जन्म कुंडली में विशिष्ट रोग के संकेत

ज्योतिष में ग्रहों के संयोजन के अलग अलग मतलब और उन्हें पढ़ने के अलग अलग नियम हैं। वहीं हर तर्क में अपवाद भी होता है। इस लेख में जो भी बातें की गई है, जरूरी नहीं कि वह आपके लिए सही हो। हर व्यक्ति के सेहत का ज्योतिषीय आकलन करने के लिए एक ज्ञानी ज्योतिषी तीन चीजों का मूल्यांकन करते हैं – ग्रह के स्वामी, उस अंग से जुड़ा हुआ भाव, और भाव की स्थिति जो संबंधित ग्रह को प्रभावित करती है।

दूसरे, वह उसी विशेषताओं और नियमों के साथ जातक की कुंडली की जांच करते हैं, जिसे इस लेख में बताया गया है। नीचे के भाग में, हम शरीर के विभिन्न हिस्सों के बारे में बात करेंगे और देखेंगे कि कैसे ग्रहों की स्थिति और गोचर आपके स्वास्थ्य स्थिति को दर्शाती है।

मानसिक रोग, मिर्गी और जन्मजात रोगों के लिए ज्योतिषीय संयोजन/Astrological combination for Mental Illness, Epilepsy and Congenital Diseases

मानसिक रोग

मानसिक रोग, मिर्गी और जन्मजात रोगों के लिए ज्योतिषीय संयोजन/Astrological combination for Mental Illness, Epilepsy and Congenital Diseases

मानसिक रोग

मानसिक रोग गंभीर रोगों की सूची में आता है और कभी कभी इससे लोगों की मृत्यु भी हो सकती है। इसमें उत्तेजना के तत्व के साथ असामान्य व्यवहार, चरम, अप्रत्याशित व्यवहार भी शामिल होता है। क्रोध, आक्रामकता, उदासी और अवसाद मानसिक रोग के पहले कुछ लक्षणों में से होते हैं।

ज्योतिष के अनुसार, कुछ कारक आपके मानसिक स्वास्थ्य को क्षतिग्रस्त कर सकते हैं। उन सभी कारकों को नीचे दिया गया है।

  1. चंद्रमा – चंद्रमा मानसिक स्थिति, किसी के प्रति भावना, और भावनात्मक प्रतिक्रिया और मानसिक अनुकूलता को प्रभावित करते है।
  2. बुध – बुध जातक के तंत्रिका तंत्र और शैक्षिक अनुशासन को नियंत्रित करता है। यह ग्रह जातक के तर्क करने की क्षमता और उसकी समझ को भी देखता है। ऊपर दिए गए सभी कारकों का दुश्मन चंद्रमा होता है।
  3. बृहस्पति – बृहस्पति जातक की परिपक्वता और ज्ञान को दर्शाता है। इस ग्रह का बुध ग्रह की तरफ तटस्थ झुकाव होना चाहिए, क्योंकि बुध बृहस्पति का प्रथम शत्रु होता है।
  4. पांचवा भाव/Fifth House – पांचवा भाव/Fifth House मोह, सोच, तर्क और बुद्धि का भाव है। पांचवा भाव या पांचवे लग्न को मानसिक या शारीरिक पीड़ा से परेशान माना जाता है, जिसमें स्वस्थ दिमाग का होना बेहद अनिवार्य होता है।
  5. लग्न और मेष राशि – मेष को काल पुरुष का सिर माना जाता है, और यह लग्न जातक के सिर को दर्शाता है।
  6. एंटीपैथी और लाभकारी योग – एंटीपैथी या पीड़ित योग/Malefic Yoga रोग को बढ़ावा देते हैं, लाभकारी योग उस रोग को ठीक करने में सहायता करता है।
  7. चंद्रमा का आपदा की डिग्री – यह सरल मानसिक व्यक्तित्व को दर्शाता है। यदि चंद्रमा नीचे दिए गए कारक से पीड़ित हो तो जातक को न्यूरो-साइकिल डिसऑर्डर हो सकता है:
  • सूर्य: यह गुस्सैल, झगड़ालू व्यवहार और आत्म-महिमा को बढ़ाता है।
  • मंगल: यह आपको गुस्सैल, आक्रामक और हिंसक बनाता है।
  • शनि: यह जातक के अवसाद, मनोविकार के लिए जिम्मेदार होता है, साथ में यह
  • जातक की मानसिक स्थिति को प्रभावित भी करता है। 
  • राहु: यह आपको चालाक विचार प्रदान करता है, पागलपन (सिज़ोफ्रेनिया), अलग-अलग फोबिया, उन्माद जैसी विकलांगता और कभी-कभी आत्मघाती प्रवृत्ति देता है।
  • केतु: केतु आपकी आत्मघाती प्रवृत्ति को प्रभावित करता है, फोबिया और कभी-कभी यह ग्रह जातक को दूसरों पर बिना किसी साक्ष्य के शक करने पर मजबूर करता है।

