वैवाहिक जीवन में समस्याएं क्यों आती है? | Problems in married life

problem in married life

विवाह दो व्यक्तियों के बीच एक ऐसा संबंध है जो तभी सफल हो सकता है जब दोनों व्यक्ति एक दूसरे के साथ मानसिक, शारीरिक और भावनात्मक रूप से अनुकूल हो। हर व्यक्ति अपने वैवाहिक जीवन/Married life को सुखद और खुशहाल बनाना चाहता है, लेकिन कई बार चीजें उनके पक्ष में नहीं होती। कभी कभी एक के बाद एक वैवाहिक जीवन में समस्या/Problems in married life आती रहती है और आपके रिश्ते को और भी ज्यादा गंभीर बना देती है। इस स्थिति में बहुत सारे लोगों के मन में प्रश्न उत्पन्न होने लगते हैं कि विवाह में इतनी समस्याएं क्यों आती है? लेकिन ज्यादातर लोग इस प्रश्न के उत्तर नहीं तलाश पाते हैं। इस स्थिति में यह ब्लॉग आपको विवाह में आने वाली समस्याओं का समाधान तलाशने में सहायता कर सकता है।

क्या विवाह अपने आप सफल हो सकता है?/ Does marriage work on its own?

हर विवाहित युगल/married couple का सपना होता है कि वह अपने विवाह को सफल बनाएं, लेकिन उनको एक बात यहां समझनी पड़ेगी कि विवाह में सफलता दोनों व्यक्तियों के प्रयासों के ऊपर निर्भर करती है। विवाह की सफलता की नई कहानी तभी लिखी जा सकती है जब दोनों साथी उस विवाह को सफल बनाना चाहते हैं। यदि दोनों में से एक भी व्यक्ति अपने प्रयासों में ढीलापन रखते हैं, तो इस बात की संभावना प्रबल हो जाएगी कि रिश्तों में दरार आ जाए। ऐसा अक्सर तभी देखा जाता है जब एक साथी अपने जीवनसाथी के प्रति कर्तव्य को नजरअंदाज करता है या उसका किसी अन्य व्यक्ति के साथ संबंध/Extramarital affair होता है। इस भाग से एक बात को स्पष्ट होती है कि विवाह अपने आप सफल नहीं हो सकता। विवाह की सफलता के लिए आपके प्रयास बहुत ज्यादा महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं।

विवाह के लिए ग्रहों के झुकाव को जानना?

विवाह ज्योतिष/marriage astrology कोई ऐसा शब्द नहीं है, जिससे लोग अनजान हो। यह एक ऐसा ज्योतिषीय उपकरण है जो वैवाहिक जीवन की भविष्यवाणी कर सकता है और साथ में आपको आपके जीवनसाथी के बारे में भी बता सकता है। यदि आप विवाह से पहले जन्मतिथि के आधार पर विवाह की भविष्यवाणी/marriage prediction by date of birth लेते हैं, तो आप अपने विवाह को सुचारू रूप से चलाने में सक्षम हो पाएंगे, अन्यथा इस बात की अधिक संभावना बन जाएगी की कुछ ग्रह संयोजन के कारण आपको अपने विवाह में समस्या का सामना करना पड़े। इस तथ्य से एक बात स्पष्ट है कि यदि आप ग्रहों की सहायता लेते हैं तो आपको इसका सीधा लाभ मिल सकता है। हालांकि, वैवाहिक समस्याओं का प्रमुख कारण विवाह को सफल बनाने के लिए दोनों साथी में उत्सुकता की कमी हो सकती है।

स्वयं को दूसरा मौका दे कर देखें

जब आप एक असफल विवाह का सामना करते हैं और इससे बाहर निकलने का प्रयास करते हैं, तो इस बात की संभावना बढ़ जाती है कि आपके मन में विवाह के संबंध में कुछ नाकारात्मक भावनाएं बन जाए। लेकिन आपको कभी नहीं भूलना चाहिए कि पहला खराब अनुभव पूरे जीवन को प्रभावित नहीं करता। जीवन हर व्यक्ति को दूसरा मौका देती है। यदि आपकी किस्मत में दूसरी शादी का योग है तो आपको दूसरे विवाह की भविष्यवाणी/Second marriage prediction की तरफ अपना रुख करना चाहिए। यह आपको सचेत कर सकता है कि आपको अपने इस विवाह को कैसे सफल बनाएं।

ज्योतिष के नजरिए से देखें

विवाह कोई पार्क में टहलना जैसा कोई कार्य नहीं है, बल्कि यह किसी के भी जीवन से जुड़ा एक बड़ा और अहम फैसला है। यदि आपने कोई फैसला लेने का निर्णय कर लिया है तो आपको हमेशा ज्योतिषीय सहायता की ओर अपना रुख करना चाहिए। ज्योतिष में कुछ कारक होते हैं जो विवाह के लिए अहम होते हैं और उन्हें नीचे दिया गया है।

  • मांगलिक दोष एक बहुत बड़ा कारक होता है, जिसे कुंडली में आवश्य देखा जाता है। और यदि आपकी कुंडली में मांगलिक दोष है तो इसकी क्या तीवर्ता है।
  • विवाह की भविष्यवाणी के लिए सातवें भाव और उसमें मौजूद ग्रह को देखा जाता है।
  • बृहस्पति की दशा भी विवाह का महत्वपूर्ण कारक होता है।

यह विवाह भविष्यवाणी के कुछ अंश है जिसे सिर्फ एक वैदिक ज्योतिषी ही विस्तार में समझा सकता है।

वैवाहिक जीवन में समस्याओं का समाधान/ problems in married life पाने के लिए एक योग्य ज्योतिषी खोजना कभी-कभी सरल नहीं होता है। लेकिन, विवाह से जुड़े किसी भी सवाल के जवाब के लिए हमेशा वैदिक ज्योतिष डॉ विनय बजरंगी से अपनी कुंडली की जांच कराना आपके लिए लाभकारी साबित हो सकता है। इतना ही नहीं, आप अपने सभी समस्याओं के समाधान के लिए ऑनलाइन या वॉयस रिपोर्ट भी ले सकते हैं।

Leave a Reply