लगन कैलकुलेटर

लग्न चिन्ह या राशि का महत्व/ Significance of Ascendant Sign

अधिकतर लोग अपनी लग्न राशि या उदय राशि को ना पहचान कर अपने सूर्य या चंद्र लग्न की विशेषताओं को पहचान नहीं पाते हैं, जिस से अंत में  व्यक्तियों को यह महसूस होने लगता है कि वह अपनी राशि के विपरीत हैं। हो सकता है कि आपने भी ऐसा ही महसूस किया हो। आपका सिंह राशि का मित्र सिर्फ मकर लग्न होने के कारण ध्यान आकर्षित नहीं कर सकता या धनु राशि का मित्र वृश्चिक लग्न होने के कारण ईर्ष्यावश अधिकार जताने वाला हो सकता है। 

एक बार जब आप कुंडली/natal chart में उदय राशि या लग्न को स्पष्ट रूप से जान लेते हैं, तो उन कुछ लोगों के लिए स्पष्ट रूप से आसान हो सकता है जो चंद्र और सूर्य  राशि के बारे में पत्र व्यवहार नहीं कर पाते हैं। इसलिए पहले अपने उदय लग्न को जांच कर जन्म का समय और तिथि के अनुसार निशुल्क लग्न गणना यंत्र का उपयोग कर सकते हैं। 

मूल रूप से लग्न राशि चक्र के अंश ही वह दशा होती है, जिनके द्वारा जन्म के स्थान और जन्म के समय पर पूर्वी क्षेत्र में उच्च की राशि का पता चलता है। पृथ्वी से आकाश के गतिमय दिखने के कारण उस दिन की चौबीस घंटे की समयावधि में हम राशि चक्र को देख सकते हैं, जो घटनाक्रम के अनुसार चौबीस घंटे की समयावधि में उदय राशि पूर्वी क्षितिज में बारह राशियों के अनुसार प्रत्येक दो घंटे में बाद बदलती रहती है। शारीरिक, मानसिक और आध्यात्मिक रूप से उदय राशि के बढ़ने के साथ ही, यह समय के साथ बढ़ते हुए और अधिक प्रमाणित होती जाती है तथा इससे जीवन के विभिन्न क्षेत्रों पर गहरा प्रभाव पड़ता है। 

लग्न के प्रभाव/ Effects of Ascendant

लग्न मूल रूप से विभिन्न पहलुओं जैसे-मन, रूप-रंग, व्यक्तित्व, विचारों, स्वास्थ्य और जीवन के अन्य क्षेत्रों पर विभिन्न संकेतों द्वारा प्रकाश डालता है। इस के दूसरे चार्टों के साथ मिलने और जोड़ने के कारण लग्न को ज्योतिष/astrology का एक मजबूत आधार कहा जा सकता है। लग्न को ऑनलाइन उदय राशि गणना यंत्र के साथ उचित शोध और विश्लेषण करके किसी की भी मानसिक स्थिति का गहनता और प्रमाणिकता के साथ सुधार किया जा सकता है, जिससे किसी भी व्यक्ति की सोच का उसकी आत्मा पर महत्वपूर्ण प्रभाव पड़ने के साथ ही उनके जीवन में आने वाली बीमारियों के बारे में भी जान सकते हैं। 

हो सकता है कि आप अपनी लग्न राशि नहीं जानते हो, लेकिन ऑनलाइन लग्न या उदय राशि जानना मुश्किल नहीं होता है। यदि आप अपने लग्न राशि को जानने के इच्छुक हैं तो आप आसानी से यहां उपलब्ध नि:शुल्क लग्न राशि गणना यंत्र का प्रयोग कर सकते हैं और अपनी व्यक्तिगत तैयार जन्मकुंडली/natal chart प्राप्त कर सकते हैं। जो राशि किसी व्यक्ति की कुंडली/natal chart में प्रथम भाव( जिसे लग्न के नाम से भी जाना जाता है) में स्थित होती है उसे उदय राशि या लग्न कहा जाता है। 

लग्न के प्रत्येक दो घंटे में आगे बढ़ जाने के कारण लग्न को जानने के लिए जन्म के उचित समय की आवश्यकता होती है। आगे बढ़ने के साथ ही लग्न की विशेषताएं सत्तारूढ़ ग्रह की स्थिति के अनुसार अत्यधिक अलग या बदल सकती हैं। इस कारण अन्य ग्रह प्रथम भाव/First House पर अधिकार जमाते हैं या इस की युति करते हैं। धनु लग्न जिस में बृहस्पति वृश्चिक राशि में है, उस धनु लग्न से कहीं अलग होगा जिसमें मेष राशि में बृहस्पति होंगे। 

उदय लग्न के महत्व को निःशुल्क ज्योतिष गणना यंत्र, ऑनलाइन कुंडली बनवाने, विवाह के लिए राशिफलों का मिलान, कुंडली दोष और दैनिक राशिफल द्वारा और अधिक जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।