मानसिक रोग के लिए शास्त्रीय संयोजन/जातक त्तव {Classical combination of Mental Illness (Jatak Tatwa}

  • मंगल ग्रह मानता है कि चंद्रमा और शनि का संबंध जातक को एक साथ अवसाद और गुस्सैल की स्थिति में डाल सकता है।
  • आठवें भाव/Eighth House में चंद्रमा और राहु फोबिया का संकेत देते हैं।
  • शुक्र और चंद्रमा की युति केंद्र में हो तो आठवें भाव/Eighth House में एंटीपैथी या पीड़ित योग बनता है।
  • शनि का छठे भाव/Sixth House में मंगल से संबंधित रोग का संकेत देता है, और यदि यह आठवें भाव में हो तो यह जातक के लिए एंटीपैथी या पीड़ित योग बनता है।
  • शनि का छठे भाव/Sixth House में मंगल का संबंध इस रोग का संकेत देता है, और यदि यह संयोजन आठवें भाव में हो, तो यह जातक को गहरी चिंतन में डाल सकता है।
  • सूर्य, चंद्रमा, और मंगल का लग्न और आठवें भाव में होने से यह पीड़ित योग से प्रभावित हो सकता है।
  • ग्रहण के दौरान राहु/केतु का चंद्रमा पर नकारात्मक प्रभाव डाले; शनि और मंगल का छठे/Sixth House और आठवें भाव/Eighth House में मौजूदगी और लग्न/ ट्राइन बिना बृहस्पति से संबंध।
  • चंद्रमा का छठे भाव और राहु का लग्न में मौजूदगी।
  • कमजोर चंद्रमा और शनि का लग्न में या आठवें/Eighth House या बारहवें भाव/Twelfth House में मौजूदगी। चूँकि चंद्रमा वृषभ में लाभकारी स्थान पर है या कर्क लग्न में हो और चंद्रमा और शनि चौथे/Fourth House, दसवें/Tenth House या ग्यारहवें भाव/Eleventh House में हो।
  • बृहस्पति का लग्न में होना और शनि या मंगल का सातवें भाव/Seventh House में मौजूदगी मानसिक अशांति को दर्शाता है।
  • शनि का लग्न में और मंगल का पांचवें/Fifth House, सातवें/Seventh House और नौवें भाव/Ninth House में मौजूदगी।

ज्योतिष में मिर्गी/Epilepsy in Astrology

मिर्गी केंद्रीय तंत्रिका तंत्र का रोग है। इस स्थिति में दिमाग अपने सामान्य कार्य को करने में असमर्थ हो जाता है। मिर्गी के दौरे से असामान्य व्यवहार जैसी स्थिति उत्पन्न हो सकती है और कभी-कभी व्यक्ति की मानसिक मनोदशा भी खराब हो सकती है।

मिर्गी का शास्त्रीय संयोजन जो मानसिक बीमारी के समान है

  • मंगल द्वारा एक स्थिति के रूप में चंद्रमा और शनि ग्रह।
  • चंद्रमा और राहु का आठवें भाव/Eighth House में मौजूदगी।
  • शनि और मंगल का छठे/Sixth House और आठवें भाव/Eighth House में मौजूदगी।
  • राहु का लग्न और चंद्रमा का आठवें भाव में होना।
  • जन्म के समय ग्रहण और बृहस्पति और मंगल का छठे और आठवें भाव में होना, जिसमें यह संयुक्त रूप से या अलग मौजूद हो सकते हैं।
  • सूर्य, मंगल और शनि एक साथ आठवें भाव के साथ युती में हो।

जन्म कुंडली में जन्मजात विकार या रोग/Congenital Disorder or Illness in the Birth Chart

जन्मजात रोग जन्म के समय से होने वाला रोग हैं जिसके अनेक कारण हो सकते हैं। इस विकार से अन्य विकलांगता हो सकती है जैसे – शारीरिक, बौद्धिक या विकासात्मक विकलांगता। विकलांगता का प्रभाव हल्के से लेकर गंभीर हो सकता है।

जन्मजात विकार के लिए शास्त्रीय संयोजन

  • कार्यात्मक रूप से पीड़ित योग या ग्रह उसी के साथ जुड़ा हुआ है।
  • लग्न और छठे/Sixth House, आठवें/Eighth House और बारहवें भाव/Twelfth House या उनके स्वामी के साथ जुड़े हुए ग्रह।
  • कमजोर लग्न या लग्न या लग्न के स्वामी।
  • चन्द्रमा से नकारात्मक रूप से प्रभावित, हो तो शिशु मृत्यु – दर जैसी स्थिति खड़ी हो सकती है। 
  • मजबूत बृहस्पति या लग्न स्वामी का चंद्रमा पर प्रभाव; केंद्र में प्राकृतिक लाभकारी योग और पीड़ित योग का तीसरे/छठे/ग्यारहवें भाव में मौजूदगी, जिससे उपर दिया गया लाभकारी योग निरस्त हो जाते है।

हिंदुस्तान टाइम्स में प्रकाशित मेरे लेख को पढ़ने के लिए समाचार विभाग में जाए। इस लेख से आपको कुछ सामान्य प्रश्नोत्तर का सरल जवाब मिल जाएंगे।

वैदिक ज्योतिष/Vedic Astrology के अनुसार, आपकी कुंडली के कुछ ग्रह मानव शरीर के मानसिक, शारीरिक और अन्य अंग संबंधी रोग के बारे में बता सकता है। चलिए उन ज्योतिषीय संयोजन को जानते हैं जिनसे कान और आँख के रोग का पता चल सकता है।

वैदिक ज्योतिष/Vedic Astrology के अनुसार, आपकी कुंडली के कुछ ग्रह मानव शरीर के मानसिक, शारीरिक और अन्य अंग संबंधी रोग के बारे में बता सकता है। चलिए उन ज्योतिषीय संयोजन को जानते हैं जिनसे कान और आँख के रोग का पता चल सकता है।

नेत्र रोग

नेत्र रोग को प्रभावित करने वाले पैरामीटर

  1. सूर्य – सूर्य दाहिनी आँख को दर्शाता है।
  2. चंद्रमा – चंद्रमा बायीं आँख को दर्शाता है।
  3. शुक्र – यह ग्रह आँख, नजर, और आंखों का लेंस का संकेत देता है। शनि जातक को छोटी आंखें देता है।
  4. दूसरा भाव/दूसरा लग्न/Second House/Second Lagna – दूसरा भाव दाहिनी आँख में रोशनी का संकेत देता है, जबकि दूसरे लग्न का छठे/Sixth House और आठवें भाव/Eighth House में होना आँख या आँख की रोशनी में किसी समस्या को दर्शाता है।
  5. बारहवां भाव/Twelfth House – यह भाव बायीं आँख में समस्या को दर्शाता है। चंद्रमा का बारहवें भाव में होना बायीं आँख में समस्या को दर्शाता है। सूर्य का बारहवें भाव में होना दाहिनी आँख में चोट ता संकेत देता है, जिसके कारण आँखों की रोशनी जाने की संभावना बन सकती है।

नेत्र रोग के लिए शास्त्रीय संयोजन

  1. सिंह लग्न में सूर्य और चंद्रमा ग्रह शनि द्वारा मुखर होकर जन्मजात अंधापन का संकेत देते हैं। ऐसे संयोजन वाले व्यक्ति अंधे पैदा हो सकते है।
  2. शनि का लग्न में होना नेत्रों के लिए हानिकारक साबित हो सकता है।
  3. मेष राशि सूर्य द्वारा आँख में जलन का संकेत देता है। पांचवें भाव के स्वामी/Fifth House Lord का उत्तम स्थान में होना राजयोग का संकेत देता है।
  4. सिंह राशि रतौंधी का संकेत देता है।
  5. कर्क राशि मोतियाबिंद का संकेत देता है।
  6. तुला राशि अंधापन को दर्शाता है।
  7. राहु-केतु अक्ष में लग्न में सूर्य और त्रित्व में पीड़ित ग्रह।
  8. दूसरे भाव/Second House में पीड़ित योग सूर्य को नकारात्मकता से प्रभावित करे।
  9. दूसरे भाव/Second House में दो पीड़ित योग।
  10. पीडित सूर्य से दूसरे भाव में चंद्रमा का दुष्प्रभाव हो।

कान का रोग/Ear Disease

कान के रोग के पैरामीटर

  1. बुध – सुनने और सभी प्रकार के संचार का कराक बुध है।
  2. तीसरा भाव या तीसरे भाव का स्वामी/Third House or Third house lord – यह सुनने की क्षमता के बारे में संकेत देता है और यह दाहिना कान का संकेत देता है।
  3. बारहवा भाव या उसका स्वामी/Twelfth House and its lord – दाएं कान का संकेत देता है।
  4. सुनने की क्षमता का कारक बुध है और कान का कारक बृहस्पति।

शास्त्रीय संयोजन

  1. तीसरे या ग्यारहवें भावThird or eleventh House और नौवें घर/Ninth House पर पीडित ग्रह का प्रभाव
  2. बुध का छठे/Sixth House और आठवें भाव/Eighth House और बारहवें भाव/Twelfth House में मौजूदगी।
  3. बुध और शुक्र का बारहवें भाव में मौजूदगी बाएं कान में सुनने में समस्या को दर्शाता है।
  4. छठे/आठवें भाव में बुध और छठे भाव के स्वामी/Sixth House lord का संयोजन और बारहवें भाव का शनि द्वारा घर का पहलू।
  5. तीसरे/छठे भाव में सूर्य और बुध का संयोजन और ग्यारहवें भाव/Eleventh House पर सूर्य या मंगल ग्रह का प्रभाव।
  6. चंद्रमा और बुध का संयोजन और शुक्र और राहु / केतु का तीसरे या नौवें भाव या पांचवें भाव/Third or ninth or fifth House और ग्यारहवें भाव/Eleventh House में होने से यह कान के अंदरूनी हिस्से के रोग का संकेत देता है।

यदि आप हमारे निःशुल्क कैलकुलेटर का प्रयोग करके जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं, तो इस पेज पर मौजूद लिंक पर क्लिक करें।

कुंडली में कैंसर, हृदय और फेफड़ों के रोग/Cancer, Heart and Lung Diseases in the Horoscope

ज्योतिष से इन रोगों के बारे में पता लगाना बहुत सरल है। कुंडली/Birth Chart से रोग के पता लगाने के बहुत सारे कारण और तरीके हो सकते हैं। चलिए इस लेख में आगे आपको इसके शास्त्रीय संयोजन और पैरामीटर को समझाने का प्रयास करते हैं।

कुंडली में कैंसर, हृदय और फेफड़ों के रोग/Cancer, Heart and Lung Diseases in the Horoscope

ज्योतिष से इन रोगों के बारे में पता लगाना बहुत सरल है। कुंडली/Birth Chart से रोग के पता लगाने के बहुत सारे कारण और तरीके हो सकते हैं। चलिए इस लेख में आगे आपको इसके शास्त्रीय संयोजन और पैरामीटर को समझाने का प्रयास करते हैं।

