क्या सबसे अच्छा ज्योतिषी एक अच्छा ज्योतिषी भी है?

प्रारम्भ में मैं इस बात पर बल देना चाहूँगा की सबसे प्राचीन और प्रामाणिक विज्ञान होने के बावजूद ज्योतिष अगर आज अपनी चमक खोते जा रहा है, तो इसके दो प्रमुख कारण हैं।

इसके लिए दोष ज्योतिष का नहीं अपितु, ज्योतिष का अभ्यास करने वाले लोगों का है।

दूसरा कारण, सही ज्योतिषी को चुनने में आपकी अपनी समझदारी का है। हाँ, मेरा वास्तव में यही तात्पर्य है।

मैं खुद एक ज्योतिषी हूं, इसलिए ज्योतिष के विशेष शब्दों या वाक्यांशों का उपयोग करने के बजाय मैं आपको इसे साधारण भाषा में समझा सकता हूं। क्योंकि एक बार जब आप एक योग्य ज्योतिषी को आंकना जानते हैं, तो आपको चिंतित होने की आवश्यकता नहीं है क्योंकि तब एक योग्य ज्योतिषी खुद ही ज्योतिष के तथ्यों का ध्यान रखेगा।

एक अच्छा ज्योतिषी कौन हो सकता है?/ Who can be a good astrologer?

आइए वैदिक ज्योतिष भविष्यवाणी की विधि के विषय में कुछ आवश्यक बातें समझते हैं । जो ज्योतिष के इन बुनियादी सिद्धांतों का पालन करता है वही ज्योतिषी एक योग्य ज्योतिषी हो सकता है।

  • ज्योतिषी को यह ज्ञात होना चाहिए कि वर्तमान राशिफल को आपके पिछले जन्म से किस प्रकार से जोड़ा जाए। हम सभी इस बात से अवगत हैं कि जन्म कुंडली आपके पिछले जन्मों के कर्मों को दर्शाती है। एक ज्योतिषी जो इस बात को नहीं जानता कि इन दोनों को कैसे जोड़ा जाए , वह कदापि एक योग्य ज्योतिषी नहीं हो सकता।

  • ज्योतिषी को ज्ञात होना चाहिए कि किसी भी विश्लेषण या भविष्यवाणी करने से पूर्व आपके सटीक जन्म समय को किस प्रकार जांचा जाए। मैं यहां स्पष्ट कर दूं कि जन्म विवरण में क्षण की भी त्रुटि संपूर्ण विश्लेषण और भविष्यवाणियां गलत करा सकती है। इसलिए एक योग्य ज्योतिषी में आपके सटीक जन्म विवरण को परखने करने की क्षमता होनी चाहिए। ज्योतिषी वास्तव में कोई विश्लेषण और भविष्यवाणी करने से पूर्व आपको अपने बारे में कम से कम एक गूढ़ बात बताकर ऐसा किया जाना चाहिए। ज्योतिष में सटीक जन्म समय का महत्व नीचे दिए गए लिंक पर पढ़ें।

  • एक ज्योतिषी के पास गणित की पृष्ठभूमि और कुछ आवश्यक योग्यताएं होनी चाहिए। मेरा तात्पर्य है कि व्यक्ति को पूर्ण रूप से ज्योतिषी होना चाहिए। एक योग्य ज्योतिषी में इरादा, अंतर्ज्ञान, व्यावहारिक अनुभव और कुछ आवश्यक योग्यताओं का संयोजन होता है। आम तौर पर व्यावहारिक अनुभव को महत्व दिया जाता है , और निश्चित रूप से यह इसमें सहायता भी करता है, लेकिन आज के समय में, गणितीय गणना में सटीकता इसमें एक अहम किरदार निभाती है।

  • एक योग्य ज्योतिषी को आपको केवल कुंडली में नकारात्मकता से नहीं भयभीत नहीं करना चाहिए। मैं यहां स्पष्ट कर दूं कि प्रत्येक कुंडली में नकारात्मक और सकारात्मक दोनों तरह के योग होते है। लेकिन कोई भी परिणाम स्वयं नकारात्मक या सकारात्मक प्रभाव नहीं देता। एक अच्छे ज्योतिषी को आपको यह बताना चाहिए कि नकारात्मक ग्रहों और योगों को कैसे शांत तथा निष्क्रिय रखा जाए। और सकारात्मक योगों द्वारा किस प्रकार पूर्ण फल प्राप्त करें। जब नकारात्मक ग्रह आप पर प्रभाव डाल रहें हो या सकारात्मक योगों की अवधि बीत गयी हो तो कर्म सुधार पर अधिक ध्यान देना बेहतर है। नीचे दिए गए लिंक पर पढ़ें कि कैसे नकारात्मक ग्रह भी अनुकूल परिणाम दे सकते हैं 

