Nag Panchami 2023: नाग पंचमी पर बन रहे हैं 2 दुर्लभ संयोग

  • 2023-08-09
  • 0

सावन महीने के शुक्ल पक्ष में पड़ने वाली पंचमी को प्रत्येक वर्ष नाग पंचमी मनाई जाती है। यह दिन नाग देवता को समर्पित है। नाग पंचमी के त्योहार का सनातन धर्म में अत्यधिक महत्व है। इस दिन भगवान शिव के साथ–साथ नाग देवता और सांपों की पूजा का विधान है। यह त्योहार पूर्णतः भगवान शिव को समर्पित है।

यह पर्व अपार धन और मनोवांछित फल देने वाला है। ऐसी मान्यता है कि इस दिन नाग देवता की पूजा करने व उन्हें दूध अर्पित करने से जीवन में अनेक खुशियां आती हैं। वर्ष 2023 में नाग पंचमी 21 अगस्त को मनाई जाएगी। यह साल और भी खास है क्योंकि इस साल नाग पंचमी/Nag Panchami पर एक खास संयोग बन रहा है। यह संयोग अत्यंत ही दुर्लभ है जिसके कारण इस दिन पूजा अर्चना करने से विशिष्ट फलों की प्राप्ति होने की संभावना कई गुना बढ़ गयी है।

नाग पंचमी के दिन शुभ मुहूर्त में पूजा करना बहुत ही ज़्यादा लाभ देने वाला है। आइयें जानते है सम्पूर्ण पूजन विधि और शुभ मुहूर्त के बारे में। नाग पंचमी के दिन एक अद्भुत संयोग बन रहा है। नाग पंचमी यानि 21 अगस्त को सोमवार पड़ रहा है। सावन के महीने में हर सोमवार को सावन सोमवार व्रत रखा जाता है। सावन के महीने में सोमवार व्रत को बहुत अधिक महत्व दिया गया है। इस साल में नाग पंचमी के दिन नाग देवता के साथ भगवान शिव की भी पूजा–अर्चना की जाएगी। इस दिन भगवान शिव व नाग देवता की शुभ मुहूर्त/Shubh Muhurat व विधि–विधान से की गई पूजा छप्पर फाड़ कर धन लाभ देगी। धार्मिक व ज्योतिषीय दृष्टि से यह एक अत्यंत ही महत्वपूर्ण घटना है जो एक साथ कुंडली/Kundli के अनेक दोषों को समाप्त करने वाला है।

नाग पंचमी पर बन रहे है दो और अत्यंत शुभ योग

केवल इतना ही नहीं, इस साल की नाग पंचमी पर 2 शुभ योग भी बन रहे हैं। ये सभी योग मिलकर भक्तों पर असीम कृपा बरसाने वाले है। नाग पंचमी, 21 अगस्त को है, ज्योतिष के अनुसार शिव योग/Shiva Yoga और सिद्धि योग/Siddhi Yoga भी बन रहे हैं। ये दोनों ही योग किसी भी प्रकार के शुभ कार्य के लिए अत्यंत फलदायी हैं। इन दोनों ही योगों में भगवान शिव व नाग देवता की पूजा करने से असीम कृपा प्राप्त होगी, और लोगों की सभी इच्छाएं पूरी होंगी।

