नकारात्मक विवाह

एक नकारात्मक विवाह का योग बन सकता है  अच्छे विवाह का योग

कोई विवाह से नकारने वाले योग या चार्ट किसी भी विवाह उम्मीदवार और परिवार को परेशान कर सकते हैं। लेकिन चिंता कि बात नहीं है ,  मैंने कई कुंडलियों में ऐसे योगों को देखा है जिन्हे अच्छे विवाह योग में परिवर्तित भी किया गया है |  यह 16 फरवरी, 2016 की बात है जब एक युवा महिला बहुत विश्वास के साथ , योगिता (नाबदला हुआ नाम ) 11:10 बजे मेरे कार्यालय में आयीं। मैं आत्मविश्वास के साथ इन तिथियों और समय का जिक्र इसलिए कर रहा हूँ  क्योंकि मेरे कार्यालय में सभी को समय और दिवस निर्धारण के बाद मुझसे मिला जाता है | और  मेरे सहायक कर्मचारियों द्वारा नोट किया जाता है, क्योंकि चार्ट इन समयों और तिथियों के अनुसार भी बनते हैं, और जातक की समस्या का समाधान इसके अनुकूल करना पड़ता है |

कुंडली में विवाह योग होना

आइये वापस योगिता की बात करते हैं वह 34  वर्ष की हो चुकी थी और अभी तक उसका विवाह होते प्रतीत नहीं हों रहा था |  वह विभिन्न ज्योतिषियों से मिल चुकी थी और उनके द्वारा बताये गए कई अनुष्ठानों को भी पूर्ण किया था लेकिन फिर भी कोई सफलता प्राप्त नहीं हुई थी | वह अपने विवाह की सभी उम्मीद खो चुकी थी | इसलिए उसका मुझसे मात्र एक प्रश्न था कि क्या  कभी उसका विवाह होगा भी या नहीं ? 

मैंने उसकी कुंडली बनाई जो कि निम्न थी –

कुंडली में विवाह के योग नहीं थे

कुंडली के अनुसार विवाह संपन्न नहीं होना था और यदि अंत में कभी किन्ही परिस्थिति में हुआ भी तो उसका परिणाम भयानक प्रतीत हो रहा था | वह अपनी कुंडली के अधिंकांश इन नकारात्मक योगों के बारे में जानती थी जो कि विवाह में बाधा उत्पन्न करने वाले थे और उसने इनकी समाप्ति के लिए विभिन्न अक़्नुष्ठान भी किये थे लेकिन कोई परिणाम नहीं मिला  | इसलिए अब उसे एक अलग प्रकार के समाधान की आवश्यकता थी |

ऐसी परिस्थितिओं के विश्लेषण हेतु मेरे तरीके

मेरे सभी अनुयायी, उनके प्रश्न और मेरे द्वारा किये गए समाधान की जानकारी हमेशा सहज रूप से मेरे कार्यालय मेरे रखी जाती है | यह मुझे अन्य समान चार्टों के साथ जीवन की घटनाओं को सहसंबंधित करके परिस्थितियों को समझने और मेरे सिद्धांतों को तैयार करने में मदद करता है। अब समस्या , क्षेत्र और कुंडली को बदलते हैं अब बात माल्ती ( बदला हुआ नाम )  की करते हैं उसकी कुंडली भी योगिता की कुंडली के समान ही थी  | 1 9 65 में पैदा हुए पुराने स्नातक जिन्होंने वर्ष 2012 में मुझसे अपने पेशे से संबंधित कुछ मामलों के लिए परामर्श किया था। उसके लिए, शादी एक सपना था और जिसके लिए उसने कम से कम पिछले दस वर्षों से हताश होकर सोचना ही बंद कर दिया था।

इन मुद्दों पर मेरी राय

मैंने देखा कि योगिता का भाग्य माल्ती के समान लग रहा था | ऐसा इसलिए क्योंकि विवाह का योग उत्पन्न करने वाले तारे दोनों की कुंडली में लगभग समान ही थे और जो विवाह न होने का योग उनकी कुंडली में था उसे निष्क्रिय करना मुश्किल था |

लेकिन योगिता के चार्ट में एक प्लस प्वाइंट था, लग्न (डी -1) और नवांशा चार्ट (डी-9) दोनों में उनके अधिपति भगवान बृहस्पति शक्तिशाली और प्रभावपूर्ण  थे। अर्थात उसे जो भी अनुष्ठान बताये जायेंगे वह उन्हें पूरी श्रद्धा और धार्मिकता से पूर्ण करेगी | और उसने कई अनुष्ठान पूर्ण किये भी थे लेकिन उसे उनका कोई लाभ न मिला | लेकिन, उन अनुष्ठानों को निर्धारित करने से पहले, जो उनके चार्ट के अनुसार चिंताओं के क्षेत्रों का मूल्यांकन किया गया था और नीचे उल्लिखित हैं। यह प्रभाव किस ग्रह के  कारण उत्पन्न हुए मैं यहां उसका  उल्लेख नहीं करूंगा , क्योंकि मैं पाठक को यह समझने के लिए छोड़ देता हूं कि यह किस ग्रह के कारण था  आप लोग टिप्पणी बॉक्स में अपनी टिप्पणी छोड़ने के लिए स्वतंत्र हैं। मैं आपको आश्वासन देता हूं कि मैं उन सभी का जवाब दूंगा |

यहां कुछ नकारात्मक कारक हैं

प्रत्येक माता-पिता का उनके बच्चे पर एक विशिष्ट प्रभाव पड़ता है। लेकिन ऐसे कई उदाहरण हैं जब कभी-कभी यह प्रभाव एक निश्चित बिंदु से परे चला जाता है। नतीजतन, कुछ घटनाएं इतनी खराब हो चुकी हैं जिन्हे बाद में सुधारना बहुत मुश्किल है | आप बहुत अच्छी तरह से देख सकते हैं कि चंद्रमा जो मां का कारक है, 7 वें भाव और 7  वें भाव के अधिपति नकारात्मक रूप से स्थित है और इसी तरह सूर्य की स्थिति भी 7 वें भाव के संकेतों के साथ नहीं होनी चाहिए |

  • लड़की योगिता एक योग्य कार्यरत महिला थी जो अपने जीवन में अच्छी तरह से कार्यरत थी । वह एक ऐसा पति चाहती थी जो उससे अधिक योग्य के हो | वह अपने कार्यस्थल के आस-पास ही विवाह करना चाहती थी |
  • ढूंढ़ने के लिए कोई प्रयत्न नहीं किया और सिर्फ अपनी राय योगिता द्वारा खोजे जाने वाले वर के बारे में ही देता था |
  • एक अति से अधिक की देखभाल करने वाले परिवार ने धीरे-धीरे शादी की संभावना को भी समाप्त कर दिया।

अब योगिता के चार्ट का गहनता से अध्ययन:

ग्रह जो की शादी के नकारात्मक योग उत्पन्न कर रहे थे इन योगों ने विवाह के नकारात्मक योग को सक्रिय कैसे किया क्योंकि  चंद्रमा (मां), सूर्य (पिता) और मंगल (भाई) द्वारा फलित किये जाते हैं।

यदि इन तीनों ने अति की मदद करने की कोशिश नहीं की होती तो शादी के नकारात्मक योग सक्रिय होकर शक्तिशाली नहीं होते और जातक की समय पर शादी हो गयी होती 

विवाह के नकारात्मक योग उत्पन्न करने वाले ग्रह

अगला सवाल था कि यदि विवाह हुआ तो क्या वह फलित होगा और जवाब है हाँ  क्योंकि विवाह किसी एक की नहीं है अपितु दोनों की जन्मपत्री को मिला सामंजस्य बिठाकर किया जाता है

