गुरुवार का व्रत क्यों करना चाहिए और क्या है इसका महत्व?

  • 2023-08-18
  • 0

गुरुवार अथवा बृहस्पतीवार का व्रत हिन्दू लोगों में बहुत प्रचलित है। बहुत सारे फायदे देने वाला, शुभ फलकारी, गुरुवार का व्रत मुख्यतः भगवान् विष्णु के लिए रखा जाता है। केले के पेड़ की पूजा करके, कुछ विशेष प्रावधानों के अनुसार यदि कोई इंसान गुरुवार का व्रत पूरा करता है, तो उसे विवाह, सुख शांति, सद्बुद्धि, गृहस्थ जीवन का सुख प्राप्त होता है। तो यदि आप गुरुवार से जुड़े कुछ प्रश्नों के उत्तर जानना चाहते हो, तो डॉ. विनय बजरंगी यहाँ आपको बताएंगे कैसे करें ये व्रत और लाएं ढेरों खुशियां अपने घर।  

क्यों करें गुरुवार का व्रत? 

अगर बात करें फायदों की तो गुरुवार व्रत के अगणित फायदे हैं। शारीरिक तकलीफों को दूर करने के साथ साथ, विवाह में आने वाली अड़चनों को दूर करके, ये व्रत जातक को एक सुखद जीवन की तरफ मोड़ता है। गुरु के शुभ फल के द्वारा, शादीशुदा ज़िन्दगी काफी बेहतर बन जाती है। यही नहीं, ये व्रत जातक को एक पापरहित जीवन जीने के लिए भी तैयार करता है।  

गुरुवार मुख्यतः भगवान् विष्णु का दिन माना जाता है। तो केले के पेड़ को भगवान् विष्णु से जुड़ा माना जाने के कारण, लोग इसी पेड़ की पूजा करते हैं। कहा जाता है की केले के पेड़ की पवित्रता का कोई मेल नहीं। इसीलिए इसकी पूजा करके, मन तथा शरीर पवित्र हो जाते हैं।  

हालाँकि भगवान् विष्णु के लिए होता है ये व्रत, लेकिन ये दिन बृहस्पति देव का भी होता है और उनकी कृपा पाने के लिए भी लोग गुरुवार का व्रत करते हैं। ज्योतिषशास्त्र के अंतर्गत, बृहस्पति देवताओं के गुरु माने जाते हैं। उनकी पूजा करने से सभी देवों से शुभ फल पाए जा सकते हैं, अथवा दुसरे ग्रहों द्वारा दुष्फलों को सुखद फलों में परिवर्तित कर सकते हैं।  

ग्रहों की बात करें तो बृहस्पति सबसे बड़ा तथा प्रभावशाली ग्रह है। तो गुरुवार को व्रत रख कर, इस ग्रह से शुभकारी फल पाए जा सकते हैं। चलिए आगे बढ़ते हैं, जानने के लिए ऐसे लाभ जो गुरुवार के व्रत से सुनिश्चित किये जा सकते है।  

लाभ जो गुरुवार का व्रत आपको दे सकता है 

गुरुवार व्रत/Thursday Vrat शुरू होता है भगवान् विष्णु की पूजा से। पूजा के दौरान पीले रंग के कपडे पहने जाते हैं, और भगवान् विष्णु को चावल, हल्दी चढ़ा कर, पूजा शुरू की जाती है। व्रत का सर्वोत्तम फल, व्रत की सही तरह से पूजा करने पे निर्भर करती है। इसलिए ये आवश्यक है की आप व्रत की विधि को अच्छे से समझें और उसी अनुसार भगवान् की पूजा करें।  

भगवान् विष्णु के अतिरिक्त, देवगुरु बृहस्पति की पूजा करना भी ज़रूरी है क्योंकि इससे दोगुने फल आप पा सकते हैं। चलिए बात करते हैं लाभ जो गुरुवार का व्रत आपको दे सकता है – 

  • गुरुवार का व्रत रखने से भगवान् विष्णु की कृपा मिलती है जिससे हर तरह के धन से जुडी समस्या दूर होती है।
  • इस व्रत से ऋण मुक्ति भी हो जाती है।
  • इस व्रत के फल से अगर किसी व्यक्ति की शादी न हो रही हो तो वो भी जल्दी हो जाती है।
  • बृहस्पति देव को विद्या, संयम एवं बुद्धि के देवता कहा जाता है। इसलिए इनके आवाहन से आप ज्ञान में वृद्धि पा सकते हो, और अगर आप विद्यार्थी हैं तो सफलता पा सकते हैं।
  • इस व्रत से भगवान् विष्णु खुश होते हैं, जिसका अर्थ है दुनिया के सभी सुखों के प्राप्ति में आसानी।

 

संबंधित ब्लॉग: सोमवार का व्रत क्यों करना चाहिए और इसका क्या महत्व है?

 

किस हिन्दू देवता को समर्पित है गुरुवार का दिन?