  • यहाँ ग्रहों के गोचर की भूमिका आती है। मैं आपको बता दूं, नकारात्मक ग्रहों से भी; अच्छे गोचर और दशाओं में अनुकूल परिणाम प्राप्त हो सकते हैं। कोई भी ज्योतिषी जो केवल कुंडली में निहित ग्रहों के संयोजन के विषय में बात कर, इस बात की उपेक्षा करते हैं कि परिणामों को बेहतर बनाने हेतु गोचर का उपयोग किस प्रकार किया जाए, वह एक अच्छा ज्योतिषी नहीं हो सकता।

  • एक योग्य ज्योतिषी को किसी भी गहन विश्लेषण हेतु केवल लग्न कुंडली  पर ध्यान केंद्रित नहीं करना चाहिए। कुछ ज्योतिषी समाधान देने में जल्दबाजी करते हैं। इसका अर्थ है कुंडली के  संबंधित भागों का गहन अध्यन करने की बजाय केवल लग्न कुंडली को पढ़कर ज्योतिषीय समाधान देना। आइए हम जानते हैं कि जीवन के प्रत्येक पहलू हेतु विशिष्ट संभागीय कुंडली हैं। आम आदमी की भाषा में – लग्न कुंडली एक किताब के सूचकांक की तरह है, और मंडल कुंडली, इसका वास्तविक और विस्तृत विवरण हैं।

एक अच्छा ज्योतिषी किस प्रकार खोजा जा सकता है?/ How can one find a good astrologer?

  • काफी हद तक यह आपकी बुद्धि और कौशल पर निर्भर है कि   एक योग्य ज्योतिषी की खोज किस प्रकार की जाए।
  • वेबसाइटों और प्रचार अभियानों के अतिरिक्त , एक अच्छे ज्योतिषी को खोजने हेतु निम्नलिखित बातों पर ध्यान देना चाहिए। "सबसे योग्य ज्योतिषी कौन है" पर न जाएं, बल्कि विशिष्ट मापदंडों के आधार पर "एक अच्छा ज्योतिषी कौन हो सकता है" का आकलन करें। एक योग्य ज्योतिषी खोजने हेतु यह मानदंड क्या हैं? मैं नीचे समझा रहा हूँ:

  • एक योग्य ज्योतिषी भारत, मुंबई, दिल्ली और अन्य क्षेत्रों के सर्वश्रेष्ठ ज्योतिषी की तरह क्षेत्र-विशिष्ट नहीं हो सकता। एक अच्छा ज्योतिषी योग्य होगा और सबसे अच्छा ज्योतिषी किसी भी भौगोलिक सीमा से परे सबसे बेहतर होगा।

  • कनिष्ठों और आचार्यों को कार्य सौंपने के बजाय एक योग्य ज्योतिषी द्वारा स्वयं ही कुंडलियों की जांच की जानी चाहिए।

  • हर व्यक्ति को यह जांचना चाहिए कि क्या एक ज्योतिषी के पास आवश्यक योग्यता है और फलित ज्योतिष में पूरी अंतर्दृष्टि है। यदि आवश्यक हो, तो इसे प्रमाणित करने हेतु दस्तावेज़ परीक्षण में भी संकोच नहीं करना चाहिए।

  • एक योग्य ज्योतिषी के पास उचित व्यावहारिक अनुभव होना चाहिए।

  • एक ज्योतिषी के विषय में जानने हेतु उनकी अपनी वेबसाइटों और चैनलों के अतिरिक्त तीसरे पक्ष के संदर्भों की जाँच करें।

  • इस बात को अच्छी प्रकार जांच लें की लोगों का उस ज्योतिषी के विषय में क्या मत हैं।

  • एक आम आदमी इसको नहीं जांच सकता, किन्तु एक योग्य  ज्योतिषी हेतु आवश्यक यह है कि उसका दूसरा भाव या दूसरे भाव के स्वामी के साथ बृहस्पति का अच्छा संबंध होना चाहिए।

  • यह सभी तथ्य किसी भी व्यक्ति को एक योग्य ज्योतिषी खोजने में सहायता करेंगे।

ज्योतिष में सही भविष्यवाणी कैसे करें?/ How to make correct predictions in astrology?

  • मैं बुनियादी भारतीय ज्योतिष में विश्वास करता हूं, जो कहता है कि किसी भी कुंडली में ग्रहों की स्थिति व्यक्ति के पिछले जन्म के कर्मों (द्रिध कर्मों) का परिणाम है; इसलिए, मेरा विश्लेषण और सलाह इस पर बल देती है। ये दृढ कर्म स्थिर हैं क्योंकि आपका भूत और भविष्य आपके हाथ में नहीं है, तो ज्योतिष किस प्रकार कर सकता है? यहीं पर मेरी कार्यप्रणाली और विशेषज्ञता कई अन्य सर्वश्रेष्ठ ज्योतिषियों से अलग है।
  • ज्योतिष को पिछले कर्मों (अच्छे या बुरे) से सीख लेने पर ध्यान केन्द्रित करना चाहिए, हमारे वर्तमान कर्मों (अद्रिध कर्मों) में आवश्यक सुधार करना चाहिए। हां, निश्चितता के साथ यह ज्योतिषीय उपायों से भरी अनिश्चित ज्योतिषीय भविष्यवाणियों पर निर्भर होने के बजाय निश्चितता के साथ भविष्य का मार्ग तय करेगा। यहीं पर भारतीय वैदिक ज्योतिष पश्चिमी ज्योतिष से भिन्न है, जो केवल वर्तमान और भविष्य का आकलन करता है। ज्योतिष के बारे में मेरी धारणा कर्म-काण्ड के तरीके से नहीं बल्कि कर्म के तरीके से निपटने की है।

जन्म समय की सटीकता/ Birth time accuracy

मैं वैदिक ज्योतिष के मूल नियम, सटीक जन्म समय से प्रारम्भ करता हूं । कई लोग अपने जन्म के समय और तिथि के साथ आते हैं। लेकिन मुझे लगता है कि उनमें से एक बड़े प्रतिशत के जन्म के समय में कुछ क्षणों का अंतर है। परामर्श के दौरान, मेरा ध्यान सर्वप्रथम यह सुनिश्चित करना है कि जन्म का विवरण शत प्रतिशत सटीक हो। क्योंकि यह न केवल जातक के साथ बेईमानी है बल्कि मेरी भविष्यवाणियों को मिथ्या करता है, और मुझे एक बुरा संदर्भ प्राप्त होता है

किसी भी ज्योतिषी को जन्म कुंडली बनाने और सटीक ज्योतिषीय भविष्यवाणियां और मार्गदर्शन हेतु जन्म समय की सटीकता आवश्यक है। केवल लग्न कुंडली से आकलन हेतु, कभी-कभी दो  घंटे की त्रुटि भी मायने नहीं रखती है, लेकिन कई कुंडलियों हेतु, उदाहरण हेतु- डी - 60 कुंडली जहां हर मिनट लग्न परिवर्तित होता है, जन्म समय सटीकता हेतु शत- प्रतिशत सुनिश्चित होना अनिवार्य है।

किसी भी भ्रम की स्थिति में, या यहां तक ​​कि जिन व्यक्तियों  के पास अपना सही जन्म समय नहीं होता है, उनमें से कई लोगों  को जन्म की तारीख और वर्ष भी नहीं पता होता है; यहां, यह बेहतर है कि जब तक आपका सही जन्म विवरण उससे ना मिल जाए, तब तक ज्योतिष संबंधी भविष्यवाणियां न करें।

जो लोग अपने जन्म के समय के विषय में निश्चित हैं लेकिन अभी भी मुख्य रूप से करियर और व्यवसाय में समस्याओं का सामना कर रहे हैं, उनका जन्म समय में गलत हो सकता है, इसलिए उन्हें अपने जन्म के समय में सुधार करने पर विचार करना चाहिए। आप नीचे दिए गए लिंक पर जन्म समय सुधार कैसे किया जाता है, इस विषय में अधिक पढ़ सकते हैं।