आसान समाधान और सलाह:

  • मैंने योगिता को कुछ चीज़े बताई और उनका अनुसरण करने को कहा |
  • स्वयं की सहजता के लिए अपने शहर में वर ढूंढने के लिए परेशान न हो ।
  • विवाह के वार्तालाप में अपने भाई को शामिल न करें; यह उसका काम नहीं है।
  • अपने माता-पिता को भी सिर्फ बताएं कि वह किस प्रकार से वर की खोज कर रही हैं उन्हें इस खोज में शामिल न करें अन्यथा विवाह की संभावना और बर्बाद हो जाएगी | |
  • आगे विवाह की बात बढ़ाने से पहले चार्ट का उचित प्रकार से मिलान कराएं |
  • और ये भी समझाया कि वो कोई दूसरों के लिए पैसा बनाने वाली मशीन नहीं समझी जानी चाहिए
  • उसे एक विशिष्ट तरीके से भगवान विष्णु की पूजा करने को कहा जिससे उसे शक्ति और सही दिशा प्रदान हो |
  • और उसे एक विशिष्ट समय अवधि बताई जिसमे उसके कुंडली के सितारों का स्थानांतरण हो रहा था और वह समय में उसके वर की तलाश को पूर्ण होने  की सम्भावना और अच्छी प्रतीत हो रही थी  |
  • उसके लिए यह मुश्किल था लेकिन मुझे पता था कि वह सभाल लेगी (वह मेरे कार्यालय में प्रवेश करने वाले समय / तारीख को याद रखें)।

अंतत:  परिणाम

 

योगिता की शादी हो चुकी थी पति और पत्नी दोनों अलग-अलग जगहों पर काम करते हैं, लेकिन फिर भी वह अपने जीवन में संतुष्ट थे लेकिन योगिता के माँ और पिता अभी भी नाराज  हैं क्योंकि उसने उनकी  इच्छा के खिलाफ विवाह किया ।

भाई अब हमेशा उस पर क्रूर है क्योंकि वह अब उसके पैसे प्राप्त नहीं कर पा रहा था । लेकिन वह गर्भवती है और वह अपने लिए एक सुन्दर जीवन की कामना करती है  ।

जहां तक ​​माल्ती का सवाल है, उसने अपनी मां को खोने के बाद शादी तो शादी का सही समय निकालने के बाद । माल्ती का भाई कभी भी अपने पैरों पर खड़ा नहीं हो सका। क्योंकि उसे आसान तरीके से माल्ती से पैसा लेने की आदत पद चुकी थी जो शायद अब वह खो चुका था |

ग्रह सावधान करने और सावधानी बरतने के लिए होते हैं लेकिन हम अंधविश्वास के साथ उनके अनुष्ठानों का पालन करते हैं और अपने बने जाल में ही फंस जाते हैं |यह कठिनता ऐसी कुंडली वाले जातकों के लिए अधिक होती है  जो संभलने की इच्छा नहीं  रखते हैं |

विवाह संगतता कारक भी अपरिहार्य हैं

अच्छे विवाह योग की पहचान करना हमें विवाह संगतता कारकों का विश्लेषण करने के अगले चरण की ओर ले जाता है। ये कारक विवाहित जीवन की समग्र सफलता में बहुत महत्वपूर्ण और अनिवार्य भूमिका निभाते हैं। केवल गुण मिलान पर निर्भर लोग अपने फैसले में गलती कर सकते हैं। कई लोग यहां त्रुटियां करते हैं और कभी-कभी केवल गुण मिलान के बाद विवाह कर लेते हैं | विवाह जैसे सम्बन्ध का फैसला लेने से पहले  यहां विवाहित परामर्श से इन मुद्दों पर भी अम्ल करना चाहिए |

इस ब्लॉग को अंग्रेजी में पढ़ने के लिए यह- क्लिक कीजिये

Share this post:

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *