क्या होता है बुधादित्य योग और यह किस प्रकार बनता है?

  • 2023-05-05
  • 0

ज्योतिष शास्त्र में रूचि रखने वाले सभी लोगों ने, कभी न कभी अपने जीवन में बुधादित्य योग का नाम सुना है जिसे ज्योतिष शास्त्र में एक शुभ योगों में गिना जाता हैI इस परिच्छेद में हम आज बुधादित्य योग के बारे में विस्तार में जानेंगे I

क्या होता है बुधादित्य योग और यह किस प्रकार बनता है?

वैदिक ज्योतिष के अनुसार जब भी किसी कुंडली में सूर्य और बुध संयुक्त रूप से स्थित होते है तो वे बुधादित्य योग का निर्माण करते हैंI बुध एक आंतरिक ग्रह है जो सूर्य के सबसे समीप रहता हैI ज्योतिष शास्त्र के अनुसार सूर्य को राजा व बुध को राजकुमार का पद दिया गया हैI इन दोनों ग्रहों में परस्पर मित्रता है और ये दोनों साथ मिलकर जातक को अत्यंत शुभ फल प्रदान करते हैं I

बुधादित्य योग के शुभ फल

बुधादित्य योग, जातक को बौद्धिक क्षमता, संचार कुशलता, नेतृत्व करने की कला, मान- सम्मान व अन्य कई विशेषताएं प्रदान करता है I जिस भी व्यक्ति की कुंडली में बुधादित्य योग का निर्माण होता है वह व्यक्ति असाधारण विलक्षण क्षमता को प्राप्त करता है और समाज में पद और प्रतिष्ठा प्राप्त करता है I सभी लोग उसकी प्रतिभा को सराहते हैं व उस व्यक्ति की गिनती अत्यंत कुशल व प्रभावी व्यक्तियों में होती है I 

क्या बुधादित्य योग वास्तव में एक असाधारण योग है?

सूर्य व बुध साधारणतया एक दूसरे के समीप रहते है/Sun-Mercury Conjunction जिसके कारण लगभग ७०-८०% कुंडलियों में बुधादित्य योग का निर्माण हो जाता हैI अतः बुधादित्य योग को असाधारण योगों की सूची में रखना अतिश्योक्ति होगी I परन्तु फिर भी जिन भी जातको की जन्म कुंडली में बुधादित्य योग होता है उन्हें अन्य व्यक्तियों के अपेक्षा जीवन में अधिक सफलता व बौद्धक क्षमता प्राप्त होती है

आइयें जाने किन परिस्थितियों में बुधादित्य योग/Budhadhitya Yoga पूर्ण शुभ फल देता है और किन परिस्थितियों में यह केवल नाम का ही योग बने रहता है:

बुधादित्य योग के शुभफल प्रदायक होने के लिए मान्य शर्तें:

  • कुंडली में सूर्य व बुध दोनों का शुभ स्थिति में होना आवश्यक है, यदि दोनों में से एक भी अशुभ स्थिति में कुंडली में उपस्थित हो तो यह योग पूर्णफलप्रदायी नहीं होता
  • बुधादित्य योग का निर्माण कुंडली के केंद्र व त्रिकोण भावों में होना चाहिए जहां ये शुभ फलप्रदायी माने जाते हैं I 
  • चाहे बुधादित्य योग शुभ घरों में बन जाएँ पर यदि सूर्य व बुध दोनों या उनमें से कोई एक बलहीन हों तो भी वे एक शुभ योग का निर्माण करने में असमर्थहोते हैं I 
  • यदि बुध, सूर्य से अधिक समीपता के कारण अस्त हो जाये तो भी यह योग पूर्ण फल प्रदान नहीं करता है I 
  • किन परिस्थितियों में सूर्य बुध युति नकारात्मक परिणाम दे सकती है?
  • यदि बुधादित्य योग कुंडली के किसी त्रिक भाव यानि ६,८ या १२ भाव में बन जाए I 
  • सूर्य व बुध के संयोग से बना बुधादित्य योग यदि तुला राशि में बन जाये जहां सूर्य नीचस्थ माना गया है I
  • मीन राशि में भी यह योग इतना बलशाली नहीं होता क्योंकि वहां बुध ग्रह, नीच के माने गए है I
  • यदि बुध अस्त अवस्था में यह योग बनाये तो शुभ के स्थान पर अशुभ फल प्राप्त होते हैं I 

अतः किसी भी योग/Yoga को शुभ कह देने भर से वह योग शुभ नहीं हो जाता है और उसके साथ कुंडली/Kundli के अनेक तथ्यों पर विचार विमर्श आवश्यक है I एक अनुभवी ज्योतिषी ही सभी तथ्यों की जांच परख के पश्चात जातक को सही निर्णय दे सकता है I

Related Blogs

Shukra Mangal Yuti - कुंडली में शुक्र मंगल योग के क्या होते हैं प्रभाव

शुक्र मंगल योग रचनात्मक कला, फैशन डिजाइन और होटल प्रबंधन से जुड़े करियर की तरफ व्यक्ति को आकर्षित करता है। यह दोनों ग्रह जिस राशि पर नज़र डालते हैं और उन्हें बहुत ज्यादा प्रभावित कर देते हैं।
Read More

कुंडली के विभिन्न भावों में शुक्र और केतु का प्रभाव । शुक्र-केतु की युति

शुक्र और केतु की युति व्यक्ति के जीवन के गहराई से बदलने वाली होती है. इस दौरान जन्मे व्यक्ति के लिए किसी एक चीज के प्रति आसक्त होना संभव नहीं होता है, भटकाव भी अधिक होता है. अच्छे और बुरे दोनों ही फल इस युति में देखने को मिल सकते हैं
Read More

मकर राशि में होगा बुध मंगल और शुक्र की युति

फरवरी की शुरुआत में कई बड़े ग्रह अपनी चाल बदलने वाले हैं, जिससे यह महीना धार्मिक दृष्टिकोण से बेहद ही खास रहने वाला है। कई सालों बाद मकर राशि में त्रिग्रही योग का शुभ संयोग बनने वाला है।
Read More
0 Comments
Leave A Comments