बंधन योग - जेल योग के कारण और समाधान

बंधन योग

कारावास कोई नहीं जाना चाहता और ना ही कोर्ट कचहरी के चक्कर काटना चाहता है। लेकिन कभी कभी ऐसे योग बन जाते हैं कि ना चाहते हुए भी आपको जेल जाना पड़ सकता है। क्या आप जानते हैं कि आपकी कुंडली से आपके जेल जाने के योग के बारे में जाना और समझा जा सकता है। यदि नहीं जानते हैं, तो इस लेख को अंत तक पढ़ें।

आपकी कुंडली/Kundli में कारावास योग के बारे में पता लगाने के लिए बारहवें भाव/Twelfth House का आकलन करना अनिवार्य होता है। अगर कोई व्यक्ति मुकदमा हार जाता है, तो इसका मतलब है कि उस व्यक्ति का छठा भाव/Sixth House पूरक भाव की रक्षा करने में विफल रहता है। इस स्थिति में जातक का बारहवां भाव/ Twelfth House सक्रिय हो जाता है, जिसके कारण उस व्यक्ति को जेल भी जाना पड़ सकता है।

आपकी कुंडली/Kundli में जेल योग/कारावास योग या फिर बंधन योग का पता लगाने के बहुत सारे तरीके हैं जिन्हे हम एक एक करके आपको बताने वाले हैं।

जेल जाने की संभावना को बताने वाले ग्रह

जिस प्रकार आपकी कुंडली/Kundli आपके जीवन से जुड़ी हर छोटी से छोटी और बड़ी से बड़ी परेशानियों के बारे में बताता है, उसी प्रकार यह आपके जीवन में कारावास के योग के बारे में भी बताती है। कुंडली में कुछ ग्रह इस स्थिति की संभावना के बारे में बताने में सक्षम होता है। आपकी कुंडली/Kundli में साफ साफ इंगित है कि किस भाव के कारण आपको कारावास हो सकता है। कुछ ग्रहों के संयोजन आपके कारागार जाने की संभावना को भी दर्शाता है।

जेल जाने की संभावना को बताने वाले ग्रह

जिस प्रकार आपकी कुंडली/Kundli आपके जीवन से जुड़ी हर छोटी से छोटी और बड़ी से बड़ी परेशानियों के बारे में बताता है, उसी प्रकार यह आपके जीवन में कारावास के योग के बारे में भी बताती है। कुंडली में कुछ ग्रह इस स्थिति की संभावना के बारे में बताने में सक्षम होता है। आपकी कुंडली/Kundli में साफ साफ इंगित है कि किस भाव के कारण आपको कारावास हो सकता है। कुछ ग्रहों के संयोजन आपके कारागार जाने की संभावना को भी दर्शाता है।

किसी भी तरह का अलगाव, चाहे मानसिक हो या शारीरिक, बंधन योग के अंतर्गत आता है। इसको  भगवान शिव द्वारा "जातक तत्त्व" में परिभाषित भी किया गया है। यहाँ मानसिक परेशानी का तात्पर्य आपके दिनचर्या या किसी भी अन्य काम को लेकर तनाव में होना है। जातक तत्त्व में भगवान शिव के द्वारा साफ साफ परिभाषित है कि अगर दूसरे/Second House पांचवें/Fifth House और नौंवे भाव/Ninth House में कोई पीड़ित ग्रह मौजूद है तो जातक के कारावास की संभावना सबसे ज्यादा होती है। यह संयोजन कारावास जाने वाले सभी संयोजन में से एक है। जब नकारात्मक ग्रह बारहवें भाव/Twelfth House में आकर विराजमान हो जाए और शनि पीड़ित हो, तो यह संभावना और भी मजबूत हो जाती है।

इन ग्रहों की वजह से कारावास का योग बनता है

चलिए उन ग्रहों के बारे में बात करते हैं जो आपकी कुंडली/Kundli) में कारागार जाने के योग को दर्शाते हैं। राहु, शनि, और मंगल ही वह ग्रह हैं जिनके प्रभाव से जातक के कारावास जाने के योग बनते है। 

इन ग्रहों की वजह से कारावास का योग बनता है

चलिए उन ग्रहों के बारे में बात करते हैं जो आपकी कुंडली/Kundli) में कारागार जाने के योग को दर्शाते हैं। राहु, शनि, और मंगल ही वह ग्रह हैं जिनके प्रभाव से जातक के कारावास जाने के योग बनते है। 

  1. राहु ग्रहों के प्रकोप के रूप में भी जाना जाता है। इस ग्रह को कारावास योग के प्राथमिक संकेतक के रूप में भी देखा जाता है। इस ग्रह के प्रभाव के कारण व्यक्ति को सत्ता में रहने वालों के खिलाफ विद्रोह कर सकता है या फिर कोई अन्य व्यक्ति उस व्यक्ति के ऊपर झूठे आरोप भी लगा सकता है। 
  2. कर्म या भाग्य का कारक शनि है और वैदिक ज्योतिष/Vedic Astrology भी इस ग्रह को न्यायाधीश के तौर पर देखता है। महादशा, अंतर्दशा, और साढ़ेसाती के दौरान सभी जातकों को उसके पिछले सभी कर्मों का भुगतान करना पड़ता है। अगर किसी ने पिछले कुछ समय में अच्छे कर्म किए हैं, तो इस दौरान उसकी सारी इच्छाएं पूरी हो सकती है। अगर बीते समय में किसी ने कोई दुष्कर्म किया है तो उसका कारावास निश्चित है।
  3. मंगल ग्रह को लाल ग्रह और युद्ध के ग्रह/Planet Of War के नाम से भी जाना जाता है। यह ग्रह प्राकृतिक रूप से गुस्सैल होता है। इसी के चलते जातक अक्सर गलत कदम उठा सकता है। यह सभी बातें कारावास योग की तरफ संकेत करती है। 

अगर यह तीनों ग्रह आपकी कुंडली/Birth chart से संबंध रखते हैं और नकारात्मक प्रभाव डालते हैं तो आपकी कुंडली में बंधन योग होने की संभावना होती है।

आप आउटलुक इंडिया में प्रकाशित “Best remedy to win court cases” मेरा नवीनतम साक्षात्कार को हमारे सामाचार अनुभाग से पढ़ सकते हैं। 

कानूनी मामलों के लिए महत्वपूर्ण भाव

कानूनी समस्या बहुत तरह की होती है, लेकिन कुछ मामलों में लोगों को कारागार/जेल भी जाना पड़ सकता है। कारागार जाने के बाद उस व्यक्ति की जिंदगी पूरी तरह से बदल जाती है। उस व्यक्ति के लिए कुछ भी पहले जैसा नहीं रहता। इसलिए अगर कोई भी किसी भी कानूनी मामले में फंसता है तो उसे जल्द जल्द इस दलदल से निकल जाना चाहिए। इसी दिशा में सभी को इस बात का ज्ञात होना आवश्यक है कि कौन से भाव और उनके संयोजन के कारण उन्हें कानूनी मामलों में फसना पड़ रहा है। अगर कोई भी व्यक्ति किसी भी कानूनी मामले में फंसता है तो उसे सबसे पहले किसी अच्छे ज्योतिषी से परामर्श करना चाहिए। अगर आप ऐसा नहीं करते हैं तो हो सकता है कि आप मुकदमा हार जाएं और आपको कारागार में जाना पड़े। चलिए इन बातों को और सरलता से समझते हैं –

कानूनी मामलों के लिए महत्वपूर्ण भाव

कानूनी समस्या बहुत तरह की होती है, लेकिन कुछ मामलों में लोगों को कारागार/जेल भी जाना पड़ सकता है। कारागार जाने के बाद उस व्यक्ति की जिंदगी पूरी तरह से बदल जाती है। उस व्यक्ति के लिए कुछ भी पहले जैसा नहीं रहता। इसलिए अगर कोई भी किसी भी कानूनी मामले में फंसता है तो उसे जल्द जल्द इस दलदल से निकल जाना चाहिए। इसी दिशा में सभी को इस बात का ज्ञात होना आवश्यक है कि कौन से भाव और उनके संयोजन के कारण उन्हें कानूनी मामलों में फसना पड़ रहा है। अगर कोई भी व्यक्ति किसी भी कानूनी मामले में फंसता है तो उसे सबसे पहले किसी अच्छे ज्योतिषी से परामर्श करना चाहिए। अगर आप ऐसा नहीं करते हैं तो हो सकता है कि आप मुकदमा हार जाएं और आपको कारागार में जाना पड़े। चलिए इन बातों को और सरलता से समझते हैं –

छठा भाव (Sixth House) – मुकदमेबाजी और शत्रुओं का भाव

अगर कोई किसी कानूनी मामले में फस गया है, तो इससे बाहर निकलने के लिए जातक की कुंडली (Kundli) में छठा भाव और उसके स्वामी (Sixth House and its lord) का मजबूत होना अनिवार्य है। अगर यह दोनों ही कमजोर होंगें तो जातक को बहुत सारी परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है और हो सकता है कि वह मुकदमा भी हार जाए। अगर शशटेश चल रहा है और उस समय महादशा और अंतरदशा है तो आपकी समस्याओं में भी इजाफा हो सकता है। इस भाव का मजबूत होना आपकी सफलता का कारण बन सकता है।

आठवां भाव (Eighth House)

कुंडली (Kundli) के अंदर आठवां भाव (Eighth House) जीवन में वित्त और साझेदारी से संबंधित अप्रत्याशित परिवर्तन के मामले को दर्शाता है। अगर आपकी कुंडली (Kundli) में आठवें भाव और उनके स्वामी (Eighth House and its Lord) कमजोर होते हैं तो जातक के कानूनी मामले में फसने की संभावना सबसे ज्यादा होती है। ऐसे जातकों की कुंडली में कारावास/जेल योग भी होता है।

बारहवां घर (Twelfth House)

कुंडली (Kundli) में कमजोर बारहवां भाव (Twelfth House), अलगाव, टुकड़ी, और यहां तक कि कारावास योग को भी दर्शाता है। अगर आपको अपनी कुंडली में बंधन योग के बारे में जानना है तो सभी घरों के साथ इस घर का भी मूल्यांकन अनिवार्य है।

दसवां घर (Tenth House)

दसवें भाव (Tenth House) को कुंडली (Kundli) के कर्म का भाव भी कहा जाता है। यह भाव जातक के पुराने सभी पापों के दंड के बारे में बताता है। इसलिए जेल/कारावास योग का पता लगाने के लिए दसवें भाव (Tenth House) का आकलन करना अनिवार्य होता है।

इन ग्रहों के संयोजन से आपके जेल/कारावास योग के बारे में पता लगाया जा सकता है/ Planetary combinations leading to Jail Yoga/ Imprisonment

नीचे कुछ ग्रहों के संयोजन/Planetary Combination के बारे में बताया गया है जिससे जेल/कारावास योग के बारे में आसानी से पता लगाया जा सकता है।

इन ग्रहों के संयोजन से आपके जेल/कारावास योग के बारे में पता लगाया जा सकता है/ Planetary combinations leading to Jail Yoga/ Imprisonment

नीचे कुछ ग्रहों के संयोजन/Planetary Combination के बारे में बताया गया है जिससे जेल/कारावास योग के बारे में आसानी से पता लगाया जा सकता है।

कुंडली/Kundli में जेल/कारावास योग को बंधन योग के नाम से भी जाना जाता है। यह योग तब बनता है जब जब शनि, लग्नेश, और शशटेश राहु या फिर केतु के साथ केंद्र या फिर त्रिकोण भाव में मौजूद हो। पहले/First House चौथे/Fourth House सातवें/Seventh House और दसवें/Tenth House भाव को लक्ष्मी स्थान के नाम से भी जाना जाता था। वहीं दूसरी तरफ त्रिकोण भाव; लग्न भाव, पांचवे भाव/Fifth House और नौवें भाव/Ninth House के संयोजन को कहा जाता है। इस संयोजन के जातक की कुंडली/Kundli में होने का तात्पर्य है कि जातक की कुंडली/Kundli में बंधन योग है। अगर शनि लग्नेश है, तो आपकी कुंडली/Kundli में कारावास योग घट सकता है।

इनके सिवाय और भी ग्रहों के संयोजन है जिनसे बंधन योग के बारे में आसानी से पता लगाया जा सकता है। इस लेख को पूरा पढ़ने से आपको इस विषय से जुडी सभी समस्याओं का हल मिल जाएगा। 

  1. दूसरे/Second House और बारहवें भाव/Twelfth House, तीसरे/Third House और ग्यारहवें भाव/Eleventh House, चौथे/Fourth House और दसवें भाव/Tenth House, पांचवें/Fifth House और नौवें भाव/Ninth House, और छठे/Sixth House और बारहवें भाव/Twelfth House में ग्रहों की संख्या एक समान होने पर जातक की कुंडली/Kundli में जेल/कारावास योग हो सकता है।
  2. ग्रहों की दूसरे/Second House, पांचवें/Fifth House, और बारहवें/Twelfth House घर में मौजूदगी भी कुंडली/Kundli में बंधन योग को दर्शाता है। 
  3. जब जातक के जन्म के समय लग्न के स्वामी और छठा भाव/Sixth House, शनि के साथ होते हैं और वह केंद्र या त्रिकोण भाव में मौजूद हो, तब यह संयोजन जेल योग का संकेत देता है।
  4. अगर छठे/Sixth House और बारहवें भाव/Twelfth House पर लग्नेश का प्रभाव पड़े तो इस संयोजन के कारण जातक को कारागार में भी जाना पड़ सकता है।
  5. अगर आपकी कुंडली/Kundli में शनि और मंगल ग्रह मौजूद हैं और वह पीड़ित हैं और साथ में नौवें घर/Ninth House Lord या बारहवें घर के स्वामी/Twelfth House Lord उन ग्रहों के साथ है तो आपकी कुंडली/Kundli में जेल योग पहले/First House, छठे/Sixth House या बारहवें भाव/Twelfth House के माध्यम से लग्नेश के गोचर के दौरान बनता है।

अगर आपको इस विषय में और जानकारी चाहिए तो आप हमारे नि: शुल्क कैलकुलेटर का प्रयोग करके जान सकते हैं।

बंधन योग के भिन्न प्रकार

कुंडली/Kundli में बंधन योग कई प्रकार के हो सकते हैं। सभी प्रकार के बंधन योग का परिणाम एक ही होता है – कारावास/जेल। लेकिन इन सभी योग के कारण अलग अलग होते हैं। चलिए कुंडली/Kundli में बंधन योग के कारणों के बारे में जानते हैं।

बंधन योग के भिन्न प्रकार

कुंडली/Kundli में बंधन योग कई प्रकार के हो सकते हैं। सभी प्रकार के बंधन योग का परिणाम एक ही होता है – कारावास/जेल। लेकिन इन सभी योग के कारण अलग अलग होते हैं। चलिए कुंडली/Kundli में बंधन योग के कारणों के बारे में जानते हैं।

अरी बंधन योग/Ari Bandhan Yoga

कुंडली/Kundli में शनि को अरि बंधन योग के कारक के रूप में देखा जाता है, जो अतीत से नकारात्मक कर्मों की वजह से बनता है। इस योग को प्रारब्ध कर्म के रूप में जाना जाता है। इस योग के बनने का कारण पिछले जन्म में मिला अभिशाप हो सकता है। इसके परिणाम स्वरूप व्यक्ति के जीवन काल में दुःख, कष्ट और अवसाद बना रहता है। इस अभिशाप और जेल योग के कारण जातक के विपक्ष का पलड़ा हमेशा भारी रहता है। इसके साथ ही जातक किसी बीमारी या फिर शारीरिक समस्या से भी ग्रस्त हो सकता है। ऐसे संयोजन वाले व्यक्ति अक्सर मादक पदार्थों की तस्करी, माफिया, डकैती, शराब, और व्यभिचार जैसे कुकर्म में अपने किसी मित्र के साथ शामिल हो सकता है। ऐसे व्यक्तियों की कुंडली (Kundli) में बंधन योग होता है जिसके कारण वह आसानी से पकड़े जा सकते हैं और उनको उनके कुकर्मों के लिए कारावास भी हो सकती है।

वीर बंधन योग

कुंडली/Kundli में मंगल ग्रह को वीर बंधन योग के कारक के रूप में देखा जाता है और इस योग के कारण जातक के दुश्मन उसे जल्द ही पकड़ सकते हैं। इसलिए, यह उन लोगों की जन्म कुंडली/Birth Chart में पाया जाता है जो युद्ध में शामिल होते हैं। यहाँ युद्ध से तात्पर्य गृहयुद्ध, सड़क पर लड़ाई, आतंकवाद, नक्सलवाद, और पुलिस के खिलाफ भिड़ंत से है। अगर जातक की कुंडली/Kundli में यह संयोजन है और यदि वह किसी भी तरह के युद्ध में शामिल होता है तो उसकी पुलिस द्वारा पकडे जाने की संभावना सबसे ज्यादा होती है। मंगल ग्रह/लाल ग्रह जेल योग के लिए ज्योतिषीय संकेत देता है। अगर इस संयोजन वाले जातक किसी गंभीर अपराध जैसे हत्या, बलात्कार, ऋण या करों का भुगतान ना करना, सफेदपोश अपराध, साइबर अपराध, धोखाधड़ी, और अचल संपत्ति से जुड़े अपराध में शामिल होता है तो जातक की कुंडली/Kundli में बंधन योग हो सकता है। जातक मुकदमे के दौरान निडर रहता है मगर अंत में वह मुकदमा हार सकता है।