हम सब जानते हैं की सप्ताह के सातों दिन एक न एक देवता के नाम हैं। इसलिए उस दिन रखा गया व्रत/Vrat अथवा किया गया धार्मिक काम उस दिन से जुड़े देवता को समर्पित होते हैं। क्योंकि शुभ काम शुभ भावना से किये जाते हैं, तो उस दिन के देवता खुश होकर शुभ फल देते हैं। तो इसलिए यदि आप गुरुवार का व्रत करते हैं, तो इस दिन के देवता से शुभ फल प्राप्ति ज़रूर होगी।  

गुरुवार बृहस्पति देव को समर्पित है तो गुरु की शुभ कृपा से आपके बहुत सारे रुके काम हो सकते हैं। और घर में खुशहाली आती है। इस व्रत के नियमों के अंतर्गत, ये अनिवार्य है की आप-इस दिन केवल पीले रंग के खाद्य पदार्थों का ही सेवन करें। इसके इलावा नमक का इस्तेमाल करना विषेध है। इस दिन आप सिर्फ एक बार ही खाना खा सकते हैं।  

किन लोगों को करना चाहिए गुरुवार का व्रत?

गुरुवार का व्रत सब लोगों के लिए अत्यधिक लाभकारी है। किन्तु कुछ राशियों के लोग ये व्रत करके अथाह खुशियां एवं सुखों की प्राप्ति कर सकते हैं।  

  • जैसे की धनु एवं मीन राशि/Pisces Horoscope के लोग। इन राशियों के लोगों के लिए गुरुवार का व्रत अत्यंत शुभकारी फल प्रदान करता है। क्यूंकि बृहस्पति इन राशियों के ईष्ट हैं, इनकी आराधना इन लोगों के कर्मों में चार चाँद लगा सकती है। गुरु की कृपा से, धनु एवं मीन राशि/Meen Rashi के लोग सफलता को पा जाते हैं और वैवाहिक लाभ भी पाते हैं।  
  • इसके अतिरिक्त यदि गुरु कमज़ोर पाया जाता है आपकी कुंडली/Kundli में, तो भी गुरुवार कर व्रत शुभ फल देता है। और इसलिए ऐसे लोगो को भी ये व्रत अवश्य करने चाहिए। 
  • ऐसे लोग जो अपनी शादी की समस्याओं से जूझ रहे हों अथवा किसी भी तरह की शादी से जुडी दिक्कत का सामना कर रहे हों, उन्हें भी गुरुवार का व्रत अवश्य करना चाहिए। गुरु के शुभ फल से शादी जल्दी हो जाती है तथा जीवन साथी के साथ अच्छा वैवाहिक समय निकलता है/Solution for married life issues
  • अगर आप ज़िन्दगी के असफलताओं से विवश महसूस कर रहे हों, तो ये व्रत आपकी ज़िन्दगी को सही दिशा दे सकता है। नए रस्ते खोल के और नहीं दिशा दिखा कर।  
  • इसके इलावा ये भी देखा गया है की यदि कोई इंसान किसी बहुत बुरी आदात से निजात पाना चाहता हो तो गुरुवार का व्रत बहुत ही सहायक सिद्ध हो सकता है।
  • गुरुवार को घर के सभी कोनों में धुप करने से घर तनाव मुक्त बनते हैं एवं अनिद्रा की परेशानी ख़तम हो जाती है।

इस प्रकार, गुरुवार व्रत के अनन्य किस्से हैं जो लोगों को इस व्रत को करने के लिए उत्साहित करते हैं। लेकिन इस व्रत को कम से कम 11 दिन अवश्य करें। 11 दिन व्रत रखने से भरपूर कृपा मिलेगा भगवान विष्णु तथा देवगुरु बृहस्पति जी से।  

हिंदू धर्म में मनाये जाने वाले सभी व्रत या अन्य त्यौहार की जानकारी के लिए आप हमारे सोशल मीडिया पेज को फॉलो कर सकते हैं FaceBook Instagram Twitter | Youtube | Linkedin | Pinterest

Related Blogs

Magh Purnima 2024 - जानिए माघ पूर्णिमा की तिथि और महत्व

माघ के महीने में पड़ने वाली पूर्णिमा को माघ पूर्णिमा कहते हैं। माघ पूर्णिमा माघ माह के अंतिम दिन मनाई जाती है। माघ पूर्णिमा के पावन दिन पर भगवान विष्णु और माता पार्वती के साथ-साथ चंद्रमा की भी विशेष पूजा की जाती है।
Read More

Jaya Ekadashi 2024 - फरवरी में कब रखा जाएगा जया एकादशी का व्रत

माघ माह के शुक्ल पक्ष में पड़ने वाली एकादशी तिथि को जया एकादशी के नाम से जाना जाता है। इस दिन घी का दिपक जलाने का महत्व है। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार इस दिन जो व्यक्ति घी का दिपक जलाता है उसे स्वर्ग की प्राप्ति होती है।
Read More

Pradosh Vrat 2024 - साल 2024 में कब-कब किया जाएगा प्रदोष व्रत

हिन्दू पंचांग के अनुसार प्रत्येक माह में कृष्ण और शुल्क की त्रयोदशी तिथि पर प्रदोष व्रत रखा जाता है। हर महीने में दो प्रदोष व्रत आते हैं। प्रदोष व्रत देवों के देव महादेव शिव-शंकर जी को समर्पित होता है। प्रदोष व्रत करने से जीवन के हर संकट और दुख से मुक्ति मिलती है।
Read More
0 Comments
Leave A Comments