Success

प्रत्येक व्यक्ति जीवन में सफल होना चाहता है लेकिन सबसे प्रासंगिक ( मुख्य ) सवाल कि जीवन में सफलता कैसे प्राप्त करें | जब कुछ लोग असफल होते हैं और कुछ सफल तो दोनों के बीच पहचानने योग्य कुछ कारक ( तथ्य ) होना चाहिए | हम जानते हैं कि संघर्ष कठिन है और जीत अधिक गौरवशाली  है | हांलाकि यह भी सत्य है कि जीवन में अंतत: संघर्ष करने से ही जीवन में सफलता प्राप्त होती है | कुछ छोटे अंतदृष्टि जीवन में सफल होने के बारे में जानना निश्चित ही आपकी सफलता की यात्रा में उल्लेखनीय परिवर्तन ला सकती है | तो जानें सफलता के लिए ज्योतिष आपकी मदद कैसे कर सकता है | भारतीय ज्योतिष में किसी भी भविष्यवाणी से पहले इस मूल सिद्धांत का अवश्य ध्यान रखना चाहिए & भारतीय ज्योतिष में पिछले कर्मों को जानना जरुरी है |


डॉ विनय बजरंगी की ऐसी कई और कहानियां सार्वजनिक डोमेन में भी उपलब्ध हैं।

भारतीय ज्योतिष की एक पूरी तरह से अलग अवधारणा को सुनने के लिए यहाँ क्लिक कीजिए |”

वो व्यक्ति जो अपनी प्रतिभा पर विश्वास रखता है उसका प्रयत्न दुनिया को अपनी प्रतिभा प्रदर्शित करने का गर्व होता है | लेकिन ऐसे लोग आम तौर पर ज्यादा संघर्ष करते हुए पाए जाते हैं | मैंने आम तौर पर देखा है कि :

  • वह जो खेल में कुशल हैं , अपने क्षेत्र में सफलता प्राप्त करने के लिए अंतत: प्रयास कर रहे हैं |
  • वह जो अपने अभिनय का प्रदर्शन करना चाहते हैं , वह मुंबई की गलियों में अपना जीवन बर्बाद कर रहे हैं |
  • वह जो बिज़नेस कर चाहते हैं एक ऐसे बिज़नेस को स्थापित करने में व्यर्थ प्रयास कर रहें हैं जो कि कभी चलने वाला ही न हो |
  • वह जो कोई एक विशेष तथ्य या लक्ष्य जिसकी कोई उम्मीद ही न हो उसमे साबित करना चाहते हैं अपना समय और ऊर्जा दोनों बर्बाद कर रहें हैं |

जीवन में सफलता कैसे प्राप्त करें – सफलता के लिए ज्योतिष कर सकता है आपकी मदद :

बहुत से ज्योतिषीय कारण है जिनकी वजह से एक व्यक्ति लगातार संघर्षों के बाद भी असफल हो जाता है और जो उनमे जो सबसे सबसे महत्वपूर्ण बिंदु हैं उनकी नीचे गणना की है :

स्वयं को अनुशासित बनाना ( बनाने की चाह )

एक कमजोर लग्न इसके उत्तरदायी हैं | एक अनुशासनहीन व्यक्ति को भविष्य लाभ के लिए आज के त्याग का मूल्य समझना कठिन है |

एक दुर्बल लग्न आलस्य को जन्म देता है और आंतरिक ताकत – विवेक को समाप्त करता है और उसकी सोच उसे हर चीज़ को कठिन और नामुमकिन सोचने जैसा बनाती है |

दृढ़ता की कमी : एक प्रतिभा और जन्मजात बुद्धि भी व्यर्थ है , यदि दृढ़ता नहीं है | दृढ़ता में समायोजन और नए मार्गों को खोजने की क्षमता है | एक कमजोर लग्न के साथ – साथ तीसरा भाव भी इसका जिम्मेदार है |

योजना की कमी : एक आधी-अधूरी योजना भी परिणाम दे सकती है लेकिन यदि व्यक्ति बिना योजना के आगे बढ़ रहा है तो व्यर्थ है  | कुंडली के छठे भाव से इसका निर्णय होता है |

असफलता का डर : असफलता का डर हमें अपंग कर देता है | लेकिन कुण्डलीय दृष्टिकोण से यह एक ऐसा कारण है जो व्यक्ति को योग्य बनाने में असमर्थ करता  है | कमजोर लग्न और छठे भाव की मजबूती डर को दर्शाती है |

बहुत जल्दी बहुत अधिक की चाह रखना :

