क्या केतु व शुक्र विरुद्ध है?

केतु शुक्र

केतु शुक्र का मित्र नहीं है इसका कारण यह है कि शुक्र एक भौतिक ग्रह है. शुक्र भोग-विलास, भौतिक सुख-सुविधा, वाहन, समृद्धि, धन-संपत्ति, वैभव, विलासिता, प्रेम व वैवाहिक सुख आदि का कारक ग्रह है. केतु एक आध्यात्मिक ग्रह है. यह वैराग्य, अलगाव, सन्यास, मोक्ष, आध्यात्मिकता, धर्म, योग आदि का कारक ग्रह है और सांसारिक विषयों के प्रति उदासीन भाव रखता है. शुक्र और केतु में बुनियादी फर्क यही है कि शुक की भोग विलास, सांसारिकता व भौतिकता में रूचि है और केतु की आध्यात्मिकता में रूचि है इसलिए ये दोनों ग्रह एक दूसरे से विपरीत गुण रखने वाली दो धाराएं हैं. इन्ही सब कारणों से शुक्र व केतु/Shukra aur Ketu आपस में एक दूसरे के विरोधी हैं न कि मित्र।

Leave a Reply