पिछले जन्मों के संचित कर्म ही हमारी कुंडली का निर्माण करते हैं

हमें पता होना चाहिए कि जन्म के समय बनी कुंडली किसी पंडितजी द्वारा तैयार की गई कोई ऐच्छिक दस्तावेज़ या सहज चार्ट नहीं होता हैं ! बल्कि  हमारे पिछले जन्म …

Read More
शनि का गोचर

शनि का गोचर और विभिन्न शनि चरण

शनि का गोचर ( पारगमन or Saturn transit) लगभग ढाई साल तक एक ही  राशि में रहता है और उसके बाद अगले राशि  में प्रवेश करता है जब भी शनि …

Read More
उच्च और नीच के गृह

उच्च और नीच के गृह विपरीत परिणाम भी दे सकते हैं

ज्योतिष के मेरे दो दशकों के अनुभव से मेने ये सत्यापिक निष्कर्ष निकाला है कि लगभग सभी कुंडली में नकारात्मक और सकारात्मक दोनों ग्रहों का संयोजन हैं। लगभग हर कुंडली …

Read More
केतु

केतु हो सकता है विनाशकारी अगर सावधानी न बरती तो |

केतु एक ग्रह है जिसकी किसी भी कुंडली में बहुत भारी भूमिका रहती  है। लेकिन मैं पूरी तरह से धैर्य और सकारात्मकता के साथ प्रारम्भ करूँगा, डरने की जरुरत नहीं …

Read More