Monday, December 17, 2018
डॉ. विनय बजरंगी कौन हैं |

डॉ. विनय बजरंगी कौन हैं |

डॉ. विनय बजरंगी नोएडा , दिल्ली एनसीआर में आसीन एक प्रसिद्व वैदिक ज्योतिषी हैं| परा विज्ञान में बजरंगी जी ने नाना विषयों में उच्च शिक्षा प्राप्त की हुई हैं जैसे वह ज्योतिष में दोहरे डॉक्टर ऑफ़ फ्लॉस्फी हैं साथ साथ न्यूमरोलॉजिस्ट , जेमोलिस्ट ,ग्राफोलॉजिस्ट और वस्तु सलाहकार आदि भी हैं | डॉ. विनय बजरंगी, श्री हनुमान जी के परम भक्त हैं और हनुमान जी की कृपा से इन्हें दिव्य शक्तियों का आशीर्वाद प्राप्त हैं |

डॉ. विनय बजरंगी नोएडा के एक प्रसिद्ध ज्योतिषी हैं। वह हर दिन अनेक अनुयायियों से मिलते हैं और उनकी समस्याओं के नियमित रूप से समाधान करते है| इन मान्यताओं और कौशल ने उन्हें एक पारंपरिक, रूढ़िवादी ज्योतिषी से एक सफल कर्म संशोधक में बदल दिया है| उनके अद्वितीय सिद्धांत ने उन्हें दिल्ली एनसीआर में एक प्रसिद्ध ज्योतिषी के रूप जाना गया है | डॉ विनय बजरंगी कर्म संशोधक, के अनुसार वह आपके पिछले जीवन में महत्वपूर्ण घटनाओं की जांच करते है और आपके वर्तमान जीवन के अतीत, वर्तमान जीवन में जिन समस्याओं का सामना कर रहे हैं, उनके कारणों के बारे में भी बताते है और उन्हें दूर करने के लिए उपचारात्मक उपायों की सलाह देते हैं ताकि एक आसान भविष्य के जीवन का नेतृत्व किया जा सके।

संक्षेप में, वह आपको आपके अंतिम लक्ष्यों को प्राप्त करने में सहायता करते हैं और जब तक आप अपने वांछित लक्ष्यों को पूरा नहीं कर लेते हैं, तब तक व्यक्तिगत ध्यान और पूर्ण रूप से मदद करते है| उन्होंने भारतीय वैदिक ज्योतिष के प्रथाओं और तरीकों में महारत हासिल की हैं और जन्मजात / जन्म चार्टों की व्याख्या करने और व्यक्तियों के पथ को सही करने के लिए स्वयं द्वारा कुछ तकनीकों का विकास किया है ताकि उन्हें जीवन में अधिकतम लाभ प्राप्त करने में सक्षम बनाया जा सके। बजरंगी धाम “बजरंगी बली का निवास” का शाब्दिक अर्थ एक ज्योतिषीय केंद्र है जिसे इस उद्देश्य से स्थापित किया गया हैं ताकि भारतीय वैदिक ज्योतिषी की तलाश करने वाले लोगों की खोज बजरंगी धाम में डॉ विनय बजरंगी से मुलाकात कर के पूर्ण हो सके|

डॉ. विनय बजरंगी ने अब तक राष्ट्रीय स्तर के साथ-साथ अंतरराष्ट्रीय स्तर पर सभी समहू और क्षेत्रों से 1,50,000 से अधिक कुंडली को देखा और विश्लेषण किया है। उन्हें वैदिक विज्ञान का अभ्यास है जो विभिन्न तकनीकों पर आधारित है जैसे-उत्तर-भारतीय तकनीकों, दक्षिण की नाड़ी तकनीकों का एक व्यापक अध्ययन, और महर्षि भृगु के प्राचीन वैदिक सिद्धांतों (सात महान ऋषियों में से एक, सप्तऋषि कई प्रजापतियों में से एक, भगवान ब्रह्मा द्वारा निर्मित) और महर्षि पराशर (पहले पुराण, विष्णु पुराण सहित कई प्राचीन भारतीय ग्रंथों के लेखक) के ज्योतिष, पाराशरी आदि|
इन्हीं सब कारणों से बजरंगी जी भारत के जाने- माने, प्रतिष्ठित और प्रमाणिक ज्योतिषी बने हैं |