यदि राहु लग्न राशि में हो तो क्या फल मिलता है?

Lagna Rashi

लग्न स्थान/Lagna Rashi को केन्द्र स्थान भी कहते है और इस स्थान पर बैठा राहु काफी विशेष माना गया है। लग्न व्यक्ति का शरीर होता है और यही पर बैठा राहु संपूर्ण व्यक्तित्व को प्रभावित करने में सक्षम होता है। राहु का प्रभाव/Rahu ka Prabhav व्यक्ति को जिज्ञासा, भ्रमित, चतुर, कुशल, दबंग, उत्साहित, महत्वाकांक्षी और लापरवाह भी बनाता है।

लग्न में स्थिति होने पर राहु/Lagna Rashi me Rahu व्यक्ति को काफी चीजों से जुड़ने के लिए प्रेरित करता है। किसी एक जगह पर टिक कर रहना व्यक्ति को अधिक पसंद नहीं होता है। राहु के प्रभाव को लग्न में/Rahu in Ascendant समझने के लिए सबसे पहले ये समझना जरूरी होगा की आखिर लग्न होता है क्या है, तो लग्न व्यक्ति की कुंडली का पहला भाव/First House होता है। कुंडली का ये भाव ही व्यक्ति की शारीरिक बनावट, उसकी रूपरेखा, उसके मस्तिष्क सोच विचार, स्वभाव विचारधारा इत्यादि को भी दर्शाता है। अब इन बातों के बाद इस बात पर आते हैं की लग्न में बैठा राहु/Lagna Rashi me Rahu क्या कर सकता है तो, राहु की प्रकृति को भी यहां जान लेते हैं।

राहु एक छाया ग्रह है और एक पाप ग्रह की संज्ञा पाता है। राहु भ्रम का कारक होता है, अस्पष्टता राहु की देन होती है। राहु दिशा को इंगित करता है। राहु अपने नकारात्मक प्रभावों के कारण अधिक प्रसिद्ध है किंतु राहु के अमृत्व को प्राप्त लेने के पश्चात तो राहु में एक अलौकिक ज्योति भी मौजूद है जो आध्यात्मिक, गुढ़ विचारों की देन बन जाती है। अब इन बातों को जान लेने के बाद यह समझ पाना कठिन नहीं हो जाता है कि राहु लग्न को कैसे प्रभावित कर सकता है। हमारी सोच और विचारधारा पर राहु का उपस्थित होना हमें कई चीजों से जोड़ने वाला होता है।

किसी एक विचार पर अटक जाना राहु का कार्य नहीं है वह तो हर चीज की परत दर परत को हटाते हुए आगे बढ़ता जाता है। इसके साथ ही हर ओर अपनी निगाह को बनाए रखने की उसकी कोशिश भी रहती है तो ऐसे में व्यक्ति के भीतर ये गुण होना स्वाभाविक है।

राहु का प्रभाव/Rahu ka Prabhav व्यक्ति को चालाक और जोड़ तोड़ में माहिर बना सकता है। राहु व्यक्ति को कुछ सेल्फ सेंटर्ड भी बना सकता है। व्यक्ति स्वयं को लेकर काफी अस्थिर भी होता है। स्वयं को लेकर असंतुष्ट और खुद को बेहतर बनाने की कोशिशों को करने वाला हो सकता है। अपनी विशेषता को जाहिर करने की कोशिश भी राहु ही देता है। कुछ मामलों में दिखावे की प्रवृत्ति भी राहु दे सकता है। राहु के प्रभाव से व्यक्ति को समझ पाना आसान नहीं होता है। जातक का व्यक्तित्व उलझा हुआ भी होगा।

क्रोध और मनमानी करने का भाव भी व्यक्ति में उत्पन्न होगा। राहु के लग्न में/Lagna Rashi me Rahu बैठे होने पर व्यक्ति साहसी हो सकता है। वह जोखिम से भरे कामों को करने में भी आगे रह सकता है। अपनी बातों में गोलमोल हो सकता है। धोखा देने में भी राहु काफी प्रबल होता है और इसका ये गुण व्यक्ति को भी मिलता है। राहु व्यक्ति को एक अच्छा जासूस भी बना सकता है। वाद-विवाद से व्यक्ति आगे रह सकता है।

यह भी पढ़ें: Rashifal 2023 sabhi rashiyon ke liye

Leave a Reply