उपवास के वैदिक लाभ / Vedic benefits of Fasting

व्रत और उपवास

उपवास का तात्पर्य व्यक्तिगत इच्छानुसार, किसी विशेष अवधि या कुछ समय के लिए, भोजन और पेय पदार्थों दोनों का त्याग करना होता है। उपवास के दौरान, व्यक्तियों द्वारा सब कुछ या कुछ भोजन छोड़ा जा सकता है। इसके अलावा, उपवास/Upwas करने वाले व्यक्ति पर उपवास की अवधि (जो एक दिन से लेकर हफ्तों तक भी हो सकती है) निर्भर करती है। इसके अलावा, व्रत/Fasting केवल धार्मिक उद्देश्यों के लिए ही नहीं, बल्कि स्वस्थ रहने के लिए भी रखने से स्वास्थ्य पर गहरा प्रभाव पड़ता है। इस विषय से संबंधित आवश्यक विवरण इस प्रकार है :

व्रत और उपवास में क्या अंतर है?/ What is the difference between Vrat and Upvaas? 

इनमें एक अंतर यह है कि व्रत में, व्रत का बना भोजन ही किया जाता है और उपवास में कुछ भी नहीं खाया जाता है। हिंदू संस्कृति और धर्म में, व्रत और उपवास  मूल तत्व होते है जिसके बारे में वेदों, धार्मिक पुस्तकों और पुराणों में कहा गया है।

व्रत रखने का उद्देश्य / The purpose of keeping a fast

व्रत करने से तन, मन और आत्मा की शुद्धि होती है तथा उपवास रखने से शारीरिक, मानसिक और धार्मिक रूप से अत्यधिक शांति का अनुभव होता है। नवरात्रि के व्रत/Fasting रखने से शरीर स्वस्थ रहता है और मानसिक शांति प्राप्त होती है। इसके साथ ही, नवरात्रि पर्व में व्रत करने से शरीर को भी लाभ होता है।

लोगों द्वारा उपवास क्यों रखे जाते हैं?/ Why do people fast? 

 ईश्वर की प्रार्थना करते समय, तन-मन और आत्मा की  शुद्धि के लिए उपवास किए जाते हैं जो शुद्ध मन और भावनाओं के साथ पूजा या आराधना करने पर, अविश्वसनीय रूप से संतुष्टि के साथ ही, शांति का भी अनुभव कराते हैं।

उपवास का क्या अर्थ है?/ What is the meaning of fasting?

एक विशिष्ट अवधि तक, बिना भोजन या पेय पदार्थों या दोनों के बिना रहना उपवास कहलाता है। उपवास पूर्ण या आंशिक हो सकते हैं।

उपवास के क्या लाभ होते हैं?/ What is the advantage of fasting? 

गुरुवार का व्रत/Fasting करने से, जातक ग्रह की विकृति को दूर करके, गुरु की कृपा प्राप्त करते हैं। इस दिन उपवास करने से सभी सुख और संतुष्टि की प्राप्ति होती है। इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि इस विशेष दिन, न तो बाल कटवाने चाहिए और न ही दाढ़ी बनानी चाहिए।
व्रत के दौरान क्या नहीं करना चाहिए?/ What not to do during fasting? 
खाली पेट, खट्टे फलों को खाने से परेशानियां और समस्याएं हो सकती है, इसलिए नींबू, संतरा, मौसम्बी की जगह तरबूज, खीरा, सेब खाने चाहिए। मिश्रित साग जैसी हरी सब्जियां और दही जैसे प्राकृतिक उत्पाद लेना  फायदेमंद होता है।

व्रत क्यों रखा जाता है?/ Why is fasting kept?

1. शारीरिक तंत्र को शुद्ध करता है / Cleans the body system

भोजन करते समय, खाने में मौजूद विषाक्त पदार्थ शरीर में पहुंच जाते हैं जो कि आमतौर पर, बाहरी भोजन और वजन नियंत्रण कार्यक्रमों द्वारा पाचन तंत्र को बाधित करते हैं। व्रत रखने से, मुख्य रूप से शरीर के अंदर से अशुद्धियां बाहर निकल जाती हैं। साथ ही,  शरीर सुडौल और आंतरिक रूप से स्वस्थ हो जाता है।

2. गलत आदतों में बदलाव / Wrong habits change

आदतें, सामाजिक घटनाओं का एक महत्वपूर्ण हिस्सा होती हैं। इसलिए जब भी, शरीर में सुधार होता है, तो बुरी आदतों का आना भी बंद हो जाता है। कॉफी या चाय पीना उत्तम है लेकिन उपवास/Upwas के दौरान, शरीर अतिसंवेदनशील होता है, जिसके कारण वह अम्लीय पदार्थ और कैफीन को ग्रहण नहीं कर पाता है और इसलिए चाय या कॉफी पीने से अच्छा महसूस होने के बजाय असहज महसूस होने लगता है।

3. स्वास्थ्य में सुधार करता है / It improves your health

उपवास का प्रयोग अतिसंवेदनशीलता, जोड़ों में सूजन, जोड़ों का दर्द, अस्थमा, अवसाद, मधुमेह, सिरदर्द, कोरोनरी बीमारी, उच्च कोलेस्ट्रॉल, शर्करा की कमी, पेट  संबंधित समस्याएं, मानसिक अस्थिरता, मोटापा आदि कई समस्याओं के इलाज में किया जाता है। यह स्वास्थ्य में सुधार करता है और संक्रमण को कम करता है, और उनसे लड़ने की क्षमता को बढ़ाता है।

4.  नींद के चक्र को सही करता है / Your sleep cycle is correct

उचित भोजन और पोषण के बिना, अधिक संवेदनशील होने के कारण सोने की प्रक्रिया (सोने और जागने का समय) बदल जाती है। ऐसा समय पर भोजन नहीं करने और जीवनशैली की विभिन्न गतिविधियों में व्यस्त रहने से होता है। 

5. शारीरिक तंत्र में सुधार लाता है / Body systems are adjusted

शरीर की असंख्य प्रणालियां, लंबे समय तक कुछ नहीं खाने-पीने की प्रक्रिया से मदद लेकर, शरीर में स्थित ऊर्जा द्वारा दूषित पदार्थों को ठीक करती है और   कैलोरी के उपयोग में मदद करती है। इस प्रकार, शरीर के विषाक्त पदार्थों से छुटकारा मिलने पर, शारीरिक तंत्र  में सुधार होने से, वह उचित रूप से कार्य करना शुरू कर देता है। 

6. भावनात्मक कल्याण के बारे में जागरूकता लाने के लिए / To bring awareness about emotional wellness 

व्रत रखने से, दिमाग महत्वपूर्ण विचारों पर ध्यान केंद्रित करने लगता है। इसके अलावा, प्रतिदिन की व्यर्थ की मानसिक परेशानियों का त्याग होता है। ठीक वैसे ही, जैसे भोजन करने पर शरीर केवल वास्तविक चीजों को ही ग्रहण करता है। 

7. खाने की आदतों में बदलाव करना / To change the eating routine

 उपवास करने से शरीर पहले से अधिक कोमल हो जाता है। उपवास रखने से, इसके अत्यधिक प्रभावों की वृद्धि को तत्काल परिणामों द्वारा अनुभव किया जा सकता है। अतः, उपवास के बाद खाने की आदतों को बदलने का आदर्श अवसर होता है।

उपवास के प्रकार / Kinds of fasting 

उपवास के विभिन्न प्रकार निम्नलिखित हैं-

1. रस उपवास / Juice fasting

इस उपवास के दौरान, बगीचे में उगाए गए खाद्य पदार्थों से बने रस को पिया जाता है। लंबे समय तक किसी भी प्रकार का नियमित भोजन नहीं किया जाता है। यह उपवास सरल है, फिर भी विभिन्न प्रकार के नए पत्तेदार खाद्य पदार्थों से पर्याप्त पोषक तत्व और खनिज प्राप्त  करना आवश्यक होता है। पत्तेदार सब्जियों और जैविक उत्पादों को जूसर या ब्लेंडर में डालकर, प्राकृतिक उत्पादों या सब्जियों का उपयोग करके बनाए गए रस में पानी मिलाकर दिन में तीन बार पीना चाहिए।

2. जल उपवास / Water fasting

जल उपवास समस्यात्मक होता है। किसी विशेषज्ञ की सलाह के बिना इस व्रत को नहीं रखना चाहिए। इस उपवास के लिए, प्रतिदिन केवल दो लीटर पानी पीने की आवश्यकता होती है। शारीरिक स्थिति के आधार पर,   जल की मात्रा में वृद्धि करके उपवास किया जाना चाहिए।

3. शुद्धिकरण उपवास (शरीर से विषाक्त पदार्थों को नष्ट करने के लिए उपवास) / Cleansing fasting (fasting to kill toxins from the body)

इस उपवास में नींबू के रस, चीनी, लाल मिर्च और विभिन्न मसालों का उपयोग करके बनाए गए पेय पदार्थ का उपयोग किया जाता है। यह पेट से संबंधित प्रणालियों से विषाक्त पदार्थों को साफ करता है। शुद्धीकरण उपवास के दौरान, इस पेय पदार्थ को दिन में छः या इससे अधिक बार पीया जा सकता है।

4. कुछ खाद्य पदार्थों को त्यागने वाला उपवास / Fasting aside from a few food items

इस व्रत में, चावल, गेहूं और मांस जैसे कुछ पोषक तत्वों को अलग किया जाता है। इस व्रत में कुछ ठोस आहार से दूर रहा जाता है। इस उपवास में खाए जाने वाले भोजन का अनुपात, प्रतिदिन के भोजन की तुलना में कम होता है।

5. प्रोटीन पेय पदार्थ उपवास (उपवास जिसमें सिर्फ प्रोटीन युक्त अल्प आहार किया जाता है)/ Protein drink fasting (fasting in which just protein-rich refreshments are taken) 

आमतौर पर, प्रोटीन ड्रिंक फास्टिंग का प्रयोग शरीर को पतला करने के लिए किया जाता है। एक तरल प्रोटीन आहार की सहायता से, लगभग 4 से 5 किलोग्राम वजन कम किया जा सकता है।

चेतावनी: यह उपवास करने से पहले, कोई आपत्ति नहीं होने पर भी अपने चिकित्सक से परामर्श करना चाहिए कि क्या यह आपके लिए आदर्श है।

व्रत में क्या खाना चाहिए?/ What to eat in fasting?

उपवास के दौरान क्या खाना चाहिए और क्या नहीं यह उपवास पर निर्भर करता है। उपवास के दौरान, खाए जाने वाले कुछ खाद्य पदार्थ इस प्रकार है :

1. शकरकंद-
चिकित्सा की दृष्टि से शकरकंद के कई लाभ होते हैं। यह पोषक तत्वों, विटामिन सी और पोटेशियम का एक उत्कृष्ट स्रोत है। इसी तरह शकरकंद वजन कम करने में मदद करता है। व्रत के दौरान, इसे तलने के बजाय उबालकर सेवन करना चाहिए।

2. सेब -
उपवास के दौरान, सेब को सबसे अच्छा प्राकृतिक भोजन माना जाता है। पेट को लंबे समय तक भरा रखने के कारण, यह वजन कम करने में मदद करता है।

3. दूध -
व्रत के दौरान, दूध पीने से पेट लंबे समय तक भरा रहता है। यह सप्लीमेंट्स से भरपूर होता है और आसानी से पच जाता है। इसे एक सेब और कुछ बादाम के साथ भी लिया जा सकता है।

4. अखरोट-
अखरोट पेट को भरा रखने में मदद करता है जिससे कैलोरी वाले पोषक तत्वों से दूर रह सकते हैं। दोपहर को एक छोटी मुट्ठी सूखे मेवों को अच्छी तरह चबाकर खाना चाहिए।

5. स्ट्रॉबेरी -
इसके साथ ही, एक कप स्ट्रॉबेरी में 50 कैलोरी और 7 ग्राम चीनी तथा तीन ग्राम फाइबर होते हैं। उपवास के दौरान, स्ट्रॉबेरी पेट को भरा रखने में मदद करती है।