कर्म सुधार हेतु जन्म कुंडली का पूर्व विश्लेषण/ Pre-analysis of birth chart for Karma Correction

मेरा दृढ़ विश्वास है कि नियति पूर्व-निर्धारित है, जिसे सृष्टिकर्ता (ब्रह्मा) भी परिवर्तित नहीं कर सकता। इसलिए मैं परामर्श से पहले जन्म विवरण जानना पसंद करता हूं ताकि प्रासंगिक डी चार्ट में गहराई से अध्यन किया जा सकें और मूल के दीर्घ कर्मों की स्पष्ट धारणा एकत्र कर सकें और इसे अद्रिध कर्म (इस जीवन के) और इन विश्लेषणों को (कर्म सुधार कहा जाता है) के माध्यम से संतुलित करने का प्रयास करें। ) कर्म सुधार एक आवश्यक उपकरण है, जहां मैं आपके बृहस्पति को संतुलित करने का प्रयास करता हूं, जो यदि नीच अवस्था में है, तो आपको निराशाजनक आशाएं, अवास्तविक इच्छाएं, आशावाद आदि दे सकता है। इसे उच्च स्तर पर संचालित करने हेतु,मैं आपको इसमें संतुलन बनाने हेतु मार्गदर्शन देने का प्रयास करता हूं। 

पिछले जीवन का आकलन/ Past life readings 

जैसा कि ऊपर बताया गया है कि सटीक जन्म विवरण के साथ कुंडली के पूर्व-विश्लेषण से मुझे हर व्यक्ति की ग्रह स्थिति और पिछले जन्म के  कर्मों के सह-संबंध को निर्धारित करने में सहायता मिलती है, । तो एक प्रकार से, सभी परामर्शों में, मैं एक व्यक्ति के पिछले जन्म का स्वतः ही उल्लेख करता हूं। बहुत कम ज्योतिषी ऐसा करते हैं, लेकिन मैं इसके बगैर आगे नहीं बढ़ता। कई लोग पिछले जन्म का आकलन करने हेतु भी जाते हैं। पिछले जन्म का अध्यन करने की अवधारणा पश्चिमी देशों के मेरे ग्राहकों में अधिक लोकप्रिय है।

मानवीय समस्याओं पर मेरी ज्योतिषीय विशेषज्ञता को मेरी वेबसाइट के विभिन्न खंडों में विवरण किया गया है।

जन्म कुंडली के साथ क्षमता की भी जाँच करें। विरासत हेतु विषय चयन का निर्णय क्यों लेना चाहिए, क्योंकि माता-पिता कर रहे हैं, चल रहे रुझान, पारिवारिक दबाव, सामाजिक स्थिति और अस्थायी प्रलोभन? इस विषय पर अधिक जानने हेतु ज्योतिष का उपयोग कर विषयों के चयन पर क्लिक करें।

सभी लोग  कर्मचारी नहीं हो सकते, और सभी व्यवसाय नहीं कर सकते। मैं करियर के चयन पर कोई सुझाव देने से पहले कर्मचारी या नियोक्ता योग का आकलन करता हूं। जो व्यक्ति एक कर्मचारी की तरह उत्कृष्टता प्राप्त कर सकता है लेकिन एक नियोक्ता के रूप में और एक व्यवसाय में असफल हो जाता है। करियर हेतु  सलाह पर मेरी विशेषज्ञता हेतु करियर चयन ज्योतिष पर क्लिक करें।

मैं आपको यह बता सकता हूं कि आपका जीवन साथी कैसा होगा, वह किस दिशा, पृष्ठभूमि से होगा ? यह एक आदर्श जीवन साथी की तलाश को ख़त्म या कम करने में आपकी सहायता करता है। जीवन साथी की तलाश हेतु यह जानने हेतु कि मैं लोगों को एक उपयुक्त जीवन साथी खोजने की सलाह किस प्रकार देता हूं ज्योतिष पर क्लिक करें ।

आप आमतौर पर विवाह में देरी हेतु ग्रहों के संयोजन को जानते हैं। परन्तु मैं विवाह में विलम्ब करने के मानवीय कारणों पर भी ध्यान देता हूं। जी हां, आपके करीबी लोग भी कभी-कभी आपके विवाह में विलम्ब का कारण बन जाते हैं। विवाह में देरी के ऐसे सभी कारण जानने हेतु ज्योतिष पर क्लिक करें।