कैंसर रोग

कैंसर रोग के पैरामीटर

  1. शनि और राहु की निम्नलिखित कारकों के कारण दुर्बल है: -

  • भाव शरीर के अंग को दर्शाता है।

  • भाव के स्वामी

  • काल पुरुष राशि के संबंध में

  • राशि के स्वामी

  • भाव कारक और शरीर के अंग के कारक

2. कमजोर लग्न और लग्न का स्वामी

3. छठे भाव या छठे भाव के स्वामी/Sixth House or Sixth House lord से संबंध

4. यह कुंडली में चंद्रमा / सूर्य की पुष्टि करें।

कैंसर के लिए शास्त्रीय संयोजन

  1. शनि या मंगल का छठे/Sixth House और आठवें भाव/Eighth House में राहु या केतु के साथ मौजूदगी।
  2. छठे भाव का स्वामी/Sixth House lord या तो लग्न में हो, या आठवें भाव/Eighth House या दसवें भाव/Tenth House पर कोई नकारात्मक प्रभाव पड़े।
  3. लग्न या लग्न के स्वामी आपदा या छठे भाव के स्वामी/Sixth House lord छठे भाव में हो और सूर्य किसी नकारात्मक प्रभाव में हो।
  4. कर्क लग्न; बृहस्पति छठे भाव के स्वामी/Sixth House lord के साथ शुरू हो और शनि और मंगल, छठे/आठवें/Sixth/eighth या बारहवें लग्न/Twelfth Lagna या राहु या केतु से प्रभावित हो।
  5. राहु और केतु छठे भाव/आठवें भाव/बारहवें भाव के स्वामी पर सूर्य से प्रभाव डाले।

हृदय रोग

हृदय रोग तीन तरह के होते हैं। वह हैं –

1. आईएचडी (इस्केमिक हृदय रोग) या सीएडी (कोरोनरी धमनी रोग): हृदय की पेशियों में जब रक्त के बहाव में दिक्कत आ जाए तो पूरे शरीर में रक्त के बहाव में समस्या आ सकती है। ऐसे रोग वाले व्यक्ति को शल्य चिकित्सा/surgical treatment की जरूरत पड़ सकती है।

2. सीएचडी (जन्मजात हृदय रोग): इस रोग के बहुत सारे रूप होते हैं। इस रोग का भी इलाज शल्य चिकित्सा/surgical treatment के जरिए ही होता है। लेकिन इस उपचार से भी पूर्ण इलाज नहीं हो सकता है।

3. कार्डियोमायोपैथी – इस रोग की स्थिति में हृदय का आकार बहुत बड़ा हो जाता है, लेकिन उसके कार्य करने की क्षमता कम हो जाती है। लेकिन इसका कोई अंतिम उपचार नहीं है।

पैरामीटर

  1. सूर्य – सूर्य हृदय का संकेत देता है।
  2. सिंह – सिंह कालपुरूष का हृदय है।
  3. लग्न से पांचवे भाव के स्वामी/Fifth House lord, सूर्य, दशा के स्वामी, या अंतर्दशा के स्वामी जातक के केंद्र को इंगित करता है।
  4. लग्न से चौथे भाव/Fourth House और सूर्य: यह छाती की सर्जरी की संभावना को दर्शाता है और इसका लाभकारी प्रभाव सुधारात्मक सर्जरी को दर्शाता है।
  5. पांचवे भाव/Fifth House में सूर्य या पांचवें भाव के स्वामी/Fifth House lord के साथ संबंधित ग्रह की दशा योजना।

शास्त्रीय संयोजन

  1. शनि का पांचवे भाव में होना और सूर्य का कुंभ या छठे भाव में होना।
  2. पीड़ित योग वृश्चिक राशि में सूर्य के साथ स्थित है।
  3. लग्न के स्वामी कमजोर हैं, राहु का चौथे और पांचवें भाव में होना पीड़ित योग को दर्शाता है, जो जातक को दिल के दौरे जैसी गंभीर समस्या दे सकता है।
  4. चौथे भाव के स्वामी/Fourth House lord का आठवें भाव के स्वामी/Eighth House lord के साथ आठवें भाव/Eighth House में होना।
  5. चौथे और पांचवें भाव के स्वामी/Fourth and fifth house lord का किसी भी लाभकारी ग्रह या भाव के साथ कोई संबंध ना होना।
  6. केतु का मंडी के साथ तीसरे भाव/Third House में होना।
  7. चंद्रमा का मंगल के साथ छठे या बारहवें भाव/Sixth or twelfth house में होना, शनि या राहु अचानक दिल के दौरे का संकेत देते हैं।

फेफड़ों का रोग/Lung Diseases

पैरामीटर

  1. चौथे भाव और चौथे भाव के स्वामी/Fourth house or fourth house lord
  2. कर्क
  3. चंद्रमा

फेफड़ों का रोग के शास्त्रीय संयोजन

  1. सूर्य पहले और नौवें दिन चंद्रमा से बदली करे।
  2. मंगल द्वारा अंकित चंद्रमा और सूर्य का संयोजन यक्ष्मा/Tuberculosis की संभावना को दर्शाता है।
  3. लग्न मंगल और शनि से युति करे।

ज्योतिष में लीवरदुर्घटना, मधुमेह और अन्य बीमारियों के लिए जिम्मेदार ग्रह/Planets responsible for Liver, Accidents, Diabetes and other Diseases in Astrology

ज्योतिष के अनुसार जो कमजोर ग्रह नकारात्मक भाव के संपर्क में आता है तो वह स्थिति किसी गंभीर चोट और गंभीर रोग की तरफ इशारा करता है। चलिए आपको बताते हैं कि ज्योतिष में लीवर, दुर्घटना, मधुमेह और अन्य बीमारियों के लिए कौन से ग्रह जिम्मेदार होते हैं।

ज्योतिष में लीवरदुर्घटना, मधुमेह और अन्य बीमारियों के लिए जिम्मेदार ग्रह/Planets responsible for Liver, Accidents, Diabetes and other Diseases in Astrology

ज्योतिष के अनुसार जो कमजोर ग्रह नकारात्मक भाव के संपर्क में आता है तो वह स्थिति किसी गंभीर चोट और गंभीर रोग की तरफ इशारा करता है। चलिए आपको बताते हैं कि ज्योतिष में लीवर, दुर्घटना, मधुमेह और अन्य बीमारियों के लिए कौन से ग्रह जिम्मेदार होते हैं।

पीलिया/Jaundice

पैरामीटर

  • पांचवा भाव या पांचवें भाव का स्वामी/Fifth hour or fifth house lord
  • बृहस्पति
  • केतु और बृहस्पति एक दूसरे से छठे या आठवें स्थान पर हो।
  • दशा या अंतरा दशा में प्रभावित बृहस्पति

दुर्घटना / चोट की संभावना

पैरामीटर

  • चौथा भाव या चौथा भाव का स्वामी वाहन को दर्शाता है।
  • छठा भाव या छठे भाव के स्वामी घाव या फ्रैक्चर को दर्शाते हैं।
  • आठवा भाव या आठवें भाव का स्वामी चंचलता को दर्शाता है।
  • बारहवां भाव और उसका स्वामी/Twelfth House and twelfth house lord अस्पताल को दर्शाता है।
  • मंगल घाव का संकेत देता है।
  • शुक्र वाहन का संकेत है।
  • लग्न और लग्न के स्वामी के साथ संबंध
  • पुष्टि के लिए चंद्रमा के चार्ट का आकलन करना अनिवार्य होता है।
  • दिशा या दशा के बाद के मापदंड का पहलू।

शास्त्रीय संयोजन

  • चौथे भाव के स्वामी/Fourth House lord का छठे भाव के स्वामी/Sixth House lord से बदली।
  • चंद्रमा या चौथे भाव/Fourth House पर मंगल का दुषप्रभाव।
  • सूर्य का दसवें भाव/Tenth House में होना साथ में उसके ऊपर मंगल का प्रभाव जो चौथे भाव से संबंध रखता है। यह संयोजन वाहन से दुर्घटना को दर्शाता है।
  • मंगल का चौथे भाव में मौजूदगी, और सूर्य और शनि का सातवें भाव में होना इस बात का संकेत देता है कि जातक अग्नि की किसी दुर्घटना में क्षतिग्रस्त हो सकता है।
  • राहु या केतु का छठे/आठवें भाव में होना या बारहवें भाव का केंद्र/त्रिकोण के स्वामी/Lord of trines में होना इस बात का संकेत देता है कि जातक के साथ कोई बहुत बड़ी दुर्घटना घट सकती है।
  • लग्न के स्वामी और मंगल का छठे/आठवें या बारहवें भाव में होना।
  • छठे और आठवें भाव/Sixth and eighth house में छठे भाव के स्वामी/Sixth house lord का होना शरीर पर छाले या घावों का संकेत देते है।
  • लग्न के स्वामी, चौथे भाव के स्वामी/Fourth house lord और शनि का चौथे भाव/Fourth house में संयोजन, चंद्रमा का सातवें भाव Seventh House, और मंगल का चौथे भाव/Fourth House और मंगल का केंद्र में पीड़ित प्रभाव, चोट या डूबने से मौत का संकेत देता है।

मधुमेह Diabetes

मधुमेह इंसुलिन नाम के हार्मोन की कमी के कारण होता है जो अग्न्याशय ग्रंथि/Pancreas द्वारा उत्पादित होती है। इस रोग में ग्लूकोज के चयापचय/Metabolism में दिक्कत रहती है। लक्षण के तौर पर आप रक्त और शरीर के ऊतकों में अतिरिक्त ग्लूकोज की मात्रा देख सकते हैं।

पैरामीटर

  • बृहस्पति – यह जिगर और अग्न्याशय/Pancreas के ऊपरी भाग का संकेत देता है।
  • शुक्र – अग्न्याशय के कुछ हिस्सों को दिखाता है और साथ में हार्मोनल प्रणाली का भी संकेत देता है।
  • पांचवा भाव या पांचवें भाव का स्वामी/Fifth house or fifth house lord पेट के ऊपर के हिस्सा/Upper abdomen को दर्शाता है।

शास्त्रीय संयोजन

  • बृहस्पति छठे/Sixth House, आठवें/Eighth House, और बारहवें भाव/Eighth House में से किसी एक भाव में लागू हो।
  • शनि और राहु बृहस्पति पर दुष्प्रभाव डाले।
  • बृहस्पति या तो राहु या केतु अक्ष में नुकसान पहुंचाए।
  • बृहस्पति बारहवें भाव/Twelfth House से शुक्र के छठे भाव/Sixth House पर प्रभाव डाले।
  • छठे/Sixth House, आठवें/Eighth House, या बारहवें भाव/Twelfth House में से किसी एक भाव से पांचवे भाव के स्वामी/Fifth House lord के साथ युती करे।
  • बृहस्पति का छठे, आठवें, और बारहवें भाव पर नकारात्मक प्रभाव।

परिशिष्ट रोग (Appendicitis)

पैरामीटर

  • शुक्र – यह परिशिष्ट रोग का संकेत देता है।
  • छठे भाव का स्वामी या छठा भाव/Sixth House lord or sixth house – परिशिष्ट रोग का बहुत छोटा संकेत देता है।
  • आम तौर पर वृषभ, शुक्र और मिथुन राशियों पर नकारात्मक प्रभाव से इस रोग के बारे में जारी विशिष्ट जानकारी प्राप्त की जा सकती है।

कुष्ठ रोग (Leprosy)

पैरामीटर –

  • चंद्रमा और शुक्र और चौथा/Fourth House, आठवां/Eighth House और बारहवां भाव/Twelfth House: पानी की विशेषता वाले ग्रहों से सूर्य, मंगल, शनि और राहु का संबंध।
  • शुक्र – यह त्वचा की सुंदरता का कारक है।

शास्त्रीय संयोजन

  • चंद्रमा और शुक्र का शांत व्यवहार वाले राशियों के साथ नकारात्मक संबंध के कारण कुष्ठ रोग की संभावना बनती है।
  • चंद्रमा, मंगल, और शनि का मेष और वृषभ में मौजूदगी से कुष्ठ रोग हो सकता है।
  • छठे भाव के स्वामी/Sixth House lord का सूर्य के साथ लग्न में मौजूदगी रक्त कुष्ठ रोग को दर्शाता है।
  • मंगल का लग्न, शनि का चौथे भाव/Fourth House, और सूर्य का आठवें भाव/Eighth House में होना।
  • सूर्य, मंगल, और शनि का संयोजन किसी भी भाव में मौजूदगी।
  • चंद्रमा, शुक्र, शनि और मंगल का किसी शांत स्वभाव की राशि में होना।
  • बुध और शनि का सातवें भाव में संयोजन।

स्वास्थ्य पर किसी विशेष मार्गदर्शन के लिए, आप निम्नलिखित तरीकों से सहायता ले सकते हैं:

जन्म कुंडली में रोगों पर ऑनलाइन रिपोर्ट लें या

एक ज्योतिषीय सत्र के लिए मुझसे परामर्श करें।

आप चिकित्सा ज्योतिष और गंभीर स्वास्थ्य मुद्दों पर ज्योतिष आपकी मदद कैसे करता है, जन्म कुंडली में नशीली दवाओं और शराब की लत, जन्म कुंडली में विशिष्ट रोग संकेत, यौन स्वास्थ्य का बारे में हमारे पेज से पढ़ सकते हैं।

नवीनतम ज्योतिष समाचार: डॉ विनय बजरंगी

निःशुल्क कैलकुलेटर