6. टमाटर का रस -
कैंसर के ट्यूमर के घातक विकास को रोकने के अलावा, टमाटर खाने में भी स्वादिष्ट होते हैं। व्रत/Fasting के दौरान, इसे हरी सब्जियों में मिलाकर मिलाकर भी खाया जा सकता है। 

उपवास रखने के स्वास्थ्य लाभ / Health advantages of fasting 

स्वास्थ्य के लिए उपवास के निम्नलिखित लाभ हैं -

1. शरीर की संरचना और कल्याण में सुधार करता है / Improves body structure and wellbeing 

लोग सेहतमंद रहने जैसे विशेष कारणों के लिए उपवास रखते हैं जिससे शरीर की संरचना में कई प्रकार के सुधार होते हैं।

2. संतुष्टि में वृद्धि करता है / Promotes satisfaction

वसायुक्त ऊतक अंतःस्रावी अंग के रूप में कार्य करते है, जो व्यापक स्तर पर हार्मोन्स का निर्माण करते हैं,  जिनमें से लेप्टिन नाम का हार्मोन, खाना खाने के बाद संतुष्टि का अनुभव करने में मदद करता है। उपवास, इन हार्मोनों के माध्यम से, भूख के स्तर को प्रभावित करके  खाने के बाद संतुष्ट महसूस कराता है जिससे वजन में तेजी से कमी आती है।

3. हृदय को स्वस्थ बनाता है / Improves heart health

उपवास की विभिन्न परिस्थितियां कोरोनरी संबंधित बीमारियों के अनुकूल होती हैं। उपवास हृदय कार्यों, रक्त संरचनाओं और रक्तचाप में सुधार करता है। टाइप 2 मधुमेह या उच्च कोलेस्ट्रॉल से ग्रसित व्यक्तियों के लिए उपवास मददगार हो सकता है।

4. ब्लड प्रेशर के स्तर में कमी होना / Blood pressure level is low 

व्रत के दौरान, अधिकतर व्यक्तियों की नाड़ी में कमी हो जाती है। उपवास के पहले सप्ताह से प्रभावों की शुरूआत हो जाती है। यह केवल उपवास के कारण ही नहीं होता। व्रत/Fasting डके दौरान, नमक के कम सेवन से भी  पेशाब के द्वारा नमक निकल जाता है जिससे नब्ज में कमी हो जाती है।

5. त्वचा को कोलेजन से स्वस्थ बनाता है / Improves healthy collagen in the skin

सही खान-पान त्वचा के लिए महत्वपूर्ण है, इसलिए उपवास त्वचा को स्वस्थ रखने में मदद करता है। उच्च रक्त शर्करा कोलेजन (त्वचा के लिए आवश्यक प्रोटीन) की संरचना को बदलकर कमजोर कर देती है। चूंकि, मूल रूप से उपवास रक्त शर्करा को कम करता है, अतः  स्वस्थ त्वचा की देखभाल और दिनचर्या के लिए उपवास  किए जा सकते हैं।

उपवास के नुकसान / Disadvantages of fasting

उपवास के कई लाभ होने के बाद भी, अगर इन्हें सही तरीके से नहीं किया जाता है तो कई अवरोधों के कारण  ये नुकसान हो सकते हैं :

1. पानी की कमी / Water scarcity 

व्रत के दौरान, पसीने और पेशाब के कारण, शरीर में पानी और नमक की कमी हो जाती है। उपवास से पहले शरीर को हाइड्रेटेड नहीं करने पर, शरीर में उपवास के दौरान जल्दी ही पानी की कमी हो जाती है। ऐसे लक्षण दिखने पर, पानी में नमक और चीनी मिलाकर अवश्य पी लेना चाहिए। 

2. माइग्रेन / Migraine 

उपवास के दौरान, निश्चित रूप से नींद न आने या शरीर में कैफीन या निकोटीन की अचानक कमी के परिणामस्वरूप सिर दर्द की समस्या हो सकती है। उपवास के दौरान, माइग्रेन से बचने के लिए, अधिक से अधिक पेय पदार्थ लें, हल्का भोजन करें और धूप में न जाएं। 