मैं केवल गुण मिलन पर विश्वास की तुलना में विवाह में समग्र अनुकूलता कारकों का आकलन करता हूं। लोग कहते हैं कि अठारह गुणों का मिलना विवाह हेतु उपयुक्त है, लेकिन मैं कहता हूं कि अठारह से कम गुण मिलना शादी न करने का कोई मानदंड नहीं है, और बत्तीस या चोंतीस गुण मिलना एक सफल विवाह की कोई निश्चितता नहीं है। विवाह अनुकूलता कारकों का महत्व समय के साथ पुरुष प्रधान समुदाय की तुलना में समाज में महिलाओं की स्थिति के उत्थान के कारण बढ़ गया है। यह खास तौर पर भारत जैसे देश में बेहतर है। विवाह हेतु मिलान कुंडली पर मेरी विशेषज्ञता जानने हेतु विवाह के लिए सही कुंडली मिलान क्या है पर क्लिक करें।

मैं आपको बता दूं, पचास प्रतिशत  से अधिक लोग जो यह सोचकर मेरे पास आते हैं कि वह मांगलिक हैं, या नहीं। ऐसा इसलिए है क्योंकि किसी कुंडली में मांगलिक दोष की जांच करना मांगलिक दोष की जांच के पारंपरिक तरीके से सर्वथा भिन्न और विस्तृत है।

एक व्यवसाय सभी लोगों हेतु अच्छा नहीं हो सकता। अन्यथा एक विशेष नवीन व्यवसाय में, नए स्टार्टअप ऊंचाइयों पर पहुंचेंगे, और कई जमे- जमे व्यवसाय बंद हो सकते हैं। सभी लोग अपने पैत्रिक  व्यवसाय को आगे नहीं बढ़ा सकते हैं; अन्यथा, पहले के युग के कई व्यापारिक घराने आज के कारोबारी परिदृश्य से यूं अदृशय  नहीं होते। व्यवसाय में सफलता हेतु सलाह देने में मेरी विशेषज्ञता जानने हेतु व्यवसाय में सफलता के लिए ज्योतिष पर क्लिक करें।

कोर्ट-कचहरी के मुकदमों में मेरा ध्यान इस बात का मूल्यांकन करने पर होता है कि क्या अदालती केस लड़ने की भी सलाह दी जाती है या निपटारा बेहतर है। मैं अदालती मुकदमों को जीतने हेतु कर्मकांडों की पैरवी नहीं करता बल्कि अदालती मामलों और कानूनी समस्याओं से लड़ने हेतु कर्म सुधार और परिश्रम पर ध्यान केंद्रित करता हूं। कानूनी मामलों पर सलाह देने पर मेरी विशेषज्ञता जानने हेतु अदालती कार्यवाही ज्योतिष पर क्लिक करें।

उसी प्रकार, मैं लोगों को शराब पीने की आदत  पर काबू पाने हेतु अनुष्ठान करने की तुलना में लक्षणों के प्रारंभिक चरण में शराब से बचने के तरीके बताता हूं। मद्यपान एक लत है, इसलिए शराबबंदी के ज्योतिषीय कारणों का निदान करना, उन कारणों से छुटकारा पाना, अनुष्ठान करने से कहीं बेहतर है।

उसी तरह सभी ज्योतिषीय भविष्यवाणियों पर मेरी विशेषज्ञता आपके पिछले जन्मों के कर्मों, आपकी कुंडली और वर्तमान जीवन पर पिछले जन्म के कर्मों के प्रभाव, आपके कर्मों को कैसे परिवर्तित करना है, इसमें गहराई से झांकना है। बेशक, अगर किसी संचित प्रभाव से छुटकारा पाने हेतु , कुछ ज्योतिष उपाय करने की आवश्यकता है, तो मैं इसकी सलाह देता हूं। लेकिन यहाँ भी, मेरी धारणा यह है कि कर्म सुधार के तत्व के बिना ज्योतिष उपाय सहायता नहीं करेंगे। आप कर्म सुधार पर मेरा वीडियो देख सकते हैं।

ज्योतिषी से मिलने से पूर्व जातक का विवेक/ The Conscience of the native before meeting the astrologer

