आपके जीवन काल के बारे में आपकी कुंडली में संकेत।

जीवन काल

जीवन काल का अर्थ किसी भी व्यक्ति के जीवीत रहने की आयु को कहा जाता है। वैदिक ज्योतिष/Vedic Astrology में बहुत सारे उपकरण हैं जिनसे किसी भी व्यक्ति के जीवन की अनुमानित जीवन प्रत्याशा का पता लगाया जा सकता है। आम तौर पर ज्योतिषी किसी भी जातक की उम्र के बारे में स्पष्ट रूप से नहीं बताते। वह कुछ संकेत दे सकते है, जो आपके जीवन काल का पता लगाने में कारगर साबित हो सकते हैं। लेकिन वह किसी भी व्यक्ति के सटीक उम्र या मृत्यु की भविष्यवाणी नहीं कर सकते। यदि वह ऐसा करते हैं तो वह शापित हो जाएंगे और उनके साथ कुछ बुरी घटनाएं घट सकती है।

आयु, दीर्घायु कैलकुलेटर: क्या ज्योतिष मेरे आयु की भविष्यवाणी कर सकता है? Age, Longevity calculator: Can astrology predict My Age?

जैसा कि हम पहले बता चुके हैं कि वैदिक ज्योतिष में वह सभी उपकरण है जिसकी सहायता से जातक के जीवन के बहुत सारे राज पता लगाया जा सकता है। ज्योतिष में कुछ ऐसे उपकरण है जिसकी सहायता से किसी व्यक्ति के आयु की भविष्यवाणी की जा सकती है। ज्योतिषी/Astrologer कभी भी एकदम सटीक आयु की भविष्यवाणी नहीं करते हैं, इसके सिवाय वह आपको कुछ संकेत देते हैं जिनकी सहायता से आप इस विषय में अधिक जानकारी प्राप्त कर सकते हैं। इस लेख के जरिए आपको ज्योतिष के इस महत्वपूर्ण और सबसे कीमती उपकरण के बारे में बताने वाला हूं जिससे आपको अपने जीवन काल/Life span के बारे में पता चल सकता है।

आयु, दीर्घायु कैलकुलेटर: क्या ज्योतिष मेरे आयु की भविष्यवाणी कर सकता है? Age, Longevity calculator: Can astrology predict My Age?

जैसा कि हम पहले बता चुके हैं कि वैदिक ज्योतिष में वह सभी उपकरण है जिसकी सहायता से जातक के जीवन के बहुत सारे राज पता लगाया जा सकता है। ज्योतिष में कुछ ऐसे उपकरण है जिसकी सहायता से किसी व्यक्ति के आयु की भविष्यवाणी की जा सकती है। ज्योतिषी/Astrologer कभी भी एकदम सटीक आयु की भविष्यवाणी नहीं करते हैं, इसके सिवाय वह आपको कुछ संकेत देते हैं जिनकी सहायता से आप इस विषय में अधिक जानकारी प्राप्त कर सकते हैं। इस लेख के जरिए आपको ज्योतिष के इस महत्वपूर्ण और सबसे कीमती उपकरण के बारे में बताने वाला हूं जिससे आपको अपने जीवन काल/Life span के बारे में पता चल सकता है।

हर प्रकार से जातक तीन तरह में बंटे हुए होते हैं, जो हैं –

  1.  पूर्ण आयु

  2.   मध्य आयु

  3.  अल्प आयु

पूर्ण आयु खंड/Poorna aayu

पूर्ण आयु का अर्थ सत्तर साल/70 Years की उम्र होता है। पूर्ण आयु भी तीन भागों में बंटा हुआ है।

  1. पूर्ण आयु – यदि पूर्ण आयु जातक को आशिर्वाद दे, तो जातक 70 से 85 वर्ष तक जीवीत रह सकता है।

  2. दीर्घ आयु – यदि जातक को दीर्घ आयु के साथ आशीर्वाद मिले, तो वह जातक 85 से 100 वर्ष तक जीवित रह सकता है।

  3.  परम आयु – यदि जातक 100 वर्ष से ऊपर जी जाता है, तो वह जातक परम आयु की श्रेणी में आता है।

मध्यम आयु खंड /Madhyam aayu Segment

मध्यम आयु वर्ग वाले व्यक्ति 33 से 70 वर्ष तक जीवित रहते हैं। मध्यम आयु भी तीन भाग में बंटा हुआ है।

  1. अल्प मध्यम – आयु सीमा 33 से 41 वर्ष है।

  2. मध्यम – मध्यम – आयु सीमा 41 से 55 वर्ष है।

  3.  मध्यम – पूर्ण – आयु सीमा 56 से 70 वर्ष है।

अल्प आयु खंड:

इस खंड में व्यक्ति की आयु 0 से 32 वर्ष तक रहती है। अल्प आयु भी तीन भागों में बंटा हुआ है।

  1. तत्काल मृत्यु – इसमें उम्र की सीमा 0 से 1 साल होती है।

  2.  बालरिश्ठा – इस भाग में जातक की उम्र 1 से 12 वर्ष तक होती है।

  3. अल्प आयु – इस भाव में उम्र सीमा 13 से 32 साल तक रह सकती है।

इसके बाद भी अल्प आयु दो और भाग में बंटा हुआ है, जिनका नाम है –

  • योगारिष्ट – इसमें उम्र सीमा 13 से 20 वर्ष होती है।

  • अल्प आयु – इसमें उम्र सीमा 21 से 32 वर्ष होती है।

चलिए आपको आपकी आयु की भविष्यवाणी करते हैं।

अपनी जन्म की तिथि, समय और स्थान डालें और क्लिक करके परिणाम जानें।

परिणाम – आयु कैलकुलेटर

नोट – यह फीचर जल्दी ही हम आपके लिए लाने वाले हैं।

खुशी का मंत्र 'The Mantra for Happiness' नाम से एक मेरा एक लेख हिंदुस्तान टाईम्स में प्रकाशित हुआ है जिसे आप समाचार विभाग से पढ़ सकते हैं।

अपने जीवन काल को कैसे बढ़ाएं? How to increase Life Span

कोई भी ग्रहों की स्थिति, दशा और उनके परिणाम को नहीं बदल सकता, लेकिन कोई भी व्यक्ति अपने जीवन काल की संभावनाओं को बढ़ा सकता है।

अपने जीवन काल को कैसे बढ़ाएं? How to increase Life Span

कोई भी ग्रहों की स्थिति, दशा और उनके परिणाम को नहीं बदल सकता, लेकिन कोई भी व्यक्ति अपने जीवन काल की संभावनाओं को बढ़ा सकता है।

आप इन 18 टिप्स का पालन करके अपनी आयु को बढ़ा सकते हैं।

  1. स्वस्थ रहें – बढ़ता वजन कुछ गंभीर समस्या जैसे – दिल का दौरा, मधुमेह, कैंसर और अन्य रोगों का कारण बन सकता है। स्वस्थ रहकर आप अपने आयु को बढ़ा सकते हैं।

  2. अच्छा और स्वस्थ खाएं – अपने पूरे दिन के आहार में फल और सब्जी को अच्छी मात्रा में जोड़ें, क्योंकि यह आपके शरीर में फाइबर की मात्रा को बढ़ाता है, और यह आपके शरीर से नमक, वसा और चीनी की मात्रा को नियंत्रित करता है।

  3. धूम्रपान छोड़ें – तंबाकू और अन्य पदार्थ के सेवन से बचें क्योंकि यह आपके जीवन काल को कम कर सकता है।

  4. मादक पदार्थों का प्रयोग ना करें और शराब और अन्य नशीली पदार्थों से दूरी बना कर रखें।

  5. विवाहित जोड़े बच्चों की तरफ अग्रसर हो जो उन्हें जिम्मेदारी का अहसास दिला सकते हैं।

  6. मस्तिष्क का व्यायाम – हमेशा अपने दिमाग का प्रयोग अच्छी जगह पर करें। आप नई भाषा सीखने या किसी ऐसे खेल को खेलने में अपना दिमाग लगा सकते हैं जिसमें आपको अपने दिमाग का प्रयोग ज्यादा करना पड़े। आप नए चीजों के सीखने का भी प्रयास कर सकते हैं। इन सभी चीजों को करने से आपका ध्यान नकारात्मकता की ओर नहीं जाएगा।

  7. जीवन में कुछ ना कुछ करते रहें – आपको अपने सभी दोस्तों और अन्य लोगों से सामाजिक संबंध बांधना चाहिए। ऐसा करने से आप तनाव से दूर रहेंगे और यह आपके रोग प्रतिरोधक क्षमता को भी बढ़ावा देता है। आपको दोस्तों और परिवार द्वारा स्नेह और प्रेम से आपका जीवन काल बढ़ सकता है।

  8. अपने जीवन में तनाव भगाने के तरीकों को बढाएं – आप बहुत सारी क्रियाएं कर सकते हैं जैसे – किसी के साथ कुछ देर पैदल चलना, संगीत सुनना, ध्यान लगाना/Meditation और अपने दोस्तों से बात करना। इन सभी तरीकों का पालन करने से आपके वर्तमान जीवन काल में वृद्धि हो सकती है और आप बहुत सारे मानसिक रोग से दूर रहते हैं।

  9. दूसरों की तरफ मदद का हाथ बटाएं – यदि आप किसी दूसरे की सहायता करते हैं तो इससे आपको खुशी मिलेगी, जिससे आपका हृदय स्वस्थ रहेगा और जीवन काल भी बढ़ेगा।

  10. जीवन साथी को तलाशें – शोध बताती है कि विवाहित व्यक्तियों की अविवाहित व्यक्तियों से ज्यादा आयु होती है।

  11. हमेशा सक्रिय यौन जीवन रखें – जिन लोगों का यौन जीवन सुख और सक्रिय रहता है, वह ज्यादा समय तक जीवित रहते हैं। 2010 में एक अमेरिकी जर्नल ऑफ कार्डियोलॉजी की रिपोर्ट से पता चलता है कि जो पुरुष सप्ताह में दो या तीन बार संभोग करते हैं उनमें हृदय संबंधी बीमारियों का खतरा 45 प्रतिशत तक कम होता है।

  12. हंसी बेहतरीन दवा है – शोधकर्ताओं के अनुसार जो व्यक्ति दिन में कम से कम 15 मिनट हंसता है, उसे हृदय संबंधित रोग नहीं होते हैं, और उसके शरीर में रक्त के बहाव में 50 प्रतिशत तक अच्छा होता है। आपने भी देखा होगा कि कुछ लोग पार्कों में सुबह सुबह ज़ोर ज़ोर से हंसते रहते हैं।

  13. अपना आपा ना खोएं– यदि आप अपने गुस्से को काबू में कर लें और गुस्सा आने पर भी उस स्थिति में अपना आपा ना खोएं तो यह स्थिति आपके लिए लाभकारी हो सकती है। यदि आप बार बार गुस्सा करते हैं, तो संभव है कि आपको दिल का दौरा भी आ सकता है।

  14. अच्छी मात्रा में नींद लें – अच्छी मात्रा में नींद लेना बहुत ज्यादा महत्वपूर्ण होता है। ऐसा देखा गया है कि जो लोग आठ घंटे से ज्यादा सोते हैं या फिर साढ़े छह घंटे से कम सोते हैं तो उनका जीवन काल बहुत बड़ा नहीं होता।

  15. एक पालतू जानवर रखें और उनके साथ खेलें – जिन भी व्यक्तियों के पास पालतू जानवर होते हैं, वह अकेलापन और अवसाद कम महसूस करते हैं। यदि आप अपने पालतू जानवर के साथ खेलते हैं तो आपके आस पास सकारात्मक वातावरण तैयार हो जाता है।

  16. आध्यात्मिक गतिविधियों में भाग लें – जो भी व्यक्ति आध्यात्मिक गतिविधियों में भाग लेते हैं, वह अपने जीवन काल में लंबे समय तक जीवित रहते हैं।

  17.  नियमित स्वास्थ्य जांच की आदत – जब आप नियमित रूप से स्वास्थ्य की जांच करवाते हैं तो इससे आपको मधुमेह, उच्च रक्तचाप, और हृदय रोग के बारे में आपको पहले से सूचित कर सकता है।

  18. आशावादी रहें – आशावादी रहना हर व्यक्ति की अच्छे व्यक्तित्व को दर्शाता है। इसके कारण आप लंबे समय तक जीवित रह सकते हैं। इसके जरिए आपके मानसिकता पर भी सकारात्मक प्रभाव पड़ता है और इससे आपका जीवन काल भी बढ़ सकता है।

आप हमारे निःशुल्क कैलकुलेटर का प्रयोग करके भी इस विषय में और जानकारी प्राप्त कर सकते हैं। इसके लिए लिंक नीचे दिया गया है।

कैसे ज्योतिष आपके जीवन काल को बढाने में सहायता कर सकता है? How astrology helps you increase your Lifespan/Longevity?

ऊपर दिए गए बिंदु मनोवैज्ञानिक पहलू से संबंध रखते हैं, लेकिन इसके कुछ अन्य ज्योतिषीय बिंदु हैं जो आपके जीवन प्रत्याशा में वृद्धि कर सकते हैं। यह सभी विशिष्ट बिंदु आपकी कुंडली में अलग अलग ग्रह और भाव से संबंध रखते हैं और यह आपको दीर्घ आयु प्राप्त करने में सहायता कर सकता है। यह सभी नीचे दिए गए हैं 

एक लंबे जीवन की कुंजी

त्रिक भाव को मजबूत करें – त्रिक भाव को किसी भी जातक की कुंडली का छठा/Sixth House, आठवां/Eighth House और बारहवां भाव/Twelfth House होता है। छठा भाव कर्ज, रोग और शत्रु का संकेत देता है। आठवां भाव छठे भाव से तीसरा भाव है, जिसमें जातक के लिए शक्ति होती है या उसे रोगी भी बना सकती है। आठवां भाव रोग के बढ़ने, उसके विकराल रूप लेने और स्थिति को खराब होने का संकेत दे सकता है। यह भाव उस स्थिति की संभावना को दर्शाता है जब कोई रोग उस व्यक्ति की जान ले ले। द्वादश भाव बंधन और उस बंधन से मुक्ति को दर्शाता है। विद्वानों ने अस्पताल और अस्पताल की चिकित्सा प्रणाली के लिए दोहरी भावना के संबंध का आकलन किया है और इस विषय में लोगों को जागरूक भी किया है। यदि कोई व्यक्ति बहुत ज्यादा गंभीर हालत में है और उसे तुरंत उपचार की आवश्यकता है तो उसे तुरंत अस्पताल ले जाएं। हमेशा इस बात का भी ख्याल रखें कि दोगुना मूल्य भी खर्च और नुकसान का संकेत देता है। इसलिए आपके लिए आवश्यक हो जाता है कि अपनी बीमारी से लड़ने के लिए आपको धन खर्च करने की आवश्कता पड़ती है। इसी प्रकार आठवें भाव/Eighth House में बीमारी की बढत या म़त्यु का डर, बीमारी दर्शाती है कि जातक को मेडिकल सुविधा से स्वास्थ्य लाभ हो सकता है।

लग्न का मजबूत होना – नीचे कुछ नियम दिए गए हैं जो बताते हैं कि जातक की कुंडली में लग्न स्थिर है और जातक को ज्यादा समय तक जीवित रह सकता है।

लग्न बल – लग्न की स्थिति को जानने के लिए कुछ विद्वानों ने कुछ सूत्र दिए जिन्हें नीचे दिया गया है –

  1. लग्न में शुभ ग्रह की नियुक्ति – बुध, बृहस्पति, शुक्र और पूर्णिमा कुछ प्राकृतिक शुभ ग्रह हैं। केंद्र और त्रिकोण के स्वामी/Lord of Trines भी गुणात्मक रूप से शुभ ग्रह कहलाए जाते हैं। जब यह ग्रह आपके लग्न में होते है, तो यह जातक के जीवन में खुशी और स्वास्थ्य जीवन को दर्शाता है।

  2. लग्न पर शुभ ग्रहों की दृष्टि – कभी कभी ऊपर बताए गए ग्रह आपकी कुंडली के लग्न में नहीं होते। लेकिन जब इन ग्रहों का लग्न से कोई संबंध हो और किसी भी पीड़ित ग्रह (शनि, मंगल, और राहु) से कोई संबंध न हो, तो जातक को अपने जीवन में ऊपर वाले परिणाम ही देखने को मिलते हैं।

  3. लगन की दृष्टियदि लग्न अपने ही भाव में हो और इस भाव पर लग्नेश की दृष्टि पड़े, लगान की बलि दी जाती है। तो ऐसे जातक सुखी से जीवन व्यतीत कर पाएगा।

  4. साजिश या लग्न – जब जन्म कुंडली/Natal Chart में राशिफल और नवमशा राशिफल एक समान मात्रा में हो, तो लगन वर्ग होता है। षड्यंत्र या षोडश वर्ग राशिफल में शुभ ग्रह का लग्न में स्थिति या दृष्टि या लग्न में स्थिति या अवधारणा में लग्न जातक को स्वस्थ बनाता है।

  5. ग्रहों की स्थिति लग्न में उच्च या राजयोग प्रदान करे तो यह जातक को शक्ति प्रदान करता है और यह जातक को सुख और अच्छा स्वास्थ्य प्रदान करता है।

  6. कुल मिला कर, लग्न को ज्यादा शुभ अंक (28 अंक से ज्यादा) दिए जाते हैं, या फिर लग्न ज्यादा भावनात्मक ताकत इकट्ठा करता है, और इसके फल स्वरूप जातक को बहुत इज्जत मिलती है और वह खुश रहता है।

यदि आपकी कुंडली/Kundali में ऊपर दिए गए तरीकों में से किसी भी तरीके से लग्न मजबूत नहीं है, तो आप कुछ ज्योतिषीय समाधान करके इसमें कुछ बदलाव करवा सकते हैं, जिससे आपको लग्न मजबूत हो जाएगा।

लगन के स्वामी को मजबूत करना/Strengthening the Lagna Lord or Ascendant Lord

नीचे दिए गए तरीकों से लग्न के स्वामी स्वस्थ हो सकते हैं, जो जातक को लंबी आयु प्रदान कर सकती है। लग्न की मजबूती: राशि के स्वामी जब लग्न में स्थित होते हैं, तब भी उसे लग्न ही कहते हैं।

  1. यदि लग्न उत्तम अवस्था में हो।

  2. लग्न वर्ग हो, और यह जन्म कुंडली/Birth Chart और राशिफल/Horoscope में एक ही राशि में हो।

  3. लग्नेश स्वाभिमानी हो।

  4. लग्न मित्र क्षेत्र में हो (लग्न मित्र ग्रह में हो)

  5. लग्नेश का अशुभ स्थान पर होना जैसे – पहले/First House, चौथे/Fourth House, सातवें/Seventh House, दसवें भाव/Tenth House (केंद्र की स्थिति);पांचवे/Fifth House और नौवें भाव/Ninth House (त्रिकोण) का दूसरे/Second House और ग्यारहवें भाव/Eleventh House (धन, लाभ) में होना।

  6. लग्न शुभ और मित्र ग्रह में हो।

  7. लग्नेश राजयोग में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है जिसमें लग्नेश का त्रिकोण से या त्रिकोण से दृष्टि संबंध होना चाहिए। इनमें से कोई भी योग होने के कारण जातक सुखी और खुश रहेगा। यदि लग्न के स्वामी नियम के अनुसार शक्तिशाली नहीं है, तो उस स्थिति में कर्म में सुधार की आवश्यकता होती है जिससे लग्न के स्वामी शक्तिशाली हो जाएंगे तो यह जातक को लंबी आयु प्रदान कर सकती है।

निष्कर्ष –क्या आपके भी मन में भी कुछ प्रश्न उत्पन्न हो रहे हैं जैसे – मैं कब तक जीवित रहूंगा? क्या कोई मेरी उम्र बढ़ा सकता है? मेरी जीवन प्रत्याशा की भविष्यवाणी कौन कर सकता है? Who can predict my life expectancy? क्या प्रभु या भगवान से प्रार्थना करने से उम्र बढ़ सकती है? मैं कैसे बिना बीमारी के लंबी आयु तक जी सकता हूं? How can I live a long life without disease? मैं अपनी मृत्यु की तिथि कैसे पता लगा सकता हूं? How can I know my death date?

बढ़ती उम्र के साथ इन प्रश्नों का सामने होना लाजमी है। ऐसा इसलिए होता है क्योंकि बढ़ती उम्र के साथ मृत्यु के भय भी उत्पन्न होते हैं। जैसे ही व्यक्ति उस उम्र तक पहुंचते हैं वैसे ही वह ऐसे शख्स को ढूंढते हैं जो उनके इन प्रश्नों का उत्तर दे सकें।

ज्योतिषी ही वह व्यक्ति होते हैं जो आपकी कुंडली/Natal Chart को देखकर इन सभी प्रश्नों का उत्तर दे सकते हैं। वह आपको सटीक उम्र तो नहीं बता पाएंगे लेकिन वह आपको बता सकते हैं कि आपकी कुंडली में अल्पायु या मध्यम आयु या दीर्घ आयु का संकेत दे सकते हैं।

मुझे आशा है कि इस विषय में मैंने आपको सारी जानकारी दे दी है। यदि फिर भी आपको कोई समस्या आ रही है तो आप नीचे दिए गए तरीकों से मुझे सहायता ले सकते हैं।

जीवनकाल के लिए ऑनलाइन रिपोर्ट लें

ज्योतिषीय सत्र के लिए मुझसे संपर्क करें।

आप चिकित्सा ज्योतिष और गंभीर स्वास्थ्य मुद्दों पर ज्योतिष आपकी मदद कैसे करता है, जन्म कुंडली में नशीली दवाओं और शराब की लत, जन्म कुंडली में विशिष्ट रोग संकेत, यौन स्वास्थ्य का बारे में हमारे पेज से पढ़ सकते हैं।

नवीनतम ज्योतिष समाचार: डॉ विनय बजरंगी

निःशुल्क कैलकुलेटर