नाग बंधन योग/Nag Bandhan Yoga

कुंडली/Kundli में राहु, नाग बंधन का कारक है और इसका सीधा संबंध जातक के पिछला जीवन के कर्मों से होता है। अगर किसी व्यक्ति ने अपनी बीती हुई जिंदगी में कभी भी काला जादू या फिर जादू टोना का प्रयोग किसी पर भी किया होगा तो यह अब उसके ऊपर भारी पड़ सकता है। जेल योग के कारण, जातक किसी का भी अपमान कर सकता है, धार्मिक घृणा या नक्सलवाद फैला सकता है, माफिया, ड्रग्स, शहरों में बमबारी, अवैध खनन, बड़ी मात्रा में बेहिसाब नकदी रखना, और इसी तरह से और भी अपराधों में शामिल हो सकता है। ऐसे लोग जन्म से ही गलत दिशा में चले जाते हैं और गैर कानूनी काम करके खुद को शक्तिशाली बनाने का प्रयास करते हैं। इसी कारणवश जातक या तो जेल में या फिर छिपकर अपनी जिंदगी को बिताते हैं। दाऊद इब्राहिम का नाम ऐसे ही बंधन योग वाले व्यक्तियों की सूची में आता है। और इस बात को सभी जानते हैं कि दाऊद अब सार्वजनिक जगहों पर नहीं दिखता है।

अहि बंधन योग/ Ahi Bandhan Yoga

कुंडली/Kundli में केतु, अहि बंधन योग का कारक है, जिसके कारण व्यक्ति अनजाने में अकल्पनीय अपराध कर बैठता है। केतु, ड्रैगन की पूंछ की तरह होता है और इसलिए वह बिना सिर के होता है। इसी कारण जिस भी जातक की कुंडली/Kundli में केतु का प्रभाव पड़ता है, वह अपने लालच और कुकर्मों के कारण बुद्धिहीन गतिविधियों में शामिल रहता है। ऐसे जातकों की कुंडली/Kundli में जेल योग होने के कारण वह आसानी से पकड़ा जा सकता है। उनके गलत रास्ते पर चलने के बहुत सारे कारण हो सकते हैं, लेकिन वह सभी कारण तुच्छ और मूर्खता से भरपूर होंगे। उनके अपराध गंभीर होंगे जिससे उनको कारागार में डाल दिया जाएगा। 

कृष्णमूर्ति पद्धति के अनुसार बंधन योग क्या है

कृष्णमूर्ति पद्धति के अनुसार बंधन योग के बारे में आगे के लेख को पढ़ कर समझा जा सकता हैं। 

कृष्णमूर्ति पद्धति के अनुसार बंधन योग क्या है

कृष्णमूर्ति पद्धति के अनुसार बंधन योग के बारे में आगे के लेख को पढ़ कर समझा जा सकता हैं। 

1. अगर किसी की कुंडली/Kundli के पहले घर के उप स्वामी बारहवें घर/Twelfth House की महत्ता को दर्शाते है तो जातक की कुंडली/Kundli में बंधन योग हो सकता है। ऐसे संयोजन वाले व्यक्ति को अलग रहना, किसी विचित्र जगह जाना, गुप्त रहना, और समस्याओं का सामना करना पसंद होता है। इस संयोजन का अर्थ यह भी है कि जातक को धोखा मिल सकता है और साथ में वह किसी षड्यंत्र का भी शिकार हो सकता है।  

2. जब दूसरे घर के उप स्वामी बारहवें घर/Twelfth House की महत्ता को दर्शाते है, तब जातक अनैच्छिक रूप से किसी अलग जगह पर काम करता है। जातक को अनैच्छिक रूप से सेनिटोरियम, सर्कस, पागलखाना, अस्पताल, या जेल में काम करना पड़ सकता है। ऐसा होने पर जातक को अपना शरीर और मन कैद में महसूस होगा। इसलिए जातक की कुंडली/Kundli में जेल योग मानसिक कारावास को दर्शाता है।  

3. अगर किसी की कुंडली/Kundli के चौथे घर के उप स्वामी बारहवें घर/Twelfth House की महत्ता को दर्शाते है, तो जातक को किसी से धोखा मिल सकता है, वह धोखाधड़ी का शिकार हो सकता है, अक्सर अस्पताल में भर्ती रहता है, और गिरफ्तारी या जेल भी जा सकता है।

4. अगर किसी की कुंडली/Kundli के छठे घर के उप स्वामी दूसरे/Second House और चौथे घर/Fourth House में मौजूद हो और उसी समय शनि पीड़ित हो, तो जातक भोजन की विषाक्तता/Food Poisoning से पीड़ित हो सकता है। यह स्थिति कुंडली/Kundli के छठे घर के उप स्वामी की पहले घर/First House में मौजूदगी और मंगल ग्रह के नकारात्मक प्रभाव से भी बनती है।

5. अगर सातवें घर के उप स्वामी का बारहवें घर/Twelfth House में विराजमान हो तब जातक को अपने करीबी से धोखा मिलने की संभावना होती है। इसके परिणाम स्वरूप जातक के विरोधी उससे ज्यादा शक्तिशाली होंगे और वह जातक के खिलाफ कोई षड्यंत्र भी रच सकते हैं। हालांकि सातवें घर के उप स्वामी पर पीड़ित ग्रहों का नकारात्मक प्रभाव उस व्यक्ति को यौन अपराधों के लिए गिरफ्तार करवा सकता है। यह संयोजन जातक के जेल योग को दर्शाता है।

6. आठवें घर के उप स्वामी का बारहवें घर/Twelfth House में विराजमान होना जातक के कानूनी मामले में हार को दर्शाता है। बंधन योग के कारण जातक मानसिक दबाव और पीड़ा में रहता है।

7. अगर आठवें कस्प/Eighth Cusp के उप स्वामी राहु है और वह बारहवें भाव/Twelfth House में विराजमान है तो जातक का जेल योग होने का साथ उसकी मृत्यु कारावास में भी हो सकती है।

8. नौवें घर के उप स्वामी के आठवें घर/Eighth House की महत्ता को दर्शाने पर जातक को विदेश जाने में परेशानी हो सकती है। जातक की कुंडली/Kundli में बंधन योग उसे विदेश में हिरासत में या गिरफ्तार करवा सकता है।

9. अगर दसवें घर के उप स्वामी बारहवें घर/Twelfth House की महत्ता बता रहा है तो जातक के तस्कर बनने की संभावना है और साथ में उसके पास बड़ी मात्रा में बेहिसाब संपत्ति हो सकती है। अगर कुंडली में सभी ग्रह राहु और केतु से प्रभावित होते हैं तो जातक की कुंडली/Kundli में जेल योग बनता है। जिससे वह कानूनी पचड़े में फंस सकता है।

10. जब ग्यारहवें घर के उप स्वामी बारहवें घर/Twelfth House की महत्ता बता रहा है तो जातक का मित्र उसे धोखा दे सकता है। बंधन योग के कारण जातक अपने किए पर पछतावा कर सकता है और इसी दशा में वह या तो एकांत में जा सकता है या फिर पुलिस के सामने आत्मसमर्पण कर सकता है।

11. अगर बारहवें घर के स्वामी सातवें घर/Seventh House की महत्ता को दर्शाता है तो जातक की गुप्त गतिविधियों के बारे में सबको पता लग सकता है। इस संयोजन के जातकों को उनके साथी उन्हे अदालती मुकदमे में फसा सकता है। जातक के सभी मुकदमों का परिणाम उसके विपरीत ही आएगा।

12. अगर बारहवें भाव के उप स्वामी बारहवें भाव/Twelfth House के बारे में ही बताता है तो जातक समाज से अलग-थलग रहता है। जातक ऐसा इसलिए करता है क्योंकि उसके कुंडली/Kundli में बंधन योग होता है।

हालांकि, हर जन्म कुंडली/Birth Chart अलग होती है तो ज्यादा सटीक भविष्यवाणी के लिए आप किसी अच्छे ज्योतिषी से परामर्श ले सकते हैं। कुछ उपचार है जो आपके छठे घर को मजबूती देने में सहायता करती है जिसकी मदद से जातक जेल योग से बच सकता है। यही उपचार आपको भयानक घटनाओं से भी बचा सकता है।

अगर आपको कभी भी किसी बात को लेकर शंका है या फिर आप अपने लिए किसी परेशानी का हल ढूंढ रहे हैं तो आप

बंधन योग के विषय में ऑनलाइन रिपोर्ट ले सकते हैं या फिर

डॉ विनय बजरंगी से सीधा संपर्क कर सकते हैं।