जल्दी परिणाम की कमी बहुतों को निराश करती है जिसका कारण लग्न का स्थान कमजोर होना होता है |

बहाने : संघर्षकर्ता जो सफलता प्राप्त करने में असफल हैं उनमे अपनी गलतियों और समस्याओं के लिए  दूसरों को दोष देने की विशेषता होना | यह 11  वे भाव के असंतुलन का कारण है |

सलाह प्रतिरोधी :

एक विचलित लग्न और अस्थिर लग्न स्वामी जातक को बहस करने वाला और मूल्यवान सुझावों पर ध्यान न देने वाला बनाता है |

अपने ध्यान को स्थिर करने में अयोग्य :

सफलता के निकट जाये बिना जातक मूल सफलता के साथ रहना प्रारम्भ कर देता है | कुछ हद तक इसे दिन में स्वप्न देखना कहते हैं और भौतिकी व्याकुलता के साथ दिवस्वप्न सक्रीय शुक्र का आंतरिक रूप से हानिकारक ग्रह की छाया में होने का सीधा परिणाम है |

सामाजिक संबंध , मेलजोल का अभाव: सहायक लोगों के साथ जुड़ने की इच्छा का अभाव 11  वे भाव के दूषित होने के वजह से होता है |

विनम्रता : ऐसी बहुत सी चीज़ें हैं जो अब आप नहीं कर सकते लेकिन उन्हें सहजता से मानने को तैयार नहीं होते | उन्हें सहजता से लेना एक कार्य है | यह शक्ति  सीमाओं और सबसे ऊपर स्वयं की ताकत का आंकलन करने में भी मददगार है | कुंडली में नकारात्मक लग्न का होना इन सब चीज़ों को बढ़ावा देता है

जीवन में सफलता के प्रमुख कारक : सफलता के लिए ज्योतिष ( ज्योतिष से सफलता )

ऐसी कुछ चीज़ें हैं जो व्यक्ति को लक्ष्य के शिखर तक पहुँचने से रोकती हैं उन कारकों की पड़ताल हम ज्योतिषीय माध्यम से कर सकते हैं एक छोटी सी पड़ताल से हम समझ सकते हैं कि जीवन में कैसे सफल हों :

  • सही चीज़ / मार्ग चुनना |
  • ऊंचाई जो हासिल करना मुश्किल हो |
  • वास्तविकता और झूठे सपने देखने की बीमारी क्या है |

जीवन में सफल होने के लिए कुछ संकेत :

हम कर्मों में परिवर्तन लाकर यह अविश्वसनीय लेकिन संभव लक्ष्य प्राप्त कर सकते हैं | जब हम यह करना प्रारम्भ करते हैं तो निम्न चीज़ें घटित होती हैं :

  • हमारा अनौपचारिक व्यवहार स्थगित होता है |
  • व्यक्ति में भावुकता सहन करने की शक्ति आना |
  • बुरी आदतें छूटने लगती हैं |
  • तनाव सहनशीलता स्तर बढ़ने लगता है |
  • सही निर्णय लेने का साहस आता है |
  • व्यक्ति समयबद्ध योजना बनाना प्रारम्भ करता है |
  • असफलता को सबक की तरह देखता है |
  • लक्ष्य को संभव सीमा तक रखना |
  • आत्मविश्वास बढ़ने लगता है |

यह सब तब होता है जब व्यक्ति यह जान लेता है कि उसके लिए सही क्या है और गलत क्या है | एक ज्योतिष में मास्टर द्वारा कुंडली पढ़कर प्रमुख ग्रहों को उचित दिशा देकर यह सब संभव हो जाता है |

सफलता क्या है :

मेरे मुंबई ऑफिस में एक दिन मैं एक ऐसे माता-पिता से मिला जो अपने जुड़वां बेटों के लिए चिंतित थे | एक प्रशासनिक सेवाओं की तैयारी कर रहा था और दूसरा बॉलीवुड में अपनी किस्मत आजमा रहा था |निकटतम अतीत में कुछ विपरीत कार्यों का घटित होना उन्हें मेरे पास ले आया | दोनों लड़के अपने सम्बंधित क्षेत्रों में काफी समय से काम कर रहे थे ! लेकिन तब भी दोनों जीवन में असफल थे | ऐसा तब हुआ जब बॉलीवुड में अपनी किस्मत आजमाने वाले लड़के ने फिल्म निर्माता को देने के लिए एक बहुत बड़ी रकम की मांग की ! ताकि निर्माता उस लड़के को मुख्य भूमिका में रख सके |   दूसरे लड़के को भी अधिकतर घंटे पढ़ने के बाद भी कोई परिणाम नहीं मिल रहा था |

अब क्योंकि वो दोनों जुड़वां थे उनका D 4  और लग्न चार्ट एक जैसा था | उन दोनों के जन्म समय में छह मिनट का अंतर था और इसलिए उनके विभागीय चार्ट D – 9  और अन्य उच्च चार्ट अलग थे |

लेकिन ज्योतिष के छात्रों को पता होना चाहिए कि जुड़वां और तीन होने पर चार्ट क्या दिखाता है | यह D – 60 या षष्ट्यांसा चार्ट है |

जीवन में सफल होने के लिए ज्योतिषीय कारक :

इस तथ्य के बाद भी कि एक कुंडली की लग्नेश की सकारात्मक दशा दूसरी कुंडली में भी लागु थी | लेकिन योग कारकों के कारण उनकी बाधाओं को उत्पन्न करने वाले  कारण अलग थे |

वह दोनों ही झूठी आशा की उम्मीद में रह रहे थे वहां कुछ था जो उन्हें सफलता की अवास्तविक उम्मीद दे रहा था |

मैंने विश्लेषण  किया ( बताया ) कि दोनों अपने चुने हुए क्षेत्रों में सफल नहीं होंगे , और यदि वह  कुछ और समय तक कोशिश कर रहे हैं तो वह गहन संकट की और जा रहे हैं  जहाँ वापसी का कोई बिंदु नहीं है |

सफलता कैसे प्राप्त करें – कैरियर ज्योतिष और व्यापार ज्योतिष आपकी मदद करते हैं  |

बॉलीवुड में लगाव वाले व्यक्ति के लिए : – वर्तमान समय उसके लिए उत्तम था लेकिन निश्चत ही अभिनय के उद्देश्य से नहीं | इसके बजाय उन्हें एक कोचिंग सेंटर खोलना चाहिए और लोगों को सिखाएं कि फिल्म इंडस्ट्री में अलग – अलग क्षेत्रों में सफलता कैसे प्राप्त करें | मैंने बताया कि दो मैंने बताया अगले दो वर्षों में उसे इसमें  अच्छी सफलता मिलेगी | और अगले पांच साल पीछे की तरह नहीं होंगे |

प्रशासनिक सेवा लगाव वाले व्यक्ति के लिए : – उसकी किस्मत प्रशासन में तो थी लेकिन सरकारी क्षेत्र में नहीं , निजी सार्वजानिक क्षेत्र में थी | मैंने सलाह दी कि उसे तुरंत नौकरी करना प्रारम्भ करना चाहिए | और आने वाले समय में MBA की पढ़ाई के लिए उस पर दबाव दिया जाये |

वह मेरे विचार से प्रसन्न नहीं थे , लेकिन कुछ आंतरिक कारणों की वजह ने उन्हें उस समय जो कुछ भी कर रहे थे उसे छोड़ने में मदद की |

अब पांच साल बाद वो मुझसे मिले हैं अंतत: दोनों जीवन में सफल हैं | दोनों उल्लेखनीय रूप से कार्य कर रहे हैं और अपने – अपने क्षेत्रों में अच्छा नाम है |

कैरियर ज्योतिष , व्यापार ज्योतिष , विवाह ज्योतिष पर अंतदृष्टि के लिए ज्योतिष :-

नोयडा में एक प्रसिद्ध ज्योतिष डॉक्टर विनय बजरंगी पूर्ण रूप से वैदिक ज्योतिष पर अभ्यास  व विचार विमर्श  करते हैं उनका मानना है कि भारतीय ज्योतिष पिछले जीवन के ( कर्मों के ) अध्ययन पर केंद्रित है और पश्चिमी ज्योतिष से थोड़ा अलग है जो जो सिर्फ भविष्य की भविष्यवाणियों पर केंद्रित है |

कैरियर ज्योतिष , बिज़नेस ज्योतिष , विवाह ज्योतिष और भारतीय ज्योतिष के अन्य सभी क्षेत्रों में  समृद्ध और गहरे विश्लेषण के साथ कर्मा करेक्शन का उनका अनूठा सिद्धांत ज्योतिष को एक अलग धारणा देते हैं |कैरियर ज्योतिष, बिजनेस ज्योतिष पर हिंदुस्तान टाइम्स में आई ब्रांड स्टोरी पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करिए|

इस ब्लॉग को अंग्रेजी में पढ़ने के लिए यह-क्लिक कीजिये

Share this post:

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *