणी कर सकता है, कुंडली के अनुसार विवाह तिथि, आपका भावी जीवन साथी कैसा होगा और आपका वैवाहिक जीवन कैसा होगा, इन सभी बातों से आपको अवगत कराये । यदि किसी ज्योतिषी में यह समस्त गुण हैं, तो यदि सर्वश्रेष्ठ नहीं तो निश्चित रूप से एक बेहतर विवाह ज्योतिषी है|

वैसे तो विवाह का कोइ निश्चित सही समय नहीं है। एक व्यक्ति के लिए विवाह का सही समय उस समय होता है जब उसको लगता है कि वह इसके लिए पूरी तरह तैयार है। विवाह के उचित समय का अनुमान व्यक्ति की कुंडली से लगाया जा सकता है। किसी भी कुंडली में विवाह के तीन योग होते हैं और इनमें से किसी में भी एक व्यक्ति का विवाह हो सकता है। सप्तम भाव कुंडली में विवाह भाव होता है और यह ज्ञात करने के लिए देखा जाता है कि आपका विवाह किस उम्र में होगा और इतना ही नहीं विवाह का सही समय पता करने में मांगलिक दोष भी एक महत्वपूर्ण कारक हो सकता है। इन सभी बातों का पता कोई योग्य ज्योतिषी आपकी कुंडली का आंकलन कर लगा सकता है।

अधिकतर लोग यह जानने के लिए उत्सुक रहते हैं कि नाम से विवाह भविष्यवाणी संभव है अथवा नहीं। मैं कहूंगा कि इस प्रकार की भविष्यवाणी संभव है, परन्तु यह किसी व्यक्ति के  जन्म नक्षत्र के अनुसार उसके नाम पर निर्भर करता है। यदि आपके जन्म के समय आपके नक्षत्र के अनुसार ही आपका नाम रखा गया था, और यह नाम बाद में परिवर्तित नहीं किया गया है और आप इस नाम से जाने जाते हैं, तो यह नाम आपकी  विवाह भविष्यवाणी या कुंडली मिलान में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। इसके विपरीत यदि किसी व्यक्ति का नाम जन्म नक्षत्र के अनुसार दिया गया नहीं  है, तो लोगों को जन्म तिथि से विवाह की भविष्यवाणी करानी चाहिए। इसलिए, ज्योतिष में जन्म तिथि के अनुसार विवाह की भविष्यवाणियां और नाम से विवाह की भविष्यवाणियों का महत्व  समान हैं; बशर्ते इनकी सारी शर्तें पूरी हों।

आपकी कुंडली आपके विवाह के विषय सब कुछ बताती है लेकिन एक अनुभवी ज्योतिषी से परामर्श करना चाहिए जो जन्म तिथि पर आधारित विवाह कुंडली का अध्यन कर सके। सर्वप्रथम , जन्म तिथि से विवाह कुंडली अध्यन हेतु जन्म का सटीक विवरण अनिवार्य है। जन्म तिथि के आधार पर विवाह कुंडली अध्यन का अर्थ है कि ज्योतिषी को यह पता होना चाहिए कि विवाह के लिए कौन से भाव देखे जाते हैं। ऐसा कोइ एक भाव नहीं बल्कि कई भाव होते हैं जो विवाह हेतु देखे जाते हैं। ज्योतिषी को यह ज्ञात होना चाहिए कि मुख्य तौर पर मंगल, शुक्र और बृहस्पति जन्म तिथि से विवाह कुंडली के अध्यन के लिए देखे जाते हैं। इसका अर्थ यह भी है कि ज्योतिषी को इस बात से अवगत होना चाहिए कि जन्म तिथि के अनुसार विवाह कुंडली मिलान के लिए दोनों व्यक्तियों की अनुकूलता का मिलान किस प्रकार  किया जाए। इसका मतलब यह भी है कि किसी  ज्योतिषी को पता होना चाहिए कि दोनों व्यक्तियों के सप्तम, दशम और एकादश भाव के संबंध की जांच कैसे करें क्योंकि जन्म तिथि से कुंडली का अध्यन में सप्तम भाव का करियर के दशम भाव और भाग्य के एकादश भाव से एक मजबूत संबंध है।