3. हाइपोग्लाइसीमिया / Hypoglycemia

उपवास के दौरान, शुगर वाले लोगों को नियमित रूप से जांच करनी चाहिए और उपवास/Upwas करने से पहले अपने डॉक्टर से बात करनी चाहिए। उपवास से पहले, रक्त शर्करा की जांच करनी चाहिए क्योंकि उपवास के दौरान, हाइपोग्लाइसीमिया (निम्न रक्त शर्करा/Low blood sugar count) से चक्कर आ सकता है। अस्थिरता या अनावश्यक पसीना आने की स्थिति में जल्द से जल्द चीनी से बने पदार्थ का सेवन करना चाहिए।

4. सीने में जलन / Irritation in the chest

 पेट में अम्ल के बनने के परिणामस्वरूप छाती में जलन होती है। व्रत के दौरान, ज्यादा तेल और मसाले वाला भोजन नहीं करके, हल्का भोजन करने से, खट्टी डकारें, उल्टी और सीने में जलन से छुटकारा मिलेगा। धूम्रपान न करने और अधिक पानी पीने का प्रयास करना चाहिए।

5. कब्ज / Constipation

व्रत के दौरान, कुछ भी न खाने से कब्ज की समस्या हो सकती है इसलिए व्रत के दौरान, ज्यादा से ज्यादा पानी  और फाइबर युक्त आहार लेना चाहिए।

6. उपवास के बाद अधिक खाने लगते हैं / After fasting, you begin to eat more

उपवास की समाप्ति के बाद, बहुत अधिक नहीं खाना चाहिए। इससे पेट ठीक रहेगा और कुछ समस्याएं नहीं होंगी।

व्रत के धार्मिक और तार्किक महत्व की जानकारी / Know the religious and logical significance of fasting 

• किसी भी उद्देश्य की प्राप्ति के लिए दिन भर खाते रहना  उपवास नहीं होता। हिंदू धर्म में, उपवास का विशेष महत्व है। ऐसा कहा जाता है कि लोगों द्वारा अपनी आस्थानुसार, अलग-अलग देवी-देवताओं के लिए उपवास रखा जाता है। ज्योतिषीयों के अनुसार, व्रत रखने से देवियां प्रसन्न होती हैं। परंपरागत रूप से, व्रत विशेष अवसरों पर रखा जाता है तथा उपवास लगातार रखा जाता है। 

• उपवास के धार्मिक महत्व के अलावा, इसके कई तार्किक महत्व भी हैं। आयुर्वेद में कहा गया है कि उपवास करने से पाचन तंत्र को आराम मिलता है। एक दिन भी कुछ नहीं खाने से विषैले तत्वों के शरीर से बाहर निकलने के कारण, पाचन प्रणाली ठीक रहती है।  उपवास रखने से, वसा कम होने का चक्र तेज होने के कारण, शरीर की चर्बी तेजी से घटने लगती है। उपवास वाले दिन, चयापचय दर तीन से चौदह प्रतिशत तक बढ़ जाती है जिससे मन भी स्वस्थ रहता है। दक्षिण कैलिफोर्निया विश्वविद्यालय/University of South California के विशेषज्ञों के सुझावों के अनुसार, कैंसर रोगियों के लिए उपवास फायदेमंद है, लेकिन कीमोथेरेपी वाले रोगियों के लिए उपवास जोखिम भरा हो सकता है। कहा जाता है कि  हर हफ्ते उपवास रखने से नई प्रतिरोधी कोशिकाओं का निर्माण होता है। जिससे शरीर में कोलेस्ट्रॉल की मात्रा कम हो जाती है, जो धमनियों के लिए अविश्वसनीय रूप से उपयोगी होती है।

• उपवास करने से डिप्रेशन जैसी समस्याएं दूर होती हैं तथा तनाव में कमी आती है। व्रत रखने वाले दिन शरीर में ऊर्जा की कमी हो जाती है इसलिए शरीर की ऊर्जा को बनाए रखने के लिए नियमित रूप से पानी पीना चाहिए।

• विशेष रुप से, मधुमेह के रोगियों के लिए उपवास  मूल्यवान माना जाता है। यह शरीर की स्टार्च प्राप्त करने की क्षमता को बढ़ाता है।

शरीर के हानिकारक तत्वों से मुक्ति / Body detoxification 
आमतौर पर, लोगों द्वारा पूरा दिन पोषण प्राप्त करने के लिए भोजन किया जाता है, लेकिन उपवास रखने पर, शरीर द्वारा कोई भी भोजन नहीं खाया जाता है। जिससे शरीर में मौजूद वसा ऊर्जा में बदल जाती है। इतना ही नहीं, एक दिन खाना न खाने और सिर्फ पानी या तरल पदार्थ पीने से, शरीर के सभी हानिकारक तत्व बाहर निकल जाते हैं।

मानसिक स्वास्थ्य में सुधार / Better mental wellbeing 

उपवास शरीर के साथ ही, मानसिक स्वास्थ्य के लिए भी इतना लाभकारी होता है कि सोचा भी नहीं जा सकता। उपवास के बाद रक्त में एंडोर्फिन का स्तर पूर्ण रूप से बढ़ने के कारण मानसिक स्वास्थ्य में सुधार होता है। तुलनात्मक रूप से, उपवास का व्यायाम से अधिक  प्रभाव पड़ता है।

वजन मे कमी / Reduce weight 

प्रत्येक सप्ताह उपवास करने से, आंतरिक रुप से अत्यधिक हल्केपन का अनुभव होता है तथा वजन घटाने में भी मदद मिलती है। उपवास के दौरान, शरीर की वसा ऊर्जा में परिवर्तित हो जाती है, जिससे वजन धीरे-धीरे कम होता जाता है। इसके अलावा, यह पाचन में भी मदद करता है। बस इतना ध्यान रखना चाहिए कि उपवास/Upwas के अतिरिक्त दिनों में भी उचित खान-पान का पालन होता रहे। संयोगवश, समय के साथ उपवास के कारण आहार की स्थिति में भी सुधार होता है, और बाद में, व्यक्ति द्वारा अधिक भोजन नहीं किया जाता है। इस प्रकार, उपवास की आदत द्वारा प्रभावी ढंग से वजन कम किया जा सकता है।

स्वस्थ आंत / Healthy Intestine

 पाचन तंत्र को स्वस्थ रखने के लिए उपवास रखा जाना चाहिए। व्यक्तियों में जीवनशैली की उपयोगिता उम्र के साथ घटती जाती है, लेकिन उपवास के दौरान कोशिकाएं ग्लूकोज के बजाय असंतृप्त वसा को अलग करती हैं, जिससे कोशिकाएं पुनर्योजी बन जाती हैं।

बेहतर उपचार प्रक्रिया / Better healing process

संभवत:, उपवास का सबसे अच्छा लाभ यह है कि यह शरीर में सुधार की प्रक्रिया को आगे बढ़ाता है। वास्तव में, जब पेट में भोजन की कमी होती है, तो शरीर पाचन के बजाय अन्य महत्वपूर्ण क्षमताओं जैसे- चयापचय विकास और प्रतिरक्षा ढांचे पर ध्यान केंद्रित करता है। विभिन्न शोध भी इस बात की पुष्टि करते हैं। वास्तव में, एथलीटों को भी प्रशिक्षण के दिनों में उपवास करने के लिए कहा जाता है ताकि प्रचुर मात्रा में वसा में कमी होने  से मांसपेशियों के निर्माण में वृद्धि हो।

हिंदू धर्म में उपवास का महत्व / Significance of fasting in Hinduism 

हमारा देश भारत उत्सव प्रधान देश के रूप में जाना जाता है, जहां पूजा और उत्सव होते रहते हैं। अतः, आप सभी को अपने घर की महिलाओं से नियमित रूप से जानना चाहिए कि किस दिन, कौन सा पर्व/Festival और कौन सा व्रत होता है। लेकिन, क्या आप जानते हैं कि ये व्रत या उपवास क्या होते हैं और इन्हें क्यों रखा जाता है? चलिए हम बताते हैं कि व्रत क्यों किए जाते हैं और इनका क्या महत्व होता है?

किसी उद्देश्य को प्राप्त करने के लिए खाद्यान्नों, अन्य भोज्य पदार्थो या इन सभी का त्याग करना उपवास कहलाता है। मनुष्यों को पुण्य के आचरण से सुख और पाप कर्मों से कष्टों की प्राप्ति होती है। ग्रह के प्रत्येक प्राणी को आनंद की प्राप्ति करने और अमिट दुःखो से उबरने की आवश्यकता होती है। व्यक्ति की वर्तमान स्थिति के बारे में सोचते हुए, ऋषि-मुनियों ने वेद-पुराणों स्मृतियों और सभी व्याख्यान संदेशों के द्वारा, लोगों के कल्याण के लिए आनंद की प्राप्ति और संकट से निपटने के विभिन्न उपाय बताए हैं जिनमें से उपवास निरंतर चलने वाला, अनोखा और सरल उपचार है।

उपवास हमारी जीवनशैली का एक मूल भाग हैं, जिनका जितनी कठोरता से पालन किया जाता है उतना ही इसके आश्चर्यजनक परिणाम होते हैं। उपवास से शरीर को लाभ होता है; संदेह होने पर, व्रत एक बार के भोजन छोड़ने का और उपवास कुछ अवसरों के लिए भोजन छोड़ने का सुझाव देता है। उपवास का आहार, शरीर के भीतर ऊर्जा को सुरक्षित करके, शरीर से हानिकारक पदार्थों का त्याग करता है जिससे शरीर में नई ऊर्जा में वृद्धि दिखाई देती है।

शरीर में लाभकारी परिवर्तन होते हैं जिनका कठोरता पूर्वक पालन करने से, बौद्धिक रूप से शक्ति और सौहार्द बनाए रखने में मदद मिलती है। उपवास शरीर और आत्मा को शुद्ध करता है। उपवास का महत्व सरल और स्पष्ट है; शरीर पांच भागों से मिलकर बना है, जिनमें व्यापक रूप से आकाश और अंतरिक्ष का महत्व  है। 

व्रत या उपवास द्वारा शरीर को आकाश तत्व की प्राप्ति होती है। उपवास शब्द में दो शब्द शामिल हैं, उप का अर्थ है- पास और वास का अर्थ है- आस-पास जीने की इच्छा अर्थात् आत्मा के समीप रहना ही उपवास है; स्वयं में संगठित रहने से कल्याण की प्राप्ति होती है।  धार्मिक रूप से स्वस्थ रहना भी एक कर्तव्य है। वैज्ञानिक प्रयोगों द्वारा सिद्ध किया गया है कि उपवास से शरीर और मस्तिष्क की समस्याएं दूर हो जाती हैं, जिससे शरीर स्वस्थ और शुद्ध हो जाता है। 

व्रत के प्रकार / Kinds of Fasting

हिंदू मान्यताओं/Hindu beliefs के अनुसार कुछ उपवास हैं जिन्हें रखने से लाभ की प्राप्ती होती है। चलिए उनमें से कुछ के बारे में जानते हैं।

1. प्रात: उपवास : इस उपवास में सिर्फ सुबह का नाश्ता नहीं करना होता। दिन और रात में सिर्फ दो बार ही भोजन करना होता है। 

2. अद्धोपवास : इस उपवास को शाम का उपवास भी कहा जाता है जिसमें दिन भर में सिर्फ एक ही बार भोजन करना होता है। इस उपवास के दौरान, रात का भोजन नहीं खाया जाता है। 

3. एकाहारोपवास : एकाहारोपवास में एक समय के भोजन में सिर्फ एक ही चीज खाई जाती है, जैसे सुबह के समय अगर रोटी खाई जाए तो शाम को सिर्फ सब्जी खाई जाती है। दूसरे दिन सुबह को एक तरह का कोई फल और शाम को सिर्फ दूध आदि।

4. रसोपवास : इस उपवास में अन्न तथा फल जैसे ज्यादा भारी पदार्थ नहीं खाए जाते, सिर्फ रसदार फलों के रस अथवा साग-सब्जियों के जूस पर ही रहा जाता है। दूध भी पिया जाता है, क्योंकि दूध की गणना भी तरल पदार्थों में की जाती है।
 
5. फलोपावास : कुछ दिनों तक सिर्फ रसदार फलों या सब्जियों आदि पर रहना फलोपवास कहलाता है। फलों के अनुकूल न होने पर सिर्फ पकी हुई साग-सब्जियां खानी चाहिए।
 
6. दुग्धोपवास : दुग्धोपवास को 'दुग्ध कल्प' के नाम से भी जाना जाता है। इस उपवास में, कुछ दिनों तक दिन में 4-5 बार सिर्फ दूध ही पीना होता है। 

7. तक्रोपवास : तक्रोपवास को 'मठाकल्प' भी कहा जाता है। इस उपवास में जो मट्ठा लिया जाए, उसमें घी कम होना चाहिए और खट्टा भी कम ही होना चाहिए। इस उपवास को कम से कम 2 महीने तक आराम से किया जा सकता है। 

8. पूर्णोपवास : साफ-सुथरे ताजे पानी के अलावा किसी और चीज को बिलकुल न खाना पूर्णोपवास कहलाता है। इस उपवास में, उपवास से संबंधित बहुत सारे नियमों का पालन करना होता है।

9. साप्ताहिक उपवास : पूरे सप्ताह में सिर्फ एक पूर्णोपवास नियम से करना साप्ताहिक उपवास कहलाता है।
 
१०. लघु उपवास : तीन से लेकर सात दिनों तक के पूर्णोपवास को लघु उपवास कहते हैं।

11. कठोर उपवास : गंभीर रोग वाले व्यक्तियों के लिए यह उपवास बहुत लाभकारी होता है। इस उपवास में पूर्णोपवास के सारे नियमों को कठोरतापूर्वक निभाया जाता है। 

12. टूटे उपवास : इस उपवास में दो से सात दिनों तक पूर्णोपवास करने के बाद, कुछ दिनों तक हल्के प्राकृतिक भोजन पर रहकर, दोबारा उतने ही दिनों का उपवास करना होता है। उपवास रखने का और हल्का भोजन करने का यह क्रम तब तक चलता रहता है, जब तक कि इस उपवास को करने का उद्देश्य पूरा नहीं हो जाता।  

13. दीर्घ उपवास : दीर्घ उपवास में, पूर्णोपवास बहुत दिनों तक करना होता है जिसके लिए कोई निश्चित समय पहले से निर्धारित नहीं होता। इसमें 21 से लेकर 50-60 दिन भी लग सकते हैं। अक्सर यह उपवास तभी तोड़ा जाता है, जब स्वाभाविक भूख लगने लगती है अथवा शरीर के सारे विषाक्त पदार्थों के पचने के बाद, शरीर के आवश्यक तत्वों को पचाने की संभावना होती है।

 *चेतावनी: उपरोक्त सभी उपवासों का उद्देश्य शरीर के विभिन्न भागों में एकत्रित विषैले पदार्थों को बाहर निकालकर मन और शरीर को मजबूत करना है। कुछ व्यक्ति तप, ध्यान और मोक्ष द्वारा सिद्धियों को प्राप्त करने के लिए भी उपवास रखते हैं।

प्रत्येक उपवास/Upwas एक वैकल्पिक व्याख्या के लिए पूरा किया जाता है, और सभी की अलग-अलग प्राथमिकताएँ होती हैं। आम जनता को उपवास के पीछे के महत्व और प्रेरणा की सराहना करनी चाहिए। पूर्ण व्यवस्था और जानकारी प्राप्त किए बिना उपवास नहीं रखने चाहिए।

धर्म के लिए अनुष्ठान क्यों महत्वपूर्ण हैं, ज्योतिष/ astrology  में वैदिक उपचार, आर्थिक समस्याओं के उपाय और जन्म कुंडली/ natal chart के अनुसार ग्रहों की कृपा बनाए रखने के उपाय आदि के बारे में और अधिक पढ़ सकते हैं