कुंडली के विभिन्न भावों में शुक्र और केतु का प्रभाव । शुक्र-केतु की युति

  • 2024-02-12
  • 0

ग्रहों का प्रभाव जब युति योग में होता है अर्थात जब ग्रह एक साथ एक राशि में बैठते हैं तो युति बनाते हैं. उस समय को एक विशेष समय माना जाता है. दो ग्रहों का अलग अलग प्रभाव होता हैऔर जब विपरीत विचारधाराओं का एक साथ संगम होता है तो स्थिति काफी रोचक हो जाती है. शुक्र और केतु का एक साथ होना दिलचस्प हो सकता है. इन दोनों की युति व्यक्ति के जीवन को गहराई से बदलने वाली होती है. इस समय के दौरान व्यक्ति के लिए किसी एक चीज के प्रति आसक्त होना संभव नहीं होता हैभटकाव भी अधिक होता है. अच्छे और बुरे दोनों ही फल शुक्र केतु की युति में देखने को मिल सकते हैं. 

शुक्र केतु की युति

शुक्र केतु युति सिर्फ व्यक्ति तक ही सीमित नहीं होती है बल्कि ये युति योग बाहरी ताने बाने पर भी असर डालता है. इसका युति योग जबरदस्त रुप से बदलाव और असर दिखाने में सक्षम होता है. जब दो ऐसे ग्रह साथ होते हैं जिनका पूर्ण अस्तित्व ही एकदम भिन्न होता है तो उस स्थिति में यह काफी गंभीर असर डालता है. इस समय काफी चीजें टकराने वाली होती हैं और बड़े बदलाव भी जल्द से दिखाई देते हैं. बदलावों का असर एक लम्बे समय तक रहता है. इस संबंध में शुक और केतु का युति/Venus and Ketu Conjunction योग काफी अध्ययन का मामला बनता है क्योंकि इन दोनों का स्वभाव काफी अलग देखने को मिलता है. 

कुंडली में शुक्र का प्रभाव 

ज्योतिष में शुक्र ग्रह को शुभ ग्रह माना गया है. शुक्र को भावनाओंसंबंधोंइच्छाओंभौतिक सुख सुविधाओंयौन संबंधोंप्रेम संबंधों के लिए विशेष रुप से उत्तरदायी माना जाता है. जीवन में मिलने वाला जो आनंद है उसका अनुभव शुक्र के द्वारा ही अनुभूति को पाता है. इस सुख एवं आनंद को हम कैसे भोग सकते हैं यह शुक्र ग्रह के शुभाशुभ फलों से हमें मिलता है. जन्म कुंडली में शुक्र की स्थिति विवाह संबंधों की परिणीति को दर्शाती है. इसके साथ जीवन में मिलने वाला भौतिक सुख सुविधाएं जैसे भवनवाहनवस्त्र आभूषण इत्यादि के लिए शुक्र की स्थिति अत्यधिक जिम्मेदार होती है. कुंडली में शुक्र/Venus in Kundli व्यक्ति के जीवन में प्रेम रोमांस की स्थिति को भी प्रभावित करने वाला होता है. 

कुंडली में केतु का प्रभाव

वैदिक ज्योतिष में केतु ग्रह का बहुत महत्व है. ज्योतिष में राहु के साथ केतु को छाया ग्रह माना गया है. वैदिक ज्योतिष में इस ग्रह को छाया ग्रह के रूप में बताते हैंजो स्थिति और अपने साथ बैठे ग्रह के अनुसार फल देता है. कुंडली में केतु किस भाव और किस राशि में बैठा हैयह इसके फलों को बहुत प्रभावित करता है. कुंडली के कुछ भाव ऐसे होते हैं जिनमें केतु की उपस्थिति शुभ फल देती है तो कुछ में नकारात्मक फल देती है. कुंडली में केतु/Ketu in Kundli का प्रभाव अध्यात्मवैराग्य और मोक्ष का ग्रह माना गया है. केतु का प्रभाव व्यक्ति को मनोवैज्ञानिक रुप से प्रभावित करता है. 

शुक्र केतु युति का फल

जहां शुक्र भोग का कारक होता है वहीं केतु मोक्ष का कारक होता है. ऐसे में इन दोनों का स्वरूप एक दूसरे से काफी अलग दिखाई देता है जब भ्रममाया का ग्रह केतु भौतिक सुखों के ग्रह शुक्र के साथ युति में होता है तो निश्चित रुप से यह गहरे असर डालने वाला होता है. 

शुक्र केतु योग व्यक्ति की भावनाओं पर गहरा असर डालने वाला हो सकता है. इस समय के दौरान प्राप्ति एवं मुक्ति का योग साथ में फलित होता दिखाई देता है. दुविधा और पाने की इच्छा को लेकर अंतर्विरोध अधिक रह सकता है. 

शुक्र केतु का एक साथ होना आपको सृजनात्मक तरीके से बेहतरीन परिणाम दे सकता है. नई संभावनाओं का जन्म हो सकता है. कई नवीन चीजों का पता लगाया जा सकता है. यह कला जगत में भी बेहतर होता है. अभिनय में कुशलता दे सकता है लेखन को प्रभावशाली बना सकता रिसर्च को नया रंग दे सकता है. राजनीति में सफलता दिलाने में सहायक बन सकता है. छल कपट या जासूसी जैसे कार्यों में आगे रख सकता है. आध्यात्मिक क्षेत्र में काफी प्रगतिशील बना सकता है. 

शुक्र और केतु का नकारात्मक प्रभाव प्रेम संबंधों/Love Relationship पर दिखाई देता है. रोमांस की अनुभूति को पाना मुश्किल होता है. प्रेम जीवन में निराशा जनक नतीजे सामने आ सकते हैं. यौन संबंधों में उदासीनता का भाव भी उत्पन्न कर सकता है. केतु अलगाव को जन्म देता है और शुक्र केतु युति में व्यक्ति संबंधों में विच्छेदकारी स्थितियों का सामना कर सकता है. 

यह भी पढ़ें-

क्या आपके विवाह में हो रही है देरी

वैवाहिक जीवन की विशेष समस्याएं और उनके समाधान

जानें आपकी लव मैरिज होगी या अरेंज

Related Blogs

Shukra Mangal Yuti - कुंडली में शुक्र मंगल योग के क्या होते हैं प्रभाव

शुक्र मंगल योग रचनात्मक कला, फैशन डिजाइन और होटल प्रबंधन से जुड़े करियर की तरफ व्यक्ति को आकर्षित करता है। यह दोनों ग्रह जिस राशि पर नज़र डालते हैं और उन्हें बहुत ज्यादा प्रभावित कर देते हैं।
Read More

मकर राशि में होगा बुध मंगल और शुक्र की युति

फरवरी की शुरुआत में कई बड़े ग्रह अपनी चाल बदलने वाले हैं, जिससे यह महीना धार्मिक दृष्टिकोण से बेहद ही खास रहने वाला है। कई सालों बाद मकर राशि में त्रिग्रही योग का शुभ संयोग बनने वाला है।
Read More

Surya Shani Yuti 2024 - सूर्य और शनि युति का कुंडली पर प्रभाव

सूर्य और शनि के गुणों और विशेषताओं में परस्पर विरोध है इसलिए जब भी कुंडली में सूर्य/Kundli me Surya व शनि की युति होती है तो इनके अशुभ फल व्यक्ति को मिलते हैं
Read More
0 Comments
Leave A Comments