  • जिस दिन जातक ज्योतिषी से व्यक्तिगत रूप से या दूरभाष या स्काइप जैसे अन्य माध्यमों से मिलना चाहता है, उसके लिए निम्नलिखित चीजों की आवश्यकता होती है:

  • जातक को स्वच्छ और निष्पक्ष मन से ज्योतिषी से मिलना चाहिए।

  • जातक का इरादा कभी भी ज्योतिषी की परीक्षा लेने का नहीं होना चाहिए। किन्तु उसे अपनी समस्या का आध्यात्मिक समाधान तलाशना चाहिए।

  • जिस दिन उसे परामर्श हेतु ज्योतिषी से मिलना हो उस दिन उन्हें भगवान गणेश और कुल देवता से प्रार्थना करनी चाहिए।

  • उनसे प्रार्थना करते समय कुछ ताज़े फल और फूल भगवान को अर्पित करने चाहिए।

  • ज्योतिषी से परामर्श मुफ्त में नहीं लिया जाना चाहिए। एक मुफ्त परामर्श लेने पर पढ़ने से जातक ज्योतिषी का ऋणी हो जाता है और उसके कर्म नष्ट हो जाते हैं - एक खाली हाथ गया हुआ जातक एक ज्योतिषी के यहाँ से खाली हाथ ही लौटता है।

ज्योतिषी से मिलने का विशिष्ट तरीका/ Protocol for meeting with an Astrologer

  • ज्योतिषी के पास परामर्श लेने  जाने से पहले जातक को कुछ सरल नियमों का पालन करना चाहिए, अर्थात:

  • उसे उन प्रश्नों की एक सूची निर्मित करनी चाहिए जो उसे ज्योतिषी से पूछने है।

  • ज्योतिषी से अनुकूल उत्तर पाने हेतु एक ही प्रश्न को अलग-अलग तरीकों से नहीं करना चाहिए। व्यक्ति को ज्ञात होना चाहिए कि ज्योतिषी द्वारा दिया गया पहला उत्तर ही सर्वथा प्रमाणिक है।

  • ज्योतिष वेदांग के छह घटकों में से एक है। अन्य पांच तत्व शिक्षा, कल्प, निरुक्त, छंद और व्याकरण हैं। ज्योतिष शास्त्र को इसके अतिरिक्त गणित, संहिता और होरा में विभाजित किया गया है। यह सभी देवत्व के साथ जटिल गणितीय विश्लेषण से जुड़े हैं। इसलिए यह परम आवश्यक है कि जातक के इरादे स्पष्ट और पवित्र हों।

  • देखा जाता है कि ज्योतिषियों की परीक्षा लेने हेतु जातक कभी-कभी झूठे प्रश्न भी पूछ लेता है। यदि जातक बार -बार गलत प्रश्न उठाता है तो जातक बिना किसी आराम के कीचड़ में डूबने का मार्ग प्रशस्त करता है।

  • एक ज्योतिषी के पास जाने पर समय सार होना चाहिए; किसी व्यक्ति का  एक ही सवाल को बार-बार पूछकर समय बर्बाद करना एक अपशकुन माना जाता  है।

  • विशिष्ट कुंडली के अतिरिक्त दूसरों हेतु प्रश्न पूछना फिर से सहमति के बिना ऋणी होने जैसा है। व्यक्ति को इस प्रकार के  व्यवहार और प्रलोभन से बचना चाहिए।

एक ज्योतिषी के आवश्यक गुणों पर अंतिम विचार/ Final take on essential qualities of an astrologer

प्रत्येक नियम पुस्तिका ग्राहक और विषय में व्यक्ति के मध्य संबंधों को वर्गीकृत करती है। जैसे यह सभी पेशेवरों पर लागू होता है, वैसे ही यह एक जिज्ञासु और ज्योतिषी भी इससे अलग नहीं है। यह वास्तव में एक पवित्र बंधन होने के साथ ही एक गुरु-शिष्य संबंध है। मान लीजिए यह रिश्ता एक ज्योतिषी के बुनियादी आवश्यक गुणों और जातक के एक विशिष्ट तरीके का पालन करता है। तब मुझे यकीन है कि चीजें एक भरोसेमंद आकार लेती हैं। और दोनों एक स्वस्थ बंधन स्थापित करती हैं ।

ज्योतिष में सटीक जन्म समय का महत्व।

नकारात्मक ग्रह हमें कैसे प्रभावित करते हैं?