शुक्र का मीन राशि में गोचर 2020

शुक्र गोचर 2020

अगर जन्मगत मूलप्रति कुंडली कोई बदल नहीं सकता तो फिर ज्योतिष विध्या या फिर ये ज्योतिषी लोग हमारी किस तरह से सहायता कर सकते हैं । ये प्रश्न बहूत स्वाभाविक है । और यहाँ पर ग्रहों के गोचर की भूमिका बहूत महत्वपूर्ण है । शनि गोचर, सूर्य गोचर के साथ साथ शुक्र गोचर भी इनमे से एक महत्वपूर्ण गोचर है! आईये जानते हैं की ये शुक्र का गोचर क्या होता है और निकटतम आने वाले शुक्र गोचर का मीन राशि में प्रवेश किस तरह विभिन्न राशियों को प्रभावित करेगा।

To read this blog in English – click here

शुक्र गोचर फरवरी 2020 मीन राशि मेंसब राशियों पर प्रभाव

जीवन में सुख और प्रेम को बढ़ाने वाला शुक्र ग्रह शुक्र गोचर के तहत  3 फरवरी, सोमवार प्रातः 2:14 बजे कुम्भ राशि से निकलकर मीन राशि में गोचर करेगा। ज्योतिष के अनुसार शुक्र गोचर की यह अवधि काफी महत्वपूर्ण होती है, क्योंकि इसके शुभ प्रभाव से अनेक प्रकार के शुभ कार्य संपन्न होते हैं। साथ ही शुक्र गोचर की इस अवधि में कला, संगीत, डिजाइनिंग और रचनात्मकता के क्षेत्र में रूचि रखने वाले जातक अपनी कलात्मक अभिव्यक्ति के माध्यम से रचनात्मकता की ऊंचाइयों को छू सकते हैं और नाम और प्रसिद्धि कमा सकते हैं। शुक्र गोचर का  मीन राशि में  प्रवेश  का प्रभाव सभी बारह राशियों पर देखने को मिलेगा क्योंकि यह शुक्र की उच्च राशि है। तो आईये जानते हैं कि शुक्र गोचर का मीन राशि में प्रवेश  सभी राशि के जातकों पर कैसा रहेगा प्रभाव ?

शुक्र गोचर मीन राशि मेंमेष राशि पर प्रभाव

मेष राशि के लिए शुक्र दूसरे और सातवें भाव के स्वामी हैं और इस गोचर की अवधि में शुक्र आपके बारहवें भाव में विराजमान हो जाएंगे। इसके परिणाम स्वरूप धन, ऊर्जा या स्वास्थ्य की हानि हो सकती है। शुक्र विदेशी निवास, अलगाव, अस्पताल में भर्ती, आध्यात्मिक विकास और मोक्ष, सूक्ष्म यात्रा, ध्यान छिपी प्रतिभा और बिस्तर-सुख आदि का प्रतिनिधित्व करता है। साथ ही आपको अपने प्रेमी या जीवनसाथी से अवास्तविक अपेक्षाएं हो सकती हैं और रोमांटिक और कामुक समय हो सकता है। परिवार, जीवनसाथी या साझेदारी के व्यवसाय के कारण खर्च हो सकता है। रोमांटिक और रहस्यवादी उपन्यासों के लेखक समृद्ध हो सकते हैं।

शुक्र गोचर मीन राशि में वृषभ राशि पर प्रभाव

शुक्र वृषभ राशि के स्वामी हैं यानि कि आप के 1st भाव के स्वामी होने के साथ-साथ आप के 6th भाव के स्वामी भी शुक्र देव हैं। मीन राशि में शुक्र (venus transit in pisces) के इस गोचर दौरान वे आप के 11th भाव में जाएंगे। जिसके परिणाम स्वरूप आपको लंबित आय या लाभ जारी करने में कुछ कठिनाई का सामना भी करना पड़ सकता है। कोर्ट केस आदि के कारण धन का अपव्यय भी हो सकता है। लेकिन आलीशान वस्तुओं और महिलाओं के परिधान के व्यवसाय में लाभ हो सकता है।

मिथुन राशि पर प्रभाव

शुक्र गृह और मिथुन राशि के स्वामी बुध दोनों मित्र हैं। मिथुन राशि के लिए शुक्र 5th और 12th भाव के स्वामी हैं और इस गोचर के दौरान वह आपके 10th भाव में प्रवेश करेंगे। तो शुक्र के इस गोचर के प्रभाव से आप अपने करियर में अधिकार और मान्यता प्राप्तकरेंगे । सामाजिक कार्यकर्ताओं, परोपकारी, डिजाइनरों, संगीतकारों और बैंकरों की प्रगति होगी। लेकिन बेवजह की बातों से अपना ध्यान अलग रखें, वरना काम में समस्या का सामना करना पड़ सकता है। अच्छी कल्पना और रचनात्मक कौशल रखने वालों को करियर और पढ़ाई में अधिक सफलता मिलेगी। साथ ही जीवन साथी की तलाश करने वालों को पार्टनर मिलने में सफलता मिलेगी।

कर्क राशि पर प्रभाव

कर्क राशि के लिए शुक्र 4th भाव और 11th भाव के स्वामी है और इस गोचर के दौरान नौवें भाव में प्रवेश करेंगे। इस शुक्र गोचर (venus transit) के परिणाम स्वरूप पढ़ाई या करियर के लिए लंबी दूरी की यात्रा करने की संभावना रहेगी। यह यात्राएं आपके सुख और आनंद में वृद्धि करेंगी। उच्च अध्ययन और विदेश यात्रा के लिए अच्छा पारगमन और आपको सफलता भी मिल सकती हैं। धर्म या विश्वास प्रणाली को बदलने के लिए झुकाव हो सकता है।

शुक्र गोचर मीन राशि मेंसिंह राशि पर प्रभाव

सिंह राशि के जातकों के लिए शुक्र 3rd और 4th भाव के स्वामी हैं और गोचर की इस अवधि को दौरान आठवें भाव में प्रवेश करेंगे, इस शुक्र गोचर (venus transit in pisces) के परिणाम स्वरूप आपको कार्यक्षेत्र में उतार-चढ़ाव का सामना करना पड़ सकता है। और विवाहित जोड़ों को निर्णय लेने में जीवनसाथी का साथ मिल सकता है। संयुक्त संपत्ति की वृद्धि के लिए ससुराल पक्ष से मदद की उम्मीद की जा सकती है। विवाहित व्यक्तियों के लिए उनके गुप्त मामले उन्हें परेशानी में डाल सकते हैं। इसलिए उनके लिए मर्यादित आचरण करना ही बेहतर रहेगा।

कन्या राशि पर मीन राशि में शुक्र गोचर का प्रभाव

कन्या राशि के जातकों के लिए शुक्र दूसरे और नौवें भाव के स्वामी हैं और गोचर की इस अवधि को दौरान शुक्र सातवें भाव में प्रवेश करेंगे। इस शुक्र गोचर (venus transit in pisces) के परिणाम स्वरूप आप व्यावसायिक समझौते कर सकते हैं। व्यापारियों, वकीलों, धार्मिक प्रमुखों की सफलता और प्रगति होगी। करियर में किस्मत शादी से चमकेगी। व्यापार से संबंधित विदेश यात्राएं हो सकती हैं जिनका आपको लाभ भी मिलेगा। सुंदर और अनुकूल जीवनसाथी मिलने की संभावना रहेगी। कुछ स्वास्थ्य संबंधी मुद्दे चिंता का कारण बन सकते हैं।

शुक्र गोचर मीन राशि मेंतुला राशि पर प्रभाव

तुला राशि के स्वामी शुक्र हैं। गोचर की इस अवधि को दौरान आपके छठे भाव में प्रवेश करेंगे। इस शुक्र गोचर (venus transit) के परिणाम स्वरूप आपके खर्चों में वृद्धि होगी इसलिए आपको काफी सोच समझकर अपना बजट प्लान करना होगा। सामाजिक कार्यकर्ताओं और पालतू पशु प्रेमियों, वकीलों आदि के लिए यह अच्छा समय है। तलाक चाहने वाले जातक विशेष रूप से अपने जन्म चार्ट में बृहस्पति के पुरुष पहलुओं के तहत सफल हो सकते हैं।

वृश्चिक राशि पर मीन राशि में शुक्र गोचर का प्रभाव

वृश्चिक राशि के लिए शुक्र सातवें और बारहवें भाव के स्वामी हैं। और इस गोचर दौरान आप के पांचवे भाव में प्रवेश करेंगे। शुक्र गोचर (venus transit) के परिणाम स्वरूप प्रेम विवाह के लिए यह अनुकूल समय है। प्रेमी प्रेमिका का समय रोमांटिक बीतेगा । सट्टा में सफलता मिलने की उम्मीद की जा सकती है। राजनेताओं को सफलता मिलेगी। शिक्षा के क्षेत्र में बेहतर परिणाम प्राप्त हो सकते हैं। ग्लैमर इंडस्ट्री में जैसे मॉडलिंग, एक्टिंग और आर्ट्स वालों के लिए मजेदार समय होगा।

शुक्र गोचर मीन राशि मेंधनु राशि पर प्रभाव

धनु राशि के लिए शुक्र छठे और ग्यारहवें भाव के स्वामी हैं। और इस गोचर दौरान शुक्र चौथे भाव में प्रवेश करेंगे। शुक्र गोचर (venus transit in pisces) के परिणाम स्वरूप यह अभिनेताओं, रियल एस्टेट डीलरों, शिक्षकों, वास्तुकारों, डिजाइनरों, वाहन डीलरों, इंटीरियर डेकोरेटर और होम बेस व्यवसायों के लिए अनुकूल समय है। साथ ही अपने पेरेंट्स की देखभाल करें और उनका आशीर्वाद प्राप्त करें।

मकर राशि पर मीन राशि में शुक्र गोचर का प्रभाव

मकर राशि के लिए शुक्र पांचवें और दसवें भाव के स्वामी हैं और गोचर की इस अवधि में यह तीसरे भाव में प्रवेश करेंगे, जिसके परिणाम स्वरूप मीडियाकर्मियों, कलाकारों और लेखकों को सफलता और समृद्धि मिलेगी। स्वरोजगार करने वाले व्यक्तियों को सफलता और प्रगति होगी। साथ ही आप उत्साही महसूस करेंगे और आपकी जागरूकता बढ़ेगी। आपके प्रयासों से शिक्षा और करियर में भी सफलता मिलेगी

शुक्र गोचर मीन राशि मेंकुंभ राशि पर प्रभाव

कुंभ राशि के लिए शुक्र चौथे और नौवें भाव के स्वामी हैं और इस अवधि दौरान शुक्र दूसरे भाव में गोचर करेंगे। इस शुक्र गोचर के फल स्वरूप, राहु के प्रभाव में आप बुरी आदतों में लिप्त हो सकते हैं। इसलिए थोड़ा सावधानी रखें । आभूषण और रत्न खरीदने में आपको बहुत खर्च करना पड़ सकता है। गायकों और सार्वजनिक वक्ताओं में नाम और प्रसिद्धि होगी। विदेशी भोजन का आनंद भी ले सकते हैं।

मीन राशि के जातकों पर इस शुक्र गोचर का प्रभाव

मीन राशि के लिए शुक्र तीसरे और आठवें भाव के स्वामी हैं। और इस (venus transit in pisces) शुक्र गोचर के दौरान शुक्र प्रथम भाव में विराजमान होंगे। जिसके परिणाम स्वरूप आप अधिक आत्म जागरूक होंगे और अपने व्यक्तित्व में सुधार लाने पर काम करेंगे। साथ ही युवा फिटनेस को ध्यान में रखते हुए एक जिम में शामिल हो सकते हैं और अपनी काया और लुक को बेहतर बनाने के लिए प्रयास कर सकते हैं। महिलाएं सौंदर्य प्रतियोगिता और मॉडलिंग के लिए प्रशिक्षण में भाग ले सकती है।

Leave a Reply