इस तरह करेंगें नाग पंचमी की पूजा तो होगा अत्यंत लाभ

नाग पंचमी के दिन प्रातः जल्दी उठ कर स्नान आदि से मुक्त होकर साफ़ सुथरे वस्त्र पहनें
• घर में पूजा के स्थान की अच्छी तरह सफाई करें और चौकी बिछाएं। आप घर के मुख्य द्वार पर गोबर से नाग देवता की मूर्ती बना सकते हैं
• नाग पंचमी के दिन अष्ट नागों की पूजा करने का विधान है। ये अष्टंनाग हैं – अनन्त, वासुकि, पद्म, महापद्म, तक्षक, कुलीर, कर्कट और शंख नाग। इस पूजा के लिए सबसे पहले चौकी पर नाग देवता की फोटो या मूर्ति की स्थापना करें। फिर नाग देवता को हल्दी, रोली, अक्षत आदि अर्पित करें। उसके बाद उन पर फूल चढ़ाएं और हाँ, दूध तो जरूर अर्पित करें। दूध अर्पित करने से ही नाग पंचमी की पूजा संपन्न होती है
• नाग देवता की तस्वीर के आगे घी का दीपक जलाएं। इस दिन शिवलिंग पर जल व दूध अवश्य चढ़ाना चाहिए
• नाग देवता की पूजा के बाद माता पार्वती, भगवान शिव और गणपति जी को भी भोग अर्पित करें
• नाग पंचमी की व्रत कथा सुनें और आरती करें। इस दिन सपेरों को दान देना बहुत ही शुभ माना गया है
• यदि श्रद्धा हो तो नाग पंचमी का व्रत भी करें और सांयकाल केवल एक समय ही भोजन करें

नाग पंचमी का शुभ मुहूर्त

नाग पंचमी: पंचमी तिथि, शुक्ल पक्ष, 21 अगस्त, सोमवार
पंचमी तिथि आरंभ: 21 अगस्त, सोमवार, रात्रि 12:21 बजे से
पंचमी तिथि समाप्त: 22 अगस्त, मंगलवार, रात्रि 02: 00 बजे तक

शुभ पूजा मुहूर्त: 21 अगस्त 2023, सोमवार, प्रातः: 05:53 से 08:29 तक
शिव योग: 21 अगस्त, सांय 06 बजकर 38 मिनट तक है इसके बाद सिद्धि योग प्रारम्भ हो जायेगा
नागपंचमी पर भूलकर भी ना करें ये काम, नहीं तो होगा अपशगुन

• धार्मिक ग्रंथों के अनुसार नाग पंचमी पर भूलकर भी सांपों को किसी भी प्रकार का नुकसान न पहुंचाएं
• इस दिन जीवित सर्पों को दूध पिलाना निषेध है
• नाग पंचमी के दिन लोहे के बर्तनों में भोजन न पकाएं न परोसें
• नाग पंचमी पर किसी भी तरह की भूमि की खुदाई करना सख्त मनाई है
• नाग पंचमी पर तांबे के लोटे से शिवलिंग या नाग देव पर दूध अर्पण ना करें

Aaj ka Panchang | Masik Rashifal | Vivah Jyotish | Kundli Milan 

Related Blogs

Shivratri 2024 - क्यों मनाई जाती है महाशिवरात्रि और क्या है इसका महत्व

महाशिवरात्रि के दिन हम अत्याधिक धार्मिक और शिव की भक्ति में लीन अनुभव करते हैं । शिवरात्रि की रात का प्रयोग अपने भीतर आध्यात्मिकता लाने के लिए किया जाता है और इसलिए यह ईश्वर के स्मरण में पूरी रात जागने की रात्रि होती है ।
Read More

Magh Gupt Navratri - कब से शुरू हो रहे हैं माघ गुप्त नवरात्रि!

हिन्दू पंचांग के अनुसार साल में 4 बार नवरात्रि का त्योहार मनाया जाता है। इनमें से चैत्र और शारदीय नवरात्रि के बारे में अधिकतर लोगों को जानकारी होती है लेकिन गुप्त नवरात्रि के बारे में कम लोगों को ही पता होता है।
Read More

Basant Panchami 2024 - जानें बसंत पंचमी पूजा शुभ मुहूर्त और पूजा विधि

मान्यताओं के अनुसार बसंत पंचमी के दिन किया जाने वाला कार्य शुभता को प्राप्त होता है। कार्य की सिद्धि हेतु यह दिन अत्यंत उपयोगी बताया गया है। विद्या की देवी सरस्वी के प्रकाट्य दिवस के रुप में मनाया जाने वाला ये पर्व दर्शाता है कि किसी प्रकार जब ज्ञान का आगमन होता है तो अंधकार स्वत: ही समाप्त हो जाता है।
Read More
0 Comments
Leave A Comments